काफ़ि़र

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

काफिर (अरबी كافر (काफिर); बहुवचन كفّار कुफ्फार) इस्लाम में अरबी भाषा का बहुत विवादित शब्द है जिसका शाब्दिक अर्थ - "अस्वीकार करने वाला" या "कुफ्र करने वाला" कुफ्र यानी इनकार करना होता है जब अल्लाह द्वारा करिश्मा (wonders) दिखाये गया यहूदियों (साउदी अरब में) को जिससे इस्लाम के बारे में पता चले ओर जाने की इस्लाम सच्चा हे तो उनमें से कुछ ने इस्लाम को मान लिया और कुछ ने मना (नकार) दिया जिन्होंने उसे नकारा ओर जो अल्लाह और उसके रसूल स.अ.व. की बात को मानने से मनाह किया चाहे वो गेर मुस्लिम हो या मुस्लिम उसे काफिर कहा गया। ओर कयामत (end of world) के दिन उन सभी मुस्लिमो ओर गेर मुस्लिमो के माथे पर काफिर लिख दिया जाएगा और उन्हें एक झंद्दा पकड़ा दिया जाएगा। क्योंकि काफिरों (मुस्लिम या गेर मुस्लिम) की जगह नर्ख/जहन्नम (hell) है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]