उभयउपांग-कुशलता

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बाएं और दाहिने दोनों उपांगों (जैसे कि हाथ) से काम करने में समान रूप से निपुण होने की स्थिति को उभयउपांग-कौशल (या उभयहस्त-कौशल या सव्यसाची) कहते हैं. मिश्रित-प्रभुत्व की यह एक सबसे मशहूर किस्मों में से एक है. प्राकृतिक रूप से उभय-हस्तकुशल लोग या सव्यसाची दुर्लभ हैं, सौ में से सिर्फ एक ही व्यक्ति सव्यसाची हुआ करता है.[1] प्रत्येक हाथ की चपलता की अवस्था आम तौर पर एक व्यक्ति की उभय-हस्तकौशलता निर्धारित करने का गुणात्मक कारक होती है.

आधुनिक समय में, उभय-हस्तकुशल माने जाने वाले व्यक्तियों को पाया जाना अधिक आम बात हो गयी है, जो मूलतः बाएं-हाथ वाले होते हैं, लेकिन जो जानबूझकर उभय-हस्तकौशल बने या स्कूलों जैसे बचपन के संस्थानों में उन्हें सीखना पड़ा, जहां दाहिने-हाथ की आदतों पर अक्सर जोर दिया जाता है या उसकी जरूरत पडती है. इसके अलावा, प्रतिदिन के अनेक उपकरण (जैसे कि कनस्तर ओपनर और (कैंची)) असममात्रिक होते हैं और उन्हें दाहिने-हाथ वाले लोगों के लिए बनाया गया है. बाएं-हाथ के मॉडलों की दुर्लभता या अभाव के कारण बाएं हाथ वालों को उन्हें दाहिने हाथ से उपयोग करना सीखना पड़ता है. इस प्रकार, बाएं हाथ के लोगों द्वारा दाहिने-हाथ वालों की तुलना में अपने गैर-प्रमुख हाथ से मोटर कौशल विकसित करने के लिए कहीं अधिक प्रयास करने पड़ते हैं (जो कि बाएं-हाथ के उपकरण नहीं होते हैं). दाहिने-हाथ वाले लोग दाहिने हाथ या भुजा में चोट लगने के कारण उभय-हस्तकुशल बन सकते हैं. बाजीगरी, तैराकी, तालवाद्य, कीबोर्ड संगीत, बेसबॉल, लैक्रोस, सर्जरी, मुक्केबाजी, मार्शल आर्ट्स और बास्केटबॉल जैसी गतिविधियों के लिए दोनों हाथों की निपुणता के मद्देनजर उभय-हस्तकौशलता को अक्सर प्रोत्साहित किया जाता है.

शब्द-व्युत्पत्ति[संपादित करें]

एम्बिडेक्सट्रस (ambidextrous) (अर्थात उभय-हस्तकुशलता) शब्द लैटिन मूल के एम्बी (ambi) से व्युत्पन्न है, जिसका अर्थ है "दोनों" और डेक्सटर (dexter), मतलब "सही" या अनुकूल. इस प्रकार, एम्बिडेक्सट्रस (ambidextrous) का शाब्दिक रूप से अर्थ हुआ "दोनों ओर से सही/अनुकूल". अंग्रेजी में एम्बिडेक्सटर (ambidexter) शब्द का उपयोग मूलतः कानूनी रूप से ज्यूरी सदस्यों द्वारा अपने फैसले के लिए दोनों पक्षों से रिश्वत लेने के लिए किया जाता है.[2]

खेलकूद में[संपादित करें]

बेसबॉल[संपादित करें]

बेसबॉल, फुटबॉल और बास्केटबॉल के खेलों में उभय-हस्तकुशलता की बड़ी कद्र है. "स्विच हिटिंग" बहुत ही आम घटना है और इसकी बड़ी कद्र है, क्योंकि किसी बल्लेबाज के पास आम तौर पर बेसबॉल को सफलतापूर्वक हिट करने के लिए बहुत अधिक सांख्यिकीय मौका होते हैं, जब उसे किसी विपरीत-हाथ वाले पिचर द्वारा फेंका जाता है. इसलिए, कोई उभय-हस्तकुशल व्यक्ति किसी भी ओर से बल्लेबाजी कर सकता है, जो उस स्थिति में उसके लिए बहुत लाभदायक है. पीट रोज एक स्विच हिटर थे, जिन्होंने मेजर लीग बेसबॉल के इतिहास में सबसे अधिक हिट लगाए.[3]

