उत्तरजीविता कौशल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उत्तरजीविता कौशल वे तकनीकें हैं जिनका उपयोग एक व्यक्ति किसी खतरनाक स्थिति (उदाहरण प्राकृतिक आपदा) में अपने आप को या दूसरों को बचाने के लिए कर सकता है (बुशक्राफ्ट भी देखें). सामान्य शब्दों में कहा जाये तो ये तकनीकें मानव जीवन की मूल आवश्यकताओं: पानी, भोजन, आश्रय, आवास को पूरा करने में मदद करती हैं. ये तकनीकें व्यक्ति को सीधे सोचने में, मदद के संकेत देने में,सुरक्षापूर्वक नेविगेट करने में, जानवरों और पौधों के साथ होने वाली अप्रिय घटनाओं को रोकने में और प्राथमिक चिकित्सा उपलब्ध कराने में भी मदद करती हैं. उत्तरजीविता कौशल अक्सर मूल विचार और क्षमताएं होती हैं जिनका उपयोग प्राचीन मानव के द्वारा हजारों सालों तक किया गया, इसलिए ये कुशलताएं आंशिक रूप से इतिहास का एक दोहरान हैं. इनमें से अधिकांश कौशल ऐसे तरीके हैं जिनसे सुदूर स्थानों में एक विस्तृत समय अवधि का आनंद उठाया जा सकता है या प्रकृति का सामना किया जा सकता है. कुछ लोग इन कुशलताओं का उपयोग प्रकृति की सराहना करने के लिए और पुनर्निर्माण के लिए करते हैं, केवल उत्तरजीविता के लिए नहीं.

आश्रय[संपादित करें]

अलास्का में आर्कटिक उत्तरजीविता प्रशिक्षण के दौरान एक उत्तरजीविता आश्रय का निर्माण संयुक्त राज्य के एयर फ़ोर्स के एयरमैन के द्वारा किया गया.

किसी संरचना का निर्माण करने से पहले आप को अपनी स्थिति पर विचार करना चाहिए. आपका आश्रय इस प्रकार का हो जो आपके चारों और मौजूद गर्मी, हवा, वर्षा, बर्फ और मौसम से आपको सुरक्षित रख सके. आश्रय प्रमुख रूप से सुरक्षा और आराम उपलब्ध करता है, इसमें मौसम, जानवरों और कीड़ों से सुरक्षा शामिल है. यह अपेक्षाकृत आरामदायक होना चाहिए ताकि आप इसमें सो सकें, क्योंकि सोना मनुष्य की बुनियादी आवश्यकता है.

एक आश्रय एक "प्राकृतिक आवास" हो सकता है; जैसे एक गुफा, या एक गिरा हुआ घना पेड़ (जिसमें दरार आ गयी हो लेकिन वह दो टुकड़ों में विभाजित न हुआ हो).यह मानव निर्मित आश्रय का मध्यवर्ती रूप हो सकता है जैसे मलबे से बनाया गया आवास, लकड़ी के गट्ठर के पास खोदी गयी एक खाई जिसे पत्तों इत्यादि से ढक दिया गया हो, या एक बर्फ की गुफा. यह पूरी तरह से मानव निर्मित सरंचना हो सकती है जैसे टार्प, टेंट, या घर.

आग[संपादित करें]

माना जाता है कि आग बनाने की क्षमता ने शारीरिक और मानसिक रूप से मनुष्य की उत्तरजीविता की क्षमता को बढ़ाने में मदद की. बिना लाइटर या माचिस के प्राकृतिक चकमक या स्टील और टिंडर के उपयोग से आग लगाना, उत्तरजीविता पर आधारित पुस्तकों का आम विषय है. जंगल में काम करने से पहले आग लगाने की कुशलता के अभ्यास पर बल दिया जाता है.

