उपिंदरजीत कौर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
उपिंदरजीत कौर

विधायक, पंजाब
कार्यकाल
1997 - 2012
पूर्वा धिकारी
गुरमल सिंह (राजनीतिज्ञ)
उत्तरा धिकारी
नवतेज सिंह चीमा
चुनाव-क्षेत्र सुल्तानपुर

तकनीकी शिक्षा और औद्योगिक प्रशिक्षण मंत्री
कार्यकाल
1997 -2002
उत्तरा धिकारी
राजिंदर कौर भट्टल

Minister for School Education
कार्यकाल
2007 -2010
पूर्वा धिकारी Harnam Das Johar
उत्तरा धिकारी Sewa Singh Sekhwan

Minister for Finance & Planning
कार्यकाल
October 2010 -March 2012
पूर्वा धिकारी Manpreet Singh Badal
उत्तरा धिकारी Parminder Singh Dhindsa

राजनीतिक दल
शिरोमणि अकाली दल
निवास
कपूरथला, पंजाब, भारत
धर्म
सिख धर्म

डॉ. उपिंदरजीत कौर एक भारतीय राजनीतिज्ञ हैं और भारतीय पंजाब की पूर्व सत्ताधारी शिरोमणि अकाली दल की नेता हैं। अक्टूबर 2010 में, वह स्वतंत्र भारत में पहली महिला वित्त और योजना मंत्री बन गई।

प्रारंभिक जीवन[संपादित करें]

उनके पिता एस. आत्मा सिंह पंजाब के एक मंत्री और अकाली दल के नेता थे। उनकी माँ का नाम बीबी तेज कौर है। उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय से अर्थशास्त्र में एम. ए. और पंजाब विश्वविद्यालय, चंडीगढ़ से पंजाबी में एम. ए। किया। उन्हें पंजाबी विश्वविद्यालय, पटियाला से अर्थशास्त्र में पी एच डी की उपाधि मिली।

शैक्षणिक कैरियर[संपादित करें]

उन्होंने पंजाबी विश्वविद्यालय में अर्थशास्त्र पढ़ाया है और अर्थशास्त्र की प्रोफेसर हैं। वह गुरु नानक खालसा कॉलेज, सुल्तानपुर लोढ़ी और जिला कपूरथला की प्रधानाचार्य भी थी।  उन्होंने दो पुस्तकें 'डेवलपमेंट ऑफ थ्योरी ऑफ डिमांड' और 'सिख रिलिजन एंड इकनोमिक डेवलपमेंट' को लिखा है। उनकी दूसरी पुस्तक गैर-आर्थिक कारकों, विशेष रूप से आर्थिक विकास में धर्म की भूमिका के बारे में है। उन्हें मूल शोध पत्र 'द प्लेस एंड स्टेटस ऑफ़ विमेन इन सिख सोसाइटी' के लिए डॉ. गंदा सिंह मेमोरियल पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

राजनीतिक कैरियर[संपादित करें]

1997 में वह पहली बार सुल्तानपुर से अकाली दल की टिकट पर पंजाब विधान सभा के लिए चुनी गई।  उन्हें प्रकाश सिंह बादल सरकार में एक कैबिनेट मंत्री बनाया गया था और तकनीकी शिक्षा और औद्योगिक प्रशिक्षण, सांस्कृतिक कार्य और पर्यटन, आवास और शहरी विकास के मंत्रालय दिए गए थे।

वह 2002 और 2007 में सुल्तानपुर से फिर से निर्वाचित हुई थी। 2007 में उन्हें फिर से कैबिनेट मंत्री बनाया गया था और शिक्षा मंत्री, नागरिक उड्डयन, सतर्कता और न्याय मंत्री थी। अक्टूबर 2010 में, मनप्रीत सिंह बादल को हटाने के बाद उन्हें वित्त मंत्री बनाया गया था। वह स्वतंत्र भारत में पहली महिला वित्त मंत्री है। वह विभिन्न विधानसभा समितियों की सदस्य रही हैं, जैसे लोक लेखा समिति, अनुमान समिति, सार्वजनिक उपक्रम समिति, हाउस कमेटी। 2012 में पंजाब चुनाव में वह महिलाओं में 72 वर्ष की उम्र में, वह सबसे पुरानी उम्मीदवार थीं।


सन्दर्भ[संपादित करें]