ऐनी बोलिन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
ऐनी बोलिन
Late Elizabethan portrait of Anne Boleyn, possibly derived from a lost original of 1533–36.[1]
Queen consort of England
Tenure 28 May 1533 – 17 May 1536
Coronation 1 June 1533
जीवनसाथी Henry VIII of England
Issue
Elizabeth I of England
हाउस House of Tudor
पिता Thomas Boleyn, 1st Earl of Wiltshire
माता Lady Elizabeth Howard
हस्ताक्षर
धर्म Anglican, formerly Roman Catholic [2]

ऐनी बोलिन या (c.1501/1507 - 19 मई 1536) 1533 से 1536 तक इंग्लैंड के हेन्री अष्टम की दूसरी पत्नी और अपने आप में स्वंय और अपने वंशजों के लिए प्रथम मारकेस ऑफ़ पेमब्रोक थी. ऐनी के साथ हेन्री की शादी और उसके बाद उसके वध ने उसे धार्मिक और राजनीतिक उथल-पुथल जो अंग्रेज़ी सुधारान्दोलन का प्रारम्भ था, का महत्वपूर्ण व्यक्तित्व बना दिया.

विल्टशायर के प्रथम अर्ल थॉमस बोलिन और उनकी पत्नी एलिज़ाबेथ बोलिन, विल्टशायर की काउंटेस की बेटी ऐनी की शिक्षा-दीक्षा नीदरलैंड और फ़्रांस में मुख्यतः क्लॉड ऑफ़ फ़्रांस की वधुसखी के रूप में हुई. अपने चचेरे आयरिश भाई जेम्स बटलर, नौवें अर्ल ऑफ़ ऑरमंड से शादी करने के लिए वह 1522 के शुरू में इंग्लैंड को लौटी लेकिन शादी की योजना विफल हुई और रानी की सखी कैथरीन ऑफ़ ऐरागॉन के दरबार में वधुसखी की पदवी प्राप्त हुई.

1525 में, हेन्री अष्टम ऐनी पर आसक्त हो गए और उससे प्रणय निवेदन शुरू हो गया. उसने उसके सभी प्रयासों का विरोध किया और अपनी बहन मैरी बोलिन की तरह उसकी रखैल बनने से इंकार कर दिया. शीघ्र ही रानी कैथरीन से अपनी शादी रद्द करने की धुन हेन्री पर सवार हो गई ताकि वह ऐनी से शादी करने को मुक्त हो जाए. जब यह स्पष्ट हो गया कि पोप क्लेमेंट सप्तम शादी रद्द नहीं करेंगे तो इंग्लैंड में कैथलिक चर्च की सत्ता चरमराने लगी.

यॉर्क के आर्कबिशप थॉमस वॉल्सी को कथित तौर पर ऐनी बोलिन के कहने पर उसके सूबा को वापस भेज दिया गया और बाद में बोलिन परिवार के पादरी थॉमस क्रैनमर को कैंटरबरी का आर्कबिशप नियुक्त किया गया. 25 जनवरी 1533 को हेन्री और ऐनी ने शादी कर ली. 23 मई, 1533 को क्रैनमर ने हेन्री और कैथरीन की शादी को अमान्य घोषित किया और पांच दिन बाद हेन्री और ऐनी की शादी के वैध होने की घोषणा कर दी. शीघ्र बाद ही में, पोप ने क्रैनमर और हेन्री के खिलाफ़ बहिष्कार की सज़ा की आज्ञा सुना दी. इस शादी और बहिष्कार के परिणामस्वरूप इंग्लैंड की चर्च और रोम के बीच पहला अलगाव हुआ और इंग्लैंड की चर्च को राजा के नियंत्रण के तहत लाया गया.

1 जून 1533 को ऐनी को इंग्लैंड की महारानी का ताज पहनाया गया. ७ सितंबर को उसने भावी इंग्लैंड की एलिज़ाबेथ प्रथम को जन्म दिया. उसके पुरुष वारिस को पैदा न कर पाने पर हेन्री को निराशा हुई. हेन्री पूरी तरह से निराश नहीं था क्योंकि उसने कहा कि वह एलिज़ाबेथ से प्यार करता था और निश्चित रूप से एक बेटा पैदा होगा. तथापि तीन गर्भपात हुए और मार्च 1536 तक तो हेन्री ने जेन सेमुर से प्रणय निवेदन कर दिया था. अप्रैल-मई 1536 में, हेन्री ने उच्च राजद्रोह के लिए ऐनी की तहकीकात की. 2 मई को उसे गिरफ़्तार करके टॉवर ऑफ़ लंदन भेज दिया गया जहां समकालीनों के निर्णायक मंडल के सामने उस पर मुकदमा चलाया गया और 15 मई को उसे दोषी पाया गया. चार दिन बाद टॉवर ग्रीन में उसे मौत की सज़ा दे दी गई. आधुनिक इतिहासकार उसके खिलाफ़ व्याभिचार और कौटुम्बिक यौनाचार के आरोपों से सहमत नहीं हैं. उसकी बेटी एलिज़ाबेथ के रानी के रूप में राज्याभिषेक के बाद ऐनी को एक शहीद और अंग्रेज़ी सुधारान्दोलन की नायिका के रूप में विशेष रूप से जॉन फ़ॉक्स की कृतियों में, सम्मानित किया गया.[3]

सदियों से, अनेक कलात्मक और सांस्कृतिक कृतियों को उसने प्रेरित किया या उनमें उसका उल्लेख किया गया है. परिणामस्वरूप लोकप्रिय कल्पना पर उसने पकड़ बनाए रखी है. ऐनी को "इंग्लैंड की आजतक की सबसे प्रभावशाली और महत्वपूर्ण रानी पत्नी"[4] कहा गया है क्योंकि उसने हेन्री अष्टम को ऐरागॉन की कैथरीन से तलाक और रोम से अपनी स्वतंत्रता की घोषणा का अवसर प्रदान किया.

प्रारंभिक वर्ष (जन्म-1522)[संपादित करें]

ऐनी थॉमस बोलिन, बाद में अर्ल ऑफ़ विल्टशायर और अर्ल ऑफ़ ऑरमंड तथा नॉरफ़ॉक के दूसरे ड्यूक थॉमस हावर्ड की बेटी और उसकी पत्नी लेडी एलिज़ाबेथ हावर्ड की पुत्री थी.

भाषाओं के जानकार थॉमस बोलिन एक सम्मानित राजनयिक थे, वह इंग्लैंड के हेन्री सप्तम के भी चहेते थे जिसने उन्हें कई राजनयिक मिशनों पर विदेश भेजा. ऐनी और उसके भाई-बहनों का पालन पोषण कैंट में हीवर कासल में हुआ. उस अवधि के पल्ली अभिलेखों के अभाव में ऐनी की जन्म तिथि तय कर पाना असंभव है.

विभिन्न इतिहासकारों द्वारा विभिन्न तिथियां प्रस्तुत किए जाने के कारण समकालीन सबूत विरोधाभासी है. एक इतालवी, 1600 की कृति, का सुझाव है कि उसका जन्म 1499 में हुआ था जबकि सर थॉमस मोर के दामाद विलियम रोपर ने बहुत बाद में 1512 की तिथि का संकेत दिया है. तथापि उसके जन्म के समय की सबसे अधिक संभावना 1501 और 1507 के बीच है. खुद ऐनी के साथ भी, यह अनिश्चित है कि कब उसके दो भाई-बहनों का जन्म हुआ, लेकिन यह स्पष्ट है कि उसकी बहन मैरी ऐनी से बड़ी थी. मैरी के बच्चों को स्पष्ट रूप से विश्वास था कि उनकी माँ बड़ी बहन थीं.[5] अब अधिकांश इतिहासकार सहमत हैं कि मैरी का जन्म 1499 में हुआ था. मैरी के पोते ने 1596 में ऑरमॉन्ड पदवी के लिए इस आधार पर दावा किया कि वह बड़ी बेटी थी जिसे एलिज़ाबेथ प्रथम ने स्वीकार किया.[6][7] इसके अलावा, मैरी की शादी पहले हुई, और रिवाज़ के अनुसार, बड़ी बेटी की शादी हमेशा छोटी से पहले की जाती थी. उनका भाई जॉर्ज 1504 के आसपास पैदा हुआ था.[8][9]

ऐनी की बहन मैरी बोलिन

ऐनी की जन्म तिथि के बारे में अकादमिक बहस दो मुख्य तारीखों पर केंद्रित हैः 1501 और 1507. एरिक आइव्स, एक ब्रिटिश इतिहासकार और कानूनी विशेषज्ञ, 1501 की तिथि की वकालत करते हैं, जबकि रेथा वॉरनिक, एक अमेरिकी विद्वान जिसने ऐनी की जीवनी भी लिखी है, को 1507 पसंद है. मुख्य लिखित साक्ष्य 1514 के दौरान ऐनी द्वारा लिखा एक पत्र है.[10] यह उसने नीदरलैंड में शिक्षा पूरी करते समय इंग्लैंड में रह रहे अपने पिता को फ़्रांसीसी में लिखा था. आइव्स का तर्क है कि पत्र की शैली और हस्तलिपि की परिपक्वता से साबित होता है कि ऐनी इसकी रचना के समय तेरह बरस की रही होगी, वॉरनिक का तर्क है कि वर्तनी और व्याकरण की अनेक त्रुटियों से पता चलता है कि पत्र एक बच्चे द्वारा लिखा गया था.

आइव्स के विचार में किसी लड़की के वधुसखी होने की भी यह न्यूनतम आयु होगी, जैसे ऐनी रीजेंट, ऑस्ट्रिया की मार्गरेट, डचेज़ ऑफ़ सेवॉय की थी.

यह 16वीं शताब्दी के अंत के एक इतिहासकार के दावे द्वारा समर्थित है जिसने लिखा कि फ़्रांस से लौटने के समय ऐनी बीस की थी.[11]

अनेक पुस्तकों और लेखों में वॉरनिक ने इन निष्कर्षों का विरोध किया है लेकिन सबूत अंतिम तौर से किसी भी तारीख का समर्थन नहीं करता है.[12]

ऐनी के पड़दादा-दादी में लार्ड मेयर ऑफ़ लंदन, एक डयूक, एक अर्ल, दो कुलीन महिलाएं और एक नाइट शामिल हैं.

उनमें से एक, जेफ़री बोलिन, लॉर्ड मेयर बनने से पहले रेशम और ऊन का व्यापारी था.[13][14] बोलिन परिवार मूल रूप से नॉर्विच के उत्तर में पन्द्रह मील पर, नॉरफ़ॉक में ब्लिकलिंग से आया था.[13]

ऐनी के जन्म के समय, बोलिन परिवार को अंग्रेज़ी अभिजात्य समुदाय में सबसे सम्मानित में से एक माना जाता था. उसके रिश्तेदारों में, देश के पूर्व प्रख्यात परिवारों में से एक हावर्ड्स शामिल थे. वह निश्चित रूप से हेन्री अष्टम की बाद की पत्नी जेन सेमुर से अधिक कुलीन परिवार से थी.[15] बोलिन नाम की वर्तनी अलग-अलग रही है. कभी कभी इसे बुलेन के रूप में लिखा गया था, इसलिए उसके परिवार के हथियारों पर सांडों के शीर्ष हैं.[16] नीदरलैंड में ऑस्ट्रिया की मार्गरेट के दरबार में ऐनी बॉलैन के रूप में सूचीबद्ध है.[7]

वहां से उसने अपने पिता को लिखे पत्र पर ऐना डी बॉलैन के रूप में हस्ताक्षर किए हैं.[17] उसे "ऐना बोलिना" (जो लैटिन है) के नाम से भी संदर्भित किया जाता है, यह नाम उसके अधिकांश चित्रों में है.[17]

नीदरलैंड्स और फ़्रांस[संपादित करें]

ऐनी के पिता ने हेन्री अष्टम के अंतर्गत अपना राजनयिक कैरियर जारी रखा. यूरोप में, थॉमस बोलिन ने मैक्समिलन प्रथम, पवित्र रोमन सम्राट की बेटी आर्कडचेज़ मार्गरेट ऑफ़ ऑस्ट्रिया सहित कई प्रशंसकों को आकर्षित किया. इस अवधि के दौरान, अपने पिता की ओर से उसने नीदरलैंड्स पर शासन किया और वह बोलिन से इतना प्रभावित हुई कि उसकी बेटी ऐनी को अपने घर में रखने की पेशकश की. आमतौर पर, यह सम्मान पाने के लिए एक लड़की का बारह साल का होना आवश्यक है लेकिन हो सकता है कि ऐनी कमउम्र रही होगी क्योंकि आर्कडचेज़ उसे प्यार से "ला पेटीट बॉलिन [तदैव]" कहकर बुलाया करती थीं.[18]

ऐनी ने अपने शिष्टाचार और अध्ययनशीलता से नीदरलैंड्स में अच्छा प्रभाव बनाया, मार्गरेट ने लिखा कि अपनी उम्र के हिसाब से वह वाकपटु और प्रसन्नमुख थी ("son josne eaige" )[19] और उसने सर थॉमस बोलिन को बताया कि उसकी बेटी "उसकी युवा उम्र के दृष्टिगत इतनी आकर्षक और प्रसन्नमुख है कि उसे मेरे पास भेजने के लिए आप से अधिक मैं आपकी कृतज्ञ हूँ"(E.W. Ives, op.cit.).

