आलेखीय प्रक्षेपण

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
एक लम्बकोणीय प्रक्षेपण जिसमें 'सामने से दृष्य' (front view), किनारे से दृष्य (side view) तथा पेंदी का दृष्य (bottom view) प्रक्षेपित है।

किसी त्रिबीमीय वस्तु के भागों को समतल धरातल या सीधी रेखा पर निरूपित करने को प्रक्षेपण (Projection) नाम दिया गया है।

आलेखीय प्रक्षेपण (ग्राफिकल प्रोजेक्शन) : यदि सीधी रेखा १ पर स्थित A, B, C, D आदि बिंदुओं से सीधी रेखा पर लंब AA, BB CC आदि डाले जाएँ, तो रेखा १ पर "लंबकोणीय" प्रक्षेप प्राप्त होता है। इसी प्रकार यदि किसी ठोस पिंड के प्रत्येक बिंदु से किसी समतल धरातल पर लंब डाले जाएँ, तो हमें उस पिंड का लंबकोणीय प्रक्षेप उस धरातल पर प्राप्त होता है। यदि लंब रेखाएँ AA, BB, CC, आदि परस्पर समांतर हों, तब यह प्रक्षेप "समांतर प्रक्षेप' कहलाता है, यदि ये सभी रेखाएँ किसी एक बिंदु पर मिलती हों तब इसे केंद्रीय प्रक्षेप कहेंगे।

वर्गीकरण[संपादित करें]