कविता बालकृष्णन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

डॉ कविता बालकृष्णन (मलयालम: കവിത ബാലകൃഷ്ണൻ; जन्म 1 जून, 1976) एक कला आलोचक, कवि [2], समकालीन कला शोधकर्ता, कला चित्रकार और कला की क्यूरेटर है। उस ने 1998 से 1999 तक ललित कला त्रिवेन्द्रम कॉलेज में कला इतिहास की एक व्याख्याता के रूप में अपना शिक्षण कैरियर शुरू किया। बाद में उन्होंने आर.एल.वी. थ्रिपुनिथुरा में संगीत और फाइन आर्ट्स कॉलेज और मुंबई में नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी (निफ्ट) में विज़िटिंग फैकल्टी के रूप में काम किया। बालकृष्णन वर्तमान में कला के इतिहास और सौंदर्यशास्त्र में सरकारी ललित कला कॉलेज   त्रिशूर,  केरल राज्य, भारत[1] में एक व्याख्याता हैं।

शैक्षणिक कैरियर[संपादित करें]

बालाकृष्णन ने 1998 में महाराजा सयाजीराव विश्वविद्यालय बड़ौदा से ललित कला इतिहास और सौंदर्यशास्त्र में मास्टर डिग्री प्राप्त की। फिर उसने मलयालम पत्रिकाओं में साहित्य-उन्मुख चित्रों के अभ्यास पर एक शोध थीसिस पेश किया, जिसके लिए उन्हें 2009 में महात्मा गांधी विश्वविद्यालय, कोट्टायम से पीएचडी से सम्मानित किया गया।

पुरस्कार[संपादित करें]

13 साल की उम्र में उन्हें पेंटिंग के लिए सोवियत लैंड नेहरू पुरस्कार मिला, जब उसने वो हुनाल काला सागर, यूक्रेन (पूर्व सोवियत संघ) के आर्टेक (शिविर) के इंटर नेशनल यंग पायनियर कैंप में क्रीमिया तट पर बतीत किया।

 उनकी पुस्तक केरलाटाइल चित्रकल्यायद वेर्थमनाम ने[2] ने 2007 में मलयालम में ललित कला अकादमी से कला पर सर्वश्रेष्ठ पुस्तक के लिए राज्य पुरस्कार जीता था। वर्ष 2005 में उन्हें एसबीटी साहित्य पुरस्कार पुरस्कार से सम्मानित किया गया और 2007 में कविता के लिए एक अयप्पापन से सम्मानित किया गया।

प्रकाशन[संपादित करें]

कविताएं[संपादित करें]

  • अंगावालुलाl पक्षी (इंद्रधनुष बुक पब्लिशर्स चेंगननूर, 2004)
  • Njan Hajarundu[3] (डीसी किताबें कोट्टयम,2007).
  • Kavithayude Kavithakal[4] (INDULEKHA ,2017).

कला[संपादित करें]

  • Keralathile Chitrakalayude Varthamanam,[5] इंद्रधनुष बुक पब्लिशर्स चेंगननूर, 2007. केरल में 20 वीं सदी के कला प्रथाओं पर लेखों का एक संग्रह, 2003 में समय-समय पर मध्य्म्म साप्ताहिक द्वारा श्रृंखलाबद्ध [6]
  • Adhunika Keralathile Chitrakala (केरल में कला का वर्तमान), केरल राज्य भाषा संस्थान, तिरुवनंतपुरम, 2007.
  • ARTEK anubhavangal (पूर्व यू एस एस आर की उनकी यात्रा पर), विश्वदर्शन पब्लिशर्स, 2003.

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. her designation,
  2. report from The Hindu newspaper,
  3. poem collection,
  4. [1],
  5. A review of the book published in The Hindu,
  6. Balakrishnan, Kavitha (2007). (1 संस्करण). Rainbow book Publishers. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 81-89716-13-1 http://www.dcbookshop.net/bookview.asp. अभिगमन तिथि 2009-11-21. |accessdate= और |access-date= के एक से अधिक मान दिए गए हैं (मदद); |ISBN= और |isbn= के एक से अधिक मान दिए गए हैं (मदद); गायब अथवा खाली |title= (मदद)