आग को एक ऐसे उपकरण के रूप में प्रतुत किया गया जो उत्तरजीविता की कई आवश्यकताओं को पूरा करती है. आग से उत्पन्न उष्मा शरीर को गर्मी देती है, गीले कपड़ों को सुखाती है, पानी को नि:संक्रमित करती है, और भोजन को पकाती है. इसके द्वारा उपलब्ध करायी जाने वाली सुरक्षा और संरक्षण की भावना तथा मनोवैज्ञानिक संवेदनाओं की अनदेखी नहीं की जानी चाहिए. जंगल में, आग एक अतिरिक्त उर्जा स्रोत के अलावा एक केन्द्रीय बिंदु, घर की भावना देती है. आग एक जंगली जानवर के द्वारा उत्तरजीवी के जीवन में किये जाने वले हस्तक्षेप को रोक सकती है, हालांकि जंगली जानवर आग की उष्मा या प्रकाश से आकर्षित हो सकते हैं. आग से उत्पन्न प्रकाश और धुंए का उपयोग रात में काम करने के लिए और बचाव इकाइयों को संकेत देने के लिए भी किया जा सकता है.

पानी और भोजन[संपादित करें]

एक मनुष्य बिना पानी के औसतन चार से पांच दिनों तक जीवित रह सकता है, इस स्थिति में ऐसा माना गया है कि समुद्र तल का स्तर, कमरे का तापमान और सापेक्षिक आर्द्रता सामान्य है.[1] जब तापमान अपेक्षाकृत कम या अधिक होता है, पानी की जरुरत बढ़ जाती है. व्यायाम के दौरान भी पानी की जरुरत बढ़ जाती है.

एक आम व्यक्ति के शरीर से सामान्य परिस्थितियों में प्रति दिन कम से कम दो और ज्यादा से ज्यादा चार लीटर पानी का ह्रास होता है. गर्म, शुष्क या ठन्डे मौसम में यह मात्रा बढ़ जाती है. एक व्यक्ति को निर्जलीकरण से बचाने के लिए प्रतिदिन छह लीटर पानी या किसी अन्य तरल की आवश्यकता होती है. तभी उसका शरीर ठीक प्रकार से कार्य कर सकता है.[2] अमेरिकी सेना की पुस्तिका के अनुसार आपको जब भी प्यास लगे, तभी पानी पीना चाहिए. [3][4] अन्य समूहों के अनुसार पानी का अनुपात निर्धारण "पानी अनुशासन" के अनुरूप होना चाहिए.[5]

पानी की कमी से निर्जलीकरण हो जाता है, जिसके परिणामस्वरूप व्यक्ति को सुस्ती आती है, उसके सर में दर्द हो सकता है, उसे चक्कर आने लगते हैं, वह भ्रमित महसूस करता है और अंत में उसकी मृत्यु हो सकती है. हल्का निर्जलीकरण भी क्षमता तथा शरीर में तरल की सांद्रता को कम कर देता है, जो जीवित अवस्था में खतरनाक है और इस पर स्पष्ट कार्रवाई करना आवश्यक है. गहरा पीला या भूरा मूत्र निर्जलीकरण का नैदानिक सूचक है. निर्जलीकरण से बचने के लिए आमतौर पर पेय जल की आपूर्ति को प्राथमिकता दी जाती है, और यह सुनिश्चित किया जाता है की जहां तक हो सके सुरक्षित पेय जल उपलब्ध कराया जाये.

उत्तरजीविता साहित्य के कई स्रोत, और मंच तथा ऑनलाइन सन्दर्भ उन तरीकों को बताते हैं, जिनसे पानी को संचित किया जा सकता है और उत्तरजीविता की स्थिति में उपभोग के लिए उसे सुरक्षित रूप में उपलब्ध कराया जा सकता है जैसे उबाल कर, छानकर, रसायनों के द्वारा, सौर विकिरणों/ उष्मा (SODIS), और आसवन (नियमित या सौर आसवन) के द्वारा. इस तरह के स्रोत अक्सर खतरों की सूची भी देते हैं जैसे प्रदूषक, सूक्ष्म जीव, या रोगजनक जो पानी की सुरक्षा को प्रभावित करते हैं.

हाल ही में यह माना जाने लगा है कि उबालना या वाणिज्यिक फ़िल्टर का उपयोग करना रसायनों की तुलना में अधिक सुरक्षित है, इसमें क्लोरीन डाई ऑक्साइड अपवाद है.[6] [7] [8]

पानी के लिए जरूरत से प्रस्तुत मुद्दे के अनुसार उत्तरजीविता की स्थितियों में वाष्पीकरण के द्वारा जल की अनावश्यक क्षति को रोका जाना चाहिए.

