एशियाई भूरा बादल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
दिसंबर 2001 में पूर्वी भारत और बांग्लादेश के ऊपर एयरोसौल

एशियाई भूरा बादल, वायु प्रदूषकों द्वारा बारबार बनने वाला एक विशाल बादल अथवा परत है जिसकी मोटाई लगभग 3000 मी होती है और इसका विस्तार दक्षिण एशिया के कुछ हिस्सों तक होता है जिनमें उत्तरी हिंद महासागर, भारत और पाकिस्तान शामिल हैं। दुनिया के इस हिस्से में सर्दियों के चार महीने लगभग न के बराबर बारिश होती है, जिसके कारण आकाश में व्याप्त प्रदूषक और धूल के कण धुल नहीं पाते और समय के साथ इनकी सघनता बढ़ती रहती है। कभी कभी तो सूरज भी अस्पष्ट नज़र आता है। प्रदूषण की इस मोटी परत को दुनिया का सबसे बड़ा प्रदूषण माना जाता है।

उपग्रह से प्राप्त तस्वीरों में यह बादल प्रति वर्ष जनवरी से मार्च के मध्य हवा में तैरते एक विशाल भूरा धब्बे के समान दिखाई देता है जो दक्षिण एशिया के अधिकांश और हिंद महासागर के उत्तरी भाग को ढके रहता है।

यह विभिन्न कणों, एयरोसौल और जैविक सामग्री के दाहन, औद्योगिक उत्सर्जन और मोटर वाहनों द्वारा उत्सर्जित गैसीय प्रदूषकों के मिश्रण से बनता है। इसका एक उल्लेखनीय उदाहरण ग्रामीण भारत और बांग्लादेश में ईंधन के रूप में जलाया जाने वाला गोबर है। इन कणों से बना यह कुहासा विषैला होता है और वर्षा और धूप पर यह विपरीत प्रभाव डालता है। इसके प्रभावों के चलते प्रतिवर्ष लाखों लोग अपनी जान गंवाते है।

सन्दर्भ[संपादित करें]