ई-सिगरेट

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
दो इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट के मॉडल.नीचे से ऊपर: आरएन4072 "कलम-शैली" और सीटी-M401.हरेक मॉडल के नीचे एक अतिरिक्त पृथक बैटरी भी दिखाई गयी है।
एक डीएसए-901 इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट के एक अन्य आम डिजाइन का प्रदर्शन: यह एक साधारण सिगरेट है।

एक इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट, ई सिगरेट या वाष्पीकृत सिगरेट एक बैटरी चालित उपकरण है जो निकोटीन या गैर-निकोटीन के वाष्पीकृत होने वाले घोल की सांस के साथ सेवन की जाने वाली खुराक प्रदान करता है। यह सिगरेट, सिगार या पाइप जैसे धुम्रपान वाले तम्बाकू उत्पादों का एक विकल्प है। तथाकथित निकोटीन वितरण के अलावा[1] यह वाष्प पिये जाने वाले तम्बाकू के धुंएं के समान स्वाद और शारीरिक संवेदन भी प्रदान करती है जबकि इस क्रिया में दरअसल कोई धुंआ या दहन नहीं होता है।

इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट किसी हद तक लम्बी ट्यूब के रूप का होती है, जबकि इनका बाहरी आकार-प्रकार वास्तविक धुम्रपान उत्पादों जैसे सिगरेट, सिगार और पाइप जैसा डिजाइन किया जाता है। "कलम-शैली" की एक अन्य आम डिजाइन है, किसी बॉल प्वाइंट कलम जैसा दिखने के कारण इसका ऐसा नाम पड़ा. अधिकांश इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट के उपकरण पुनःउपयोग योग्य होते हैं, जिनके भागों को बदला और फिर से भरा जा सकता है। अनेक डिस्पोजेबल इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट भी विकसित किये गये हैं।

2003 में एक चीनी फार्मासिस्ट होन लिक द्वारा इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट ईजाद किया गया और उसके अगले साल उसे बाज़ार में पेश किया गया। उनकी कंपनी गोल्डन ड्रैगन होल्डिंग्स ने 2005-2006 में विदेशों में इसकी बिक्री शुरू की और बाद में इसका नाम बदलकर रूयान (मतलब, धूम्रपान के जैसा") रखा.[2]

कार्यविधि[संपादित करें]

ऑटोमेटिक मॉडलों में, जब कोई उपयोगकर्ता उपकरण के जरिये कश लेता है, तब एक सेंसर (संवेदक) इस प्रवाह को जान जाता है, जो एक तापक अवयव को सक्रिय करता है जिससे माउथपीस में जमा एक मसालेदार तरल घोल वाष्पीकृत होता है, जिसमें निकोटीन भी हो सकता है।[3] मैनुअल मॉडलों में, वाष्प पैदा करके उसका कश लगाने के लिए उपयोगकर्ता को तापक अवयव को सक्रिय करने के लिए एक बटन दबाना पड़ता है। अधिकांश मॉडलों में उपकरण के विपरीत छोर पर लगी एक एलईडी (LED) भी कश लगाने के दौरान सक्रिय हो जाती है, जो कि उपयोग किये जाने के सूचक का काम करती है। विभिन्न निर्माताओं की एलईडी कई रंगों में उपलब्ध हैं।

घटक[संपादित करें]

एक खुली हुई सिगरेट-जैसी इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट.एक एलईडी प्रकाश आवरण बी (जिसमें सर्किट्री भी है), एटमाइजर (तापक तत्व) डी, कार्ट्रिज (माउथपीस)

इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट अनेक आकार-प्रकार के होने के बावजूद आम तौर पर उनमें एक ही तरह के बुनियादी घटक लगे होते हैं: एक माउथपीस, एक तापक अवयव, एक रिचार्जेबल बैटरी और विभिन्न इलेक्ट्रॉनिक सिर्किट.

माउथपीस ("कार्ट्रिज")[संपादित करें]

माउथपीस एक छोटी-सी डिस्पोजेबल [प्लास्टिक] कप की तरह ट्यूब के अंत में चिपकी हुई एक वस्तु है। माउथपीस के अंदर एक छोटा प्लास्टिक कप होता है, जिसमें एक अवशोषक पदार्थ होता है जो कि एक मसालेदार तरल घोल के साथ संतृप्त रहता है। निकोटीन का स्तर बदलता रहता है जो कि घोल पर निर्भर करता है।[4] आंतरिक कप इस तरह बना है कि हवा इसके चारों ओर और बाहरी भाग के अंत में एक छेद के माध्यम से प्रवाहित हो सके; उपयोगकर्ता के मुंह में वाष्प का कश लगाने की क्षमता प्रदान करना उपकरण के लिए आवश्यक है। उद्योग में माउथपीस को "कार्ट्रिज" कहा जाता है। जब कार्ट्रिज में तरल समाप्त हो जाता है, तब इसे उपयोगकर्ता द्वारा फिर से भरा जाता है या फिर दूसरे भरे हुए कार्ट्रिज से बदल दिया जाता है।

पारंपरिक प्लास्टिक माउथपीस के एक विकल्प के रूप में, कुछ निर्माताओं सिर्फ टपकाने के लिए माउथपीस का निर्माण किया है, जैसे कि सुपर-टी विनिर्माणों के स्टेनलेस स्टील टी-टिप ड्रिप टिप.

ड्रिप टिप का उपयोग करके सीधे-सीधे ड्रिपिंग विधि कार्ट्रिज इस्तेमाल करने का एक अन्य विकल्प है। अवशोषक सामग्री को हटाकर, प्लास्टिक माउथपीस को निकालकर एटमाइजर ब्रिज में ई-तरल की कई बूंदें डाली जा सकती हैं। ड्रिपिंग को और आसान बनाने के लिए कुछ निर्माताओं ने विशेष रूप से बूंद टपकाने के लिए स्टेनलेस स्टील या प्लास्टिक से माउथपीस बनाए हैं, इससे बूंद डालने समय हर बार इसे खोलने की जरुरत नहीं होती.

तापक अवयव ("एटमाइजर")[संपादित करें]

तापक (हीटिंग) अवयव (तत्व) माउथपीस में रखे तरल को भाप बनाने का काम करता है ताकि उसका कश लगाया जा सके. उद्योग में इस घटक को "एटमाइजार" कहा जाता है। एटमाइजार तीन से छः महीनों तक (औसतन) चला करते हैं और इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट के साथ जुड़े प्रतिस्थापन आवर्ती खर्चों में यह भी एक है। कुछ मॉडलों में एटमाइजर और एक भरे हुए डिस्पोजेबल घटक को संयुक्त रूप से रखा जाता है, इसे "कार्टोमाइजर" कहते हैं।

बैटरी और इलेक्ट्रॉनिक्स[संपादित करें]

यूएसबी चार्जर से जुड़ी एक इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट बैटरी.