सव्यसाची पिचर भी हुआ करते हैं. 19वीं सदी में टोनी मुलाने ने 284 गेम में जीत हासिल की.[4][5] एल्टन चेम्बरलेन और लैरी कोरकोरन भी उल्लेखनीय सव्यसाची पिचर थे. आधुनिक युग में ग्रेग ए. हैरिस एकमात्र ऐसे बड़े लीग पिचर हैं, जो अपने बाएं तथा दाहिने दोनों हाथों से पिच करते हैं. प्राकृतिक रूप से एक दाहिने-हाथ वाला यह खिलाड़ी 1986 तक अपने बाएं हाथ से अच्छी तरह से फेंकने में इतना सक्षम हो गया कि उसने महसूस किया कि वह खेल के दौरान किसी भी हाथ से पिच कर सकता है. हैरिस को 28 सितंबर 1995 तक अपने कैरियर के अंतिम दूसरे खेल के पहले तक नियमित-सीजन खेल में बाएं हाथ से फेंकने की अनुमति नहीं थी. सिनसिनाटी रेड्स के खिलाफ नौवीं पारी में हैरिस (तब वे मॉन्ट्रियल एक्सपोस के एक सदस्य थे) ने दाहिने हाथ से रेगी सैंडर्स की छुट्टी की और फिर बाएं हाथ के दो अगले बल्लेबाजों, हल मोरिस और एड टौबेंसी के लिए अपने बाएं हाथ का इस्तेमाल किया. हैरिस ने मॉरिस को चलता किया, लेकिन टौबेंसी को ग्राउंड आउट किया. उसके बाद उन्होंने अपने दाहिने हाथ का इस्तेमाल करके ब्रेट बून की छुट्टी करके पारी को समाप्त किया. डिविजन I एनसीएए (Division I NCAA) के एक पिचर पैट वेंडिटे जो पहले क्रेग्टन ब्ल्यूजेस में थे, और अब न्यूयॉर्क यांकीस ट्रेंटन थंडर क्लास ए ए से सम्बद्ध हैं, नियमित रूप से दोनों हाथों से पिच किया करते हैं.

बिली वाग्नर अपनी जवानी के दिनों में प्राकृतिक रूप से दाहिने-हाथ के पिचर थे, लेकिन उनका यह हाथ दो बार टूट जाने के कारण उन्होंने अपने बाएं हाथ के इस्तेमाल से खलिहान की दीवार पर फास्टबॉल फेंकना सीखा. वे एक प्रमुख बाएं-हाथ के रिलीफ पिचर बन गये, जिन्हें 100 मील प्रति घंटे से भी अधिक तेजी से फास्टबॉल फेंकने के लिए मुख्य रूप से जाना जाता है. अपने 1999 के सीजन में, वाग्नर ने ह्यूस्टन एस्ट्रो के रूप में नेशनल लीग रिलीफ मैन ऑफ़ द ईयर अवार्ड जीता.

स्नूकर[संपादित करें]

क्यू खेल में, दोनों हाथ से खेल पाने में सक्षम खिलाड़ी टेबल के पार तक पहुंच जा सकते हैं, क्योंकि क्यू (डंडा) शरीर की बायीं या दाहिनी ओर कहीं भी रखा जाता है. अंग्रेजी स्नूकर खिलाड़ी रोनी ओ'सुलीवान[6] शीर्ष स्नूकर पेशेवरों के मौजूदा श्रेणी में अद्वितीय हैं, क्योंकि वे दोनों हाथ से विश्व स्तर का खेल खेलने में सक्षम हैं. जब उन्हें अपने बाएं हाथ में शक्ति की कमी महसूस होती है, तब वे शॉट लगाने के लिए दाहिने हाथ का इस्तेमाल करते हैं, जिससे अजीबोगरीब क्युइंग (cueing) की आवश्यकता पड़ती है. जब उन्होंने पहली बार कनाडाई खिलाड़ी अलेन रोबिडौक्स के विरुद्ध 1996 की विश्व चैम्पियनशिप में अपनी इस क्षमता का प्रदर्शन किया, तब रोबिडौक्स ने उन पर अनादर का आरोप लगाया था. ओ'सुलीवान ने जवाब में कहा कि रोबिडौक्स अपने दाहिने हाथ से जैसा खेल सकते हैं, उसकी तुलना में वे अपने बाएं हाथ से कहीं बेहतर खेल सकते हैं.[7] रोबिडौक्स की औपचारिक शिकायत के बाद ओ'सुलीवान को अनुशासनात्मक सुनवाई के लिए बुलाया गया, जहां उन्हें यह साबित करना पड़ा कि वे किसी उच्चस्तरीय खेल में अपने बाएं हाथ से खेल सकते हैं. उन्होंने विश्व चैम्पियनशिप के पूर्व रनर-अप रेक्स विलियम्स के साथ स्नूकर के तीन फ्रेम खेले और तीनों में ही उनकी जीत हुई. इसके बाद खेल को बदनाम करने का आरोप हटा लिया गया.[8]