इस प्रकार से इन समस्याओं को हल करने के लिए पाक जड़ कंद, फल, खाद्य मशरूम, खाद्य नट्स, खाद्य सेम, खाद्य अनाज या खाद्य पत्तियों, खाद्य मॉस, खाद्य कैक्टाई और शैवाल की खोज की जा सकती है और अगर जरुरत हो इन्हें तैयार किया जा सकता है. (अधिकतर उबालने के द्वारा). पत्तियों के अपवाद के साथ, इन खाद्य पदार्थों में कैलोरी की मात्रा अपेक्षाकृत ज्यादा होती है, ये शरीर को कुछ ऊर्जा प्रदान करते हैं. पौधे कुछ आसान खाद्य स्रोत हैं जिन्हें जंगल, वन या रेगिस्तान में पाया जा सकता है,क्योंकि वे स्थिर हैं और इसलिए ज्यादा प्रयास के बिना इन्हें प्राप्त किया जा सकता है.[9]

साथ ही कुछ टिप्पणीकार जानवरों को पकड़ने, शिकार करने और मछली पकड़ने के माध्यम से जंगल में पशु खाद्य को एकत्रित करने के लिए आवश्यक ज्ञान, कौशल, और उपकरणों (जैसे धनुष, तीर कमान और जाल) के बारे में चर्चा करते हैं.

उत्तरजीविता से सम्बंधित कुछ पुस्तकें "सार्वत्रिक खाद्य योग्यता परीक्षण" को बढ़ावा देती हैं.[10] कथित तौर पर, खाद्य पदार्थों को विषैले पदार्थों से विभेदित किया जा सकता है, इसके लिए इनका अंतर्ग्रहण करने से पहले त्वचा और मुख पर इनकी जांच की जाती है, इसके लिए एक निर्धारित अवधि तक लक्षणों की जांच की जाती है. हालांकि, रे मीयर्स और जॉन कालास[11] सहित कई अन्य विशेषज्ञ इस विधि को अस्वीकार करते हैं, उनका मानना है कि किसी "संभावित खाद्य" की छोटी सी मात्रा भी शरीर के हानिकर हो सकती है, यह बीमारी या मृत्यु तक का कारण बन सकती है. एक अतिरिक्त कदम जो स्क्रेच टेस्ट कहलाता है, का उपयोग कभी कभी संभावित खाद्य के मूल्यांकन के लिए किया जाता है.

प्रकल्पित खोजकर्ताओं के द्वारा उत्तरजीविता पर ध्यान केन्द्रित करते हुए, द बॉय स्कॉट्स ऑफ़ अमेरिका ने विशेष रूप से भूमि पर वन्य खाद्य पदार्थों को हतोत्साहित किया, जिनके लिए आव्श्यक्स ज्ञान और कौशल उत्तरजीविता की परिस्थितियों में मौजूद होता है, जिससे जोखिम (ऊर्जा के उपयोग सहित) कम हो जाता है.[12] यह देखते हुए कि ज्यादातर लोगों के शरीर में पर्याप्त वसा होती है, वे इसकी मदद से कई दिनों तक जीवित रह सकते हैं, वे इस ऊर्जा का उपयोग पानी, आग और आश्रय की प्राप्ति के लिए कर सकते हैं, यह उपलब्ध समय और ऊर्जा का बेहतर उपयोग है.

प्राथमिक चिकित्सा[संपादित करें]

प्राथमिक चिकित्सा (विशेष रूप से जंगल में प्राथमिक चिकित्सा) एक व्यक्ति को जीवित रहने में मदद करती है और चोटों और बिमारियों के समय में उसे बचाती है, प्राथमिक चिकित्सा के अभाव में ये चोटें और बीमारियां उसकी मृत्यु का कारण भी बन सकती हैं. आम और खतरनाक चोटों में शामिल हैं:

