उमर फ़ैयाज़ परे

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
लेफ्टिनेंट
उमर फ़ैयाज़ परे
जन्मजात नाम उमर फ़ैयाज़ परे
जन्म 8 जून 1994
पुलवामा, जम्मू-कश्मीर
देहांत 10 मई 2017 को शव मिला
शोपियां, जम्मू-कश्मीर में अपहरण व हत्या[1]
निष्ठा Flag of India.svg भारत
सेवा/शाखा Flag of Indian Army.svg भारतीय सेना
सेवा वर्ष 2016-2017
उपाधि Lieutenant of the Indian Army.svg लेफ्टिनेंट
दस्ता 48pxराजपूताना राईफल्स

लेफ्टिनेंट (डॉ)[2]उमर फ़ैयाज़ परे भारतीय सेना के एक अधिकारी[3] थे जिनका मई 2017 में लश्कर-ए-तैयबा और हिजबुल मुजाहिद्दीन के आतंकवादियों ने जम्मू और कश्मीर में अपहरण कर लिया और हत्या कर दी।[4][5][6][7]

उन्हें 10 दिसंबर 2016 को एक लेफ्टिनेंट के रूप में में भारतीय सेना में कमीशन मिला और वे 2 बटालियन, राजपूताना राइफल्स में सेवारत थे।

अपहरण व हत्या[संपादित करें]

लेफ्टिनेंट उमर फ़ैयाज़ परे का 9 मई 2017 की रात को जम्मू और कश्मीर के शोपियां जिले में उनके रिश्तेदार के घर से अपहरण कर लिया गया। जिस समय पर उनका अपहरण किया गया तब वह ड्यूटी से छुट्टी पर थे और निहत्थे थे। वे अपने रिश्तेदार के घर में एक शादी समारोह में भाग लेने के लिए आए थे। अगली सुबह उनका मृत शरीर पाया गया था, जिससे पता चला कि उन्हें दो बार गोली मारी गई। उनकी आयु केवल तेईस साल थी। [8][9][10]

उनके परिवार में उनके माता-पिता और दो बहनें हैं। उनके पिता एक किसान है।[11]

शहीद लेफ्टिनेंट उमर फयाज के अंतिम संस्कार के समय उन्हें गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया और उनके अंतिम संस्कार 400 लोगों ने में भाग लिया था। [12]

एक निहत्थे सेना अधिकारी लेफ्टिनेंट उमर फयाज की हत्या की सोशल मीडिया में बड़े पैमाने पर आलोचना हुई। [13][14]

नैशनल डिफेंस अकादमी में उनका नाम स्मृति कक्ष में ठीक वहीं अंकित किया गया है, जहाँ परमवीर चक्र विजेताओं के नाम अंकित हैं। शहीदी प्राप्त करने वाले वे नैशनल डिफेंस अकादमी के २९९वें स्नातक हैं।[15] भारत के थलसेनाध्यक्ष जनरल बिपिन रावत ने उन्हें श्रद्धांजलि देते हुए कश्मीर के नौजवानों से उनकी हत्या के खिलाफ एकजुट होने और उनकी तरह शांति और तरक्की की राह पर चलने की अपील की।[16] पहलगाम के आर्मी स्कूल का नाम उनके नाम पर रखने की घोषणा भी की गई है।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Chauhan, Chanchal (May 10, 2017). "Bullet-ridden body of Lieutenant Ummer Fayaz Parry found in Shopian: All you need to know about him". India.com.
  2. "Twitter outraged over killing of Army man in Shopian". The Statesman. May 10, 2017.
  3. "'Brave boy, brilliant student': Family, friends remember Kashmiri army officer". Hindustan Times. May 11, 2017.
  4. "LeT, Hizbul Mujahideen terrorists involved in killing of Ummer Fayaz identified". Times of India. May 11, 2017.
  5. "Hizbul Mujahideen behind army officer Ummer Fayaz's killing: J-K police". Hindustan Times. May 12, 2017.
  6. "The Killing Of Indian Army Officer Lieutenant Ummer Fayaz Indicates A New Kind Of Terrorism Emerging In Kashmir". Huffington Post. May 10, 2017.
  7. "View from Kashmir Observer: Young army officer's killing shows how both sides have been brutalised". Scroll.in & Kashmir Observer. May 13, 2017.
  8. "Young Kashmiri army officer shot dead while home on leave". tribuneindia.com. अभिगमन तिथि 2017-05-11.
  9. "Valley seethes at Fayaz killing". The Hindu. May 11, 2017.
  10. Naqash, Rayan (May 15, 2017). "'How can we say who it was? They were all masked': Despair in Shopian after Army officer's killing". Scroll.in. |last1= और |last= के एक से अधिक मान दिए गए हैं (मदद); |first1= और |first= के एक से अधिक मान दिए गए हैं (मदद)
  11. "‘Ummer was sitting with the bride. They pulled him, many others were waiting outside’ | The Indian Express". indianexpress.com. अभिगमन तिथि 2017-05-11.
  12. "Martyr Lt. Ummer Fayaz Killed In Kashmir – Indian By Birth, Army Officer By Choice". IndiaTimes. May 10, 2017.
  13. "Debate on social media: Kashmiris divided on army officer's killing". Hindustan Times. May 11, 2017.
  14. Iqbal, Sheikh Zaffar. "Anger On Social Media Over Killing Of Army Officer Ummer Fayaz". NDTV. |last1= और |last= के एक से अधिक मान दिए गए हैं (मदद); |first1= और |first= के एक से अधिक मान दिए गए हैं (मदद)
  15. http://timesofindia.indiatimes.com/city/bengaluru/paying-homage-to-slain-army-officer/articleshow/58700504.cms
  16. url=http://timesofindia.indiatimes.com/india/unite-against-killing-of-lieutenant-ummer-fayaz-army-chief-general-bipin-rawat-says/articleshow/58676361.cms