अन्य खेल[संपादित करें]

भिड़ंत वाले खेलों में अपने विरोधी का सामना करने के लिए या तो दाहिने-हाथ की मुद्रा ("और्थोडॉक्स") में बाएं कंधे को आगे करते हैं या फिर बाएं-हाथ की मुद्रा ("साउथ-पौ") में दाहिने कंधे को आगे करते हैं, इस तरह उल्टा प्रभाव उपयोगी होता है.

एसोसिएशन फुटबॉल में, दोनों पैरों से किक मारने में सक्षम होने से पास करने और गोल मारने के अधिक मौके प्राप्त होते हैं, साथ ही दोनों पैरों के महत्व की क्षमता बढती है. इसलिए, जिन खिलाड़ियों में दक्षता के साथ अपने कमजोर पैर के उपयोग की क्षमता होती है वे टीम के लिए बेशकीमती होते हैं.

रग्बी लीग और रग्बी यूनियन में उभय-उपांगकुशलता तब लाभकारी होती है, जब टीम के साथियों के बीच फुटबॉल पास करना होता है, इसके अलावा अर्द्धांश तक दोनों पैरों का इस्तेमाल करके गेंद को किक द्वारा आगे करके मैदान की स्थिति में बढ़त हासिल की जाती है.

स्केटबोर्डिंग में न सिर्फ एक मजबूत पैर, बल्कि दूसरे जरा कम मजबूत पैर के जरिये भी सफलतापूर्वक स्केट करने की क्षमता को "स्विच स्केटिंग" कहते हैं और जो बेशकीमती क्षमता है. उल्लेखनीय स्विच स्केट बोर्डरों में एरिक कोस्टन, गाय मरियानो, जेरेम रोजर्स, पॉल रोड्रिग्ज और बॉब बर्नक्विस्ट शामिल हैं. इसी तरह, जो सर्फर दोनों मुद्राओं में समान रूप से सवारी करते हैं, उन्हें "स्विच-फूट" सर्फिंग कहा जाता है. इसके अलावा, उन्नत स्तर पर स्नोबोर्डिंग में भी दोनों ओर से समान रूप से सवारी करने की क्षमता की आवश्यकता होती है.

अमेरिकी फुटबॉल में दोनों हाथों के उपयोग करने की क्षमता विशेष रूप से लाभप्रद होती है. सव्यसाची रिसीवर किसी भी हाथ से एक-हाथ के कैच ले सकता है; क्वार्टरबैक का खिलाड़ी अपनी जगह से आगे आकर अपने किसी भी हाथ से फेंक सकता है, इस तरह विरोधी पक्ष की रक्षा पंक्ति को भ्रमित कर देता है; लाइनमेन अपने कंधे वर्गाकार रख सकते हैं और अपने दोनों हाथों से समान मात्रा में शक्ति पैदा कर सकते हैं; और पंटर एक खराब खेल को संभाल सकता है और आगे बढ़कर किसी भी पैर से गेंद पर प्रहार कर सकता है, इस तरह वह किसी अवरोध के मौके को सीमित कर देता है.

क्रिकेट में भी दोनों हाथों से सक्षम होना फायदेमंद है. सव्यसाची क्षेत्ररक्षक एक हाथ से कैच ले सकते हैं या किसी भी हाथ से गेंद फेंक सकते हैं. भारत के सचिन तेंदुलकर सव्यसाची हैं क्योंकि वे बाएं हाथ से लिखते हैं लेकिन बल्लेबाजी दाहिने हाथ से करते हैं.

अगर उनके पास कोई प्राथमिकता नहीं हो तो रिसीवरों और कॉर्नरों को मजबूत और कमजोर पक्ष दोनों ओर से समान रूप से खेला जा सकता है.