  • विक्षरण (शरीर के किसी अंग पर खुली चोट) जो संक्रामक बन सकती है.
  • जहरीले जानवरों के काटने या उनके डंक से, जैसे सांप, बिच्छु, मकड़ी, मधुमखी, स्टिंग रे, जेलीफिश, कैटफिश, स्टारगेज़र आदि.
  • किसी जानवर के काटने कोई रोग या सैप्टिसीमिया, जैसे: मच्छर, पिस्सू, टिक, रेबीज़ से संक्रमित जानवर, सैंड फ्लाई, कोमोडो ड्रेगन, मगरमच्छ की प्रजाति के जानवर आदि.
  • भोजन, जानवरों के संपर्क, या नहीं पीने योग्य पानी पीने से संक्रमण.
  • हड्डी टूटना
  • खिंचाव, विशेष रूप से टखने में.
  • जलने से.
  • ज़हरीले पौधे या ज़हरीली कवक के संपर्क में आने से या इनके उपभोग से शरीर में ज़हर फैलना.
  • हाइपोथर्मिया (बहुत ठंड) और हाइपरथर्मिया (बहुत गर्म)
  • दिल का दौरा
  • हेमरेज

उत्तरजीवी को प्राथमिक चिकित्सा सामग्री के इस्तेमाल की आवश्यकता हो सकती है या, यदि संभव हो तो आवश्यक ज्ञान, प्राकृतिक औषधि गुणों के पौधे भी काम में लिए जा सकते हैं. कभी कभी यह भी ध्यान रखना होता है कि घायल अंग को हिलाया ना जाये या घायल व्यक्ति को सावधानीपूर्वक उपचार के लिए ले जाया जाये.

नेविगेशन (दिशा ज्ञात करना)[संपादित करें]

उत्तरी गोलार्द्ध में एक ही पेड़ के तने की दो तस्वीरें नेविगेशन सुविधा का एक उदाहरण है. बायीं और की तस्वीर एक ताने के उत्तरी भाग को दर्शाती है, जहां अधिक घनी और नाम सूक्ष्म जलवायु परिस्थितियां मॉस के विकास में मदद करती हैं. दायीं तस्वीर दक्षिणी हिस्से को दर्शाती है, जहां धूप से युक्त और शुष्क परिस्थितियां मॉस के विकास में कम मदद करती हैं. छायादार पक्ष हमेशा दोपहर पक्ष के विपरीत नहीं है.

उत्तरजीविता की स्थिति को प्राप्त करने के लिए कभी कभी यह आवश्यक हो जाता है कि व्यक्ति को सावधानीपूर्वक सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया जाये. या ऐसा हो सकता है कि व्यक्ति को बचाव का इन्तजार करने के लिए किसी उपयुक्त स्थान की तलाश करनी पड़े. स्रोतों के अनुसार इनमें से किसी भी कार्य के लिए किसी नेविगेशन उपकरण या कुशलता की आवश्यकता हो सकती है. नेविगेशन के प्रकारों में शामिल हैं:

  • आकाशीय नेविगेशन, कार्डिनल दिशा का पता लगाने के लिए और यात्रा के मार्ग का पता लगाने के लिए सूर्य और रात के आकाश का उपयोग करना.
  • नक़्शे और कम्पास का एक साथ उपयोग करना, विशेष रूप से एक स्थलाकृतिक मानचित्र या परीक्षण मानचित्र का उपयोग.
  • एक मानचित्र या अन्यथा ज्ञात सुविधाओं पर "प्रेक्षण के द्वारा नेविगेशन "
  • यदि उपलब्ध हो तो एक जीपीएस रिसीवर का उपयोग करके.
  • मृत गणना

मध्याह्न के समय में उत्तरी गोलार्द्ध में, सूर्य किसी पर्यवेक्षक के सीधे दक्षिण में होता है. मध्याह्न के समय में दक्षिणी गोलार्द्ध में, सूर्य किसी पर्यवेक्षक के सीधे उत्तर में होता है. मध्याह्न की गणना एक छड़ी या कोई सीधी खड़ी सरंचना को भूमि में लगाकर की जा सकती है, इसे जहां तक संभव हो 90 डिग्री पर रखना चाहिए. और संभव हो तो एक दिन की अवधि के दौरान इसकी छाया को एक छड़ी, चट्टान या किसी अन्य सरंचना से चिन्हित कर दिया जाना चाहिए. जहां भी एक दिन की अवधि के दौरान छाया सबसे छोटी होती हैं, अगर आप उत्तरी गोलार्ध में हैं तो या दिशा दक्षिण है, और अगर आप दक्षिणी गोलार्ध में हैं तो यह दिशा उत्तर है. नेविगेशन में मदद करने के लिए कम्पास या इलाके की प्राकृतिक सुविधाओं की सहायता से यह विधि पर्यवेक्षक को सही दिशा ज्ञात करने में मदद करेगी. दिशा ज्ञात करने की यह विधि तब उपयोगी नहीं होती जब पर्यवेक्षक को स्थानीय पर्यावरण के बारे में साधारण ज्ञान न हो (कौन सी दिशा दक्षिण है, मात्र यह ज्ञान होना लाभकारी नहीं होगा अगर आप यह नहीं जानते कि आपका दक्षिण कौन सा होना चाहिए).

