एन-प्रकार अर्धचालक

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

जब हम प्योर सेमीकंडक्टर में पेंटावलेंट इम्पुरिटी मिलते है तो सेमीकंडक्टर के बाहरी ऑर्बिट के चार एलेक्ट्रोंस इम्पुरिटी के चार एलेक्ट्रोंस के साथ बोंड बना लेता है। इसके बाहरी ऑर्बिट में आठ एलेक्ट्रोंस पुरे होने के बाद भी इसके पास एक एलेक्ट्रोन बच जाता है। चूँकि एलेक्ट्रोन एक नेगटिव चार्ज्ड पार्टिकल है इसलिए इसे हम N टाइप सेमीकंडक्टर कहते है। मतलब है कि N टाइप सेमीकंडक्टर में होल्स कि मात्र कम और एलेक्ट्रोंस कि मात्र अधिक रहती है।