उष्मागतिक साम्य

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

उष्मागतिक साम्य उष्मागतिकी का एक अभिगृहीत है। यह एक उष्मागतिक निकाय की आन्तरिक अवस्था अथवा विभिन्न उष्मागतिक निकायों को निरूपित करता है जो एक दूसरे से उष्मा की चालक अथवा कुचालक माध्यम से जुड़े होते हैं। उष्मागतिक साम्य उस अवस्था को कहते हैं जब किसी निकाय की आन्तरिक अवस्था अथवा निकायों में सुक्ष्म स्तर पर ऊर्जा अथवा पदार्थ प्रवाह नहीं होता है।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]