कक्षीय तल (खगोलशास्त्र)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
संदर्भ तल के सापेक्ष देखा गया एक कक्षीय तल।
कक्षीय तलों के प्रकार को शंकु परिच्छेदों से भी समझा जा सकता है, जिसमें कक्षा को समतल और शंकु के बीच परिच्छेद के रूप में परिभाषित किया गया है। (1) परवलयिक और अतिपरवलयिक कक्षाएँ हैं (3) पलायन कक्षा है, जबकि (2) में दिखाई गई दीर्धवृत्ताकार और वृत्ताकार कक्षाएँ प्रग्रहण कक्षाएँ हैं।

एक परिक्रमा करते हुए पिंड का कक्षीय तल वह ज्यामितीय तल होता है जिसमें उसकी कक्षा होती है। अंतरिक्ष में तीन असंरेखीय बिंदु एक कक्षीय तल का निर्धारण करने के लिए पर्याप्त हैं। उदाहरण के लिए, विशाल पिंड (जिसकी परिक्रमा हो रही है ) के केंद्र की स्थिति और एक परिक्रमा करने वाले खगोलीय पिंड की कक्षा के दो अलग-अलग बिंदुओं की स्थिति ।

कक्षीय तल को एक संदर्भ तल के संबंध में दो मापदंडों द्वारा परिभाषित किया गया है: झुकाव ( i ) और आरोही पात का रेखांश (Ω)।