तापक तत्व को ऊर्जा देने के लिए अधिकांश इलेक्ट्रॉनिक सिगरेटों में एक लिथियम-आयन रिचार्जेबल बैटरी होती है। बैटरी के प्रकार और आकार, उसके उपयोग की बारंबारता और उसके कार्य करने के माहौल पर बैटरी के जीवन की अवधि निर्भर है। वॉल आउटलेट, कार और यूएसबी चार्जर जैसे अनेक प्रकार के बैटरी चार्जर उपलब्ध हैं। बैटरी आमतौर पर इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट का सबसे बड़ा घटक है।

कुछ इलेक्ट्रॉनिक सिगरेटों में कश लगाने पर खुद-ब-खुद तापक तत्व को सक्रिय करने के लिए एक इलेक्ट्रॉनिक वायु प्रवाह सेंसर होता है, जबकि अन्य मॉडलों में कश लगाते समय एक बटन दबाने की जरूरत पड़ती है। अन्य विभिन्न इलेक्ट्रॉनिक सर्किट भी आम तौर पर लगे होते हैं, जैसे कि अधिक गर्म होने से रोकने के लिए एक समयबद्ध कटऑफ़ स्विच और उपकरण के सक्रिय होने का संकेत तथा सिगरेट के अंतिम छोर में जलने की नकली चमक देने के लिए एक रंगीन एलईडी होती है।

परंपरागत रूप से, इलेक्ट्रॉनिक सिगरेटों में सक्रियण के लिए एक इलेक्ट्रॉनिक साधन का उपयोग किया जाता है। इसमें छोटे स्पर्शनीय बटन, वैक्यूम बटन और उन्हें चलाने के लिए संबंधित जरुरी तार तथा इलेक्ट्रॉनिक्स शामिल हैं। उपयोगकर्ताओं को जल्द ही पता चल गया कि ये अविश्वसनीय हो सकते हैं। "मोड्स" के आगमन के साथ, अनेक निर्माताओं ने ऐसे पूर्ण-यांत्रिक इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट बनाने शुरू किये जिनमें बटन की विश्वसनीयता को बेहतर बनाने के प्रयास में कोई तार, सोल्डर या इलेक्ट्रॉनिक्स के उपयोग को समाप्त कर दिया गया।

हालांकि कुछ बड़े इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट मॉडल उपयोगकर्ता द्वारा बदलने योग्य मानक आकार के बैटरी सेल लगे होते हैं, लेकिन एक मानक आकार के सेल के लिए अनेक मॉडल बहुत छोटे हुआ करते हैं और इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट निर्माता द्वारा बनाये गए एक स्वामित्व घटक की आवश्यकता होती है। उन मॉडलों में, बैटरी और इलेक्ट्रॉनिक उपकरण एक एकल बदलने योग्य (रिप्लेसेबल) हिस्सा रखा जाता है, जिसे आम तौर पर उद्योग में अब भी "बैटरी" ही कहा जाता है।

इस बाज़ार क्षेत्र में मोबाइल फोन बैटरी प्रौद्योगिकी के कार्यान्वयन के साथ हाल में कुछ विकास हुए हैं, इसके तहत पर्सनल चार्जिंग केस के नाम से ज्ञात एक क्रम्पल प्रूफ बॉक्स में इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट बैटरी को चार्ज करने की सुविधा दी गयी है। पर्सनल चार्जिंग केस के अंदर की रिचार्जेबल बैटरी को पेटी के भीतर ही बैटरी स्टेम्स को चार्ज करने और प्रतिस्थापन कार्टोमाइजार/कार्ट्रिज को रखने की भी सुविधा मिलती है। रिचार्जिंग बॉक्स/पेटी का आकार भी परंपरागत तंबाकू वाले सिगरेट के किसी पैकेट जैसा ही होता है।

निकोटीन और गैर-निकोटीन घोल[संपादित करें]

फिर से भरे जाने योग्य कार्ट्रिज में उपयोग के लिए अलग से बेचे जाने वाले निकोटीन घोल को कभी-कभी "ई-लिक्विड" या "ई-जूस" कहा जाता है और आमतौर पर सैकड़ों प्रकार के उपलब्ध स्वादों में से कुछ स्वाद उनमें हुआ करते हैं। उनमें प्रोपिलीन ग्लिकोल (पीजी) और/या वेजिटेबल ग्लिसरीन (ग्लिसरोल) या वीजी में घुले हुए निकोटीन होते हैं। पीजी और वीजी दोनों ही आम खाद्य योगज हैं। 1950 के दशक से जल-आधारित रासायनिक योगज के रूप में पीजी का उपयोग अस्थमा इन्हेलर और नेब्युलाइजर में होता आ रहा है, जिसके कोई ज्ञात गंभीर साइड इफेक्ट नहीं हैं। अपने जल-प्रतिधारण गुणों के कारण एटमाइज चिकित्सा के लिए पीजी चयन का यौगिक है। अमेरिकी खाद्य एवं औषधि प्रशासन (एफडीए)) ने जनरली रिकोगनाइज्ड ऐज सेफ (जीआरएएस) नामक पदार्थों की अपनी सूची में प्रोपिलीन ग्लिकोल को शामिल किया है और यह कोड ऑफ़ फेडरल रेगुलेशन के टाइटल 21 के अंतर्गत स्वीकार्य यौगिक आवश्यकताओं को पूरा करता है। अनेक वर्षों से व्यापक रूप से बिना किसी गंभीर साइड इफेक्ट के पीजी के हो रहे इस्तेमाल के मद्देनज़र कहा जा सकता है कि यह पदार्थ या सार चिंता का कारण नहीं है।

विभिन्न निकोटीन सांद्रता में भी घोल उपलब्ध हैं, ताकि उपयोगकर्ता सेवन किये जाने वाले निकोटीन की मात्रा खुद तय करे. शून्य निकोटीन, निम्न और मध्य स्तर की खुराकों (क्रमशः 6–8 मिग्रा/मिली और 10–14 मिग्रा/मिली) से लेकर ऊंची तथा बहुत ऊंची खुराकों (क्रमशः 16–18 मिग्रा/मिली और 24–36 मिग्रा/मिली) में सांद्रता के स्तर होते हैं। सांद्रता की दरें अक्सर ही ई-लिक्विड बोतलों या कार्ट्रिज पर छपी होती हैं, हालांकि मानक संकेत "मिग्रा/मिली" की जगह प्रायः महज "मिग्रा" लिखा होता है।[3]

पारंपरिक सिगरेट की किस्मों की तरह स्वाद के कुछ प्रकार तैयार किये गये हैं, जैसे कि नियमित तम्बाकू और मेंथोल; और कुछ ने विशिष्ट सिगरेट ब्रांडों की नकल के भी प्रयास किये हैं, जैसे कि मार्लबोरो या कैमल. फल और अन्य स्वाद भी उपलब्ध हैं, जैसे कि वेनिला, कैरामेल और कॉफी.

कुछ उपलब्ध विभिन्न तरल घोल के मेल नीचे दिए जा रहे हैं:[5]

पदार्थ विधि 1 विधि 2 विधि 3 विधि 4 विधि 5
प्रोपिलीन ग्लाइकोल 85% 80% 90% 80% <65%
निकोटीन 1.6% 2.4% 3.2% 0.1% <3%
ग्लिसरॉल 2% 5% - 5% <20%
तंबाकू के सार - 4% 4.5% 1% <5%
सार 2% - 1% 1% <5%
ऑर्गेनिक एसिड 1% - - 2% <1%
एंटी ऑक्सिडेशन एजेंट 1% - - - -
बुटिल वैलेरेट - 1% - - -
आइसोपेंटिल हेक्सोनेट - 1% - - -
लौरिल लौरेट - 0.6% - - -
बेंजाइल बेन्जोएट - 0.4% - - -
मिथाइल औक्टीनिकेट - 0–5% - - -
इथाइल हेप्टिलेट - 0.2% - - -
हेक्सिल हेक्सानोएट - 0.3% - - -
जेरानाइल बयुटिरेट - 2% - - -
मेन्थॉल - 0.5% - - -
साइट्रिक एसिड - 0.5% 2.5% - -
जल - - - 2.9% <10%
ऐल्कहॉल - - - 8% -
2,3,5-ट्रीमिथाइलपिराज़िन - - - - <1%
2,3,5,6-टेट्रामिथाइलपिराज़िन - - - - <1%
2,3-डिमिथाइलपिराज़िन - - - - <1%
एसिटाइलपाइराज़िन - - - - <1%
टर्पीनेवल - - - - <1%
इथाइल मैल्टोल - - - - <1%
गुईअकोल - - - - <1%
एसिटाइलपाइरिडाइन - - - - <1%
ऑक्टालैक्टोन - - - - <1%



चीन से सामान्य आयातित तम्बाकू स्वाद लिक्विड की सामग्री.

