आहार सम्बंधी विकार

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भोजन विकारों एक व्यक्ति की शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य की हानि के लिए अपर्याप्त या अत्यधिक भोजन के सेवन या तो शामिल हो सकता है। असामान्य खाने की आदतों से परिभाषित मनोवैज्ञानिक बीमारियों हो सकती हैं। बुलिमिया आभाव और एनोरेक्सिया नर्वोसा खाने विकारों का सबसे आम विशिष्ट प्रकार के होते हैं। विकारों खाने के अन्य प्रकार के द्वि घातुमान विकार शामिल हैं।

बुलिमिया द्वि घातुमान खाने और मिटाने द्वारा विशेषता विकार है। शुद्धीकरण स्व-प्रेरित पर कसरत उल्टी, और मूत्रल, एनीमा, और जुलाब का उपयोग शामिल कर सकते हैं। एनोरेक्सिया नर्वोसा आत्म भुखमरी और अत्यधिक वजन घटाने के मुद्दे पर चरम खाद्य प्रतिबंध के द्वारा होती है। अत्यधिक वजन घटाने अक्सर कुछ हालांकि महिलाओं और मासिक धर्म होने को रोकने के लिए मासिक धर्म शुरू कर दिया है, जो लड़कियों, रजोरोध के रूप में जाना जाता हालत का कारण बनता है। एनोरेक्सिया नर्वोसा के लिए अन्य डीएसएम – ५ मानदंडों को पूरा महिलाओं को जो अभी भी कुछ मासिक धर्म गतिविधि की रिपोर्ट पाई गयी है। डीएसएम - ५ वर्तमान में एनोरेक्सिया नर्वोसा-सीमित प्रकार और द्वि घातुमान / शुद्ध प्रकार के दो उपप्रकार निर्दिष्ट करता है। एनोरेक्सिया नर्वोसा की सीमित प्रकार से पीड़ित जो लोग द्वि घातुमान / शुद्ध प्रकार पेट भर खाने से पीड़ित लोगों, जबकि कसरत पर- और / या मिटाने के कुछ विधि के माध्यम से क्षतिपूर्ति द्वारा कभी-कभी भोजन का सेवन सीमित द्वारा वजन कम है। एनोरेक्सिया के बीच का अंतर आभाव द्वि घातुमान / शुद्ध प्रकार और बुलिमिया आभाव एक व्यक्ति के शरीर का वजन है। बुलिमिया आभाव के साथ उन लोगों को अधिक वजन और मोटापे से ग्रस्त करने के लिए सामान्य से सीमा के भीतर गिर जाता है कि एक शरीर के वजन हो सकता है, जबकि एनोरेक्सिया नर्वोसा द्वि घातुमान / शुद्ध प्रकार के निदान के साथ उन लोगों के लिए एक स्वस्थ वजन के तहत अच्छी तरह से कर रहे हैं। मुख्य रूप से प्रभावित करने वाले के रूप में सोचा हालांकि महिलाओं (एक ५ – १० मिलियन ब्रिटेन में प्रभावित किया जा रहा अनुमानित), विकारों खाने के रूप में अच्छी तरह से पुरुषों प्रभावित करते हैं। एक अनुमान के अनुसार १० - विकारों खाने के साथ लोगों के १५% पुरुषों (गुडगाँ १९९९) हैं। (एक अनुमान के अनुसार १ लाख ब्रिटेन पुरुषों प्रभावित किया जा रहा है)।

खाने विकारों सभी पुरुषों और महिलाओं दोनों के बीच दुनिया भर में बढ़ रहा हैं, यद्यपि यह उन्हें और पश्चिमीकरण की डिग्री खतरा बढ़ जाता विकसित करने के उच्चतम जोखिम में हैं जो पश्चिमी दुनिया में महिलाओं को सुझाव है कि सबूत नहीं है। लगभग सभी अमेरिकियों की आधी से व्यक्तिगत रूप से एक खा विकार के साथ किसी को पता है।


