करघा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
कोन्या, तुर्की में ऊर्ध्वाधर करघे पर काम करती एक महिला

करघा एक प्रकार का कपड़ा बुनने का उपकरण है। किसी भी करघे का मूल उद्देश्य होता है धागों को तवान की स्थित में पकड़े रखना ताकी धागों की बुनाई करके कपड़ा बनाया जा सके। करघे की बनावट और कार्यप्रणाली भिन्न हो सकती है, लेकिन ये मूल रूप से एकसा कार्य करते हैं।

बुनाई[संपादित करें]

करघे में बुनाई की जाती है जब बुनने वाले धागों को बुने जाने बाले धागों से मिलाया जाता है।


करघों के प्रकार[संपादित करें]

वापसी पट्टा करघा[संपादित करें]


भारित ताना करघा[संपादित करें]


हथकरघा[संपादित करें]

सबसे आरम्भिक करघे थे लकड़ी के ऊर्ध्वाधर-शाफ्ट करघे, जिसमें शाफ्ट पर हेड्डल लगे होते थे। तने धागे हेड्डल और हेड्डल के बीच के स्थान से एकांतर से गुजरते हैं, ताकि शाफ्ट को उठाने पर आधे धागें ऊपर उठें और शाफ्ट को नीचे करने पर वही धागे नीचे हों-जो धागे हेड्डल के बीच से गुजरते हैं वे एक स्थान पर रहते हैं।

विद्युत करघे[संपादित करें]


बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]