प्रशिक्षण[संपादित करें]

उत्तरजीविता के प्रशिक्षण में कई अवयव होते हैं, मानसिक क्षमता उअर शारीरिक फिटनेस इनमें से दो अवयव हैं. मानसिक क्षमता में वे कुशलताएं शामिल हैं जिनकी सूची इस लेख में दी गयी है, साथ ही इसमें स्पष्ट रूप से सोचने की क्षमता, आतंक का सामना करने की क्षमता, एक संकट को स्वीकार करने की क्षमता भी शामिल है. शारीरिक फिटनेस में अन्य क्षमताओं के अतिरिक्त भर को ख़राब रस्ते से लम्बी दूरी तक ले जाने की क्षमता शामिल है. उत्तरजीविता कौशल का सैद्धांतिक ज्ञान तभी उपयोगी होता है जब इसे जंगल में प्रभावी रूप से लागू किया जाता है. लगभग सभी उत्तरजीविता कौशल पर्यावरण विशिष्ट होते हैं और इनके लिए एक विशेष वातावरण में प्रशिक्षण की आवश्यकता होती है.

उत्तरजीविता प्रशिक्षण को तीन प्रकारों या स्कूलों में बांटा जा सकता है; आधुनिक जंगली उत्तरजीविता, बुशक्राफ्ट, और प्राथमिक उत्तरजीविता तकनीकें.

आधुनिक जंगली उत्तरजीविता अल्प कालिक (1 से 4 दिन) और मध्यकालिक (4 से 40 दिन) उत्तरजीविता स्थितियों के लिए आवश्यक कुशलताओं का प्रशिक्षण देती है.[13]

"बुशक्राफ्ट " आधुनिक जंगली उत्तरजीविता और उपयोगी आदिम उत्तरजीविता तकनीकों का संयोजन है. यह सामान्य रूप से पाने कुशलता अधिग्रहण को मध्य कालिक उत्तरजीविता तकनीकों (4 से 40 दिन) और दीर्घकालिक उत्तरजीविता तकनीकों (40 दिन से अधिक) के बीच विभाजित करती है.[14]

आदिम उत्तरजीविता तकनीकें या "आदिम रहन सहन" दीर्घकालिक (40 दिन से अधिक) से अधिक अवधि के लिए जीवित रहने के लिए कुशलताओं का प्रशिक्षण देती है. कई आदिम तकनिकी कुशलताओं के लिए अधिक अभ्यास की आवश्यकता होती है और ये अधिक पर्यावरण विशिष्ट हो सकती हैं.[15]

कई संगठन जंगली उत्तरजीविता का प्रशिक्षण देते हैं.इसका पाठ्यक्रम एक दिन से लेकर एक माह तक का हो सकता है. यह प्रशिक्षण फील्ड में दिया जाता है. सीमित भोजन, पानी और आश्रय की स्थितियों के लिए उत्तरजीविता तकनीकों के प्रशिक्षण के अलावा, कई संगठन बुश क्राफ्ट का प्रशिक्षण देते हैं. आदिम उत्तरजीविता पूर्व-औद्योगीकृत संस्कृति की जीवनशैली की सूझ बुझ देती है.

कई पुस्तकें यह प्रशिक्षण देती हैं कि खतरनाक स्थिति में कैसे जीवित रहा जाये, और स्कूल बच्चों को यह प्रशिक्षण देते हैं कि भूकंप या आग की स्थिति का सामना कैसे किया जाये. कई शहर बड़ी आपदा की स्थिति जैसे तूफ़ान (हरिकेन या टोरनेडो) के लिए योजनायें बनाते हैं.