पेशेवर स्पोर्ट्स कार रेसिंग में संयुक्त राज्य अमेरिका और यूरोप के विभिन्न प्रतियोगिताओं में भाग लेने वाले ड्राइवरों को कभी-कभी कार के अलग-अलग तरफ स्टीयरिंग व्हील के साथ मशीन होने का सामना करना पडेगा. हालांकि स्टीयरिंग क्षमता काफी हद तक अप्रभावित रहती है, लेकिन शिफ्टिंग परिवर्तन के लिए हाथ का इस्तेमाल किया जाता है. ड्राइवर परिवर्तन के साथ शिफ्ट पैटर्न सापेक्ष होने से यह मामला और भी जटिल हो जाता है, जैसे कि गियर में बदलाव के लिए बाएं-हाथ-ड्राइव वाले वाहन में लीवर को ड्राइवर की ओर लाना जरुरी होता है जिससे दायें-हाथ-ड्राइव वाहन के ड्राइवर के लिए जरा कठिनाई पेश आती है. दोनों हाथ से शिफ्टिंग करने में दक्ष ड्राइवर को इसका लाभ मिल जाता है.

उभयउपांग-कुशल एथलीटों के अन्य उदाहरण[संपादित करें]

टेनिस में अगर अपने कमजोर हाथ का इस्तेमाल करने में खिलाड़ी सक्षम हों तो वे अधिक आसानी से बैकहैंड साइड की गेंद तक पहुंचने में सक्षम हो सकते हैं. दोनों हाथों से काम लेनेवाले खिलाड़ियों के बेहतरीन उदाहरणों में ल्यूक जेन्सेन और मारिया शारापोवा शामिल हैं.[9]

गोल्फ में कुछ खिलाड़ियों को क्रॉस-डोमिनेंस को लाभप्रद पाते हैं, खासकर तब जब कोई बाएं-हाथ का खिलाड़ी दाहिने-हाथ के क्लब का इस्तेमाल करता है. बाएं हाथ के साथ अधिक सटीक समन्वय से माना जाता है कि बेहतर-नियंत्रित और मजबूत ड्राइव की जा सकती है.

गोल्फ में, मैक ओ'ग्राडी एक टूरिंग प्रो (touring pro) थे, जो दाहिने हाथ से खेला करते थे, फिर भी वे "स्क्रैच" (कोई कमजोरी नहीं) गोल्फ बाएं-हाथ से खेला करते. एक शौकिया "बाहत्थी" और एक व्यावसायिक "दाहत्थी" के रूप में प्रमाणन पाने के लिए वे वर्षों तक यूएसजीए (USGA) का चक्कर लगाते रहे, लेकिन कोई लाभ नहीं हुआ.[10]

हालांकि फिल मिकेल्सन और माइक वेइर दोनों ही सव्यसाची नहीं थे, दाहिने-हाथ वाले होने के बावजूद वे बाये-हाथ से गोल्फ खेला करते थे; बेन होगान का मामला उल्टा है, वे बाएं-हाथ के होने के बावजूद दाहिने-हाथ से गोल्फ खेलते थे. इसे क्रॉस-डोमिनेंस या मिक्स्ड-हेंडेडनेस के नाम से जाना जाता है.

एथलेटिक्स में, ब्रिटिश ट्रिपल जंपर जोनाथन एडवर्ड्स जो अब सेवानिवृत्त हैं, अभी भी इनके नाम इस इवेंट का विश्व रिकॉर्ड है, रग्बी खेलने के दौरान ‍दोनों में से किसी भी पैर से किक करने में सक्षम होने के कारण वे जाने जाते हैं. प्रतिस्पर्धी छलांग लगाने के दौरान उन्होंने दोनों में से किसी भी पैर से छलांग लगाकर बहुत ही अभूतपूर्व उभयहस्त-कौशल का प्रदर्शन किया है.

रग्बी यूनियन में जॉनी विल्किनसन ऐसे खिलाड़ी के प्रमुख उदाहरण है, जो दोनों ही पैरों से एक समान रूप से उम्दा किक करते हैं, मिसाल के तौर पर वे आमतौर बाएं पैर से किक करते हैं, लेकिन जिस ड्रॉप्ड गोल के कारण उन्हें 2003 में रग्बी विश्व कप प्राप्त हुआ, उसमें उन्होंने दाएं पैर का उपयोग किया था.

