ओफिडीवोफोबिया

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

ओफिडीओफोबिआ या सर्पभीति एक तरह का डर (दुर्भीति) है जिसमें मनुष्य को साँप से भय लगता है। यह शब्द दो यूनानी शब्दो से आता है। ओफिस का अर्थ "सांप" है और फोबिअ का मतलब "डर" होता है। यह फोबिअ हरपितोफोबिअ कि सबसे आम उपश्रेणी है। कुछ शोधकर्ताओं का मानना है कि यह डर विकासवादी हो सकता है जो हमारे पूर्वजों द्वारा विकसित एक अस्तित्व तंत्र का रूप लेता है। आम तौर पे मनोवैज्ञानिकों का मानना है कि फोबिअ दर्दनाक अनुभव का परिणाम होता है। कई बार यह भय अतीत से जुडा हुआ भी नहीं होता।

विषैला साँप

ओफिडीओफोबिअ के लक्षण[संपादित करें]

फोबिअ से ग्रस्त मरीजों के बीच लक्षण व्यापक रूप से भिन्न हो सकते हैं। जिस मरीज़ को साद फोबिअ है उसे बड़े और विषैला साँप का सामना करने में अत्यंत भय महसूस होगा। अगर यह फोबिअ और भी सख्त है तब मनुष्य को एक छोटे साँप से भी डर लग सकता है। वह मनुष्य किसी सांप के चित्र या दूरदर्शन पे दिखाये जाने वाले कार्यक्रम को भी देखने से डर जाता है। ओफिडीओफोबिअ और हर्पितोफोबिअ में अंतर समझाना आवश्यक है क्योंकि जिस इन्सान को छिपकली या छोटे गेको से भी डर लगता है उसे सौ प्रतिशत हरपितोफोबिअ ही है। इस फोबिअ के लक्षण कई है जैसे कि भागना, रोना, काँपना या फिर साँस लेने में तकलीफ महसूस करना।

ओफिडीओफोबिअ के प्रभाव[संपादित करें]

ओफिडीओफोबिअ कपटी हो सकता है। कुछ समय के बाद मरीज़ को उन चिज़ो से डर लगने लगता है जो सांप से सीधे संबंधित भी नहीं हैं। इसका एक उदाहरण यह है की: मनुश्य उस पालतू जानवर की दुकान से भी भयभीत हो उठेगा जो साँपो को सेल में बेचते है। मरीज़ को अन्य सरीसृपों के एक माध्यमिक डर विकास हो सकता है।

ओफिडीओफोबिअ का निदान[संपादित करें]

उदाहरण: छह साल की उम्र में, जेनी और रॉक्सी पिछवाड़े में खेल रहे हैं। रॉक्सी पत्तियों के ढेर पर कूदती है और अचानक दर्द में बाहर चिल्लाती है। जेनी रॉक्सी के पैर के चारों ओर एक साँप के मुंह को देखता है, और रक्त उसके पैर से निकलता हुआ देख डर महसूस करता है। रॉक्सी अस्पताल में चली जाती है और समय की एक विस्तारित अवधि के लिए उसे वहाँ रहना पड़ता है।

घटना के बाद, वह यार्ड में खेलने के लिए कभी नहीं जाती। वह पत्तियों के ढेर के पास जाने के लिए घबरा जाती है और गिरावट के मौसम में बाहर खेलने के लिए बभी मना कर देती है। उसका सांप के ऊपर से डर कभी नहीं गया जिस वजह से २० साल की उम्र में, रॉक्सी ओफिडीओफोबिअ के साथ का निदान किया जाता है। वह आखिर में परामर्श के लिए जाती है।

आम तौर पर अतीत से एक गहन नकारात्मक अनुभव की वजह से या व्यक्ति के मन को भी बिना आधार के यह डर प्रतीत हो सकता है।अपरिचित जानवरों के आसपास रेहने पर यह तंत्रिका या अनिश्चित होना सामान्य है।इसके अलावा, साँप के बारे में अनेक आम मिथकों रहे हैं। मरीज़ परेशान भी हो सकता है कि वह घिनौना, घृणित या दरावना होगा और वे एक कंस्ट्रिकटर द्वारा कुचल दिये जाएंगे। यह सब आशंकाओं आम है और जानवरों के बारे में अधिक व्यक्तिगत ज्ञान प्राप्त करके इसे हटाया जा सकता है।

ओफिडीओफोबिअ का इलाज[संपादित करें]

यह बीमारी का सबसे सार्वजनिक इलाज संज्ञानात्मक व्यवहार तकनीक पर आधारित है। आप इसमे अपने डर के बारे में बोलने के लिए प्रोत्साहित किए जाते हो और नए संदेशों को सिखाया जा सकता है। इसका ईलाज सम्मोहन द्वारा भी किया जा सकता है। यह चिकित्सा से ओफिडीओफोबिअ के लक्षण अक्सर कम होते दिखाए देते है। कुछ लोग को अपना नियंत्रण खोने कि भावना पसंद नहीं आती जब वे अपने निजी तन्त्रांश के साथ खेलने के लिए किसी और को इजाजत देते है पर यह इलाज सबसे सुरक्षित और तेज़ माना जाता है। हालांकि यह महत्वपूर्ण है कि इस बिमारी के ईलाज के लिए एक एसे चिकित्सक को चुना जाए जिस पर मरीज़ भरोसा कर सके।

भय की सूची[संपादित करें]

१)अगोराफोबिअ

अगोराफोबिअ

२)नरभीति

३)क्लेप्टोफोबिअ

४)क्लौस्ट्रफ़ोबिया

क्लौस्ट्रफ़ोबिया

५)हेमोफोबिअ

सन्दर्भ[संपादित करें]

१) ^Murrie, Matthew & Steven. The First Book of Seconds. Adams Media, 2010. p. 11.

२) ^Lynne Isbell, "The Fruit, the Tree, and the Serpent - Why We See So Well" (Harvard University Press, 2009)

३) ^Fear of Snakes, Spiders Rooted in Evolution, Study Finds