ईथरनेट

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
कैट-5 केबल पर अधिक प्रयोग किया जाने वाला, एक मानक 8P8C (प्रायः RJ45 कहलाता है) कनेक्टर, मुख्य रूप से ईथरनेट नेटवर्क में प्रयोग किया जाने वाला केबल।

ईथरनेट, लोकल एरिया नेटवर्क तैयार करने का एक प्रोटोकॉल होता है। यह १९७० के आरंभिक दशक से चली आ रही विश्वसनीय नेटवर्किग उपलब्ध कराने वाली सेवा है। इसकी अभिकल्पना १९७३ में बॉब मेटकॉफ ने की थी। बाद में डिजिटल, इंटेल और जेरॉक्स के प्रयासों से यह लोकल एरिया नेटवर्क का एक मानक प्रतिरूप बन गया। ईथरनेट केबलों के माध्यम से विस्तार किया जाता है। इसके केबल कई रूपों में उपलब्ध होते हैं।[1] इसमें CAT3, CAT5, CAT5ई और CAT6 सबसे अधिक प्रचलित हैं। इनकी डिजाइन इनके प्रयोग पर निर्भर होती है और इनकी कीमत गुणवत्ता के अनुसार बढ़ती जाती है। ईथरनेट केबिल का प्रयोग प्रायः उच्च-गति वाले कंप्यूटर नेटवर्क के लिए किया जाता है। साथ ही इसका प्रयोग ब्रॉडबैंड के लिए भी होता है। कंप्यूटर के साथ लैन/ईथरनेट को जोड़ने के लिए कंप्यूटर में ईथरनेट कार्ड की आवश्यकता पड़ती है।

एक लोकल एरिया नेटवर्क में कुछ आवश्यक चीजें होती हैं, जैसे, दो या दो से अधिक कंप्यूटर, जो नेटवर्क से जुड़े हों, हर कंप्यूटर में एक नेटवर्क इंटरफेस कार्ड, कंप्यूटर को जोड़ने के लिए एक ईथरनेट केबिल, नेटवर्क यातायात को निर्देशित करने के लिए एक नेटवर्किंग हब और समर्थक सॉफ्टवेयर। नेटवर्क इंटरफेस कार्ड को हर कंप्यूटर में लगाकर इसे एक विशेष एड्रेस आवंटित किया जाता है। हर इंटरफेस कार्ड एक ईथरनेट केबिल के माध्यम से केन्द्रीय हब से जुड़ा होता है। इस हब में लोकल एरिया नेटवर्क के सारे डाटा को प्राप्त और पुनर्निर्देशित किया जाता है। इस तरह ईथरनेट, आंकड़ों के संग्रह, उनकी शेयरिंग के साथ ही प्रिंटर्स, फैक्स मशीन और स्कैनर के पूरे सिस्टम का समूह तैयार करता है।

१९९० के दशक का एक नेटवर्क इंटरफेस कार्ड। यह एक संयोजन कार्ड (कॉम्बिनेशन) है जो दोनों, समाक्षीय-आधारित, 10BASE2 के प्रयोग से (कनेक्टर BNC, बाएं) और ट्विस्टेड-पेयर आधारित 10BASE-T, RJ45 का उपयोग कर (8P8C मॉड्यूलर योजक, दाहिना), पर कार्य करता है।

ईथरनेट प्रणाली का विस्तार करने हेतु तारों का बड़ा जंजाल फैला होता है। इन तारों को बड़े ही व्यवस्थित ढंग से स्रोत से गंतव्य तक पहुंचाना होता है, जिससे कि किसी समस्या के समय तारों की पहचान हो सके साथ ही सुधार भी संभव हो। इस समस्या से निबटने हेतु बेतार ईथरनेट भी प्रचलन में आ गये हैं जिनमें वेव का प्रयोग किया जाता है। इसमें वायरलेस नेटवर्क इंटरफेस कार्ड का प्रयोग होता है, जिसमें एक एंटीना लगा होता है। ये नेटवर्क अपेक्षाकृत अधिक मजबूत होता है लेकिन इसमें अतिरिक्त सुरक्षा की आवश्यकता होती है, क्योंकि तारों को तो किन्हीं निश्चित कंप्यूटरों से जोड़ा जा सकता है, किन्तु जब सारा डाटा बेतार वातावरण में उपलब्ध हो तो कोई भी कंप्यूटर इसे प्राप्त कर सकता है। अतः इसके लिये पासकी आदि कूटशब्दों का प्रयोग किया जाता है। ईथरनेट के विकल्प के रूप में आईबीएम के तैयार किए गए प्रोटोकॉल और एटीएम (तुल्यकालिक स्थानांतरण माध्यम/एसाइनोक्रोनस ट्रांसफर मोड) तकनीक का भी प्रयोग किया जा सकता है।[1]