वैज्ञानिक नाम सीएएस (CAS) 6 मिलीग्राम कोर 11 मिलीग्राम कोर 16 मिलीग्राम कोर
मेगास्टिग्मैट्रिनन 13215-88-8 14.00% 14.00% 14.00%
बीटा-डैमसिनन 23696-85-7 12.00% 12.00% 12.00%
जी2 (G2)-एसिटाइलपाइराज़िन 22047-25-2 0.10% 0.10% 0.10%
2,5-डाइमिथाइल पाइराज़िन 123-32-0 0.20% 0.20% 0.20%
1,3-प्रोपेंडियोल 57-55-6 68.10% 67.60% 67.10%
एल-निकोटीन 54-11-5 0.60% 1.10% 1.60%
लिनालूल 11-05-54 5.00% 5.00% 5.00%


केमिकल ऐब्स्ट्रैक्ट सर्विस (सीएएस (CAS)) रजिस्ट्री नंबर्स

बाज़ार[संपादित करें]

अमेरिकी[संपादित करें]

खाद्य एवं औषधि प्रशासन (एफडीए) ने इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट को एक औषधि डिलीवरी उपकरण के रूप में वर्गीकृत किया है और इसकी बिक्री से पहले खाद्य, औषधि व प्रसाधन सामग्री अधिनियम (एफडीसीए) के तहत मंजूरी लेनी जरुरी है। जनवरी 2010 में, इस वर्गीकरण को एक संघीय न्यायाधीश ने पलट दिया गया था, लेकिन अपील करने पर न्यायाधीश लियोन के निर्णय को मार्च 2010 को लंबित निर्णय बनाते हुए स्थगनादेश जारी कर दिया गया। इसके बावजूद, अनेक इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट कंपनियां ऑनलाइन उभरीं. सितम्बर 2010 को, एफडीए ने घोषणा की कि ई-सिगरेट का विनियमन शुरू किया जाएगा, क्योंकि उनमें औषधि तथा औषधि डिलीवरी उपकरण दोनों ही होते हैं।[6] इस घोषणा के बाद, एफडीए ने "अप्रमाणित दावों और खराब निर्माण सहित संघीय खाद्य, औषधि व प्रसाधन सामग्री अधिनियम के उल्लंघन के सिलसिले में" पांच अमेरिकी कंपनियों के खिलाफ नियामक कार्रवाई शुरू की.[6] 23 सितम्बर 2010 को अपील अदालत ने मौखिक तर्क सुने. 7 दिसम्बर को, अपील अदालत ने 3-0 से सर्वसम्मत रूप से एफडीए के खिलाफ फैसला सुनाया, इस तरह दुनिया भर में इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट के विपणन का रास्ता साफ हो गया। अपील अदालत द्वारा निषेधाज्ञा पर फैसला करने से पहले न्यायाधीश लियोन के निर्णय को खंडित करने के मामले में एफडीए की स्थिति अवांछनीय हो गयी; और इस मामले के सिलसिले में जिला अदालत जाने के बजाय उसने इसे एन-ज्वॉय (NJoy) के साथ निपटा देने के बारे में सोचा और सार्वजनिक रूप से न्यायाधीश की फटकार खाने के बाद यह मामला समाप्त कर दिया गया। न्यायाधीश ने निर्णय दिया कि इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट तम्बाकू उत्पाद हैं और इसे नजरअंदाज किया गया है और न्यायाधीश ने पांच कंपनियों को एक चेतावनी पत्र जारी किया।

यूरोपीय[संपादित करें]

अप्रैल 2006 में, इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट यूरोप लाया गया और ऑस्ट्रिया में "रूयान" के विदेशी प्रोमोशन सम्मलेन में आधिकारिक रूप से इसे शुरू किया गया।[7] इसकी शुरूआत के बाद, इस उत्पाद को यूरोपीय बाजार के लिए अनुकूल बनाया गया और "इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट" के रूप में ब्रिटेन में विपणन किया जाने लगा. 2007 में, रायटर्स ने बीजिंग में एसबीटी रूयान का दौरा किया, जिससे इस प्रौद्योगिकी की ओर मीडिया का ध्यान आकर्षित हुआ। हाल में गठित इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट संघ के अध्यक्ष मैट साल्मोन के अनुसार ई-सिगरेट के उपयोगकर्ताओं की अनुमानित कुल संख्या अक्टूबर 2009 में 300,000 थी। सर्वेक्षण के परिणामों पर यह दावा आधारित है। साल्मोन का मानना है कि वास्तविक संख्या इससे कहीं अधिक हैं।[8]

स्वास्थ्य मसले[संपादित करें]

इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट के उपयोग के स्वास्थ्य पर पड़ने वाले प्रभाव फिलहाल अज्ञात हैं। निकोटीन वाष्प के कश लगाने से दीर्घावधि में पड़ने वाले प्रभावों को जानने के लिए कई अध्ययन फिलहाल जारी हैं।[9]

खाद्य एवं औषधि प्रशासन (यूएस)[संपादित करें]

मई 2009 में, अमेरिकी खाद्य एवं औषधि प्रशासन (एफडीए) के फार्मास्युटिकल विभाग ने दो निर्माताओं (एन ज्वॉय और स्मोकिंग एवरीव्हेयर) के इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट कार्ट्रिज की 19 किस्मों की सामग्री के परीक्षण किये.[10] स्मोकिंग एवरीव्हेयर के एक कार्ट्रिज में डाईथिलिन ग्लिकोल पाया गया।[10] इसके अलावा, एक ब्रांड के सभी कार्ट्रिज और एक अन्य ब्रांड के दो कार्ट्रिज में तम्बाकू-विशिष्ट नाईट्रोसेमाइंस (टी एस एन ए) पाए गए। अध्ययन में पाया गया कि निकोटीन का वास्तविक स्तर हमेशा बताए गए स्तर का नहीं होता.[10] विश्लेषण में निकोटीन-मुक्त कुछ कार्ट्रिज में भी निकोटीन के लक्षण पाए गए।[10] उपकरण में भरते समय निकोटीन की असंगत मात्रा डाले जाने पर भी चिंता व्यक्त की गयी।[11] जुलाई 2009 को, एफडीए ने इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट के प्रयोग को हतोत्साहित करते हुए एक प्रेस वक्तव्य जारी किया और पहले व्यक्त की गयी चिंता को दुहराते हुए कहा कि इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट युवाओं के बीच बेचे जा सकते हैं और उनमें सेहत संबंधी कोई चेतावनी भी नहीं होती है।[12]