ऐनी 1513 के वसंत से तबतक मार्गरेट के साथ रही जबतक अक्टूबर 1514 में फ़्रांस के लुईस बारहवें के साथ हेन्री अष्टम की बहन मैरी ट्यूडर, फ़्रांस की रानी की शादी में उसके भाग लेने के लिए व्यवस्था नहीं कर दी.

फ़्रांस में, ऐनी रानी मैरी की और फिर फ़्रांस की 15 वर्षीय रानी क्लॉड की वधुसखी थी जिसके साथ वह लगभग सात साल रही.[20][21] रानी के घर में उसने अपना फ़्रेंच का अध्ययन पूरा किया और फैशन और धार्मिक दर्शन में उसकी रुचि विकसित हुई. उसने फ़्रेंच संस्कृति और शिष्टाचार का ज्ञान भी अर्जित किया.[22]

हालांकि फ़्रांसीसी दरबार में ऐनी के अनुभव के बारे में सारी जानकारी एक अनुमान ही है यहां तक कि एरिक आइव्स ने अपनी सर्वोत्तम जीवनी के नवीनतम संस्करण में अनुमान लगाया है कि संभावना है कि मानवतावादियों और सुधारकों की हमदर्द राजा फ़्रांसिस प्रथम की बहन मार्गरीट डे नैवर से उसका परिचय हुआ हो.

मार्गरीट डे नैवर अपने आप में एक लेखिका भी थी और उसके कार्यों में ईसाई रहस्यवाद और सुधार तत्व शामिल हैं लेकिन फ़्रांस के राजा की प्यारी बहन के रूप में सुरक्षा के कारण वह अपधर्म के कगार पर थे. हो सकता है कि उसने या उसके साथियों ने सुधार, साहित्य और कविता में ऐनी की रुचि को प्रोत्साहित किया हो.[23] फ़्रांस में ऐनी की शिक्षा बाद के वर्षों में साबित हुई जिसने इंग्लैंड के दरबारियों और महिलाओं के बीच कई नए रुझानों को प्रेरित किया और शायद यह संस्कृति के विपरीत पोप के पद के साथ विपदा मोल लेने में राजा को उकसाने में सहायक रहा हो. एरिक आइव्स की आत्मकथा के नवीनतम संस्करण में यह माना गया है कि हो सकता है ऐनी का ईसाई धर्म में विश्वास हो और आंतरिक रूप से एक सशक्त आध्यात्मिक जीवन हो. विलियम फ़ॉरेस्ट, ऐरागॉन की कैथरीन के बारे में एक समकालीन कविता के रचयिता ने नर्तकी के रूप में "उत्कृष्ट कौशल" के लिए ऐनी को बधाई दी. उन्होंने लिखा, "यह नवयुवती थी जो नृत्य कर सकती थी."[24]

ऐनी से जो मिला उससे अत्यंत प्रभावित हुआ हालांकि उसके आकर्षण के बारे में राय में मतभेद थे. विनीशियन रोज़नामचा रखनेवाला मैरिनो सैनुटो, जिसने ऐनी को तब देखा जब अक्टूबर 1532 में हेन्री अष्टम कैलेस में फ़्रांसिस प्रथम से मिले, ने उसे "दुनिया की सबसे हसीन औरत तो नहीं, मंझला कद, सांवला रंग, लंबी गर्दन, चौड़ा मुंह, वक्ष अधिक उन्नत नहीं... आंखें, काली और सुंदर" के रूप में वर्णित किया है.[25]

सिमॉन ग्रिनी ने सितम्बर 1531 में मार्टिन ब्युसेर को लिखा कि ऐनी "जवान, सुंदर, गहरे रंग की" थी. लेंसलॉट डे कार्ल्स ने उसे "सुडौल शरीर वाली सुंदर" कहा है, और 1528 में भी पेरिस में एक विनीशियन ने भी लिखा है कि उसे सुंदर कहा जाता था.[26] ऐनी का सबसे प्रभावशाली विवरण [27] पर सबसे कम विश्वसनीय भी, ऐनी की मौत के आधी सदी के बाद 1586 में कैथलिक प्रचारक और खण्डनात्मक लेखक निकोलस सैंडर्स द्वारा लिखा गया था: "ऐनी बोलिन का कद लंबा था, काले बाल और अंडाकार चेहरा, पीला रंग जैसे पीलिया हुआ हो.

ऊपरी होंठ के नीचे एक दाँत बाहर निकला हुआ था और उसके दाहिने हाथ में छह उंगलियां थी [अब इतिहासकार जानते हैं कि यह झूठ है]. वहाँ ठोड़ी के नीचे एक बड़ा सा मस्सा था इसलिए उसके भद्देपन को छुपाने के लिए वह गले को ढकने वाली पोशाक पहनती थी...

सुंदर मुंह वाली वह देखने में सुंदर थी."[28] हेन्री अष्टम द्वारा कैथलिक चर्च की अस्वीकृति के लिए सैंडर्स ने ऐनी को ज़िम्मेदार ठहराया है और उसकी मौत के पचास वर्षों के बाद उसे शैतान ठहराने के लिए तैयार था. सैंडर्स के वर्णन ने उस विचार में योगदान दिया है जिसे जीवनी लेखक एरिक आइव्स ने ऐनी बोलिन की "राक्षस कथा" कहा है.[29] यद्यपि उसकी जानकारी फर्जी थी तथापि वे कुछ आधुनिक पाठ्यपुस्तकों में ऐनी के हुलिए के लिए संदर्भ का आधार बने हैं.[30]

फ़्रांस में ऐनी के अनुभवों ने पुनर्जागरण मानवतावाद की नयी परंपरा में उसे एक ईसाई भक्त बना दिया.

जबकि बाद में उसने सुधारवादी मत अपनाया कि पोप का पद ईसाई धर्म को भ्रष्ट करता है, वर्जिन मैरी के प्रति समर्पण से उसकी रूढ़िवादी प्रवृत्ति परिलक्षित होती है.[31]

ऐनी की यूरोपीय शिक्षा 1521 में समाप्त हो गयी, जब उसके पिता ने उसे इंग्लैंड वापस बुला लिया. 1522 जनवरी वह में कैलेस से रवाना हुई.[32]

राजा के साथ हिरण के शिकार का चित्रण करते हुए प्रारंभिक 20 वीं सदी का ऐनी बोलिन का एक चित्र

हेन्री अष्टम के दरबार में (1522-1533 )[संपादित करें]

अर्लडम ऑफ़ ऑरमंड की सम्पदा और रियासतों पर विवाद निपटाने के प्रयास में उससे कई साल बड़े और अंग्रेज़ी दरबार में रहने वाले नौजवान आयरिश चचेरे भाई जेम्स बटलर[33] से शादी करने के लिए ऐनी को बुलाया गया था.

सातवें अर्ल ऑफ़ ऑरमंड का 1515 में निधन हो गया और वे अपनी बेटियों, मार्गरेट बोलिन और ऐनी सेंट लीजी को सह उत्तराधिकारिणी के रूप में छोड़ गए. आयरलैंड में, तीसरे अर्ल के प्रपौत्र, सर पियर्स बटलर ने वसीयत का विरोध करते हुए रियासत का दावा किया. अर्ल्स की पैतृक सीट-किलकेनी कासल पहले से ही उसके कब्ज़े में थी.

ज्येष्ठ बेटी के पुत्र होने के नाते सर थॉमस बोलिन को लगा कि पदवी उसकी है और अपने संबंधी ड्यूक ऑफ़ नॉरफ़ॉक का विरोध किया जिसने इस विषय में राजा हेन्री से बात की.

इस बात से भयभीत कि कहीं यह विवाद आयरलैंड में गृह युद्ध को चिंगारी न दे दे, हेन्री ने पियर्स के बेटे जेम्स और ऐनी के बीच गठबंधन करके मामले को सुलझाना चाहा.

वह दहेज के रूप में अपने हिस्से की ऑरमंड की पैतृक संपत्ति लाएगी और विवाद समाप्त हो जाएगा. योजना विफल हुई, शायद क्योंकि सर थॉमस को अपनी बेटी के लिए एक भव्य शादी की आशा थी या वह प्रतिष्ठित खिताब अपने लिए चाहते थे.

कारण जो भी हो, शादी की वार्ता पूरी तरह रुक गई.[34] बाद में जेम्स बटलर ने लेडी जोन फिजराल्ड़, दसवें अर्ल ऑफ़ डेसमंड, जेम्स फिजराल्ड़ और एमी ओ ब्रायन की बेटी और उत्तराधिकारिणी से शादी की.

इससे पहले ऐनी बोलिन की बड़ी बहन मैरी बोलिन को 1519 के अंत में फ़्रेंच राजा और उसके दरबारियों के साथ प्रेम संबंधों के कारण फ़्रांस से वापस बुला लिया गया था.

1520 फरवरी में उसने एक साधारण कुलीन विलियम कैरी से ग्रीनविच में, हेन्री अष्टम की उपस्थिति में शादी कर ली: जल्द ही, मैरी बोलिन अंग्रेज़ी राजा की रखैल बन गई.

इस शादी के दौरान पैदा हुए मैरी बोलिन के दोनों बच्चों के राजा हेन्री अष्टम के पितृत्व के बारे में इतिहासकारों में विवाद है.

एलिसन वियर द्वारा लिखित Henry VIII: The King and His Court , में हेन्री कैरी के पितृत्व पर प्रश्न उठाया गया है,[35] डॉ. जी. डब्ल्यू. बर्नार्ड (The King's Reformation ) और जोएना डेनी (Anne Boleyn: A New Life of England's Tragic Queen ) का तर्क है कि हेन्री अष्टम उनका पिता था.

एलिज़ाबेथ ब्लाउंट, लेडी टैल्बॉयज़ से अपने नाजायज़ बेटे हेन्री फ़िट्ज़रॉय की तरह हेन्री ने किसी बच्चे को स्वीकार नहीं किया.

साँचा:Henryviiiwives

4 मार्च 1522 को शाही राजदूत के सम्मान में तमाशे में, "Perseverance" में भाग लेते हुए ऐनी ने Chateau Vert (ग्रीन कासल) में पहली बार प्रदर्शन किया. वहां उसने हेन्री की छोटी बहन मैरी, दरबार की कई अन्य महिलाओं और अपनी बहन के साथ एक व्यापक नृत्य में भाग लिया.

सभी ने सोने के धागे की कशीदाकारी वाले सफ़ेद साटन के गाउन पहने.[36] जल्दी ही उसने दरबार की सबसे स्टाइलिश और निपुण महिलाओं में अपना स्थान बना लिया और जल्द ही अनेक युवा पुरुष उसे पाने के लिए होड़ लगाने लगे.[37]

अमेरिकी इतिहासकार रेथा एम. वॉरनिक लिखते हैं कि ऐनी "आदर्श महिला दरबारी थी ... उसकी गाड़ी सुशोभित और उसके फ़्रेंच कपड़े सुरुचिपूर्ण और स्टाइलिश थे,वह सहजता से नृत्य करती, गायन के लिए मधुर आवाज़ थी, वीणा और कई अन्य संगीत वाद्य अच्छी तरह से बजाती थी और धाराप्रवाह फ़्रेंच बोलती थी...