बास्केटबाल में खिलाड़ी पास देने या शॉट मारने के लिए कमजोर हाथ से काम ले सकता है. एनबीए के सितारे डेविड ली, एंड्रयू बोगुट और माइकल बेअसले दोनों हाथ से एक समान खेलनेवाले खिलाड़ी हैं. पोस्ट में स्वाभाविक दाएं हाथ के बजाए बोगुट बाएं हाथ से हुक शॉट लगाने में मजबूत है, मार्क गैसोल और पाउ गैसोल बंधु दोनों ही दाएं और बाएं हाथों से हुक शॉट मार सकते हैं, जबकि दोनों का दायां हाथ ही उनका मुख्य हाथ है. लॉस एंजेल्स लेकर्स डेरेक फिशर बाएं हाथ के प्वाइंट गार्ड हैं, जबकि अपने शुरूआती दिनों में ड्रंक शॉट के लिए वे दाएं हाथ का इस्तेमाल किया करते थे. डब्ल्यूएनबीए टीम स्पार्क्स के लिए कैंडस पारकर फॉरवर्ड खिलाड़ी हैं, लेकिन दोनों ही हाथों का इस्तेमाल करने में समान रूप से सिद्धहस्त हैं.

हॉकी और आइस हॉकी खिलाड़ी शरीर के बाएं या दाएं किसी भी तरफ से शॉट मार सकते हैं. दाएं हाथ के ज्यादातर खिलाड़ी बायीं ओर शॉट मारते हैं, बाएं हाथ के अधिकांश खिलाड़ी दायीं ओर शॉट मारते हैं, क्योंकि खिलाड़ी अक्सर हॉकी स्टिक को एक ही हाथ में लेकर खेलते हैं. प्रमुख हाथ आम तौर पर स्टिक के शीर्ष पर होता है, ताकि पक को बेहतर तरीके से स्टिक हैंडलिंग और नियंत्रण किया जाए. दोनों हाथों से खेलने में सक्षम कुछ खिलाड़ियों में गोर्डिए होवे भी एक हैं.

क्रिकेट - सचिन तेंदुलकर लिखने और खाने के लिए बाएं हाथ का उपयोग करते हैं, लेकिन बल्लेबाजी और गेंदबाजी दाएं हाथ से करते हैं. ऐसे कई खिलाड़ी हैं जो स्वाभाविक रूप से दाएं हाथ का उपयोग करनेवाले हैं, लेकिन बल्लेबाजी बाएं हाथ से करते हैं और इसके विपरीत उदाहरण भी हैं.

एक अन्य आइस हॉकी खिलाड़ी, गोलटेंडर बिल डरमैन, जिनका उपनाम "डॉ. स्ट्रेंजग्लोव" है, दोनों में से किसी भी हाथ से पक को कैच करने की योग्यता रखते हैं. इस कमाल से उन्होंने वेजिना ट्रॉफी जीती, इसके बाद नेशनल हॉकी लीग का औसत के मुकाबले कम से कम गोल खानेवाले गोलकीपर का खिताब जीता, सात सीजन में केवल छह बार का रिकॉर्ड रहा. टोरंटो और मॉन्ट्रियल में चर्च लीग टीम के लिए खेलते हुए उन्होंने अपने बहुत ही खराब पार्श्व गतिविधि में सुधार लाने के लिए इस योग्यता को विकसित किया.

फिगर स्केटिंग में ज्यादातर स्केटर, जो दाएं ओर के स्पिनर हैं बाईं और कूदते हैं और बाएं हाथ के इसके विपरीत छलांग लगाते हैं. ओलिंपिक चैंपियन फिगर स्केटर जॉन करी की छलांग विशेष रूप से एक दिशा (घड़ी की विपरीत दिशा) में लगाते हैं, जबकि स्पिनिंग के दौरान मुख्यत: दूसरी ओर से लगाते हैं. दोनों ही दिशा में छलांग लगाने और स्पिन करने की योग्यता बहुत कम स्केटरों में होती हैं और अब आईएसयू जजिंग सिस्टम के तहत अनभ्यस्त दिशा में स्पिन को "बहुत ही मुश्किल विविधता" मान ली गयी है. अपनी जानी-पहचानी गतिविधि के तहत के मिश्चेल क्वान ने अपने कुछ कार्यक्रमों में विपरीत-घूर्णन वाले कैमल स्पिन का इस्तेमाल किया. विपरीत दिशा में छलांग लगाने या दोनों दिशा में संयोजित छलांग लगाने से कोई बोनस प्वाइंट नहीं होता है, फिर भी इसे वे बड़े सटीक तरीके से करने की कोशिश करते हैं.