एनोरेक्सिया[संपादित करें]

अछा दिखने के लिये हम लोग खुद पर बहुत मेहनत करते हैं। कुछ लोग अपनी सेहत का ख्याल न रख कर अच्छा दिखना चाहते है। पतला दिखने के लिये लोग न सही से खाते है ना पीते है। इस मनोवैज्ञानिक बीमारी को 'एनोरेक्सिया' कहते हैं। पतला दिखने के लिये जब खाने की आदतों, विचारों , और जीवन पर असर पड़ता है तो इसे एक मनोवैज्ञानिक विकार माना जाता है। यह बीमारी सभी उम्र की महिलाओं , पुरुषों और बच्चों को प्रभावित कर सकता हैं और ये जानलेवा भी बन सक्ता है।

आहार सम्बधी मुख्य दो विकार हैं- एनोरेक्सिया और बुलिमिआ नर्वोसा।

मुख्य विशेषताएँ और प्रकार[संपादित करें]

एनोरेक्सिया के तीन मुख्य विशेषताएँ-

  • १- वज़न बढ़ने का डर
  • २- शरीर से नाखुश
  • ३- एक स्वस्थ शरीर के वजन को बनाए रखने की कमी

एनोरेक्सिया के दो प्रकार के होते हैं :

  • १- सीमित प्रकार: जहा वजन घटाने सीमित कैलोरी ( कठोर आहार, उपवास के बाद, और अतिरिक्त कसरत ) द्वारा हासिल की जाती है।
  • २-मिटाने प्रकार: जहा वजन घटाने के लिये उल्टी या जुलाब का उपयोग किय जाता है।

वज़न बढ़ने के डर से लोग दिन-रात बस यही सोचते रेह्ते हे कि क्या खाना चाहिये और क्या नही , कुछ लोगो को डिप्रेशन भी हो जाता हे क्युकि वे अप्ने शरीर् से नाखुश रेह्ते है। लोग चाहे जितने भी पतले क्य्ं न हो जायें वे कभी खुश नही रहते।

एनोरेक्सिया के संकेत और लक्षण[संपादित करें]

व्यवहार के आधार पर-

  • १- पतली होने के बावजूद खाने से परहेज़
  • २- कैलोरी के साथ जुनून सवार
  • ३- खाना खाने के बारे में झूठ बोलना
  • ४- खाने मे सख़ती

रूप के आधार पर-

  • १- अचानक वज़न क्म होना
  • २- शरीर की छवि पर ज़्यादा ध्यान देना
  • ३- पतला बुलाने जाने पर खंडन

अन्य लक्षण-

  • १- खाने के बाद वमन करना
  • २- वज़न क्म करने के लिये दवा लेना
  • ३-खाने के बाग अधिक व्यायाम करना

कारण[संपादित करें]

इस बिमारी का कोइ एक कारण न्ही होता हे। एनोरेक्सिया कई सामाजिक, भावनात्मक और जैविक कारकों के संयोजन से उठता है। वे हर किसी के लिए एकदम सही होने की कोशिश करते है लेकिन वे वास्तव में असहाय और निराश हैं, वे असफल मान्ते है खुद को। परिवार और सामाजिक दबाव के कारक भी एनोरेक्सिया हो सक्ता है। माता-पिता जो उनके बच्चों के शरीर और उपस्थिति की आलोचना करते है उन ब्च्चो को एनोरेक्सिया हो सक्ता है। तनावपूर्ण जीवन भी एनोरेक्सिया को ट्रिगर कर सकता है। आनुवंशिक कारक भी एनोरेक्सिया के लिये योगदान करते हैं। अगर परिवार मे किसि को ये बीमारी है तो ये मुमकिन है कि दूसरे किसि सद्स्य को भी इसका असर हो सक्ता है। ये इस लिये क्युकि बद्न मे 'सेरोटोनिन्' और 'नोरेपिनेफ्रिने' के स्तर कम हो जाते है।