एक अविस्मरणीय, बुद्धिमान, हाज़िर जवाब कुलीन नवयुवती... जो पहले लोगों को अपने साथ बातचीत के लिए आकर्षित करती और फिर उन्हें खुश करती और उनका मनोरंजन करती. संक्षेप में, उसकी ऊर्जा और जीवन शक्ति ने उसे किसी भी सामाजिक मेलजोल में आकर्षण का केंद्रबिंदु बनाया."

इस समय के दौरान, नॉर्थम्बरलैंड के अर्ल के बेटे हेन्री पर्सी ने ऐनी को प्रणय निवेदन किया और दोनो ने गुप्त रूप से सगाई कर ली. थॉमस वॉल्सी के सज्जन प्रवेशक, जॉर्ज कैवेनडिश का कहना है कि दोनो प्रेमी थे. इस प्रकार यह संभावना नहीं लगती कि उनका यौन रिश्ता था.[38]

रोमांस तब टूट गया जब पर्सी के पिता ने उनकी सगाई को मानने से इनकार कर दिया. कैवेनडिश के अनुसार, दरबार से ऐनी को उसके परिवार की ग्रामीण रियासत को भेज दिया गया, लेकिन यह ज्ञात नहीं है कि कितनी अवधि तक. दरबार में लौटने पर, वह फिर से ऐरागॉन की कैथरीन की सेवा में प्रस्तुत हुई.

प्रतिष्ठित दरबारी कवि सर थॉमस वाइटबोलिन परिवार की हीवर कासल से जुड़ी हुई रियासत एलिंग्टन में बड़ा हुआ. वाइट अपनी पत्नी से अलग हो गया था, ऐनी और उसके बारे में अनेक अप्रमाणित रोमांटिक किंवदंतियां है, विशेष रूप से वाइट के पोते के लेखन में. यह अनुमान है कि वाइट का सबसे अधिक विरहपूर्ण काव्य उनके रिश्ते द्वारा प्रेरित था और वह ऐनी ही है जिसे वह अपनी सॉनेट Whoso List to Hunt ,[39] जिसे वह दुर्लभ, हठी और राजा के लिए मानता है: "noli me tangere for Caesar's I am/And wild for to hold though I seem tame".[40]

1526 में, राजा हेन्री उस पर आसक्त हो गया और उसका पीछा करना शुरू कर दिया.[41]

ऐनी ने उसे आकर्षित करने के राजा के प्रयासों का विरोध किया, उसकी रखैल बनने से मना करते हुए, वह अक्सर दरबार छोड़ हीवर कासल में एकान्तवास के लिए चली जाती. एक साल के भीतर, उसने शादी का प्रस्ताव रखा जिसे उसने स्वीकार कर लिया. दोनों का मानना था कि अमान्यता कुछ ही महीनों में प्राप्त हो सकती है. इस सुझाव का कोई प्रमाण नहीं है कि वे यौन संबंधों में लिप्त हुए या हुए भी तो शादी के बहुत करीब हुए, वास्तव में, ऐनी को लिखे हेन्री के प्रेम पत्र साबित करते हैं कि उनके सात साल के अधिकतर प्रेमालाप में उनका प्रेम प्रसंग शारीरिक संबंधों से अपूर्ण रहा.

यह सुझाव कि वे इस समय से पहले यौन सक्रिय थे अब बड़े पैमाने पर मौत के बाद ऐनी की प्रतिष्ठा को नष्ट करने के लिए मानहानि अभियान के हिस्से के रूप में माना जाता है.

हेन्री का अमान्यकरण[संपादित करें]

Portrait of a Woman, inscribed "Anna Bollein Queen", द्वारा Hans Holbein the Younger, c.1532-36. विद्वानों में अत्यंत असहमति हैं कि क्या यह चित्र ऐनी का है. एक मत से यह पता चलता है कि यह उसके चचेरे भाई, थॉमस वाइट की एक बहन है.

हीवर कासल में ट्यूडर चित्र संग्रह में ऐनी की कई तस्वीरें रखी गई हैं साथ ही उसके द्वारा हस्ताक्षरित और चिह्नित उसकी दो बुक्स ऑफ़ आवर्स (प्रार्थना पुस्तकें) भी हैं.

यह संभव है कि अमान्यकरण (तलाक नहीं जैसा कि आमतौर पर समझा जाता है) का विचार हेन्री को इससे कहीं पहले ही सूझ गया था और ताज के लिए ट्यूडर दावे की वैधता सुरक्षित करने के लिए एक वारिस की इच्छा से प्रेरित हुआ.

हेन्री के पिता हेन्री सप्तम के सिंहासनारुढ़ होने से पहले ताज के लिए प्रतिद्वंद्वी दावों से इंग्लैंड में गृह युद्ध छिड़ गया था और हेन्री उत्तराधिकार की ऐसी अनिश्चितता से बचना चाहता था.

उसका और कैथरीन का कोई जीवित पुत्र नहीं था, मैरी को छोड़कर कैथरीन के सभी बच्चे शैशवास्था में ही चल बसे.[42] ऐरागॉन की कैथरीन पहले हेन्री के भाई आर्थर की दुल्हन बनने इंग्लैंड आयी थी जो अपने विवाह के बाद जल्द ही मर गया. स्पेन और इंग्लैंड उस समय अपने राज्यों को एकाकार करना चाहते थे और 1509 में, हेन्री और कैथरीन का विवाह हो गया. लेकिन यह शादी न हो सकी जब तक कि पोप ने बाइबल की एक पुस्तक में एक विवादास्पद पैरा के नियम को रद्द नहीं कर दिया. उस किताब, लेविटिकस में अपने भाई की विधवा से शादी की मनाही है जिससे कि वह आदमी और वह विधवा शापित न हों.

पोप ने शामिल राजवंशों की सुविधा के लिए व्यवस्था दी कि लेविटिकस पोप के विधान द्वारा जारी नहीं हुई. तथापि, अब, इन कई सालों के बाद और एक नए पोप के आ जाने से, हेन्री फिर से सोचविचार करने लगा. उत्तराधिकारी प्रदान करने में कैथरीन की असमर्थता और संभवतः खुद ऐनी द्वारा उकसाए जाने पर हेन्री ने फ़ैसला किया कि किसी भी पोप को एक बाइबिल पुस्तक के विरूद्ध व्यवस्था देने का अधिकार नहीं है.

इसका मतलब कि वह इन सभी वर्षों में ऐरागॉन की कैथरीन के साथ पापपूर्ण जीवन बिता रहा था, हालांकि कैथरीन ने इसका कड़ा विरोध किया और यह मानने से इनकार कर दिया कि उसकी पहली शादी शारीरिक संबंधों द्वारा पूर्ण हुई थी.

इसका यह भी मतलब हुआ कि उनकी बेटी मैरी अवैध थी, और कि नए पोप (क्लेमॉ सप्तम) को पिछले पोप की गलती स्वीकार करनी चाहिए और उसकी शादी को अमान्य करार दे. अमान्यकरण के लिए हेन्री की धुन "King's Great Matter" के रूप में जानी जाने लगी.[43]

ऐनी ने हेन्री के मोह में एक अवसर और सुविधाजनक नैतिक असमंजस देखा. उसने निश्चय किया कि वह केवल आधिकारिक रानी के रूप में ही उसके प्रेम को स्वीकार करेगी. उसने नीति और राज्य में उसका साथ देना शुरू कर दिया लेकिन उसके बिस्तर में नहीं, कम से कम अभी तक तो नहीं.[44]

इस बारे में विद्वानों और इतिहासकारों के विभिन्न विचार हैं कि सुधार के प्रति ऐनी की कितनी गहरी प्रतिबद्धता थी, कितना वह शायद व्यक्तिगत रूप से महत्वाकांक्षी थी और हेन्री द्वारा पोप की सत्ता की अवज्ञा के लिए वह कितनी उत्तरदायी थी. उसकी पूर्व परिचारिका ऐनी गेन्सफ़ोर्ड[45] द्वारा जीवनीकार जॉर्ज वाइट से संबंधित एक उपाख्यानात्मक प्रमाण है कि ऐनी ने एक विधार्मिक पुस्तिका,शायद टिन्डल की "The Obedience of the Christian Man" या सिमॉन फ़िश की "Supplication for Beggars", की ओर हेन्री का ध्यान आकर्षित किया जिसमें राजाओं द्वारा कैथलिक चर्च की ज़्यादतियों पर लगाम लगाने के लिए दुहाई दी गई थी.

अगर कैवेनडिश पर यकीन किया जाए, वुल्से पर ऐनी की नाराज़गी व्यक्तिगत भी हो सकती है जो भी दार्शनिक अवज्ञा वह अपने साथ फ़्रांस से लाई हो. इसके अलावा,आइव्स की जीवनी के नवीनतम संस्करण यह स्वीकार करते हैं कि हो सकता है कि युवावस्था में ही ऐनी में आध्यात्मिक जागृति आ गई हो जिसने उसे प्रेरित किया हो, केवल उत्प्रेरक के रूप में ही नहीं बल्कि हेन्री के सुधार के व्यवस्थापक के तौर पर यद्यपि इस प्रक्रिया में कई साल लग गए.

1528 में, पसीना बीमारी का प्रकोप हुआ. लंदन में, मृत्यु दर बहुत ज़्यादा थी और दरबार विसर्जित था. हेन्री ने लंदन छोड़ दिया, अक्सर अपना निवास बदलता रहता, ऐनी बोलिन बोलिन निवास हीवर कासल को लौट गई, लेकिन बीमारी की चपेट में आ गई, उसका बहनोई विलियम कैरी मर गया. हेन्री ने उसकी देखभाल के लिए अपने चिकित्सक को हीवर कासल भेजा और शीघ्र ही बाद में वह स्वस्थ हो गई.[46]

जल्द ही कैथरीन से अमान्यकरण पाने की धुन हेन्री पर सवार हो गई.[47]

कार्डिनल वुल्से जिसे उसने पहले पहल ऐनी से संबंधित अपनी योजनाओं के बारे में कुछ भी सूचना नहीं दी, उससे स्वतंत्र होकर कार्य करते हुए हेन्री ने होली सी को की सीधी अपील पर अपनी उम्मीदें टिका दीं.

कि बुल ऑफ़ पोप जूलियस द्वितीय से व्यवस्था झूठे दावों से प्राप्त की गयी थी, इस आधार पर कैथरीन के साथ उसकी शादी के अमान्यकरण का मुकदमा करने के लिए राजा के सचिव विलियम नाइट को पोप क्लेमॉ सप्तम के पास भेजा गया.

हेन्री ने यह याचिका भी दायर की कि स्वतंत्र होने की स्थिति में, इस आशय की एक व्यवस्था दी जाए कि वह किसी भी औरत चाहे वह करीबी रिश्ते में से हो, चाहे संबंध वैध या अवैध संपर्क से हो, के साथ नयी शादी कर सके.

