एन्जल निवेशक

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

स्टार्टअप से जुड़े लोगों को सामान्यतः अपने कारोबार के विस्तार के लिये पैसे की आवश्यकता होती है जिसके लिये वे पैसे देने वाली कंपनी या संस्था को शेयर जारी करते हैं। अक्सर ये शेयर उचित कीमत से कही ज्यादा कीमत पर जारी किये जाते हैं। शेयर की अतिरिक्त कीमत को उनकी आय (Income) माना जाता है तथा इस आय पर टैक्स लगाया जाता है, जिसे ‘एंजेल टैक्स’ (Angel Tax) कहा जाता है।

स्टार्टअप को इस तरह मिले पैसे को ‘एंजेल फंड’ (Angel Fund) कहते हैं।

एंजेल टैक्स की वसूली आयकर विभाग करता है। एंजल टैक्स की शुरुआत 2012 में हुई थी। तत्कालीन ने बजट में इसका एलान किया था। इसका उद्देश्य मनी लाउड्रिंग पर रोक लगाना था।