Woman suffering from anorexia nervosa Wellcome L0066994

प्रभाव[संपादित करें]

एनोरेक्सिया का असर कुछ इस प्रकार होता है-

  • १- शरीर के छवि से अप्रसन्न रहना
  • २- रिशतों मे दरार
  • ३- कम आत्म सम्मान होना
  • ४- भावनाओं को व्यक्त करने में असमर्थ होना
  • ५- उर्जा में कमी
  • ६- अवसाद (डिप्रेशन)
  • ७- ख़राब स्वास्थ्य - बेहोश होना ओर शरीर का पीलापन
  • ८- कब्ज

ये तो साबित हो चुका है कि एनोरेक्सिया जान लेवा है लेकिन यह जानना ज़्र्रुरी है कि जो लोग इस दौर से गुज़्रर रहे हे वे ये कभी नही मानेगे कि वे बीमार है। इस लिये यह ज़्र्रुरी है कि म्ररीज़ के परिवार वाले और शुभचिन्तक ध्यान दे। इस बिमारी मे कोइ अकेला नही है, सही समय पर मदद और सही मदद से इन लोगो को बचाया जा सक्ता है।


बुलिमिआ नर्वोसा[संपादित करें]

बुलिमिआ नर्वोसा एक प्रकार का आहार सम्बन्धि विकार है। इस मर्ज़ से ग्रसित व्यक्ति एक साथ काफी मात्रा में भोजन लेते हैं, किन्तु स्वयम के शरिरिक वजन के प्रति चेतना के रहते उस ग्रहण किये भोजन से छुटकारा पाने हेतु जबरदस्ती वमन (उल्टी) करने कि कोशिश करते हैं अथवा पेट साफ करने की दवा आदि लेकर उस अपाच्य भोजन से छुटकारा पाने कि कोशिश करते हैं।

बुलिमिआ नर्वोसा नामक मर्ज़ का शोध ब्रिटिश मनोचिकित्सक 'गेरल्ङ रासल' ने सन १९७९ मे किय था।

बुलिमिअ नर्वोसा एवं एनोरेक्सिआ नर्वोसा मे समान्ता होते हुए बी काफि भिन्नता है एवं दोनों को समझने में अस्मंजस की स्तिथि रहती है। बुलिमिआ में अध्कितर भोजन के पहले व्यक्ति लम्बे अन्तराल तक कुछ नहीं खाता है। बुलिमिआ नर्वोसा एनोरेक्सिआ नर्वोसा से कम घातक है किन्तु बुलिमिआ नर्वोसा मर्ज़ ज़्यदा घातक है। यह मर्ज़ महिलाओं में पुरुषों की अपेक्शा नौ गुना होता है एवं लगभग एक प्रतिशित महिलाओं में यह मर्ज़ पाया जाता है।

बुलिमिआ नर्वोसा मर्ज़ के व्यक्ति अधिकतर सामान्य वजन वाले होते हैं। इस्कि शुरुआत किशोरावस्था (१३ वर्श से २० वर्श तक कि आयु वर्ग) में होति है। अधिकतर मरीज़ पहले मोतापे से ग्रसित होते हैं एवं कुछ मरीज़ व्यस्क अवस्था में पूर्व में सफल इलाज के बावजूद फिर से अत्यधिक खाने एवं फिर वमन (उल्टी) कर उससे छुटकारा पाने के दौरों से ग्रसित होते हैं।

बुलिमिआ नर्वोसा से ग्रसित अप्ने आसपास एवं प्रेरणादायी मित्रोंं से अधिक आकर्षक दिखने कि होड में स्वयं आंतरिक प्रेरणा से प्रभावित होते हैं एवं शरिरिक सौंदर्य के दिवाने होते हैं। मिडिया द्वारा प्रदर्षित शरिरिक चेतना के समाचार, विग्यापन आदि भी इन मरीज़ों को प्रभावित करते हैं।