इसका स्पष्ट संदर्भ ऐनी से था.[48]

ऐरागॉन की कैथरीन, हेन्री की पहली पत्नी और रानी

चूंकि उस समय पोप, मई 1527 में सैक ऑफ़ रोम के परिणामस्वरूप पवित्र रोमन सम्राट , चार्ल्स पंचम के कैदी थे, नाइट को उन तक पहुँचने में थोड़ी कठिनाई हुई. अंत में, उसे एक सशर्त व्यवस्था के साथ लौटना पड़ा जिसे वुल्से ने ज़ोर देकर तकनीकी तौर पर अपर्याप्त बताया.[49] अब हेन्री के पास इसके सिवा कोई विकल्प नहीं था कि अपने ग्रेट मैटर को वुल्से के हाथों सौंप दे जिसने हेन्री के पक्ष में निर्णय प्राप्त करने के लिए यथासंभव प्रयास किया.[50]

वुल्से ने यहां तक किया कि इंग्लैंड में एक चर्च संबंधी दरबार आयोजित किया जिसमें बात का फ़ैसला करने के लिए खुद पोप का एक विशेष दूत शामिल था. लेकिन पोप ने कभी अपने डिप्टी को कोई भी निर्णय लेने का अधिकार नहीं दिया था. पोप अभी भी चार्ल्स पंचम के बंधक थे और चार्ल्स पंचम हेन्री की रानी कैथरीन का वफ़ादार भतीजा था.[51] पोप ने इंग्लैंड में नहीं बल्कि रोम में कोई फ़ैसला न होने तक हेन्री को नई शादी करने से मना कर दिया. इस बात से आश्वस्त कि वुल्से इंग्लैंड का नहीं बल्कि पोप का वफ़ादार है, ऐनी और वुल्से के कई दुश्मनों ने 1529 में सार्वजनिक कार्यालय से उसकी बर्खास्तगी सुनिश्चित की, जब अंततः हेन्री ने विदेशी सत्ता के प्रति वफ़ादारी के आधार पर उसकी गिरफ़्तारी के लिए सहमति दे दी.[52] अगर 1530 में बीमारी से उसकी मौत न हो जाती तो शायद उसे राजद्रोह के लिए मार दिया गया होता.[53] एक साल बाद, रानी कैथरीन को दरबार से निर्वासित कर दिया गया और उसके कमरे ऐनी को दे दिए गए.

तथापि जनता का समर्थन रानी कैथरीन के साथ रहा. 1531 में शरद ऋतु की एक शाम को थेम्स नदी पर एक जमींदारी के घर पर भोजन करते वक्त क्रुद्ध और हिंसक महिलाओं की एक भीड़ ने लगभग ऐनी को घेर लिया.

ऐनी किसी तरह नाव से बच निकली.[54]

जब कैंटरबरी के आर्कबिशप विलियम वैरहम की 1532 में मृत्यु हो गई तो बोलिन परिवार के पादरी, थॉमस क्रैनमर को पोप की अनुमति से नियुक्त किया गया.[55]

इंग्लैंड में रोम की सत्ता धीरे-धीरे टूटने लगी जो इसका प्रतीक थी कि रोम से अलग होने के हेन्री के प्रयास अपनी नई प्रेमिका को रिझाने की तरंग में नहीं किए गए थे. 1532 में थॉमस क्रॉमवेल ने संसद के समक्ष कई अधिनियम पेश किए जिनमें सामान्य के खिलाफ़ प्रार्थना और पादरी वर्ग की अधीनता भी शामिल है जिसने चर्च की तुलना में शाही वर्चस्व को मान्यता दी और इस प्रकार रोम के साथ अलगाव को अंतिम रूप दिया.

इन कृत्यों के बाद, क्रॉमवेल को हेन्री के मुख्य मंत्री के रूप में छोड़ते हुए थॉमस मोर ने चांसलर के पद से इस्तीफ़ा दे दिया.[56]

विवाह[संपादित करें]

ऐनी बोलिन ने अक्सर अपने भावी पति से स्वतंत्र होकर काम किया, याचिकाएं दी, राजनयिकों का स्वागत किया, संरक्षण मुलाकातों और विदेश नीति की अध्यक्षता की.

मिलान के राजदूत ने 1531 में लिखा कि यदि कोई अंग्रेज़ी सरकार को प्रभावित करना चाहता था तो उसका अनुमोदन जरूरी था, पहले 1529 में एक फ़्रांसीसी राजदूत ने भी यही मत पेश किया था.

इस अवधि के दौरान, ऐनी बोलिन ने फ़्रांस के साथ गठबंधन को सशक्त करते हुए वास्तव में इंग्लैंड की अंतरराष्ट्रीय स्थिति में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभायी.

उसका फ़्रांस के राजदूत जिल डे ला पॉमेरी के साथ शानदार तालमेल था.

ऐनी और हेन्री ने 1532 की सर्दियों में कैलेस में फ़्रेंच राजा के साथ बैठक में भाग लिया जिसमें हेन्री ने अपनी शादी के लिए फ़्रांस के फ़्रांसिस प्रथम का समर्थन पाने की आशा व्यक्त की.

हेन्री ने अपनी भावी पत्नी को एक उचित रैंक दिया. 1 सितम्बर, 1532 को उसे पेमब्रोक की मारकेस बनाया गया [57] और वह अपने दायरे की सबसे प्रतिष्ठित गैर-शाही महिला बनी.[58]

पेमब्रोक खिताब ट्यूडर परिवार के लिए महत्वपूर्ण था क्योंकि हेन्री के पड़चाचा, जैस्पर ट्यूडर को अर्ल ऑफ़ पेमब्रोक[59] का खिताब मिला था और खुद हेन्री ने अभिषेक का आयोजन किया था.[60]

हेन्री अष्टम, Hans Holbein the Younger, c द्वारा. 1536

ऐनी के परिवार को भी संबंध से लाभ हुआ. उसके पिता जो पहले से ही विस्काउंट रॉकफ़र्ड थे उन्हें अर्ल ऑफ़ विल्टशायर बनाया गया. हेन्री ने ऐनी के चचेरे आयरिश भाई की भी व्यवस्था की और उसे अर्ल ऑफ़ ऑरमंड बनाया. पिता की उन्नति का जश्न मनाने के लिए आयोजित शानदार भोज में ऐनी ने सफ़ॉक और नॉरफ़ॉक की डचेज़ से अग्रता लेते हुए राजा की बगल में प्रतिष्ठित स्थान ग्रहण किया जहाँ आमतौर पर रानी बैठा करती थी.[61]

ऐनी के हस्तक्षेप की मेहरबानी से उसकी विधवा बहन मैरी को £100 की वार्षिक पेंशन मिली और मैरी के बेटे हेन्री कैरी ने एक प्रतिष्ठित सिस्टर्शियन मठ में शिक्षा पाई.

कैलेस सम्मेलन एक तरह से राजनीतिक विजय था हालांकि फ़्रांस की सरकार ने हेन्री के पुनः विवाह को परोक्ष रूप से समर्थन दिया और फ़्रांसिस प्रथम ने स्वंय ऐनी के साथ गुप्त मंत्रणा की, लेकिन फ़्रांसीसी राजा ने पोप के साथ गठबंधन बनाए रखा उसकी वह स्पष्ट अवहेलना नहीं कर सका.[62]

डोवर लौटने के जल्द बाद ही हेन्री और ऐनी ने गुप्त समारोह में शादी कर ली.[63]

जल्द ही वह गर्भवती हुई और जैसा कि राजघराने का रिवाज़ था एक और शादी का समारोह लंदन में 25 जनवरी, 1533 को हुआ, वह भी उसी तरह गुप्त रूप से.

अब घटनाएं तेज़ी से बढ़ने लगीं. 23 मई, 1533 को क्रैनमर (जिसे जल्दबाजी में वैरहम की सुविधाजनक मौत से रिक्त स्थान में, पोप की अनुमति से कैंटरबरी का आर्कबिशप के पद पर बिठाया गया) ऐरागॉन की कैथरीन से राजा की शादी की वैधता पर व्यवस्था देने के लिए डनस्टेबल प्रॉयोरी में बुलाई गई एक विशेष अदालत में फ़ैसला देने बैठा.

उसने हेन्री और कैथरीन की शादी को अमान्य घोषणा किया. पांच दिन बाद, 28 मई, 1533 को क्रैनमर ने हेन्री और ऐनी की शादी को सही और वैध घोषित कर दिया.[64]

इंग्लैंड की रानी (1533-1536)[संपादित करें]

Anne Boleyn's arms as queen consort[65]
बिशप जॉन फ़िशर Hans Holbein the Younger द्वारा. फ़िशर ने हेन्री अष्टम की ऐनी बोलिन से शादी को मान्यता देने से इनकार कर दिया

कैथरीन से औपचारिक रूप से उसका रानी का खिताब छीन लिया गया और 1 जून, 1533 को वेस्टमिंस्टर एब्बे में एक शानदार समारोह जिसके बाद शानदार भोज भी था, में ऐनी को रानी पत्नी का ताज पहनाया गया.[66]

वह इंग्लैंड की अंतिम रानी पत्नी थी जिसे उसके पति से अलग ताज पहनाया गया था. उससे पहले दिन, ऐनी ने लंदन की गलियों में से एक सुसज्जित जुलूस में भाग लिया जिसमें वह "सोने के सफ़ेद कपड़े में" भूमि को छूती सफ़ेद जामदानी से ढके दो घोड़ों पर टिकी पालकी में बैठी जबकि चिन्क्यु पोर्टस के सामन्तों ने उसके सिर पर सोने के कपड़े का एक वितान लगाया.

परंपरा के अनुसार, उसने सफ़ेद कपड़े पहने थे और उसके सिर पर एक सोने का शिरोबन्ध था जिसके नीचे से उसके लंबे काले बाल खुले लटक रहे थे.[67] उसकी उपस्थिति के प्रति जनता की प्रतिक्रिया बहुत जोशपूर्ण नहीं थी.[68] किसी भी अन्य रानी पत्नी के विपरीत, ऐनी को सेंट एडवर्ड का ताज पहनाया गया था जो पहले केवल राज कर रहे राजा को पहनाने के लिए इस्तेमाल किया गया था.[69]

हन्ट का सुझाव है कि ऐसा इसलिए किया गया क्योंकि तब तक ऐनी की गर्भावस्था दिखाई देने लगी थी और उसके पेट में वारिस पल रहा था और यह मान लिया गया था कि वह लड़का ही होगा.[70]

इस बीच हाउस ऑफ़ कॉमन्स ने रोम को अपील करने की मनाही कर दी और जिसने भी इंग्लैंड में पैपल बुल्स की शुरुआत की उन सभी के खिलाफ़ विदेशी सत्ता के प्रति वफ़ादारी का दंड सुनाया गया.

तब कहीं जाकर पोप क्लेमॉ ने राजा और क्रैनमर के खिलाफ़ बहिष्कार की अनंतिम सज़ा की घोषणा की.

उसने ऐनी के साथ शादी की निंदा की और मार्च 1534 में उसने कैथरीन के साथ शादी को कानूनी घोषित किया और हेन्री को उसके पास लौट जाने का आदेश दिया.[71]

अब हेन्री को आवश्यकता थी कि उसकी प्रजा प्रथम उत्तराधिकार अधिनियम के साथ संलग्न शपथ ले जो कानूनी मामलों में पोप के अधिकार को प्रभावी ढंग से खारिज करती है और ऐनी बोलिन को रानी के रूप में मान्यता देती है.

जिन लोगों ने मना कर दिया जैसे सर थॉमस मोर जिसने लॉर्ड चांसलर के रूप में इस्तीफा दे दिया था और जॉन फ़िशर रॉकैस्टर के बिशप ने स्वयं को टॉवर में पाया.

1534 के आखिर में संसद ने हेन्री को "इंग्लैंड की चर्च की पृथ्वी पर एकमात्र सर्वोच्च प्रमुख" घोषित कर दिया.[72] अब इंग्लैंड की चर्च रोम के नहीं बल्कि हेन्री के नियंत्रण में थी.

एक बेटे के लिए संघर्ष[संपादित करें]

उसके राज्याभिषेक के बाद ऐनी अपने बच्चे को जन्म देने की तैयारी के लिए राजा के पसंदीदा निवास ग्रीनविच पैलेस की शांत दिनचर्या में रम गई.

7 सितम्बर 1533 को समय से थोड़ा पहले बच्चा पैदा हुआ. दोपहर में तीन और चार के बीच, ऐनी ने एक लड़की को जन्म दिया जिसका नाम शायद हेन्री की माँ, यॉर्क की एलिज़ाबेथ के सम्मान में एलिज़ाबेथ रखा गया.

एक 17 वीं सदी के चित्र के बाद ग्रीनविच पैलेस

शिशु राजकुमारी का शानदार नामकरण हुआ लेकिन ऐनी को डर था कि कैथरीन की बेटी, मैरी जिससे अब राजकुमारी का खिताब ले लिया गया था और जिस पर नाजायज़ का लेबल लगा हुआ था, वह एलिज़ाबेथ की स्थिति के लिए एक खतरा थी.