हालांकि यह बहुत ही असामान्य बात है, लेकिन बैडमिंटन में, उभयहस्त-कौशलवाले खिलाड़ी अक्सर अजीब से बैकहैंड कॉर्नर को जल्दी से पा लेने के लिए दोनों हाथों में रैकेट की अदला-बदली करते हैं. खेल के पेशेवर स्तर पर, चूंकि बैडमिंटन एक बहुत ही द्रुत गति का खेल है, इसीलिए हो सकता है खिलाड़ियों के पास हाथों में रैकेट बदलने का समय न गी हो, क्योंकि यह उनके प्रतिक्रिया समय को बाधित करता है.

उपकरण[संपादित करें]

उपकरणों की कहें तो ऐसे उभयहस्त-कौशल वाले उपकरण इस तरह इस्तेमाल करने के लिए होता कि किसी भी हाथ से इसका इस्तेमाल किया जा सके; "उभयहस्त-कौशल वाले चाकू", जो कुछ खोलनेवाला फोल्डिंग नाइफ होता है. इसका मतलब यह भी हो सकता है कि किसी अन्य तरह से उपकरण को दाएं और बाएं हाथ में परस्पर बदला जा सकता है, जैसे कि "उभयहस्त-कौशल वाला सेडसेट", जिसे बाएं या दाएं किसी भी कान में लगाया जा सकता है.[11][12]

कई आधुनिक छोटे हथियार उभयहस्त कौशलवाले डिजाइन से तैयार किए जाते हैं, ताकि दाएं और बाएं दोनों हाथवाला ऑपरेटर इससे काम ले सके. सैन्य या कानून प्रवर्तन इकाइयों में हथियार के विपणन के लिए यह खासियत लाभदायक है, क्योंकि हथियार एक बड़े पैमाने पर वितरित किए जाते हैं. यह बात बाएं हाथ के परिचालकों को दाएं हाथवाले हथियारों को चलाने के लिए प्रशिक्षण देने की जरूरत को खारिज कर देती है.

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • उभयहस्त संगठन
  • मस्तिष्क विषमता
  • क्रॉस-प्रभुत्व
  • दोहरी मस्तिष्क सिद्धांत
  • मनमानी
  • पार्श्विकता
  • मस्तिष्क क्रियाओं का लेटरलाइजेशन
  • लेफ्ट-हैंडेड
  • राइट-हैंडेड

साँचा:Laterality

नोट[संपादित करें]

  1. ^  This article incorporates content from the 1728 Cyclopaedia, a publication in the public domain.

संदर्भ[संपादित करें]

  1. "मिक्स्ड-हैंडेड चिल्ड्रेन मोर लाइकली टू हैव मेंटल हेल्थ, लैंग्वेज एंड स्कौलैस्टिक प्रॉब्लम, स्टडी फाइंड्स."
  2. अश्लील भाषा के 1811 शब्दकोश, पृष्ठ 12, ISBN 0-695-80216-X
  3. Seattletimes.com अनुच्छेद 2
  4. ब्रैंडन टोरोपोव द्वारा 50 सबसे बड़ी बेसबॉल मिथ्स, पृष्ठ 75
  5. Seattletimes.com अनुच्छेद 4
  6. Snookerclub.com
  7. "रोनी ओ'सलिवन, "द रॉकेट"", snookerclub.com. 21 अप्रैल 2007 को पुनःप्राप्त.
  8. "स्नूकर: बैद ब्रेक्स माउंट अप फॉर अ ट्रबल्ड सोल", द इंडीपेंडेंट , 15 दिसम्बर 2006. 5 मई 2007 को पुनःप्राप्त.
  9. newengland.usta.com पर ल्यूक जेन्सेन की जीवनी
  10. जीआर गोल्फ पर्सनैलिटी ऑफ़ द मंथ - मैक ओ'ग्रेडी - मिस्टर अंप्रेडिक्टेबल - Golfreview.com मंच
  11. प्रुनर - थम्ब लौक लेफ्ट और राइट हैंड
  12. लॉजीटेक कॉर्डलेस वैनटेज हेडसेट फॉर पीएस3 (PS3) - स्लैशगियर

साँचा:Hand