इतिहास[संपादित करें]

ईथरनेट को १९७३ और १९७४ के बीच ज़ेरॉक्स PARC में विकसित किया गया था। यह ALOHAnet से प्रेरित था, जिसे रॉबर्ट मेटकाफ ने अपने पीएचडी शोध प्रबंध के रूप में अध्ययन किया था। इस विचार को पहली बार एक मेमो में प्रलेखित किया गया था, जिसे मेटकाफ ने २२ मई, १९७३ को लिखा था, जहां उन्होंने ल्यूमिफ़ेरस एथर के नाम पर एक बार "विद्युत चुम्बकीय तरंगों के प्रसार के लिए" सर्वव्यापी, पूरी तरह से निष्क्रिय माध्यम के रूप में अस्तित्व में लाने के लिए इसका नाम दिया था।

१९७५ में, ज़ेरॉक्स ने एक पेटेंट आवेदन दर्ज किया जिसमे मेटकाफ, डेविड बोग्स, चक थाकर, और बटलर लैम्पसन को आविष्कारक बताया। १९७६ में, PARC में ईथरनेट सिस्टम के लगाने के बाद, मेटकाफ और बोग्स ने तत्कालीन घटनाक्रमों को प्रभावित करने वाला पेपर प्रकाशित किया। इसके बाद योजेन दलाल, रॉन क्रेन, बॉब गार्नर और रॉय ओगस ने मूल २.९ ४ मेगा बिट प्रति सेकंड वाले ईथरनेट को १० मेगा बिट प्रति सेकंड वाले ईथरनेट प्रोटोकॉल में परिवर्तित किया, जिसे १९८० में बाजार में जारी किया गया था।

मेटकाफ़ ने जून 1979 में ज़ेरॉक्स छोड़ कर 3Com के स्थापना की। उन्होंने ईथरनेट को मानक के रूप में स्थापित करने के लिए डिजिटल उपकरण निगम (DEC), इंटेल और ज़ेरॉक्स को आश्वस्त किया। उस प्रक्रिया के हिस्से के रूप में ज़ेरॉक्स अपने 'ईथरनेट' ट्रेडमार्क को त्यागने के लिए सहमत हुए। पहला मानक ३० सितंबर, १९८० को "द ईथरनेट, ए लोकल एरिया नेटवर्क। डेटा लिंक लेयर एंड फिजिकल लेयर स्पेसिफिकेशन" के रूप में प्रकाशित किया गया था। यह तथाकथित DIX मानक (डिजिटल इंटेल ज़ेरॉक्स) ने १० मेगा गीत प्रति सेकंड ईथरनेट को निर्दिष्ट किया, जिसमें ४८-बिट गंतव्य और स्रोत पता और एक वैश्विक १६-बिट ईथर-टाइप फ़ील्ड है। इसका दूसरा संस्करण नवंबर 1982, में प्रकाशित किया तह था जो कि ईथरनेट II के रूप में जाना जाता है। औपचारिक मानकीकरण के प्रयास उसी समय आगे बढ़ा और परिणामस्वरूप 23 जून, 1983 को IEEE 802.3 का प्रकाशन हुआ।

ईथरनेट प्रोटोकॉल को शुरुआत में "टोकन रिंग" और अन्य मालिकाना प्रोटोकॉल से प्रतिस्पर्धा की। ईथरनेट को बाजार की वास्तविकताओं के अनुकूल सस्ती पतली "समाक्षीय केबल" और फिर सर्वव्यापी "दोहरी तारों" द्वारा संचार करने में सक्षम बहाया गया था। १९८० दशक के अंत तक, ईथरनेट स्पष्ट रूप से प्रभावी नेटवर्क तकनीक था। इस प्रक्रिया में, 3Com एक प्रमुख कंपनी बन गई। 3Com ने अपना पहला १० मेगा बिट प्रति सेकंड ईथरनेट 3C100 NIC मार्च 1981 में जारी किया, और उसी साल PDP-11 और VAX और साथ ही मल्टीबस-आधारित इंटेल और सन माइक्रोसिस्टम्स कंप्यूटरों के लिए ईथरनेट एडेप्टर की बिक्री शुरू कर दी। DEC का यूनीबस टु ईथरनेट एडेप्टर, जिसने DEC ने अपना कॉर्पोरेट नेटवर्क बनाने के लिए आंतरिक रूप से इस्तेमाल किया, जिस से की 1986 तक ये नेटवर्क 10,000 नोड्स तक पहुंच गया, जिससे यह उस समय दुनिया के सबसे बड़े कंप्यूटर नेटवर्क में से एक माना गया।

