एक बार कहो (1980 फ़िल्म)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
एक बार कहो
निर्देशक लेख टंडन
निर्माता ताराचंद बडजात्या
राजश्री प्रोडक्षंस
लेखक लेख टंडन
मधुसूदन कालेकर (कथा सहित)
पटकथा मधुसूदन कालेकर
लेख टंडन
कहानी मधुसूदन कालेकर
अभिनेता नवीन निश्चल,
शबाना आज़मी,
किरण वैराले,
मदन पुरी,
राजेंद्रनाथ,
जगदीप,
अनिल कपूर,
दिलीप धवन,
सुरेश ओबेरॉय
संगीतकार बप्पी लाहिड़ी
छायाकार जहाँगीर चौधरी
संपादक मुख़्तार अहमद
प्रदर्शन तिथि(याँ)
देश भारत
भाषा हिन्दी

एक बार कहो (अंग्रेजी: Say once) 1980 में राजश्री प्रोडक्षंस के लिए ताराचंद बडजात्या निर्मित, लेख टंडन निर्देशित हिन्दी भाषा की फ़िल्म है। रूमानी एवं पारिवारिक कथा आधारित इस फ़िल्म के नवीन निश्चलशबाना आज़मी प्रमुख कलाकार तथा सहायक कलाकार किरण वैराले, मदन पुरी, राजेंद्रनाथ, जगदीप, अनिल कपूर, दिलीप धवन, सुरेश ओबेरॉय है|

संक्षेप[संपादित करें]

रवि वर्मा (नविन निश्चल) ने बचपन में अपने माता-पिता को तथा एक सड़क दुर्घटना में अपनी पत्नी रजनी को खोया है| अपने को व्यस्त रखने के लिए वह काफी समय अपने व्यापार में बिताता है| उसकी थकान देख उसके चिकित्सक उसे विहरण की सलाह देते है| विहरण में उसकी भेंट आरती माथुर (शबाना आज़मी) से हुए दोनों आपस में चाहने लगते है| उधर आरती, रवि के चुप्पी साधने से, अपने प्रति उसकी भावनाओं को समझ नहीं पाती है| इतने में आरती का विवाह कहीं और निश्चय होती है| रवि आरती के प्रति अपनी भावनाओं का बताना अथवा उसकी निश्चित विवाह होना और आगे चलकर दोनों में संबंध को कथा में आगे दर्शाया गया है|

चरित्र[संपादित करें]

मुख्य कलाकार[संपादित करें]

दल[संपादित करें]

संगीत[संपादित करें]

सभी गीत के लिए बप्पी लाहिड़ी ने संगीत दिया है|

गीत गीतकार गायक समय
"चार दिन की जिंदगी है" माया गोविंद येशुदास 4:05
"एक बार कहो मुझे प्यार करते हो" देव कोहली सुलक्षणा पंडित, बप्पी लाहिड़ी 4:20
"राख के ढेर ने" महेंद्र दहलवी जगजीत सिंह, आरती मुख़र्जी 4:00
"राख के ढेर ने" (2) महेंद्र दहलवी जगजीत सिंह
"ये जिंदगी चार दिन की" कुलवंत जानी बप्पी लाहिड़ी 4:40
"फिर पुकारा है" जगजीत सिंह 1:10
"प्यार की रह में" आरती मुखर्जी 1:20
"सोए जज़्बात" आरती मुखर्जी 1:10

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]