कल्हण गोत्र

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

कल्हन या कल्हण चन्द्रवंशी जाटों की एक गोत्र है जो पंजाब और गुजरात में पायी जाती है।[1][2]

उद्भव[संपादित करें]

कल्हण नाम संस्कृत के एक प्राचीन, प्रसिद्ध कवि का भी है। उन्होंने राजतरंगिणी नामक ग्रन्थ लिखा है जिसमें कश्मीर के राजाओं का इतिहास है। कुछ इतिहासकारों के अनुसार इस गोत्र का उद्भव वहाँ से हुआ है।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. प्रो॰ बी॰ एस॰ ढ़िल्लों. History and study of the Jats [जाटों का अध्ययन एवं इतिहास]. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1895603026.
  2. डॉ॰ महेन्द्र सिंह आर्य, धर्मपाल सिंह डूडी, किशन सिंह फौजदार और विजेन्द्र सिंह नारवार (1998). आधुनिक जाट इतिहास. आगरा. पृ॰ 229.