भिन्न प्रकार के जलवायु में जीवित रहने के लिए भिन्न प्रकार के प्रशिक्षण की आवश्यकता होती है. हालांकि एक तकनीक सूखे उप सहारा क्षेत्र में कारगर हो सकती है, वाही तकनीक वास्तव में आर्कटिक जलवायु में स्वास्थ्य के लिए हानिकर हो सकती है.

मानसिक तैयारी[संपादित करें]

टिप्पणीकारों के अनुसार दिमाग और इसकी प्रक्रियाएं उत्तरजीविता के लिए महत्वपूर्ण हैं. ऐसा कहा जाता है कि जीवन और मृत्यु की स्थिति में जीवित रहने की इच्छा अक्सर उन लोगों को अलग करती है जो जीवित रहते हैं और जो जीवित नहीं रहते हैं. उत्तरजीविता की वीरतापूर्ण कहानियां अक्सर ऐसे लोगों की होती हैं, जिन्हें कोई प्रहिक्षण नहीं दिया गया होता, वे केवल जीने की प्रबल इच्छा रखते हैं, ये कहानियां बहुत आम हैं. लारेंस गोंजालेस ने अपनी पुस्तक डीप सर्वाइवल: हू लीव्स, हू डाइस अन वाय में एक किशोर लड़की जुलिआने कोपके की कहानी को बताया है, जो अमेज़न के जंगलों में एक विमान दुर्घटना की शिकार हो जाती है. उसे कोई औपचारिक प्रशिक्षण नहीं दिया गया होता, उसकने केवल सामान्य कपडे पहने होते हैं, वह कई दिनों तक परजीवी कीड़ों के साथ जंगल में जीवित रहती है. ग्यारह दिनों के बाद, बहुत कम भोजन के साथ वह एक झोपडी में पहुंचती है, और गिर जाती है. अगले दिन वह तीन शिकारियों को मिलती है, वे उसे एक स्थानीय डॉक्टर के पास ले जाते हैं. वे लोग जो इस दुर्घटना में बच गए, वह अकेली थी जो जिन्दा बची. गोंजालेस का मानना ​​है कि उसके अविनाशी और साधारण रूप ने यह अंतर स्थापित किया.[16]

वास्तविक उत्तरजीविता की स्थिति इतनी तनावपूर्ण होती है कि जो लोग इस तनाव को भली प्रकार से समझ लेते हैं, यहां तक कि प्रशिक्षित विशेषज्ञ इस जोखिम का सामना करने के लिए मानसिक रूप से प्रभावित माने जाते हैं.

ऐसा प्रतीत होता है कि जिस हद तक तनाव मानव सीमाओं के परिणामस्वरूप उत्पन्न होता है, तनाव के साथ काम करने से मिलने वाली सीख और इन सीमाओं का निर्धारण तनाव का एक और रख देता है. अंत में, विपरीत परिस्थिति के एक सामान्य प्रतिक्रिया तनाव है, जो जीवित रहने में मदद करती है- कम से कम संक्षेप में, प्रतिकूल परिस्थितियों का सामना करने के लिए तैयार करती है (जैसे एक प्राकृतिक आपदा के बीच फंस जाना, या किसी जंगली जानवर के द्वारा हमला किया जाना). अगर तनाव लम्बी समय अवधि के लिए बना रहता है, यह विपरीत प्रभाव उत्पन्न करता है, जिससे व्यक्ति की जीवित रहने की क्षमता पर प्रभाव पड़ता है. विशेष रूप से, टिप्पणीकारों के अनुसार तनाव के लिए विपरीत परिस्थितियां निम्न हैं: असमर्थता, सोने में असमर्थता, गलतियाँ करने की प्रवृति, कम ऊर्जा, क्रोध या गुस्सा आना, और लापरवाही.[17] इनमें से कोई भी लक्षण उत्तरजीविता की संभावना को बढ़ाता है, इसे आसान बनता है.

