आप आये बहार आई

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
आप आये बहार आई
आप आये बहार आई.jpg
आप आये बहार आई का पोस्टर
निर्देशक मोहन कुमार
निर्माता मोहन कुमार
लेखक वेद राही (संवाद)
अभिनेता राजेन्द्र कुमार,
साधना,
प्रेम चोपड़ा
संगीतकार लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल
प्रदर्शन तिथि(याँ) 1971
देश भारत
भाषा हिन्दी

आप आये बहार आई 1971 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। इसका निर्देशन, निर्माण और लेखन मोहन कुमार ने किया। इसमें राजेन्द्र कुमार, साधना, राजेन्द्रनाथ और प्रेम चोपड़ा हैं। फिल्म का संगीत लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल ने दिया है।[1]

संक्षेप[संपादित करें]

रोहित (राजेन्द्र कुमार), व्हिस्की (राजेन्द्रनाथ) और कुमार (प्रेम चोपड़ा) बचपन के दोस्त हैं। एक बार व्हिस्की के साथ कहीं जाते समय, रोहित सुंदर नीना (साधना) से मिलता है और उसके साथ प्यार में पड़ जाता है। इसके बाद, वह उसके पिता (राज मेहरा) के साथ मिलता है, जहाँ उनका ठीक से परिचय होता है और वह भी उससे प्यार करने लगती है। अनजाने में, कुमार भी नीना से शादी के लिए अपना प्रस्ताव भेजता है, लेकिन वह न केवल इसे अस्वीकार करता है, बल्कि इसका उपहास भी बनाती है। कुमार नाराज हो जाता है। वह बदला लेने की योजना बनाता है। नीना और रोहित की शादी से कुछ समय पहले, जब आधिकारिक रूप से शादी तय हो जाती है, नीना अनजाने में कुमार को रोहित समझकर उसके साथ हो जाती है। अब रोहित और कुमार दुश्मन बन जाते हैं। उनका झगड़ा होता है और कुमार अपनी बाईं आंख में दृष्टि खो देता है। यह महसूस करते हुए कि वह अब रोहित के लायक नहीं है, नीना उससे शादी करने से इंकार कर देती है।

नीना को पता चलता है कि वह कुमार के बच्चे के साथ गर्भवती है और आत्महत्या करने की कोशिश करती है। रोहित उसे ऐसा करने से रोकता है और पास के शिव मंदिर में उससे शादी करता है। रोहित बच्चे को अपने बेटे के रूप में पालता है। कुमार, जो अब एक ज्ञात अपराधी है, रोहित के पास पैसा मांगने आता है। जब वह और रोहित में बहस हो रही होती है, रोहित यह जानकारी बाहर निकाल देता है कि बच्चा उसका नहीं है। कुमार चुपके से इस जानकारी को रिकॉर्ड कर लेता है और उसे ब्लैकमेल करता है। एक दिन वह रोहित के बेटे का अपहरण कर लेता है। रोहित अपने बेटे को वापस पाने के लिए उसके ठिकाने पर जाता है। उनकी लड़ाई के दौरान, रोहित बुरी तरह से घायल हो जाता है, लेकिन तब नीना आती है और कुमार को उसके ही गुंडे की बंदूक से मार देती है। रोहित, नीना और उनका बेटा खुशी से रहते हैं।

मुख्य कलाकार[संपादित करें]

संगीत[संपादित करें]

सभी गीत आनंद बख्शी द्वारा लिखित; सारा संगीत लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल द्वारा रचित।

क्र॰शीर्षकगायकअवधि
1."मुझे तेरी मोहब्बत का सहारा"लता मंगेशकर, मोहम्मद रफ़ी6:20
2."आप आये बहार आई"मोहम्मद रफ़ी5:13
3."तुमको भी तो ऐसा कुछ होता"किशोर कुमार, लता मंगेशकर5:15
4."पूछे जो कोई मुझ से"मोहम्मद रफ़ी3:54
5."कोयल क्यों गाये"लता मंगेशकर, मोहम्मद रफ़ी6:57
6."तारे कितने नील गगन पे तारे"हेमलता, मोहम्मद रफ़ी4:07

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Aap Aaye Bahaar Aayee (1971)". द हिन्दू (अंग्रेज़ी में). 7 फरवरी 2013. अभिगमन तिथि 13 अप्रैल 2019.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]