एफडीए के अध्ययन की प्रतिक्रिया में इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट संघ ने कहा कि जांच "किसी वैध और विश्वसनीय निष्कर्ष में पहुंचने में बहुत ही सीमित है".[10] एफडीए द्वारा जांची गयी इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट पर एक निर्माता की अधिकृत रिपोर्ट पर जुलाई 2009 में वैज्ञानिक सलाहकार कंपनी एक्स्पोनेन्ट इंक द्वारा एफडीए के अध्ययन की समीक्षा की गयी। एक्स्पोनेन्ट की रिपोर्ट में निम्न दर्जे के दस्तावेजीकरण और विश्लेषण को लेकर कुछ आलोचनाएं की गयी हैं। एक्स्पोनेनेट ने पहले के अध्ययनों की ऐसी सूची बनायी जिनमें एफडीए-स्वीकृत निकोटीन प्रतिस्थापन थेरापी उत्पादों में टी एस एन ए स्तरों की जांच की गयी है और उन्हें एफडीए के अध्ययन में की गयी जांच के साथ तुलना की गयी और इलेक्ट्रॉनिक सिगरेटों के अपने विश्लेषण में एफडीए द्वारा ऐसे उत्पादों की तुलना नहीं किये जाने पर आपत्ति जाहिर की. अंततः समीक्षा ने निष्कर्ष निकाला है कि एफडीए का अध्ययन इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट के प्रयोग से संभावित स्वास्थ्य-संबंधी विपरीत प्रभावों के दावों की पुष्टि नहीं करता है।[13]

जन स्वास्थ्य चिकित्सकों का अमेरिकी संघ[संपादित करें]

जन स्वास्थ्य चिकित्सकों का अमेरिकी संघ (ए ए पी एच पी) इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट के समर्थन में सामने आ गया है। एएपीएचपी (AAPHP) ने एफडीए द्वारा इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट को एक तंबाकू उत्पाद (एक औषधि/उपकरण संयोजन के विरोध के रूप में) घोषित करने को फिर से वर्गीकृत करने की की सिफारिश की है और उसका मानना है कि इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट का उपयोग करके पुराने धूम्रपान के प्रभावों को उल्लेखनीय रूप से कम किया जा सकेगा.[14][15]

स्वास्थ्य कनाडा[संपादित करें]

27 मार्च 2009 को, स्वास्थ्य कनाडा ने इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट के खिलाफ एक सलाह जारी की. सलाह में कहा गया "हालांकि ये इलेक्ट्रॉनिक धूम्रपान उत्पाद पारंपरिक तम्बाकू उत्पादों के एक सुरक्षित विकल्प के रूप में बेचे जा रहे हो सकते हैं, लेकिन कुछ मामलों में, धूम्रपान छुडाने में एक मददगार के रूप में, इलेक्ट्रॉनिक धूम्रपान उत्पाद से निकोटीन विषाक्तता और लत लगने जैसे जोखिम आ सकते हैं।[16]

विश्व स्वास्थ्य संगठन[संपादित करें]

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने सितंबर 2008 में घोषणा की कि उसे नहीं लगता कि धूम्रपान की आदत छुडाने में इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट कोई तर्कसंगत उपाय है और उसने इसके विपणनकर्ताओं से मांग की कि वे अपनी सामग्री से ऐसी कोई भी सलाह हटा दें कि वि.स्वा.सं. इलेक्ट्रॉनिक सिगरेटों को सुरक्षित और प्रभावकारी मानता है।[17] वि.स्वा.सं. का कहना है कि उसकी जानकारी में "सुरक्षित और प्रभावकारी निकोटीन प्रतिस्थापन चिकित्सा के रूप में इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट को स्थापित करने के लिए कोई सख्त, विशेषज्ञ-शोध अध्ययन नहीं हुए हैं। वि.स्वा.सं. इस संभावना को नहीं नकारता है कि सिगरेट छुडाने में इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट एक मददगार हो सकता है।" वि.स्वा.सं. के तम्बाकू मुक्त पहल के अस्थायी निदेशक डगलस बेचर का कहना है, "अगर इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट के विपणनकर्ता धूम्रपान की लत छुडाना चाहते हैं तो उन्हें नैदानिक अध्ययन और विषाक्तता विश्लेषण करने की जरूरत है और उन्हें उचित नियामक ढांचे के अंतर्गत काम करना चाहिए. जब तक वे ऐसा नहीं करते हैं तब तक वि.स्वा.सं. इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट को एक उपयुक्त निकोटीन प्रतिस्थापन चिकित्सा के रूप में नहीं मान सकता और निश्चित तौर पर यह इस गलत सलाह को स्वीकार नहीं कर सकता कि इसने इस उत्पाद को समर्थन दिया है।"

2010 में उरुग्वे में तम्बाकू विनियमन आयोजित बैठक में इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट के बारे में नकारात्मक चेतावनी देने के लिए भारी दबाव बनाये गए। यह दबाव मुख्यतः इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट को प्रतिबंधित करने के लिए समझौता करने वाले देशों - कनाडा, ब्राजिल, थाईलैंड, हांगकांग और सऊदी अरब - की ओर से आया।

बैठक के सचिवालय ने इससे इनकार कर दिया और कहा कि इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट तंबाकू नियंत्रण के ढांचे से संबंधित कम्पोजिशन (COMPOSITION) (विषाक्त पदार्थों, कैंसरकारी तत्व, खुद को नुकसान पहुंचाने) या एमिशंस (EMISSIONS) (दूसरे व्यक्ति पर धूम्रपान के प्रभाव या अन्य लोगों को नुकसान) की धारा 9 लेख और 10 का उल्लंघन नहीं करते. सचिवालय ने कहा कि इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट से संबंधित समस्याएं विनियामक मुद्दों से जुडी हैं, न कि सम्मेलन को सौंपे गये कामों से. ज्ञापन में उन्होंने यह भी कहा कि वे चिकित्सा उत्पादों पर विचार कर सकते हैं सिर्फ तभी जब अगर तम्बाकू उत्पाद को विपणनकर्ता चिकित्सा-संबंधी बनाने का दावा करते हैं।

स्वास्थ्य न्यूजीलैंड लिमिटेड के अध्ययन[संपादित करें]

2008 में, स्वास्थ्य न्यूजीलैंड के डॉ॰ मूर्रे लुगेसेन ने रूयान इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट कार्ट्रिज की सुरक्षा पर एक रिपोर्ट प्रकाशित की. रूयान ने अनुसंधान के लिए धन दिया, लेकिन डॉ॰ लुगेसेन और वि.स्वा.सं. ने शोध के स्वतंत्र होने का दावा किया।[18] विश्लेषण में कार्ट्रिज में टीएसएनए की मात्रा की मौजूदगी का जिक्र किया गया। परिणाम में यह भी संकेत दिया गया कि इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट कार्ट्रिज में निकोटीन के स्तर निकोटीन पैच में पाए जाने वाली निकोटीन की सघनता से अलग नहीं हैं।[18] ब्रिटेन के नॉटिंघम विश्वविद्यालय के फेफड़ों के विशेषज्ञ और रॉयल कॉलेज के चिकित्सकों के तम्बाकू सलाहकार समूह के अध्यक्ष जॉन ब्रिटन ने कहा, "अगर निकोटीन प्रतिस्थापन चिकित्सा की तरह ही निकोटीन के स्तर में कमी आती है, तो मुझे नहीं लगता कि कोई बड़ी समस्या आएगी."[18] अध्ययन ने विस्तृत मात्रात्मक विश्लेषण किया और निष्कर्ष निकाला कि हानिकारक स्तरों के नीचे ही कैंसरकारी तथा विषाक्तता मौजूद होती हैं। सुरक्षा रिपोर्ट का अंतिम निष्कर्ष है: "निर्माता की सूचना के आधार पर, अगर नियत रूप से प्रयोग किया जाय, तो कार्ट्रिज के तरल की संरचना स्वास्थ्य के लिए खतरनाक नहीं है।"[19]