ऐसी कई रणनीतियां और मानसिक उपकरण हैं जो लोगों को उत्तरजीविता में बेहतर मदद कर सकते हैं, इसमें शामिल है, काम पर ध्यान केन्द्रित करना, उपलब्ध योजना बना कर काम करना, और स्थिति की पहचान करना. [18]

उत्तरजीविता मैनुअल[संपादित करें]

उत्तरजीविता मेनुअल एक पुस्तिका है जिसका उपयोग एक ऐसी स्थिति में किया जाता है जब एक व्यक्ति के जीवन पर प्रत्याशित या अप्रत्याशित ख़तरा मंडरा रहा हो. आमतौर पर हालात से निपटने के लिए तैयारी और मार्गदर्शन दोनों को कवर करती है.

उत्तरजीविता मेनुअल के कई प्रमुख प्रकार हैं, परन्तु अधिकांश में एक मानक सलाह का खंड होता है. इन्हें कभी कभी सार्वजनिक वितरण के लिए पुनः प्रकाशित किया जाता है: उदाहरण के लिए एसएएस सर्वाइवल हेंड बुक , यूनाईटेड स्टेट्स आर्मी सर्वाइवल मेनुअल (FM 3-05.70) और यूनाईटेड स्टेट्स एयर फ़ोर्स सर्वाइवल मेनुअल (AF 64-4) . कुछ साकुछ को जनता कल इए मूल रूप से लिखा गया है और ये वन्य जीवन , सर्दी, समुद्री उत्तरजीविता, प्राकृतिक और मानव निर्मित आपदा, घरेलु तैयारी,और वित्तीय उत्तरजीविता को एक ही मेनुअल में कवर करती हैं.[19]

अन्य मेनुअल को अधक विशिष्ट उपयोग के लिए लिखा गया है, जैसे वन्य जीवन और समुद्री उत्तरजीविता.

उत्तरजीविता पर अधिकांश वर्तमान प्रशिक्षण सिद्धांत एसएएस सर्वाइवल निर्देशक लोफ्टी वाइसमेन के कार्य से व्युत्पन्न हुए हैं.

संदर्भ[संपादित करें]

  1. HowStuffWorks चार्ल्स डब्ल्यू ब्रायंट द्वारा
  2. जल संतुलन; ठन्डे मौसम में उत्तरजीविता के लिए एक कुंजी ब्रूस ज़वाल्सकी के द्वारा, मुख्य प्रशिक्षक, बीडब्ल्यूआई.
  3. सेना उतर्जिविता मैनुअल, अध्याय 13 - पृष्ठ 2
  4. अमेरिकी सेना उत्तरजीविता मैनुअल एफएम 21-76 , इसे एफएम 3-05.70 मई 2002 संस्करण के रूप में भी जाना जाता है; पेय जल
  5. उत्तरजीविता के विषयों पर "जल अनुशासन"
  6. USEPA
  7. जंगल मेडिकल सोसायटी
  8. प्राकृतिक संसाधनों के विस्कॉन्सिन विभाग
  9. [1]
  10. अमेरिकी सेना उत्तरजीविता मेनुअल FM21-76 1998 डोरसेट प्रेस नौवां प्रकाशन आई एस बी एन 1566190223
  11. जॉन कालास, पीएच.डी., निदेशक, खाद्य जंगली पौधों और अन्य संसाधनों के अध्ययन के लिए संस्थान. जीवनी
  12. वन्य जीवन उत्तरजीविता मृत पदक पुस्तिका जनवरी, 2008, 38 में.
  13. ब्रूस ज़वाल्सकी, मुख्य प्रशिक्षक, BWI, वेब लेख: आधुनिक वन्यजीवन उत्तरजीविता क्या है? [2]
  14. ब्रूस ज़वाल्सकी, मुख्य प्रशिक्षक, BWI, वेब लेख: बुशक्राफ्ट क्या है?
  15. ब्रूस ज़वाल्सकी, मुख्य प्रशिक्षक, BWI, वेब लेख: आदिम उत्तरजीविता तकनीकें क्या हैं? [3]
  16. लॉरेंस गोंजालेस डीप सर्वाइवल: हू लीव्स, हू डाइस, एंड वाय .
  17. मेयो क्लिनिक
  18. लीच, जॉन. "उत्तरजीविता मनोविज्ञान". NYU प्रेस 1994 उत्तरजीविता मनोविज्ञान.
  19. एक पदीय उत्तरजीविता तयारी की मार्गदर्शिका www.one-stop-survival-guide.com पर.

बाहरी कडियां[संपादित करें]