हेन्री ने मैरी के अनेक सेवकों को हटाकर और उसे हैटफ़ील्ड हाउस भेजकर अपनी पत्नी के डर को दूर किया जहां राजकुमारी एलिज़ाबेथ कई कर्मचारियों के साथ रहेगी और जहां की देहात की हवा बच्चे के स्वास्थ्य के लिए बेहतर मानी जाती थी.[73]

ऐनी अक्सर अपनी बेटी से मिलने हैटफ़ील्ड और अन्य घरों का दौरा करती थी.[74]

नई रानी का स्टाफ़ कैथरीन से ज़्यादा था. उसकी व्यक्तिगत जरूरतों के लिए, पादरी से लेकर घुड़शाला सेवक तक, 250 से अधिक कर्मचारी थे. 60 से ऊपर वधुसखियां थी जो उसकी सेवा करती थीं और सामाजिक समारोहों में उसके साथ जाती थीं.

उसने अनेक पादरियों को भी नौकरी पर रखा हुआ था जो उसके पापमोचक, पादरी और धार्मिक सलाहकार के रूप में काम करते थे.

इनमें एक मैथ्यू पार्कर था जो ऐनी की बेटी एलिज़ाबेथ के शासनकाल के दौरान अंग्रेज़ी चर्च मत का मुख्य आर्किटेक्ट बन गया.[75]

राजा के साथ संघर्ष[संपादित करें]

हेन्री का ऐनी बोलिन के साथ समझौता, George Cruikshank द्वारा, 19वीं सदी.

राजा और उसकी नई रानी के बीच संबंध, शांत और स्नेह की अवधि से भरपूर, काफी खुश रहे. ऐनी बोलिन की तेज बुद्धि, राजनीतिक कौशल और अग्रगामी शिष्टाचार, हालांकि एक रखैल में वांछनीय थे किन्तु एक पत्नी में अस्वीकार्य थे. जानकारी के अनुसार एक बार उसने अपने चाचा से ऐसे शब्दों में बात की जो "किसी कुत्ते के लिए इस्तेमाल नहीं किए जाने चाहिए".[76]

1534 की क्रिसमस के पास मरे हुए बच्चे या गर्भपात के बाद हेन्री क्रैनमर और क्रॉम्वेल के साथ कैथरीन के पास वापस लौटे बगैर ऐनी को छोड़ने की संभावना पर चर्चा कर रहा था.[77] शाही जोड़ी में मेल मिलाप होने से मामला आगे नहीं बढ़ा और 1535 की गर्मियां बितायीं. अक्टूबर तक, वह फिर से गर्भवती हो गई. ऐनी बोलिन ने एक शानदार दरबार की अध्यक्षता की. वह गाउन, जवाहरात, केश अलंकार, शुतुरमुर्ग-पंख के पंखे, सवारी के उपकरण, फर्नीचर और असबाब, उसके स्तर द्वारा अपेक्षित भव्य प्रदर्शन को बनाए रखने के लिए खुले हाथों खर्च करती. उसकी और हेन्री की महंगी रुचि के अनुसार कई महलों को पुनर्निर्मित किया गया.[78]

उसके आदर्श वाक्य था "सबसे अधिक खुश", और उसने व्यक्तिगत युक्ति के रूप में एक सफ़ेद बाज़ चुना था.

पति की सरकार द्वारा अत्याचार के लिए ऐनी को दोषी ठहराया गया था और उसकी कुछ प्रजा उसे "राजा की वेश्या" या एक "नटखट नटनी[वेश्या]" कहकर बुलाती थी.[79]

बेटा पैदा न कर पाने पर उसके प्रति जनता की राय और भी खिलाफ़ हो गई. उसके दुश्मन सर थॉमस मोर और बिशप जॉन फ़िशरकी फांसी के बाद यह और भी कम हो गई. हालांकि, उसकी गिरफ़्तारी, मुकदमे और वध से लंदन और इस महाद्वीप में जनता की राय सहानुभूति में बदल गई और हेन्री के व्यवहार को नापसंद किया गया.

पतन और वध (1536)[संपादित करें]

ऐनी के वध के शीघ्र बाद ही जेन सेमुर हेन्री की तीसरी पत्नी बन गयी

जनवरी 8, 1536 को ऐरागॉन की कैथरीन की मौत की खबर राजा और ऐनी तक पहुंच गई. उसकी मौत की खबर सुनकर वे बहुत खुश थे. अगले दिन, हेन्री ने सिर से लेकर पैर तक पीला पहनकर कैथरीन की मौत का उत्सव मनाया.[80] इंग्लैंड में पीला रंग की खुशी और उत्सव का प्रतीक है. स्पेन में, ऐरागॉन की कैथरीन के देश में, काले के अलावा पीला रंग शोक का रंग है.[81] इस कारण से, हेन्री और ऐनी द्वारा पीला पहनना शोक का प्रतीक हो सकता है. माँ के मरने पर ऐनी ने अपनी ओर से राजकुमारी मैरी के साथ समझौता करने का प्रयास किया.[82]

फिर से गर्भवती रानी बेटे को जन्म न दे पाने के खतरों से परिचित थी. कैथरीन की मौत के साथ, हेन्री गैरकानूनी के किसी भी कलंक के बिना शादी के लिए आज़ाद होगा. मैरी ने ऐनी की पहल को ठुकरा दिया, शायद इन अफवाहों की वजह से कि ऐनी और/ या हेन्री ने कैथरीन को जहर दिया था.

ये फैली जब उसके शव के संलेपन के समय पाया गया कि उसका दिल काला पड़ गया था. आधुनिक चिकित्सा विशेषज्ञ सहमत हैं कि यह विषाक्तता का परिणाम नहीं था लेकिन दिल के कैंसर के कारण था जो उस समय के लोगों की समझ में नहीं आया.[76]

बाद में उस महीने, एक टूर्नामेंट में राजा घोड़े पर से गिर पड़ा और दो घंटे बेहोश रहा, ऐनी का मानना है कि इसकी चिंता के कारण पांच दिन बाद उसका गर्भपात हो गया.[83]

पीटरबरो एब्बे में ऐरागॉन की कैथरीन के दफ़न के दिन, ऐनी का गर्भपात हुआ जो शाही राजदूत चैपायसके अनुसार लगभग साढ़े तीन महीने का था और जो "पुरुष" बच्चा लग रहा था.[84]

चैपायस के लिए, यह व्यक्तिगत क्षति शाही शादी के अंत की शुरुआत थी.[85]

बेटे के लिए हेन्री की बेताब इच्छा को देखते हुए ऐनी के गर्भधारण के अनुक्रम में रुचि पैदा होने लगी. लेखक माइक एश्ले का अनुमान है एलिज़ाबेथ के जन्म के बाद और 1536 में गिरे पुरुष बच्चे के जन्म से पहले ऐनी ने दो मृत बच्चों को जन्म दिया.[86]

अधिकतर सूत्र केवल सितंबर 1533 में एलिज़ाबेथ के जन्म की, 1534 की गर्मियों में संभव गर्भपात की और लगभग चार माह के हमल के नर बच्चे के 1536 जनवरी में गर्भपात को सत्यापित करते हैं.[87]

गर्भपात से ऐनी के संभलने के बाद हेन्री ने घोषणा की कि उसे "तंत्र-मंत्र (sortilege)" - एक फ़्रेंच शब्द जिसका मतलब "धोखा" या "वशीकरण" है, द्वारा शादी के लिए राजी किया गया था.

उसकी नई रखैल, जेन सेमुर जल्दी ही शाही क्वार्टरों में रहने आ गई. इसके बाद ऐनी के भाई को प्रतिष्ठित दरबारी सम्मान, ऑर्डर ऑफ़ गार्टर से मना कर दिया गया और उसकी बजाय सर निकोलस कैरू को दे दिया गया.[88]

ऐनी से प्रभावित प्रचारकों में से एक द्वारा एक धर्मोपदेश का अपेक्षाकृत नया सबूत है कि क्रॉम्वेल और हेन्री की मठों के विघटन में क्रूर रणनीति का ऐनी का विरोध शायद उसकी सत्ता का अंत करने के लिए उनका संयुक्त प्रयास हो.[कृपया उद्धरण जोड़ें]

डेविड स्टार्की और बाद में अपनी निर्णायक जीवनी के नए संस्करण में रिक आइव्स दोनों ने बताया कि किस तरह सार्वजनिक उपदेश राजनीतिक राय के प्रचार और घोषणाओं का महत्वपूर्ण माद्यम हुआ करते थे.

उसके पतन से कुछ पहले ही, वे सुझाव देते हैं, ऐनी ने एक धर्मोपदेश पढ़वाया जिसके अनुसार एस्थर की बाइबिल की कहानी में क्रॉम्वेल दुष्ट परामर्शदाता था (ऐनी को एस्थर इंगित किया गया).

यह संभव है कि शाही लाभ के लिए मठों को भंग करने की योजना के खिलाफ़ ऐनी की अवज्ञा ने (हेन्री के साथ या बिना) क्रॉम्वेल को उसकी सत्ता का तख्ता पलटने के लिए मजबूर किया.

व्यभिचार, अनाचार और राजद्रोह के आरोप[संपादित करें]

थॉमस क्रॉमवेल, एक समय में ऐनी का प्रबल सहयोगी, जिसके साथ वह विदेश नीति और चर्च संपत्ति के पुनर्वितरण पर भिड़ गई. Portrait by Hans Holbein the Younger, c.1532.

लेखक और ट्यूडर इतिहासकार एलिसन वियर के मुताबिक, थॉमस क्रॉमवेल ने बीमारी का बहाना करते हुए और 20-21 अप्रैल 1536, को योजना को विस्तृत रूप देते हुए ऐनी के पतन की साजिश गढ़ी.

ऐनी के जीवनी लेखक एरिक आइव्स का मानना है कि अन्य के साथ, उसका पतन और वध थॉमस क्रॉम्वेल द्वारा नियोजित थे.[89]

चैपायस और क्रॉमवेल के बीच बातचीत से संकेत मिलते हैं कि ऐनी को गिराने के लिए साजिश को उकसाने वाला क्रॉम्वेल था, इसका सबूत स्पेनिश क्रॉनिकल और चैपायस द्वारा चार्ल्स पंचम को लिखे पत्रों से पता चलता है. चर्च राजस्व के पुनर्वितरण और विदेश नीति पर ऐनी का क्रॉमवेल के साथ मतभेद था. उसने वकालत की कि राजस्व को धर्मार्थ और शैक्षिक संस्थाओं में वितरित किया जाए, और उसने एक फ़्रेंच गठबंधन का समर्थन किया. क्रॉम्वेल अपने लिए कटौती रखकर राजा के खाली खजाने को भरने पर जोर दे रहा था और एक शाही गठबंधन के पक्ष में था.[90]

इन कारणों से, आइव्स का सुझाव है "ऐनी बोलिन क्रॉम्वेल थॉमस के लिए एक प्रमुख खतरा बन गई था."[91] दूसरी तरफ क्रॉम्वेल के जीवनी लेखक जॉन स्कोफ़ील्ड का तर्क है कि ऐनी और क्रॉम्वेल के बीच कोई सत्ता संघर्ष नहीं था और कि "ऐनी के खिलाफ़ क्रॉम्वेल की साजिश का कोई संकेत नहीं मिलता...

मामले में हेन्री के आदेश पर ही क्रॉम्वेल इस शाही वैवाहिक नाटक में शामिल हुआ.[92]

क्रॉमवेल ने व्याभिचार के आरोप नहीं लगाए हालांकि उसने और अन्य अधिकारियों ने ऐनी के खिलाफ़ हेन्री के मामले के लिए उन्हें इस्तेमाल किया.[93] इतिहासकार रेथा वॉरनिक का सवाल है कि क्या इस तरह के एक मामले में क्रॉम्वेल राजा के साथ चालाकी बरत सकता था.[94] खुद हेन्री ने महत्वपूर्ण निर्देश जारी किए, क्रॉम्वेल और अधिकारियों ने उनका अनुपालन किया.[95] इतिहासकार सहमत हैं कि परिणाम एक कानूनी उपहास बन गया.[96]

ऐसा करने के लिए, मास्टर सचिव क्रॉम्वेल को पर्याप्त सबूत की आवश्यकता पड़ती जो उसकी सजा के लिए काफ़ी होता या उसने अपने पद और शायद जीवन को खतरे में डाला.