बोस्टन विश्वविद्यालय स्कूल का सार्वजनिक स्वास्थ्य अध्ययन[संपादित करें]

सार्वजनिक स्वास्थ्य के बोस्टन विश्वविद्यालय स्कूल के शोधकर्ताओं द्वारा 2010 में किये एक अध्ययन का निष्कर्ष है कि असली सिगरेटों की तुलना में इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट सुरक्षित होती हैं और धूम्रपान छुडाने में मददगार हो सकती हैं। शोधकर्ताओं ने कहा कि इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट पर आगे के अध्ययन की जरूरत है और "अगर इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट में रसायनों के स्तर पाए जाते हैं तो इससे गंभीर स्वास्थ्य चिंताएं पैदा होंगी." इलेक्ट्रॉनिक सिगरेटों को परंपरागत तम्बाकू सिगरेटों की तुलना में "अधिक सुरक्षित" पाया गया है और इनमें मौजूदा निकोटीन प्रतिस्थापनों जितना ही विषाक्तता का स्तर होता है।[20]{1/{2/}

रिपोर्ट में कहा गया है कि इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट में कैंसरकारी तत्व नियमित सिगरेट की तुलना में हज़ार गुना कम पाए गये। यह भी कहा है कि प्रारंभिक प्रमाणों से पता चलता है कि तम्बाकू वाले सिगरेटों की नक़ल के जरिये इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट धूम्रपान छुडाने में मददगार हो सकती हैं।[20][21]

न्यूयार्क[संपादित करें]

न्यूयॉर्क इस पर राज्यव्यापी प्रतिबंध लगाने पर विचार कर रहा है क्योंकि कुछ स्वास्थ्य अधिकारियों का कहना है कि ई-सिगरेट बस एक अन्य नशे की लत है, इस कानूनी धूम्रपान की आदत बच्चों को जल्दी लग सकती है। इसके अलावा यह मुख्य रूप से सार्वजनिक सुरक्षा से संबंधित है। लेकिन कुछ पैरोकारों[कौन?] का कहना है कि अधिक सुरक्षित रूप से धूम्रपान छोड़ने से पहले उन्हें छोड़ दिया जा सकेगा. कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय के वैज्ञानिक बर्कले ने कहा कि धूम्रपान और इससे संबंधित बीमारी और मृत्यु दर को कम करने में ई- सिगरेट में बहुत संभावना है।[22]

नुकसान में कमी[संपादित करें]

निर्माताओं का दावा है कि इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट धूम्रपान का एक सुरक्षित विकल्प है, क्योंकि पारंपरिक सिगरेट में तम्बाकू के दहन से पैदा होने वाली अधिकांश हानिकारक सामग्री इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट के एटमाइज्ड तरल में मौजूद नहीं होती. कैंसरजनक तत्व नहीं होने के कारण इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट को सुरक्षित बताने के दावे के बावजूद निर्माता अपने उत्पादों में चेतावनी छापा करते हैं क्योंकि उनमें निकोटीन हुआ करती है।

कैंसर रिसर्च यूके के अनुसार, धूम्रपान करने वाले के लिए, धूम्रपान जारी रखने के स्वास्थ्य संबंधी खतरे निकोटीन प्रतिस्थापन चिकित्सा के प्रयोग के किसी भी संभावित जोखिम से कहीं अधिक बड़े होते हैं।[23] इस पर ध्यान दिया जाना जरुरी हो सकता है कि हालांकि किसी निकोट्रोल इन्हेलर की ही तरह कथित रूप से इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट उपयोगकर्ता को निकोटीन देती है, लेकिन अब तक किसी भी इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट को औषधीय एनआरटी (NRT) उत्पाद के रूप में अनुमोदित नहीं किया गया है या ऐसे अनुमोदन के लिए जरुरी नैदानिक परीक्षण उपलब्ध किया गया है। इसके अलावा, शक किये जा रहे हैं कि इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट क्या सचमुच में निकोटीन की पर्याप्त मात्रा प्रदान करती हैं।[24]

नियमित रूप से तम्बाकू पीने वालों की इच्छा में कमी लाने के लिए इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट के उपयोग के प्रभावों पर ईस्ट लंदन विश्वविद्यालय में एक शोध किया गया, जिसमें निकोटीन युक्त वाष्प का कश लगाने वालों और बिना निकोटीन के वाष्प का कश लगाने वालों के बीच कोई उल्लेखनीय फर्क नहीं पाया गया। रिपोर्ट में निष्कर्ष निकाला गया कि हालांकि इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट निकोटीन से संबंधित लक्षण कम करने में प्रभावी हो सकता है, लेकिन निकोटीन की सामग्री केंद्रीय महत्व की प्रतीत नहीं होती है और यह कि अन्य धूम्रपान संबंधित संकेत (जसे कि स्वाद, धूम्रपान जैसी भाप) अल्पावधि में तम्बाकू से परहेज से जुड़े कष्ट में कमी लाने में मददगार हो सकते हैं।[25]

हालांकि निर्माता निकोटीन की लत में कमी लाने के एक उपाय के रूप में इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट का विपणन करते हैं,[26] लेकिन अंतरराष्ट्रीय स्वास्थ्य संगठनों का कहना है कि विरत उपकरण के रूप में उनका विपणन नहीं किया जा सकता.[17] इन उत्पादों के स्वास्थ्य प्रभावों के संबंध में अनेक नियामक एजेंसियों ने चेतावनी जारी की है। हाल ही में गठित इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट संघ ने इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट कंपनियों द्वारा किये जाने वाले अपुष्ट दावों को हटा देने का निर्णय किया है और जो कंपनियां इस संघ में शामिल होने की इच्छुक हैं, उन्हें ऐसे दावों से दूर रहने पर सहमत होना होगा। [27][28] 303 धूम्रपान करने वालों के बीच नवम्बर 2009 से किये गये ऑनलाइन सर्वेक्षण में तम्बाकू वाले सिगरेट के विकल्प के रूप में ई-सिगरेट के उपयोग से, परंपरागत सिगरेट पीने की तुलना में पायी जाने वाली स्वास्थ्य-संबंधी समस्याओं में कमी पायी गयी (खांसी में कमी, व्यायाम करने की अधिक क्षमता और स्वाद तथा गंध की बेहतर समझ).[29]

विभिन्न देशों में कानूनी स्थिति[संपादित करें]

प्रौद्योगिकी की सापेक्ष नवीनता और तंबाकू कानूनों तथा चिकित्सकीय औषधि नीतियों के संभाव्य संबंध के कारण अनेक देशों में इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट कानून और सार्वजनिक स्वास्थ्य की जांच फिलहाल लंबित हैं।

