उमरिया ज़िला

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(उमरिया ज़िले से अनुप्रेषित)
Jump to navigation Jump to search
उमरिया ज़िला
Umaria district
मध्य प्रदेश का ज़िला
मध्य प्रदेश में उमरिया जिले कि अवस्थिति।
मध्य प्रदेश में उमरिया जिले कि अवस्थिति।
देशभारत
राज्यमध्य प्रदेश
संभागशहडोल
स्थापना6 जुलाई 1998[1]
मुख्यालयउमरिया
क्षेत्रफल
 • कुल4,548 किमी2 (1,756 वर्गमील)
जनसंख्या (2011)
 • कुल6
 • घनत्व140 किमी2 (370 वर्गमील)
जनसांख्यिकी
 • साक्षरता67.34 फीसदी
 • लिंग अनुपात953
समय मण्डलआईएसटी (यूटीसी+05:30)
वेबसाइटhttp://umaria.nic.in

उमरिया ज़िला भारत के मध्य प्रदेश राज्य का एक ज़िला है। ज़िले का मुख्यालय उमरिया है।[2][3] यह शहडोल संभाग में आता है और इसकी अवस्थिति उत्तरी अक्षांश 23º38 से '24º20' और पूर्वी देशांतर 80 '28 'से 82º12' के बीच है।

जिले का कुल भौगोलिक क्षेत्र 4548 वर्ग किलोमीटर तक फैला हुआ है और इसकी आबादी 515,963 है। उमरिया जंगलों और खनिजों के अपने विशाल संसाधनों से समृद्ध है। कोयला खदानें जिले के लिए राजस्व का एक स्थिर स्रोत हैं।

जिले में पाया जाने वाला सबसे महत्वपूर्ण खनिज कोयला है और परिणामस्वरूप जिले में साउथ ईस्टर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड (नौरोज़ाबाद) द्वारा 8 खदानें संचालित की जा रही हैं। जिले में बांधवगढ़ राष्ट्रीय उद्यान (ताला) और संजय गांधी थर्मल पावर स्टेशन मानगढ़ (पाली) में स्थित हैं। उमरिया पहले दक्षिण रीवा जिले का मुख्यालय था और उसके बाद बांधवगढ़ तहसील का मुख्यालय शहर था। यह अपने मूल जिले शहडोल, से लगभग 69 किमी की दूरी पर स्थित है। सड़कें कटनी, रीवा, शहडोल, आदि के साथ शहर को जोड़ती हैं, जिस पर नियमित बसें चलती हैं। उमरिया में दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के कटनी-बिलासपुर मडंल का एक रेलवे स्टेशन भी है।

2011 तक यह हरदा ज़िला के बाद मध्य प्रदेश (52 में से) का दूसरा सबसे कम आबादी वाला जिला है।[4]

इतिहास[संपादित करें]

उमरिया 1998 में अलग होने से पहले शहडोल जिले का हिस्सा था। उमरिया पर लोधी राजपूतों (मालगुजार) का शासन है। लोधी राजपूत परिवार ने लक्ष्मी नारायण का मंदिर बनवाया था।[5] उन्होंने एक बड़ा प्रवेश द्वार भी बनवाया था, जहां से हाथी प्रवेश कर सके, इसलिये इसका नाम हाथी दरवाजा कहा जाता है। बाद में रीवा के बघेल राजपुतों ने, इस क्षेत्र को लोधियों से जीत लिया और फिर यह 17वीं शताब्दी में कुछ वर्षों के बाद रीवा रियासत की दक्षिणी राजधानी बन गया।[6] उमरिया घने जंगल और बाघ के कारण हमेशा से कई राजकुमारों और राजाओं के लिए एक पसंदीदा शहर था। बांधवगढ़ के जंगल, रीवा के महाराजाओं के लिये आखेट रहा है।[6]

भूगोल[संपादित करें]

उमरिया जिला मध्य प्रदेश के पूर्वी हिस्से में स्थित है। यह उत्तर में सतना जिले, दक्षिण में डिंडोरी जिले, पूर्व में शहडोल जिले और पश्चिम में कटनी जिले से घिरा हुआ है। उमरिया जिले का क्षेत्रफल 4548 वर्ग किमी है। यह उत्तर से दक्षिण में लगभग 100 किलोमीटर और पूर्व से पश्चिम में 66 किलोमीटर तक फैला हुआ है। जिले का क्षेत्रफल 4503 वर्ग किलोमीटर है। जिले में कुल 591 गाँव आते हैं।[7]

दक्षिण पश्चिमी मानसून के मौसम को छोड़कर इस जिले की जलवायु में एक गर्म गर्मी और सामान्य सूखापन रहता है। उमरिया जिले में औसत वार्षिक वर्षा लगभग 1248.8 मिमी होती है। अधिकतम वर्षा दक्षिण-पश्चिम मानसून अवधि के दौरान यानी जून से सितंबर के बीच होती है।[7]

भौगोलिक रूप से, पठार, पहाड़ियों और घाटियों द्वारा दर्शाए गए संरचनात्मक भू-आकृतियाँ जिले के मध्य, दक्षिणी और उत्तर पूर्वी हिस्से में विकसित हुई हैं। उमरिया जिला में विभिन्न प्रकार के रॉक बेसाल्टिक, सेडिमेंटरी और ग्रेनिटिक इलाके पाये जाते है। मिट्टी भी क्षेत्र की लिथोलॉजी पर निर्भर करती है।[7]

यहां से होकर बहने वाली नदियों में सोन, जोहिला और छोटी-महानदी शामिल है।[7]

अर्थव्यवस्था[संपादित करें]

2006 में पंचायती राज मंत्रालय ने उमरिया को देश के 250 सबसे पिछड़े जिलों (कुल 640 में से) में से एक नाम दिया। यह मध्य प्रदेश के 24 जिलों में से एक है जो वर्तमान में पिछड़े क्षेत्र अनुदान निधि कार्यक्रम (BRGF) से धन प्राप्त कर रहा है। आय के मुख्य स्रोतों में खनिज़, वन्य संपदा और खेती है। खनिज में कोयला प्रमुख खनिज़ है। वनों से जलाऊ और इमरती लकडियाँ और बीड़ी पत्ता का संग्रह किया जाता है। कृषि में धान, मक्का, गेहूं, राई, चना और अरहर आदि प्रमुख फसल हैं।

जनसांख्यिकी[संपादित करें]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]


सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "21 वर्ष का हुआ यह जिला, कभी रीवा राज्य की राजधानी हुआ करता था". RewaRiyasat.Com. अभिगमन तिथि 14 अक्टूबर 2019.
  2. "Inde du Nord: Madhya Pradesh et Chhattisgarh," Lonely Planet, 2016, ISBN 9782816159172
  3. "Tourism in the Economy of Madhya Pradesh," Rajiv Dube, Daya Publishing House, 1987, ISBN 9788170350293
  4. "District Census 2011". Census2011.co.in. 2011. अभिगमन तिथि 2011-09-30.
  5. राजेश, ठाकुर. मध्य प्रदेश सामान्य ज्ञान. प्रभात प्रकाशन. पृ॰ १२४. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9789353223045. अभिगमन तिथि 14 अक्टूबर 2019.
  6. "मध्य प्रदेश डिस्ट्रिक्ट न्यूज़ पोर्टल". www.dprmp.org. जन सम्पर्क विभाग, मध्य प्रदेश.
  7. "केंद्रीय भूजल बोर्ड (CGWB)" (PDF). http://cgwb.gov.in. अभिगमन तिथि 14 अक्टूबर 2019. |website= में बाहरी कड़ी (मदद)