अप्रैल के अंत में, ऐनी की सेवा में मार्क स्मीटन नाम का एक फ़्लेमिश संगीतकार गिरफ़्तार किया गया शायद उसे यातना दी गई या स्वतंत्रता का वादा किया गया. शुरू में उसने रानी का प्रेमी होने का खंडन किया लेकिन बाद में कबूल कर लिया. एक अन्य दरबारी, सर हेन्री नॉरिस को मई दिवस को गिरफ़्तार किया गया था चूंकि वह एक रईस था, उसे यातना नहीं दी जा सकती थी. उसकी गिरफ़्तारी से पहले, राजा नॉरिस से दयालुता से पेश आया, उसने मई दिवस के उत्सव पर उपयोग के लिए उसे अपने घोड़े की पेशकश की. यह संभावना है कि उत्सव के दौरान राजा को स्मीटन के कबूल के बारे में अधिसूचित किया गया था और इसके शीघ्र बाद ही कथित साजिशकारों को राजा के आदेश पर गिरफ़्तार किया गया. नॉरिस को महोत्सव में गिरफ़्तार किया गया. नॉरिस ने अपने अपराध से इनकार किया और कसम खाई है कि रानी ऐनी निर्दोष थी. नॉरिस के खिलाफ़ सबसे ज्यादा हानिकारक सबूत था अप्रैल के अंत में सुना गया ऐनी के साथ एक वार्तालाप, जिसमें उसने आरोप लगाया कि वह अक्सर उसके कक्ष में सेविका मैज शेल्टन से नहीं बल्कि उससे मिलने चला आता है.

इसी आरोप पर दो दिन बाद सर फ़्रांसिस वेस्टन को गिरफ़्तार कर लिया गया.

राजा के प्रिवी चैम्बर के साईस सर विलियम ब्रेरटन को भी व्याभिचार के आधार पर गिरफ़्तार किया गया.

अंतिम गिरफ़्तार अभियुक्त था रानी ऐनी का अपना भाई जिस पर कौटुम्बिक व्याभिचार और राजद्रोह, अपनी बहन के साथ यौन संबंध होने का आरोप लगाया गया था.[97]

जॉर्ज बोलिन पर कौटुम्बिक व्याभिचार की दो घटनाओं का आरोप लगाया गयाः नवंबर 1535 में व्हाइटहॉल में और अगले महीने एल्थैम पर.[98]

2 मई 1536 को, ऐनी को गिरफ़्तार किया गया और टॉवर ऑफ़ लंदन को ले जाया गया. टॉवर में, वह बेहोश हो गई, अपने पिता और "swete Broder" के ठिकाने का पता और साथ ही उसके खिलाफ़ आरोपों की मांग की. चार आरोपी पुरुषों पर 12 मई 1536 को वेस्टमिंस्टर में मुकदमा चला. वेस्टन, ब्रेरटन, और नॉरिस ने खुद को निर्दोष बताया और केवल प्रताड़ित स्मीटन ने दोष को कबूलकर राजा का साथ दिया. तीन दिन बाद, टॉवर ऑफ़ लंदन में ऐनी और जॉर्ज बोलिन पर अलग से मुकदमा चलाया गया. उस पर व्याभिचार, कौटुम्बिक व्याभिचार और घोर राजद्रोह का आरोप लगाया गया.[99] एडवर्ड तृतीय के राजद्रोह अधिनियम के द्वारा रानी द्वारा व्याभिचार राजद्रोह का एक हिस्सा था (संभवतः सिंहासन के उत्तराधिकार के निहितार्थ) जिसका दंड एक आदमी के लिए फांसी, घसीटना और चार टुकड़े करना और औरत के लिए जिंदा जलाया जाना था, पर आरोप और विशेष रूप से कौटुम्बिक व्याभिचार के आरोप उसके नैतिक चरित्र पर उंगली उठाने के लिए थे.

राजद्रोह के दूसरे रूप में उस पर कथित तौर पर अपने "प्रेमियों" के साथ मिलकर राजा की मौत की साजिश रचने का आरोप था, ताकि वह बाद में हेन्री नॉरिस से शादी कर सके.[98]

ऐनी की कथित मुठभेड़ों की तारीखों में से कोई भी उसके ठिकाने के साथ मेल नहीं खाती थी और कुछ तो उसकी गर्भावस्था के अंतिम चरण की थी.

मई 14 को, क्रैनमर ने हेन्री के साथ ऐनी की शादी को भंग घोषित कर दिया.[100]

अंतिम घंटे[संपादित करें]

Anne Boleyn in the Tower by Edouard Cibot (1799 - 1877)

हालांकि उनके खिलाफ़ सबूत तसल्लीबख्श नहीं था, कानून के तहत अभियुक्तों को दोषी पाया गया और उनके साथियों की एक जूरी द्वारा मौत की सज़ा दी गई.

जॉर्ज बोलिन और दूसरे अभियुक्त पुरुषों को 17 मई 1536 को मार डाला गया. लॉर्ड किंग्स्टन, टॉवर के रक्षक ने सूचना दी कि ऐनी बहुत खुश थी और जीवन खत्म करने के लिए तैयार लग रही थी. राजा ने ऐनी की जलाए जाने की सज़ा को वध में रूपान्तरित कर दिया और रानी के सिर को आम कुल्हाड़ी से काटे जाने की बजाए सेंट ओमर से एक तलवारबाज़ को नियुक्त किया.

वे मई 19 की सुबह ऐनी को ग्रीन टॉवर ले जाने के लिए आए.[101]

एंथोनी किंग्स्टन, टॉवर के हवलदार ने लिखा है:

This morning she sent for me, that I might be with her at such time as she received the good Lord, to the intent I should hear her speak as touching her innocency alway to be clear. And in the writing of this she sent for me, and at my coming she said, 'Mr. Kingston, I hear I shall not die afore noon, and I am very sorry therefore, for I thought to be dead by this time and past my pain.' I told her it should be no pain, it was so little. And then she said, 'I heard say the executioner was very good, and I have a little neck,' and then put her hands about it, laughing heartily.

I have seen many men and also women executed, and that they have been in great sorrow, and to my knowledge this lady has much joy in death. Sir, her almoner is continually with her, and had been since two o'clock after midnight.[102]


उपरोक्त से, शायद ऐनी बोलिन पर एक कविता के बावजूद, पता चलता है कि किसी न किसी समय उसकी आसन्न मृत्यु से उसे बहुत दुख हुआ होगा और आशा व्यक्त की होगी कि मृत्यु उसे तकलीफ़ों से मुक्ति देगी.[103]

भोर होने से कुछ ही समय पहले, उसने सामूहिक प्रार्थना सुनने के लिए किंग्सटन को बुलाया और उसकी उपस्थिति में अपनी आत्मा की अनन्त मुक्ति पर, पवित्र संस्कारों पर कसम खाई कि उसने कभी भी राजा के साथ विश्वासघात नहीं किया.

उसने रस्म के तौर पर मसीह के शरीर और रक्त को प्राप्त करने से तुरंत पहले और बाद में अपनी शपथ दोहरायी.[104]

मई 19 की शुक्रवार की सुबह, ऐनी बोलिन को न्यायिक तौर पर मार डाला गया, ग्रीन टॉवर पर नहीं बल्कि व्हाइट टॉवर के उत्तर में बनवाए गए एक पाड़ पर जो आज के वाटरलू बैरक्स[105] के सामने है उसने एक ढीले गहरे भूरे रंग के फर लगे और एरमिन पोशिश के तहदार जामदानी गाउन के नीचे लाल रंग का पेटिकोट पहना था.[106]

दो महिला परिचारिकाओं के साथ ऐनी क्वीन्स हाउस से पाड़ के लिए अंतिम बार निकली और वह "इतनी खुश दिख रही थी जैसे वह मरने के लिए नहीं जा रही हो".[107] ऐनी पाड़ पर चढ़ी और भीड़ के लिए एक संक्षिप्त भाषण दिया:

Good Christian people, I am come hither to die, for according to the law, and by the law I am judged to die, and therefore I will speak nothing against it. I am come hither to accuse no man, nor to speak anything of that, whereof I am accused and condemned to die, but I pray God save the king and send him long to reign over you, for a gentler nor a more merciful prince was there never: and to me he was ever a good, a gentle and sovereign lord. And if any person will meddle of my cause, I require them to judge the best. And thus I take my leave of the world and of you all, and I heartily desire you all to pray for me. O Lord have mercy on me, to God I commend my soul.[102]


यह उसके भाषण का एक संस्करण है जिसे उसकी मृत्यु के कुछ हफ़्तों बाद लेंसलॉट डे कार्ल्स ने पेरिस में लिखा, वह लंदन गया था लेकिन उसने मुकदमा या वध नहीं देखा.

सभी विवरण एकसमान हैं और बेशक अलग-अलग हद तक सही हैं. यह सोचा जाता है कि परिणामों से अपनी बेटी और परिवार को बचाने के लिए उसने स्पष्ट रूप से राजा की आलोचना नहीं की किन्तु इतने दबाव में भी अपराध कबूल नहीं किया बल्कि इतिहासकारों जो "उसके मामले की छानबीन करेंगे", को की गई अपनी अपील में निर्दोष होने का संकेत दिया.

मौत और दफ़न[संपादित करें]

थॉमस क्रैनमर, जिसने ऐनी को बचाने का कोई प्रयास नहीं किया

तब वध की फ़्रांसीसी शैली में वह घुटनों के बल सीधा बैठ गई.

अपनी अंतिम प्रार्थना में वह दोहराती रही, "यीशु मसीह को मैं अपनी आत्मा समर्पित करती हूं; मेरी आत्मा प्रभु यीशु को प्राप्त करे."

उसकी परिचारिकाओं ने उसे सिर का साफ़ा और हार हटा दिए, और फिर उसकी आँखों पर पट्टी बांध दी. एरिक डब्ल्यू. आइव्स के अनुसार, उसका जल्लाद ऐनी से इतना प्रभावित हुआ कि वह हिल गया और उसे वध करने में कठिनाई हुई.

उसे विचलित करने के लिए, वह चिल्लाया, "मेरी तलवार कहाँ है?" उसकी हत्या से ऐन पहले ताकि ऐनी को तलवार का पता न चले.

वध तेजी से किया गया था और एक झटके में किया गया.[108] कहा जाता है क्रैनमर जो लैम्बेथ पैलेस में था, एलेस अलेक्जेंडर को यह कह कर रो पड़ा: "जो धरती पर इंग्लैंड की रानी रही वह आज स्वर्ग की रानी होगी."[109]

जब पहली बार ऐनी के खिलाफ़ आरोप लगाए गए, क्रैनमर ने हेन्री के सामने आश्चर्य और अपना विश्वास व्यक्त किया कि "वह दोषी नहीं होनी चाहिए." फिर भी, रानी के साथ अपनी निकटता के कारण क्रैनमर ने खुद को असुरक्षित महसूस किया. फांसी की रात से पहले, उसने ऐनी के साथ हेन्री की शादी अमान्य घोषित की जैसे उसने पहले कैथरीन की शादी की थी.

व उसने ऐनी को बचाने का कोई गंभीर प्रयास नहीं किया, हालांकि कुछ सूत्रों का कहना है कि उसके पापों की अंतिम निजी सुनवाई करके उसने उसे मौत के लिए तैयार किया जिसमें उसने भगवान के समक्ष अपनी निर्दोषता बयान की.[110]

हालांकि, उसकी मौत के दिन एक स्कॉटिश दोस्त ने क्रैनमर को उसके लंदन उद्यान में फूट-फूटकर रोते देखा और यह कहते सुना कि उसे यकीन है कि ऐनी अब स्वर्ग को चली गई.[111]

ऐनी के वध में किए गए प्रयास के बावजूद, हेन्री किसी भी प्रकार का अंतिम संस्कार आयोजित करने में या एक उचित ताबूत उपलब्ध कराने में असफल रहा. उसका शव कुछ समय तक पाड़ पर पड़ा रहा तब एक आदमी ( माना जाता है कि टॉवर में काम करता होगा) कहीं से तीरों का एक खाली बक्सा ले आया और उसके सिर और शरीर को अंदर रखा.