  • चीन में इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट की बिक्री और उपयोग कानूनी है।[30] हालांकि, तंबाकू वाले सिगरेट इतने सस्ते हैं कि अपेक्षाकृत बहुत कम चीनी ई-सिगरेट का उपयोग करते हैं।
  • ब्रिटेन में इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट बिक्री और उपयोग कानूनी है और अनेक पबों में उनकी बिक्री होती है और उनका उपयोग इनडोर में भी किया जा सकता है।
  • दक्षिण कोरिया में इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट की बिक्री और उपयोग कानूनी है, लेकिन इस पर भारी कर लगाया गया है।[31]
  • न्यूजीलैंड में, स्वास्थ्य मंत्रालय ने रूयान ई-सिगरेट को औषधि क़ानून की आवश्यकताओं के अंतर्गत रखा है और इसकी बिक्री पंजीकृत दवा के रूप में ही हो सकती है। रूयान ने पंजीकरण प्राप्त किया है और दवा दूकानों में फिलहाल इसकी बिक्री की अनुमति दी गई है।[3]
  • डेनमार्क में, डेनिश दवा एजेंसी ने निकोटीन युक्त इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट को औषधीय उत्पादों के रूप में वर्गीकृत किया है। इस प्रकार, इसके विपणन और बिक्री से पहले खुदरा व्यापारी को अनुमति लेने की जरूरत पड़ती है। हालांकि एजेंसी ने स्पष्ट किया है कि जो इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट उपयोगकर्ता को निकोटीन नहीं देतीं और बीमारी से बचाव या इलाज के लिए जिनका प्रयोग नहीं किया जाता है, उन्हें औषधीय उपकरण नहीं माना जाता है।[32] कोपेनहेगन हवाई अड्डे में इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट का उपयोग निषिद्ध नहीं है, लेकिन कम से कम एक एयरलाइन (स्कैंडिनेवियाई एयरलाइंस) ने अपनी उड़ानों में उनके उपयोग को प्रतिबंधित करने का फैसला किया है।[33]Jakob Kjær (2009-05-07). "Elsmøger smyger sig uden om rygeloven". Politiken.dk. Retrieved 2010-10-25. </ref>
  • नॉर्वे में इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट और निकोटीन निजी उपयोग के लिए सिर्फ अन्य ईईए-देश (जैसे कि ब्रिटेन) से आयातित की जा सकती है। यानी कि अन्य ईईए-देश में जिसकी अनुमति है, अपने-आप उसकी अनुमति सारे ईईए देशों में हो जाती है (नार्वे एक ईईए देश है, ईयू देश नहीं). इसीलिए, व्यक्तिगत उपयोग के लिए इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट यूरोपीय आर्थिक क्षेत्र (ईईए) के किसी भी देश से प्राप्त करने की अनुमति है।[34] फिलहाल, यूरोपीय संघ और इसके 27 सदस्यों के साथ-साथ आइसलैंड, लिचेंस्टीन और नॉर्वे इस ईईए समझौते के संबंधित पक्ष हैं। यूरोपीय आर्थिक क्षेत्र देखें
  • फिनलैंड में, जुलाई 2008 से, निकोटीन युक्त कार्ट्रिज की बिक्री या बिक्री के इरादे से खरीद गैर-कानूनी है, लेकिन निजी उपयोग के लिए विदेशी स्रोत से खरीदना अवैध नहीं है। "Finland E-cigarette ban>". [35] हालांकि, यूरोपीय आर्थिक क्षेत्र की सीमा के अंदर उत्पादों को प्राप्त करने की अनुमति है।
  • ऑस्ट्रेलिया में, "स्वास्थ्य व बुढ़ापा के संघीय विभाग के प्रवक्ता के अनुसार प्रतिस्थापन उपचार को छोड़कर निकोटीन के सभी रूपों और सिगरेट को जहर के रूप की तरह वर्गीकृत किया गया है।"[36][37] हालांकि, ऑस्ट्रेलिया के विक्टोरिया राज्य में, "एक चिकित्सीय सामग्री प्रशासन के एक प्रवक्ता ने कहा कि निजी इस्तेमाल के लिए इंटरनेट द्वारा इस तरह के उत्पादों के आयात (ई सिगरेट) को रोकने के लिए कोई क़ानून नहीं है, जब तक कि राज्य और क्षेत्र के कानून द्वारा इसे निषिद्ध नहीं कर दिया जाता."[38]
  • ब्राजील में किसी भी प्रकार के इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट की बिक्री, आयात या उनके विज्ञापन निषिद्ध हैं। ब्राजील के स्वास्थ्य और स्वच्छता संघीय एजेंसी अन्विसा ने ई-सिगरेट पर हाल ही में किये सुरक्षा आकलनों को अब तक इतना संतोषजनक नहीं पाया कि इस उत्पाद को बिक्री करने की अनुमति दी जा सके.[39]
  • कनाडा में, निकोटीन युक्त इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट के आयात, बिक्री और विज्ञापन पर प्रतिबंध है, हालांकि बिना निकोटीन के उत्पाद कानूनी हैं और उनकी बिक्री तथा विज्ञापन की अनुमति है। मार्च 2009 में, स्वास्थ्य कनाडा ने भी कनाडाई जनता को सलाह दी है कि वे किसी प्रकार के इलेक्ट्रॉनिक धूम्रपान उत्पाद को नहीं खरीदें या उनका इस्तेमाल ही करें. स्वास्थ्य कनाडा ने खाद्य व औषधि क़ानून का उल्लेख किया है, जिसमें कहा गया है कि निकोटीन युक्त इलेक्ट्रॉनिक धूम्रपान उत्पादों के आयात, विपणन या बिक्री के लिए विपणन अनुमति प्राप्त करने की जरूरत है। किसी भी इलेक्ट्रॉनिक धूम्रपान उत्पाद के लिए विपणन अनुमति प्रदान नहीं की गयी है।[16]
  • नीदरलैंड में, इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट के इस्तेमाल और बिक्री की अनुमति है, लेकिन विज्ञापन की मनाही है, जो कि यूरोपीय संघ क़ानून के तहत लंबित है।[40]
  • पनामा में, जून 2009 से इसके आयात, वितरण और बिक्री पर रोक लगी हुई है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने प्रतिबंध कारण के लिए एफडीए के निष्कर्षों का हवाला दिया है।[41]
  • सिंगापुर में, यहां तक की निजी खपत के लिए भी, इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट की बिक्री और आयात गैर कानूनी है। स्वास्थ्य मंत्री खाव बून वान के अनुसार, इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट उद्योग नए उपयोगकर्ताओं को आकर्षित करने का प्रयास कर रहा था और महिलाओं सहित युवा ग्राहकों को लुभाने के लिए विपणन कर रहा रहा था।[42]

यूरोपीय संघ[संपादित करें]

सामान्य उत्पाद सुरक्षा पर लागू होने वाला निर्देशक 2001/95/ईसी (6) अब तक जारी है और अन्य ईसी क़ानून में उसी उद्देश्य से कोई विशेष प्रावधान नहीं हैं। अगर उत्पाद को ग्राहकों के स्वास्थ्य व सुरक्षा के लिए खतरनाक पाया जाता है तो यह निदेशक प्रतिबंधक या निवारक उपाय मुहैया करता है।