प्रकार[संपादित करें]

बुलिमिआ नर्वोसा के दो प्रकार हैं:

  • जबरदस्ती वमन (उल्टी) करना एवं पाचन प्रक्रिया पूर्ण हि भोजन को बाहर निकालना।
  • अत्यधिक आधार ग्रहण करने के पश्चात् लम्बे समय तक उपवास करना अथवा व्यायाम आदि करके शरिरिक वजन को सन्तुलित करना।

लक्षण[संपादित करें]

बुलिमिआ नर्वोसा के लक्षण:

  • - भोजन में कैलोरी का मापदण्ड निर्धारित करना
  • - शरीर के वजन के प्रति चैतन्य होन
  • - स्वाभिमान क स्तर नीचा होना
  • - रक्तचाप गिरना
  • - माह्वारी में अनियमितता होन
  • - बार-बार शौच के लिये जाना
  • - अत्यधिक भोजन एक साथ करना
  • - अवसाद कि स्तिथि होना।


बुलिमिआ नर्वोसा से ग्रसित व्यक्ति अन्य मान्सिक बिमारियों से भी ग्रसित होत।

निष्कर्ष[संपादित करें]

कौशल लेप्टिन की खोज के बाद से भूख की केंद्रीय प्रक्रियाओं काफी बढ़ गई है समझने के लिए, और कौशल के रूप में अच्छी तरह से मस्तिष्क के कार्यों का निरीक्षण करने के लिए रचा जा रहा है। प्रेरक समस्थिति और आत्म नियामक नियंत्रण प्रक्रियाओं के बीच सहभागिता विकारों खाने में एक महत्वपूर्ण घटक है जो व्यवहार, खाने में शामिल कर रहे हैं। विकारों खाने के सटीक कारण पूरी तरह से समझ नहीं है, लेकिन यह अन्य चिकित्सा शर्तों और स्थितियों से जोड़ा जा सकता है कि सबूत नहीं है। एक अध्ययन में एडीएचडी के साथ लड़कियों एडीएचडी से प्रभावित नहीं है उन लोगों की तुलना में एक खा विकार होने का एक बड़ा मौका है कि पता चला है। एक अन्य अध्ययन में यौन संबंधी आघात करने के लिए, आहार नर्वोसा। एक अध्ययन को विकसित करने की संभावना अधिक होती है, विशेष रूप की वजह से पीटीएसडी, के साथ महिलाओं के पालक लड़कियां बुलिमिया आभाव विकसित करने की संभावना अधिक रखते है हुमे यह पता चला है। कुछ को लगता है कि साथियों के दबाव और आर्दश शरीर-प्रकार मीडिया में देखा भी एक महत्वपूर्ण कारक हैं। कुछ शोध कुछ लोगों के लिए वे एक खा विकार के विकास के लिए खतरा हो सकता है क्यों आनुवंशिक कारण हैं। हाल के अध्ययनों से बुलिमिया आभाव और पदार्थ का उपयोग बीमारियों के साथ रोगियों के बीच एक संबंध के सबूत मिल गया है। इसके अलावा, चिंता विकारों और व्यक्तित्व विकारों विकारों खाने के ग्राहकों के साथ आम घटनाओं रहे हैं। विकारों खाने के साथ लोग उन्हें भूख महसूस कराने के लिए संकट की विभिन्न भावनाओं का कारण बनता है, जो एक बेकार भूख संज्ञानात्मक मॉड्यूल हो सकता है। उचित इलाज के खाने के विकारों के विशिष्ट प्रकार से कई पीड़ित के लिए अत्यधिक प्रभावी हो सकता है, विकारों खाने के परिणामों को मौत सहित गंभीर हो सकता है (चाहे परेशान खाने की आदतों का या ऐसे आत्मघाती सोच के रूप में सह रोगी की स्थिति से प्रत्यक्ष चिकित्सा प्रभाव से)।

सन्दर्भ[संपादित करें]

<Reference/>