तब उसे सेंट पीटर एड विन्कुला चैपल में एक गुमनाम कब्र में दफ़ना दिया गया.

रानी विक्टोरिया के शासनकाल में चैपल के जीर्णोद्धार के दौरान उसके कंकाल को पहचाना गया और अब ऐनी की कब्र संगमरमर में चिह्नित है.

मान्यता और विरासत[संपादित करें]

उसकी मौत के बाद ऐनी के बारे में अनेक मिथकें पैदा हो गईं. इन कहानियों में से कई रोमन कैथलिक द्वारा लिखित अंगरेज़ी-विरोधी कृतियों से पैदा हुईं.

निकोलस सैंडर, 1530 सी. में जन्मा एक रोमन कैथलिक विद्रोहीएलिज़ाबेथ प्रथम को पदच्युत करने और इंग्लैंड में फिर से रोमन कैथलिक मत की स्थापना के लिए प्रतिबद्ध था.

1585 में प्रकाशित अपनी De Origine ac Progressu schismatis Anglicani (The Rise and Growth of the Anglican Schism ), में यह लिखने वाला वह पहला था कि ऐनी के दाएं हाथ में छह उंगलियां थी.[112]

चूंकि आम तौर पर शारीरिक विकृति को शैतान का रूप माना जाता था तो संभावना नहीं है कि अगर ऐसा होता तो ऐनी बोलिन की ओर हेन्री रोमांटिक[weasel words] तौर पर आकर्षित होता.[113]

समकालीनोम द्वारा ऐनी बोलिन को बुद्धिमान, संगीत कला में प्रतिभा सम्पन्न और अध्ययनशील के रूप में वर्णित किया गया है.

वह दृढ़ इच्छाशक्ति वाली और गर्वीली भी थी जिसमें हेन्री के साथ झगड़ा[114] करने का साहस[peacock term] था. जीवनी लेखक एरिक आइव्स ने ऐनी के व्यक्तित्व में स्पष्ट विरोधाभास का मूल्यांकन किया है:

To us she appears inconsistent—religious yet aggressive, calculating yet emotional, with the light touch of the courtier yet the strong grip of the politician—but is this what she was, or merely what we strain to see through the opacity of the evidence? As for her inner life, short of a miraculous cache of new material, we shall never really know. Yet what does come to us across the centuries is the impression of a person who is strangely appealing to the early twenty-first century: A woman in her own right—taken on her own terms in a man's world; a woman who mobilized her education, her style and her presence to outweigh the disadvantages of her sex; of only moderate good looks, but taking a court and a king by storm. Perhaps, in the end, it is Thomas Cromwell's assessment that comes nearest: intelligence, spirit and courage.[115]


17वीं सदी का एक चित्र जिसके पीछे लिखे अनुसार ऐनी बोलिन के चित्र के रूप में पहचाना गया.[116].

1876 में शव निकालने पर, कोई असामान्यताएं नहीं पाई गईं: उसका ढांचा नाजुक था, लगभग 5'3", सुडौल, लंबी उंगलियों के साथ. एलिज़ाबेथ प्रथम को निश्चित रूप से उसकी माँ का फ्रेम, कद, चेहरे और हाथों की संरचना विरासत में मिली थी.

ऐनी बोलिन का कोई समकालीन चित्र नहीं बचा: केवल एक संभावना उसकी दूसरी गर्भावस्था मनाने के लिए 1534 में जारी पदक है, यह भी बुरी तरह से क्षतिग्रस्त है.[117]

रानी के रूप में बेटी के राज्याभिषेक के बाद, ऐनी को अंग्रेज़ी सुधारवाद की शहीद और नायिका के रूप में सम्मानित किया गया, विशेष रूप से जॉन फ़ॉक्स की रचनाओं में जिसका तर्क था कि ऐनी ने रोमन कैथलिक मत की बुराइयों से इंग्लैंड को बचा लिया होता और भगवान ने उसकी बेटी एलिज़ाबेथ प्रथम को रानी बनाकर उसकी मासूमियत और पवित्रता का सबूत दे दिया है.

सुधार के बाद की चर्च में ऐनी के प्रभाव का एक प्रत्यक्ष उदाहरण है जिसमें एलेस अलेक्जेंडर ने महारानी एलिज़ाबेथ का इस तरह वर्णन किया है "ईसाई बिशप जिन्हें आपकी पवित्र माँ ने उन विद्वानों के बीच से नियुक्त किया जो विशुद्ध सिद्धांत के समर्थक हैं."[118]

सदियों से, ऐनी ने प्रेरित किया है या कई कलात्मक और सांस्कृतिक कृतियों में उल्लेख किया गया है. परिणामस्वरूप, वह लोकप्रिय स्मृति में रही है और ऐनी को "इंग्लैंड की आजतक की सबसे प्रभावशाली और महत्वपूर्ण रानी पत्नी कहा गया है."[4]

सेंट मैरी चर्च, Erwarton, Suffolk, जहाँ कथित तौर पर ऐनी बोलिन का दिल दफ़नाया गया था

मिथक और ऐनी बोलिन की किंवदंतियां[संपादित करें]

सदियों से ऐनी बोलिन के बारे में कई मिथकें और किंवदंतियां बनी हैं. एक यह है कि उसे नॉरफ़ॉक में सैले चर्च में, उसके बोलिन पूर्वजों की कब्रों के पास काली स्लैब के नीचे चुपके से दफनाया गया था.[119]

कहा जाता है कि नॉरफ़ॉक को अपनी यात्रा पर उसके शरीर ने एसेक्स की एक चर्च में विश्राम किया है. एक और यह है कि उसके अनुरोध पर[120] उसका दिल एरवॉर्टन (अरवॉर्टन) चर्च, सफ़ॉक में उसके चाचा सर फिलिप पार्कर द्वारा दफ़नाया गया था.[121]

कथित रूप से ऐनी का भूत हीवर कासल, ब्लिकलिंग हॉल, सैले चर्च, टॉवर ऑफ़ लंदन और मार्वेल हॉल में देखा गया.[122][123][124]

उसके प्रतिष्ठित भूतिया का सबसे प्रसिद्ध वर्णन अलौकिक में शोधकर्ता हैंस हॉल्ज़र की पुस्तक Ghosts I've Met में प्रलेखित है.

1864 में, 60वीं राइफल्स रेजीमेंट के एक मेजर जनरल जे. डी. डन्डस टॉवर ऑफ़ लंदन में बसे थे. वह अपने कमरे की खिड़की से देख रहा था कि उन्होंने आंगन में नीचे एक पहरेदार को उस खेमे के सामने अजीब बर्ताव करते देखा जहां ऐनी को कैद किया गया था.

वह किसी को चुनौती देता दिखाई दिया जो जनरल के अनुसार सैनिक की ओर बढ़ती हुई एक सफ़ेद महिला की आकृति थी. गार्ड ने अपनी संगीन के साथ आकृति को ललकारा और फिर बेहोश हो गया.[125] कोर्ट मार्शल में केवल जनरल की गवाही और पुष्टि ने गार्ड को डयूटी के समय बेहोश हो जाने के जुर्म में लंबी जेल की सज़ा होने से बचा लिया.

1960 में, Canon W. S. Pakenham-Walsh, vicar of Sulgrave, Northamptonshire, प्रकाशित Tudor Story (ISBN 978-0-227-67678-3).[126]

वंशक्रमावली[संपादित करें]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • अंग्रेज़ी पति या पत्नियों की सूची
  • लोकप्रिय संस्कृति में ऐनी बोलिन
  • ऐना बोलिना , फ़ेलीचे रोमानी द्वारा गीत के साथ गायतानो दोनीज़ेटी द्वारा एक ओपेरा (1830).

नोट्स[संपादित करें]