ई-सिगरेट निदेशक 93/42/EEC के अंतर्गत आ सकता है या नहीं, यह चिकित्सा उपकरणों के इस्तेमाल के नियत दावे पर निर्भर करता है और इस पर निर्भर करता है कि यह नियत दावा चिकित्सा उद्देश्य के लिए है या नहीं. उत्पाद की सभी विशेषताओं को ध्यान में रखते हुए यह हरेक राष्ट्रीय सरकार को फैसला करना है कि यह अपने कार्य और प्रस्तुति द्वारा औषधीय उत्पाद की परिभाषा के तहत आता है या नहीं.[43]

संयुक्त राज्य अमेरिका[संपादित करें]

खाद्य एवं औषधि प्रशासन (एफडीए) ने इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट को औषधि देने वाले उपकरण के रूप में वर्गीकृत किया है और खाद्य, औषधि तथा प्रसाधन सामग्री क़ानून (एफ डी सी ए) के तहत इसका विनियमन जरुरी है। नतीजतन, देश में आयात और बिक्री करने से पहले उन्हें विपणन अनुमति की आवश्यकता होती है। इस वर्गीकरण को न्यायाधीश रिचर्ड जे. लियोन ने खारिज करते हुए कहा कि "इन उपकरणों को औषधि या चिकित्सा उपकरण के बजाय तम्बाकू उत्पादों के रूप में विनियमित किया जाना चाहिए".[44] लियोन ने आगे कहा, "यह मामला मनोरंजक तंबाकू उत्पादों को औषधि या उपकरणों के रूप में विनियमित करने के एफडीए के प्रयासों का एक और उदाहरण प्रतीत होता है". हालांकि, मार्च 2010 में, एक अमेरिकी अपील न्यायालय ने अपील पर सुनवाई होने तक के लिए निषेधाज्ञा जारी की. एफडीए ने तर्क दिया कि इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट को विनियमित करने का अधिकार, निकोटीन गम या पैचों को निकोटीन प्रतिस्थापन चिकित्साओं के रूप में विनियमित करने की पहले की उनकी क्षमता पर आधारित है। इसके अलावा, एजेंसी ने यह भी कहा कि पिछले साल लागू हुए तम्बाकू क़ानून में ऐसी कोई सामग्री जो एफ डी सी ए के तहत औषधि, उपकरण या मिश्रित उत्पाद की परिभाषा में आती है, उसे स्पष्ट रूप से अलग हटा दिया गया है और ऐसी सामग्रियों को पहले के एफ डी सी ए के प्रावधानों के तहत ही विनियमित किया जाना है।"[45] अपील अदालत ने 23 सितम्बर 2010 को मौखिक तर्क सुना. 7 दिसम्बर को अपील अदालत ने सर्वसम्मत 3-0 से एफडीए खिलाफ निर्णय किया।[तथ्य वांछित]

इसके अलावा, राज्यों ने तम्बाकू पर प्रभाव डालने वाली इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट पर रोक लगाने या उनकी पूरी बिक्री को ही प्रतिबंधित करने पर विचार करना शुरू कर दिया है। कैलिफोर्निया के राज्यपाल श्वार्ज़नेगर अर्नोल्ड ने राज्य के अंदर इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट पर प्रतिबंध लगाने वाले विधेयक पर इस आधार पर वीटो लगा दिया कि "अगर इसके साथ जुड़े सेहत संबंधी जोखिमों को समझते हुए कोई वयस्क इसे खरीदना और इसका उपयोग करना चाहे तो उसे उसे इसकी अनुमति मिलनी चाहिए."[46] इसके अलावा, न्यू जर्सी राज्य ने हाल ही में इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट को न्यू जर्सी स्मोक फ्री एयर एक्ट के तहत शामिल किए जाने मांग की है। न्यू जर्सी एसेंबली की महिला सदस्य कोनी वैगनर ने इसके लिए इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट की गंध को मुख्य रूप से कारण बताया है।[47] 22 सितम्बर 2009 को, पारिवारिक धूम्रपान निरोधक व तम्बाकू नियंत्रण क़ानून के तहत बच्चों पर इसके संभावित आकर्षण के कारण एफडीए ने फ्लेवर्ड तम्बाकू (मेंथल सिगरेट को छोड़कर) पर रोक लगा दी.[48] सुश्री वैगनर की सलाह है कि चॉकलेट जैसे स्वाद-गंध का उपयोग बचपन में ही सिगरेट पीने को प्रोत्साहित कर सकता है और सिगरेट के धूम्रपान के लिए दरवाजे खोल सकता है।[49] न्यू जर्सी के अलावा न्यू हैम्पशायर, न्यू यॉर्क और पेंसिल्वेनिया ने भी अलग-अलग तरीके का उपयोग कर इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट को प्रतिबंधित कराने की कोशिश शुरू कर दी है।

न्यू हैम्पशायर का सुधार अभियान अपने ही किस्म का एक अनोखा और अद्वितीय श्रेणी का है। न्यू हैम्पशायर में छात्रों के एक गुट, ने सांझे तौर पर एक ग्रुप बनाया है जो "ब्रीद न्यू हैम्पशायर" कहलाता है़. इस ग्रुप ने राज्य सरकार से नाबालिगों को इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट की बिक्री पर प्रतिबंध लगाने की अपील की है। जबकि नाबालिगों को इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट की बिक्री कानूनी मामला है, कुछ की चिंता यह है कि इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट सामान्य सिगरेट धूम्रपान के लिए रास्ता खोल देने का काम करेगी. एक किशोर जो कानूनी पचड़े में पड़ गया है, ने दावा किया कि उसके साथी इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट को "एक नया सेल फोन लिये जाने के रूप में देखते हैं। यह अच्छा है। यह इलेक्ट्रॉनिक है।"[50]

एरिजोना ने नाबालिगों को इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट बेचने पर प्रतिबंध की योजना बनाई है।[51]

वाशिंगटन राज्य में, किंग काउंटी बोर्ड के स्वास्थ्य विभाग ने सार्वजनिक स्थानों में इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट के धूम्रपान पर प्रतिबंध लगा दिया है और नाबालिगों को बिक्री किए जाने को भी निषिद्ध कर दिया है।[52]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • गलाऊ तंबाकू
  • अप्रत्य धूम्रपान
  • धूम्रपान पर प्रतिबंध
  • धूम्रपान का ठहराव
  • स्नस
  • हो (WHO)