IBM पीसी के लिए ईथरनेट एडेप्टर कार्ड 1982 में जारी किया गया था, और 1985 तक, 3Com ने 100,000 ईथरनेट एडेप्टर कार्ड बेच दिया था। समानांतर पोर्ट आधारित ईथरनेट एडेप्टर एक समय के लिए उत्पादित किए गए थे, जिसमें डॉस और विंडोज के लिए ड्राइवर थे। 1990 के दशक के प्रारंभ में, ईथरनेट इतना प्रचलित हो गया कि आधुनिक कंप्यूटर के लिए यह एक अनिवार्य आवश्यकता बन गयी, और कुछ पीसी और अधिकांश वर्कस्टेशन पर ईथरनेट पोर्ट दिखाई देने लगे। इस प्रक्रिया को 10BASE-T के अपेक्षाकृत छोटे मॉड्यूलर कनेक्टर से काफी विस्तार मिला ।

मानकीकरण[संपादित करें]

फरवरी 1980 में, इंस्टीट्यूट ऑफ इलेक्ट्रिकल एंड इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियर्स (IEEE) ने स्थानीय क्षेत्र नेटवर्क (लोकल एरिया नेटवर्क (LAN)) को मानकीकृत करने के लिए 802 प्रोजेक्ट शुरू किया। गैरी रॉबिन्सन (DEC), फिल आर्स्ट (इंटेल), और बॉब प्रिंटिस (ज़ेरॉक्स) के साथ "डीआईएक्स-समूह" ने तथाकथित "ब्लू बुक" सीएसएमए / सीडी (CSMA / CD) विनिर्देश को लैन विनिर्देशन के लिए एक उम्मीदवार के रूप में प्रस्तुत किया। CSMA / CD के अलावा, टोकन रिंग (आईबीएम द्वारा समर्थित) और टोकन बस (जनरल मोटर्स द्वारा चयनित और उसके बाद समर्थित) को भी LAN मानक के लिए उम्मीदवार माना जाता था। पहल करने के प्रस्तावों और व्यापक रुचि के कारण इस तकनीक के मानकीकरण के लिए मजबूत असहमति हुई। दिसंबर 1980 में, समूह को तीन उपसमूहों में विभाजित किया गया था, और मानकीकरण प्रत्येक प्रस्ताव के लिए अलग से आगे बढ़ा।

मानक प्रक्रिया में देरी ने ज़ेरॉक्स स्टार वर्कस्टेशन और 3Com के ईथरनेट लैन उत्पादों को बाजार में लाना जोखिम में डाल दिया था। इस तरह के व्यावसायिक निहितार्थ के साथ, डेविड लेडल (महाप्रबंधक, ज़ेरॉक्स ऑफिस सिस्टम्स) और मेटकाफ़ (3Com) ने फ्रिट्ज़ रोशसेन (सीमेंस प्राइवेट नेटवर्क) के "कार्यालय संचार उपकरण" गठबंधन स्थापित करने के प्रस्ताव का समर्थन किया। इसके साथ सीमेंस का सहयोग भी ईथरनेट का मानकीकरण के लिए मिला (10 अप्रैल, 1981)। सीमेंस के IEEE 802 में प्रतिनिधि, इंग्रिड फ्रॉम, यूरोपीय मानकों के निकाय ECMA TC24 के भीतर एक प्रतिस्पर्धी कार्य समूह "स्थानीय नेटवर्क (लोकल नेटवर्क्स)" की स्थापना द्वारा IEEE से परे ईथरनेट के लिए व्यापक समर्थन प्राप्त किया। मार्च 1982 को, ECMA TC24 ने अपने कॉर्पोरेट सदस्यों के साथ IEEE 802 ड्राफ्ट पर आधारित CSMA / CD के लिए एक मानक पर एक समझौता किया। DIX प्रस्ताव तकनीकी रूप से पूर्ण था और ECMA द्वारा की गई त्वरित कार्रवाई के कारण, जिसने निर्णायक रूप से IEEE के भीतर राय में योगदान दिया था, IEEE 802.3 CSMA / CD मानक को दिसंबर 1982 में अनुमोदित किया गया था।IEEE ने 1983 में मसौदे के रूप में 802.3 मानक और 1985 में एक मानक के रूप में प्रकाशित किया।

अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर ईथरनेट के अनुमोदन से एक समान, क्रॉस-पक्षपातपूर्ण कार्रवाई से प्राप्त किया गया था, जैसा कि अंतर्राष्ट्रीय इलेक्ट्रोटेक्निकल कमीशन (IEC) तकनीकी समिति 83 (TC83) और मानकीकरण के लिए अंतर्राष्ट्रीय संगठन (ISO) तकनीकी समिति 97 के साथ काम करने वाले संपर्क अधिकारी के रूप में है। उप समिति 6 (TC97SC6)। आईएसओ 8802-3 मानक 1989 में प्रकाशित हुआ था।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. ईथरनेट|हिन्दुस्तान लाइव। ७ जून २०१०

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]