  1. Ives, pp. 42–43; Strong, pp. 6–7.
  2. Ives, page 230
  3. "Review: The Life and Death of Anne Boleyn". Copperfieldreview.com. http://www.copperfieldreview.com/reviews/life_and_death_of_anne_boleyn.htm. अभिगमन तिथि: 2010-04-26. 
  4. आइव्स, p. xv.
  5. हो सकता है मैरी छोटी बहन हो, इस तर्क का खंडन रानी एलिज़ाबेथ प्रथम के शासनकाल के सशक्त प्रमाण द्वारा किया गया है कि जीवित बोलिन जानते थे कि मैरी का जन्म ऐनी से पहले का है, बाद का नहीं. देखें आइव्स, pp. 16-17 और फ़्रेज़र, p. 119.
  6. आइव्स, पीपी 16-17.
  7. फ्रेज़र, p.119
  8. वॉरनिक, पी. 9;
  9. आइव्स, पी. 15
  10. Anne Boleyn's handwriting.
  11. आइव्स, पीपी. 18-20.
  12. दिनांक 1507 को रोमन कैथलिक हलकों में स्वीकार किया गया था. 16 वीं सदी के लेखक विलियम कैम्डन ने अपनी Miscellany के मार्जिन में जन्म की तारीख 1507 खुदवाई. आम तौर पर उन्नीसवीं सदी के अंत तक यह तारीख पसंद की जाती थी: 1880 के दशक में, पॉल फ़्रायडमैन ने 1503 की जन्म तिथि का सुझाव दिया. कला इतिहासकार ह्यूग पैजेट ने 1981 में, पहले ऐनी बोलिन को ऑस्ट्रिया की मार्गरेट के दरबार में रखा. 1500/1501 के पक्ष में सबसे सशक्त तर्क के लिए एरिक आइव्स की जीवनी The Life and Death of Anne Boleyn और 1507 के जन्म वर्ष के प्रस्ताव के लिए रेथा वॉरनिक की The Rise and Fall of Anne Boleyn देखें.
  13. आइव्स, पी. 3.
  14. फ्रेज़र, पीपी. 116-17.
  15. स्ट्रिकलैंड, पी. 273.
  16. फ्रेज़र, पी.115
  17. आइव्स, प्लेट 14.
  18. फ्रेज़र और आइव्स का तर्क है कि इस नियुक्ति से साबित होता है कि शायद ऐनी का जन्म 1501 में हुआ था, लेकिन वॉरनिक इससे असहमत है, आंशिक रूप से ऐनी को "दुबली-पतली" के रूप में वर्णित किए जाने के साक्ष्य पर. देखें आइव्स, पी. 19; वॉरनिक पीपी, 12-3.
  19. वॉरनिक, पी. 12.
  20. स्टार्की, पीपी. 261-63.
  21. फ्रेज़र, पी. 121.
  22. स्टार्की पी. 263.
  23. फ्रेज़र, पी.121.
  24. फ्रेज़र, पी. 115.
  25. स्ट्राँग, पी. 6.
  26. आइव्स, पी. 20.
  27. वॉरनिक, पी. 243.
  28. स्ट्राँग, 6; आइव्स, 39.
  29. आइव्स, पी. 39.
  30. वॉरनिक, पी. 247.
  31. आइव्स, पीपी 219-226. ऐनी के धार्मिक विश्वासों का एक निस्संदिग्ध पुनर्मूल्यांकन देखने के लिए, देखें आइव्स, पीपी. 277-287.
  32. विलियम्स, पी.103.
  33. फ्रेज़र, पी. 122.
  34. फ्रेज़र, पीपी. 121-124.
  35. Weir. Henry VIII: The King and His Court. प॰ 216. 
  36. आइव्स, पीपी. 37-39.
  37. स्टार्की, पी. 271; आइव्स, 45
  38. फ्रेज़र, पीपी. 126-7; आइव्स, पी. 67 और पी. 80.
  39. Full text of the poem Whoso List to Hunt
  40. आइव्स, पी. 73.
  41. Scarisbrick, पी. 154.
  42. लेसी, पी.70.
  43. फ्रेज़र, पी.133
  44. ग्रेव्स, पी.132.
  45. फ्रेज़र, पी.145
  46. स्टार्की पी. 331.
  47. ब्रिजेन, पी.114.
  48. स्टार्की, पी. 301.
  49. स्टार्की, पीपी. 308-12.
  50. स्टार्की, पीपी. 314, 329.
  51. मॉरिस, पी. 166.
  52. स्टार्की, पीपी. 430-33.
  53. Haigh, 88-95.
  54. फ्रेज़र, पी.171.
  55. ग्रेव्स, पीपी. 21-22; स्टार्की, पीपी. 467-73.
  56. विलियम्स पी. 136.
  57. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; Marquess नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  58. आइव्स, पीपी. 158-59; फ्रेज़र, 185.
  59. स्टार्की, पी. 459.
  60. वुडिंग, 167.
  61. स्टार्की, पी. 366.
  62. विलियम्स, पी.123.
  63. स्टार्की, पीपी 462-464.
  64. विलियम्स, पी.124.
  65. [74]
  66. फ्रेज़र, पी. 195.
  67. आइव्स, पी. 177, स्टार्की, पीपी. 489-500.
  68. फ्रेज़र, पीपी. 191-94.
  69. आइव्स, पी. 179
  70. ऐलिस हंट, The Drama of Coronation: Medieval Ceremony in Early Modern England , कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी प्रेस, 2008
  71. Scarisbrick, पीपी. 414-18; Haigh, पीपी 117-18.
  72. Haigh, पीपी. 118-20.
  73. स्टार्की, पी. 512.
  74. सोमरसेट, पीपी. 5-6.
  75. About Matthew Parker & The Parker Library.
  76. फ्रेज़र.
  77. विलियम्स, पी.138.
  78. आइव्स, पीपी. 231-260.
  79. Farquhar, Michael (2001). A Treasure of Royal Scandals , पी.67.पेंगुइन बुक्स, न्यू यॉर्क. ISBN 0-7394-2025-9.
  80. स्टार्की, पीपी. 549-51; Scarisbrick, पी. 436.
  81. E. Cobham Brewer 1810–1897. वाक्यांश और दंतकथा कोश. 1898.
  82. स्टार्की, पी. 551.
  83. Scarisbrick, पी. 452.
  84. Scarisbrick, पीपी. 452-53; स्टार्की, पीपी. 552-53.
  85. स्टार्की, पीपी. 553-54.
  86. एश्ली, पी. 240.
  87. विलियम्स, अध्याय 4.
  88. विलियम्स, पी.142.
  89. आइव्स, पीपी. 319-329. स्टार्की को भी देखें, पीपी. 559-569, और एल्टन, पीपी. 252-53, जो इस विचार से सहमत हैं.
  90. आइव्स, पीपी. 309-16.
  91. आइव्स, पी. 315.
  92. स्कोफ़ील्ड, पीपी. 106-108. स्कोफ़ील्ड का दावा है कि ऐनी और क्रॉम्वेल के बीच सत्ता संघर्ष का जो सबूत "अब ऐनी के आखिरी हफ़्तों के आधुनिक वर्णन पर हावी है" उसमें "एलिशियस और स्पेनिश क्रॉनिकल की रातों-रात घड़ी जाने वाली कहानियां, चैपायस के संदर्भहीन शब्द, और कैलेंडर ऑफ़ स्टेट पेपर्स का अविश्वसनीय अनुवाद शामिल है."
  93. वॉरनिक, पीपी. 212, 242, वुडिंग, पी. 194.
  94. वॉरनिक, पीपी. 210-212. वॉरनिक लिखता है: "न तो चैपायस और न ही आधुनिक इतिहासकारों ने समझाया है कि अगर सचिव [क्रॉम्वेल] ऐनी के वध के लिए हेन्री को बहका सकता है तो वह विदेश नीति पर ऐनी की सलाह को अनसुना करने के लिए राजा को क्यों नहीं मना सका."
  95. "जाहिर है, वह किसी भी तरह से उसके नाश पर तुला था." Scarisbrick, पी. 455.
  96. वुडिंग, पीपी. 194-95.; Scarisbrick, पीपी. 454-55, फ्रेज़र, पी.245.
  97. विलियम्स, पीपी.143-144.
  98. आइव्स, पी. 344.
  99. हिब्बर्ट, पीपी. 54-55 .
  100. डेविड स्टार्की, पी.581, Six Wives: The Queens of Henry VIII
  101. हिब्बर्ट, पीपी. 58-59.
  102. Hibbert, p.59.
  103. O Death!rocke me asleep सूत्रों में मतभेद है कि जॉर्ज या ऐनी बोलिन किसने इसे लिखा, O Death Rock Me Asleep हालांकि आम सहमति है कि ऐनी ने इसे लिखा था. O Death Rock Me Asleep .
  104. आइव्स, पी356
  105. आइव्स, पी. 423 समकालीन लिले के पत्रों पर आधारित है.
  106. विलियम्स, पी.146.
  107. फ्रेज़र, पी. 256.
  108. हिब्बर्ट, पी.60.
  109. MacCulloch, पी. 159.
  110. Schama, पी.307.
  111. MacCulloch, पीपी. 149-159
  112. आइव्स, 39.
  113. वॉरनिक, पीपी. 58-9.
  114. वॉरनिक, पीपी. 58-9.; ग्रेव्स, 135.
  115. Ives, p. 359.
  116. [134]
  117. ऐनी बोलिन के अवशेषों के पूर्ण विवरण के लिए देखें Doyne C. Bell: "Notices of the Historic Persons Buried in the Tower of London", जॉन मुरे, Albemarle Street, 1877.
  118. आइव्स, पी.261, गूगल बुक्स, 5 दिसम्बर 2009 को पुनः प्राप्त
  119. Norah Lofts, ऐनी बोलिन पी.181
  120. Suffolk, Churches. "St Mary's Erwarton". http://www.suffolkchurches.co.uk/erwarton.html. अभिगमन तिथि: 2009-05-19. 
  121. Any Village. "Erwarton, Suffolk". http://www.any-village.com/UK/England/Suffolk/Erwarton/home.aspx. अभिगमन तिथि: 2009-05-19. 
  122. Lofts, ऐनी बोलिन , पी.182
  123. "Ghosts and Hauntings". The Shadowlands. http://theshadowlands.net/ghost/ghost342.html. अभिगमन तिथि: 2009-07-07. 
  124. "Marwell Hall". http://www.zurichmansion.org/halls/marwell.html. 
  125. Hans Holzer, Ghosts I've Met , पी.196
  126. "Vicar Who 'Talked' to Henry VIII". The Sydney Morning Herald. 31 July 1960. http://news.google.com/newspapers?nid=1301&dat=19600731&id=alsVAAAAIBAJ&sjid=HuYDAAAAIBAJ&pg=2757,4559585. अभिगमन तिथि: 12 October 2009. 
  127. Lundy, Darryl. "thePeerage". http://www.thepeerage.com/p11285.htm#i112843. अभिगमन तिथि: 26 October 2007 
  128. Lundy, Darryl. "thePeerage". http://www.thepeerage.com/p11285.htm#i112844. अभिगमन तिथि: 26 October 2007 
  129. Lady Elizabeth Howard, Anne Boleyn's mother, was the sister of Lord Edmund Howard, father of Catherine Howard (fifth wife of Henry VIII of England), making Anne Boleyn and Catherine Howard first cousins.
  130. Lundy, Darryl. "thePeerage". http://www.thepeerage.com/p338.htm#i3380. अभिगमन तिथि: 26 October 2007 
  131. Lundy, Darryl. "thePeerage". http://www.thepeerage.com/p339.htm#i3381. अभिगमन तिथि: 26 October 2007 
  132. Lundy, Darryl. "thePeerage". http://www.thepeerage.com/p10298.htm#i102977. अभिगमन तिथि: 26 October 2007 
  133. Elizabeth Tilney is the paternal grandmother of Catherine Howard.
  134. Lundy, Darryl. "thePeerage". http://www.thepeerage.com/p10299.htm#i102982. अभिगमन तिथि: 26 October 2007 

संदर्भ[संपादित करें]

  • एश्ली, माइक British Kings & Queens (2002) ISBN 0-7867-1104-3
  • Brigden, Susan New Worlds, Lost Worlds (2000)
  • एल्टन, जी.आर. Reform and Reformation . लंदन: एडवर्ड आर्नल्ड, 1977. ISBN 0-7131-5953-7.
  • फ़ेन्बी,क्लेयर The Life And Times Of Anne Boleyn (2009) (पांडुलिपि)
  • फ्रेज़र, एन्टोनिया The Wives of Henry VIII (1992) ISBN 0-679-73001-X
  • ग्रेव्स, माइकल Henry VIII. London, Pearson Longman, 2003 ISBN 0-582-38110-X
  • Haigh, Christopher English Reformations (1993)
  • हिबर्ट, क्रिस्टोफ़र Tower Of London: A History of England From the Norman Conquest (1971)
  • आइव्स, Eric The Life and Death of Anne Boleyn (2004) ISBN 1-4051-3463-1
  • लेसी, रॉबर्ट The Life and Times of Henry VIII (1972)
  • Lehmberg, Stanford E. The Reformation Parliament, 1529-1536 (1970)
  • Lindsey, Karen Divorced Beheaded Survived: A Feminist Reinterpretation of the Wives of Henry VIII (1995) ISBN 0-201-40823-6
  • MacCulloch, Diarmaid Thomas Cranmer New Haven: येल यूनिवर्सिटी प्रेस (1996) ISBN 0-300-07448-4.
  • मॉरिस, टी.ए. Europe and England in the Sixteenth Century (1998)
  • नॉर्टन, एलिज़ाबेथ "Anne Boleyn: Henry VIII's Obsession" 2009 hardback ISBN 978-1-84868-084-5 पेपरबैक ISBN 978-1-84868-514-7
  • पार्कर, के.टी. The Drawings of Hans Holbein at Windsor कासल Oxford: Phaidon (1945) OCLC 822974.
  • Rowlands, John The Age of Dürer and Holbein London: British Museum (1988) ISBN 0-7141-1639-4
  • Scarisbrick, J. J. Henry VIII (1972) ISBN 978-0-520-01130-4
  • Schama, Simon A History of Britain: At the Edge of the World?: 3000 BC–AD 1603 (2000) ISBN 0-563-38497-2
  • स्कोफ़ील्ड, John. The Rise & Fall of Thomas Cromwell. स्ट्राउड (यूके): द हिस्टरी प्रेस, 2008. ISBN 978-0-7524-4604-2.
  • Somerset, Anne Elizabeth I. लंदन: फ़ीनिक्स (1997) ISBN 0-385-72157-9
  • स्टार्की, David Six Wives: The Queens of Henry VIII (2003) ISBN 0-06-000550-5
  • Strong, Roy Tudor & Jacobean Portraits". लंदन: HMSO (1969) OCLC 71370718.
  • वॉरनिक, रेथा एम. The Rise and Fall of Anne Boleyn: Family politics at the court of Henry VIII (1989) ISBN 0-521-40677-3
  • वियर, एलिसन "The Lady in the Tower: The Fall of Anne Boleyn" ISBN 978-0-224-06319-7
  • Williams, Neville Henry VIII and His Court (1971).
  • विल्सन, डेरेक Hans Holbein: Portrait of an Unknown Man लंदन:Pimlico, संशोधित संस्करण (2006) ISBN 978-1-84413-918-7
  • वुडिंग, लुसी Henry VIII London: Routledge, 2009 ISBN 978-0-415-33995-7

अतिरिक्त पठन[संपादित करें]

  • Anne Boleyn, a Music Book, and the Northern Renaissance Courts: Music Manuscript 1070 of the Royal College of Music, London" Ph.D., Musicology, University of Maryland, 1997 ISBN 0-591-46653-8
  • डेविड लोडस लिखित The Politics of Marriage (1994)

The Lady in the Tower: The Fall of Anne Boleyn एलिसन वियर द्वारा लिखित. ISBN 978-0-224-06319-7

  • हीवर कासल गाइड बुक

बाह्य लिंक्स[संपादित करें]

English royalty
खाली
Title last held by
Catherine of Aragon
Queen consort of England
Lady of Ireland

28 May 1533–17 May 1536
खाली
Title next held by
Jane Seymour
इंग्लैंड के पीरेज
नई रचना Marquess of Pembroke
1532–1533/1536
Forfeit/extinct
Titles in pretence
खाली
Title last held by
Catherine of Aragon
— TITULAR —
Queen consort of France
28 May 1533–17 May 1536
खाली
Title next held by
Jane Seymour

साँचा:English consort