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Paul Courson (2010-02-09). "Study: Electronic cigarettes dont deliver". CNN (Washington). http://www.cnn.com/2010/HEALTH/02/08/e.cigarette/?hpt=Sbin. अभिगमन तिथि: 2010-02-13. 
  2. अ हाई-टेक अप्रोच टू गेटिंग अ निकोटीन फिक्स, 25 अप्रैल 2009, लॉस एंजिल्स टाइम्स
  3. Health New Zealand (2007-10-17). "The Ruyan e-cigarette; Technical Information Sheet]". Health New Zealand. Retrieved 2008-03-31. 
  4. अधिक व्यापक सामग्री की सूची देखने के लिए अध्याय #निकोटीन समाधान देखें.
  5. Hon Lik (2004-03-08). "EP patent application 1618803: A flameless electronic atomizing cigarette". Patent granted 2008-12-03. Retrieved 2006-01-25. 
  6. इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट, एफडीए (FDA) समाचार एवं घटनाक्रम. 9 सितंबर 2010
  7. Ruyan official website (2006-04-02). "Ruyan history (2004-2007)". Ruyan official website. Retrieved 2009-11-05. 
  8. Ron Scherer (2009-10-17). "Electronic cigarettes: In need of FDA regulation?". The Christian Science Monitor. Retrieved 2010-02-02. 
  9. McLean, Mike. "A New Potential Market Lights Up". Retrieved 04 26 2010.  Check date values in: |access-date= (help)
  10. Zezima, Katie (2009-07-23). "Analysis Finds Toxic Substances in Electronic Cigarettes". दि न्यू यॉर्क टाइम्स. http://www.nytimes.com/2009/07/23/health/policy/23fda.html. अभिगमन तिथि: 04 26 2010. 
  11. FDA (2009-05-04). "Evaluation of e-cigarettes" (PDF). Food and Drug Administration (US) -center for drug evaluation and research. Retrieved 2009-05-04. 
  12. FDA (2009-07-22). "FDA and Public Health Experts Warn About Electronic Cigarettes". Food and Drug Administration (US). Retrieved 2009-07-22. 
  13. Janci Lindsay (2009-07-30). "Technical Review and Analysis of FDA Report: Evaluation of e-cigarettes" (PDF). Exponent Health Sciences. Retrieved 2009-07-30. 
  14. [एएपीएचपी (AAPHP) इ-सिगरेट पेटीशन टीपी एफडीए (FDA) –एक्शंस रिक्वेस्टेड जस्टिफिकेशन. http://www.aaphp.org/special/joelstobac/2010/Petition/20100207FDAPetitionSummary.pdf. 12-08-2010 को पुनःप्राप्त.]
  15. [एएपीएचपी (AAPHP)(07-02-2009). "तम्बाकू नियंत्रण टास्क फोर्स". http://www.aaphp.org/special/joelstobac/2010/Petition/20100207FDAPetition2.pdf. 12-08-2010 को पुनःप्राप्त.]
  16. Health Canada (2009-03-27). "Health Canada Advises Canadians Not to Use Electronic Cigarettes". Health Canada advisory. Retrieved 2009-03-27. 
  17. WHO news media center (2008-09-19). "Marketers of electronic cigarettes should halt unproved therapy claims". WHO Tobacco Free Initiative. Retrieved 2008-10-01. 
  18. Thomson, Helen. "iSmoke". Retrieved 04 26 2010.  Check date values in: |access-date= (help)
  19. Murray Laugesen (2008-10-30). "Safety Report on the Ruyan e-cigarette Cartridge and Inhaled Aerosol" (PDF). Health New Zealand Ltd. Retrieved 2008-10-30. 
  20. "Evidence suggests e-cigs safer than cigarettes, researcher claims". Physorg.com. Retrieved 2010-12-18. 
  21. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; autogenerated1 नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  22. http://www.dailymail.co.uk/health/article-1350381/E-cigarette-face-ban-unregulated-quit-smoking-device.html?ITO=1490
  23. Cancer research UK (2009-04-24). "Can nicotine gum cause mouth cancer". Retrieved 2010-04-25. 
  24. CNN (2010-02-09). "E-Cigarettes Don't Deliver". http://edition.cnn.com/2010/HEALTH/02/08/e.cigarette/index.html. 
  25. "Dawkins L, Kent T, Turner J", "The Electronic Cigarette: Acute Effects on Mood and Craving", [[{{{publisher}}}]], [[{{{date}}}]].
  26. Brooke Donovan (2008-02-27). "Fake aims to kill the urge to puff". The New Zealand Herald. Retrieved 2008-03-20. 
  27. Electronic Cigarette Association (2009-08-01). "Application for Business Membership in the ECA" (PDF). ECA located in Washington DC. Retrieved 2009-08-01. 
  28. Matt Salmon (2009-07-28). "ECA president response to FDA". Youtube. Retrieved 2009-08-01. 
  29. Heavner, Dunworth, Bergen, Nissen, Phillips (2009-11-26). "Results of an online survey of e-cigarette users" (PDF). Tobacco Harm Reduction (University of Alberta). Retrieved 2010-02-01. 
  30. इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट फोरम
  31. इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट फोरम
  32. Danish Medicines Agency (2009-03-09). "Classification of electronic cigarettes". Danish Medicines Agency. Retrieved 2010-02-22. 
  33. Jakob Kjær (2009-05-07). "Elsmøger smyger sig uden om rygeloven". Politiken.dk. Retrieved 2010-10-25. 
  34. "Prohibits Electronic Cigarette". 
  35. Helsingin Sanomat (2008-07-28). "Sähkötupakan myynti kiellettiin Suomessa". 
  36. Helen Parker and Chloe Lake (2009-01-19). "E-cigarettes being sold online". News.com.au. Archived from the original on 2012-09-03. https://archive.is/wH2k. अभिगमन तिथि: 2009-01-19. 
  37. Therapeutic Goods Administration (2008-10-15). "National Drugs and Poisons Schedule Committee -record of reasons of meeting 54" (PDF). Australian Government Department of_Health and Ageing Therapeutic Goods Administration: NDPSC document (chapter 12.1.3 at p.126-144). Archived from the original (PDF) on 2009-06-15. Retrieved 2009-05-13. 
  38. Stark, Jill (2010-12-12). "Banned e-cigarettes may be a health hazard, but buying them's a wheeze". theage.com.au. Retrieved 2010-12-17. 
  39. Neri Vitor Eich (2009-08-31). "ANVISA proibe comercializacao do cigarro eletronico". Estado.com.br. Retrieved 2009-11-15. 
  40. Dutch Ministry of Health, Welfare and Sport (2008-01-28). "Health minister seeks European consensus on e-cigarette". MinVWS.nl. Retrieved 2008-03-20. 
  41. Yaritza Gricel Mojica (2009-10-22). "Advierten sobre cigarrillos con veneno". Prensa.com (Panama). Retrieved 2010-01-20. 
  42. Janice Heng (2010-07-20). "Ban on new tobacco products". The Straits Times. Retrieved 2011-01-13. 
  43. "Orientation Note: Electronic Cigarettes and the EC Legislation" (PDF). Retrieved 2010-12-18. 
  44. "FDA Fighting for Authority to Regulate Electronic Cigarette". 2010-03-02. http://www.aafp.org/online/en/home/publications/news-now/health-of-the-public/20100302e-cig-fda.html. 
  45. "AAFP.org". AAFP.org. Retrieved 2010-12-18. 
  46. Arnold Schwarzenegger (2009-10-12). "SB 400 Senate Bill -Veto". California State Senate. Retrieved 2009-11-04. 
  47. Livio, Susan K. (7 दिसम्बर 2009). "N. J. Assembly Approves E-Cigarette Ban". North Jersey Star.  Check date values in: |date= (help)
  48. U.S. Food and Drug Administration (15 जनवरी 2010). "Flavored Tobacco".  Check date values in: |date= (help)
  49. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; U.S._Food_and_Drug_Administration_2010 नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  50. Marconi, Michael (2 फ़रवरी 2010). "Senator's bill aims to keep electronic cigarettes away from kids".  Check date values in: |date= (help)
  51. "Azleg.gov". Azleg.gov. Retrieved 2010-12-18. 
  52. "King County bans electronic cigarettes". 16 दिसम्बर 2010.  Check date values in: |date= (help)

इलेक्ट्रानिक सिगरेट एस अ क्विटिंग ऑप्शन ने अध्ययन (सार्वजनिक स्वास्थ्य के बॉस्टन विश्वविद्यालय स्कूल और कैलिफोर्निया के विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित) का समर्थन किया।