ओरायन (मिथक)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
जोहान बॅयर की मानचित्रावली युरानोमेट्रिया से ओरायन की एक उत्कीर्णन।

यवन पराणानुसार ओरायन(यवनवाचा: Ὠαρίων) एक महाकाय लुब्धक था जिसे द्यौष्पितृ ने ओरायन नक्षत्र के रूप में तारक मध्ये अन्तर्हित करा था।

प्राचीन स्रोत ओरायन विषये कई अलग-अलग कथाएं बताते हैं; अत्र उनकी जन्मकथा के दो तत्था उनकी मृत्युकथा कई संस्करण मिलतें है। ओरायन संलग्न सबसे महत्वपूर्ण प्रसङ्ग, बॉयोटिया में कुत्र उनका जन्म होना, ओरायन की चिओस यात्रा जहां उनका मेरोप से मिलना एवं उनको विघट्टित करना, मेरोप के पिता ओएनोपियन द्वारा ओरायन की आंखे निकाल लेना, लेमनोस में उनकी दृष्टि का प्रत्यानयन होना, आर्टेमिस के साथ क्रिट पर मृगया, आर्टेमिस के बाण से उनकी मौत या विशाल पुच्छकण्टक का दंशना और स्वर्ग के प्रति उनका अभ्युत्थान। अधिकांश प्राचीन स्रोत इनमें से कुछ प्रसङ्ग को छोड़ देते हैं और कई केवल एक ही प्रसङ्ग बताते हैं। यह विभिन्न घटनाएं मूल रूप से स्वतंत्र, असंबंधित कथाएं हो सकती हैं अपितु यह बताना भी असंभव है कि एते उपेक्षण सरल संक्षिप्तता है वा वास्तविक असहमति का प्रतिनिधित्व करती है!

यवन साहित्य में ओरायन का प्रथमोल्लेख होमर के महाकाव्य ओडिसी में तब एक महान लुब्धक के रूप में होता है, जब ओडीसियस अधोलोक में उसकी छाया देखता है। ओरायन की कथा का कंकाल हेलीनिस्टिक और रोमक संग्राहकों के मिथकों से बना है, परंतु उनके अनुचरणचरित का कोई साहित्यिक संस्करण तुलनात्मक नहीं है। इस किंवदंती के विमथित खण्डों ने यवन प्रागितिहास एवं मिथक विषये अटकलों के लिए एक उपजाऊ क्षेत्र प्रदान किया है।

ओरायन ने प्राचीन यवन संस्कृति में कई भूमिकाएं निभाईं हैं। एक लुब्धक रूप में ओरायन के सर्वाधिक प्रमाण मिलते हैं; वह उसी नाम के नक्षत्र का व्यक्तिीकरण भी है; यवन अर्थ में, ओरायन बॉयोटिया क्षेत्र का प्रतिष्ठित नायक था; एवं अत्र एक कारक अंश है जो कहता है कि ओरायन सिसिली की जलसंधि के वर्तमान आकार के लिए उत्तरदायक था।