आनंदीबाई जोशी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
डॉ. आनंदीबाई जोशी
Anandibai joshi.jpg
डॉ. आनंदीबाई जोशी का एक चित्र
जन्म यमुना
31 मार्च 1865
ठाणे, ब्रिटिश भारत
मृत्यु 26 फ़रवरी 1887(1887-02-26) (उम्र 21)
पुणे, बॉम्बे प्रेसीडेंसी, ब्रिटिश भारत
स्मारक समाधि पकिप्सी (न्यूयॉर्क), संयुक्त राज्य अमेरिका (अग्निदाह राख)
अन्य नाम आनंदीबाई जोशी
आनंदी गोपाल जोशी
आनंदीबाई गोपाळराव जोशी
शिक्षा प्राप्त की वुमन्स मेडिकल कॉलेज ऑफ़ पेन्सिल्वेनिया
जीवनसाथी गोपालराव जोशी
अंतिम स्थान पकिप्सी (न्यूयॉर्क), संयुक्त राज्य अमेरिका (अग्निदाह राख)
आनंदीबाई जोशी

आनंदीबाई जोशी (31 मार्च 1865-26 फ़रवरी 1887) पुणे शहर में जन्‍मी पहली भारतीय महिला थीं, जिन्‍होंने डॉक्‍टरी की डिग्री ली थी। जिस दौर में महिलाओं की शिक्षा भी दूभर थी, ऐसे में विदेश जाकर[1] डॉक्‍टरी की डिग्री हासिल करना अपने-आप में एक मिसाल है। उनका विवाह नौ साल की अल्‍पायु में उनसे करीब 20 साल बड़े गोपालराव से हो गया था। जब 14 साल की उम्र में वे माँ बनीं और उनकी एकमात्र संतान की मृत्‍यु 10 दिनों में ही गई तो उन्‍हें बहुत बड़ा आघात लगा। अपनी संतान को खो देने के बाद उन्‍होंने यह प्रण किया कि वह एक दिन डॉक्‍टर बनेंगी और ऐसी असमय मौत को रोकने का प्रयास करेंगी। उनके पति गोपालराव ने भी उनको भरपूर सहयोग दिया और उनकी हौसला अफजाई की।

आनंदीबाई जोशी का व्‍यक्तित्‍व महिलाओं के लिए प्रेरणास्‍त्रोत है। उन्‍होंने सन् 1886 में अपने सपने को साकार रूप दिया। जब उन्‍होंने यह निर्णय लिया था, उनकी समाज में काफी आलोचना हुई थी कि एक शादीशुदा हिंदू स्‍त्री विदेश (पेनिसिल्‍वेनिया) जाकर डॉक्‍टरी की पढ़ाई करे। लेकिन आनंदीबाई एक दृढ़निश्‍चयी महिला थीं और उन्‍होंने आलोचनाओं की तनिक भी परवाह नहीं की। यही वजह है कि उन्‍हें पहली भारतीय महिला डॉक्‍टर होने का गौरव प्राप्‍त हुआ। डिग्री पूरी करने के बाद जब आनंदीबाई भारत वापस लौटीं तो उनका स्‍वास्‍थ्‍य बिगड़ने लगा और बाईस वर्ष की अल्‍पायु में ही उनकी मृत्‍यु हो गई। यह सच है कि आनंदीबाई ने जिस उद्देश्‍य से डॉक्‍टरी की डिग्री ली थी, उसमें वे पूरी तरह सफल नहीं हो पाईंं, परन्तु उन्‍होंने समाज में वह स्थान प्राप्त किया, जो आज भी एक मिसाल है।[2]

शैक्षणिक जीवन[संपादित करें]

गोपालराव ने आनंदीबाई को डॉक्‍टरी का अध्ययन करने के लिए प्रोत्साहित किया। 1880 में उन्होंने एक प्रसिद्ध अमेरिकी मिशनरी रॉयल वाइल्डर को एक पत्र भेजा, जिसमें उन्होंने संयुक्त राज्य में औषधि अध्ययन में आनंदीबाई की रूचि के बारे में बताया और खुद के लिए अमेरिका में एक उपयुक्त पद के बारे में पूछताछ किया। वाइल्डर ने उनके प्रिंसटन की मिशनरी समीक्षा में पत्राचार प्रकाशित किया। थॉडिसीया कार्पेन्टर, जो रोज़ेल, न्यू जर्सी की निवासी थीं, ने अपने दंत चिकित्सक के लिए इंतजार करते वक्त यह पढ़ा। औषधि अध्ययन करने के लिए आनंदीबाई की इच्छा और पति गोपालराव के समर्थन से प्रभावित होकर उन्होंने अमेरिका में आनंदीबाई के लिए आवास की पेशकश की।

जब जोशी युगल कलकत्ता में थे, आनंदीबाई का स्वास्थ्य कमजोर हो रहा था। वह कमजोरी, निरंतर सिरदर्द, कभी-कभी बुखार और कभी-कभी सांस की वजह से पीड़ित थीं। थिओडिकिया ने बिना परिणाम के, अमेरिका से उसकी दवाएं भेजीं। 1883 में गोपालराव को सेरामपुर में स्थानांतरित कर दिया गया था, और उन्होंने कमजोर स्वास्थ्य के बावजूद मेडिकल अध्ययन के लिए आनंदीबाई को अमेरिका भेजने का फैसला किया और गोपालराव ने उन्हें उच्च शिक्षा के लिए अन्य महिलाओं के लिए उदाहरण बनने के लिए कहा।

थॉर्बोर्न नामक एक चिकित्सक जोड़े ने आनंदीबाई को पेंसिल्वेनिया के महिला चिकित्सा महाविद्यालय में आवेदन का सुझाव दिया। पश्चिम में उच्च शिक्षा हासिल करने के लिए आनंदीबाई की योजनाओं के बारे में जानने पर, रूढ़िवादी भारतीय समाज ने उन्हें बहुत दृढ़ता से दबा दिया।

आनंदीबाई ने सेरमपुर कॉलेज (पश्चिम बंगाल) हॉल में समुदाय को संबोधित किया, जिसमें अमेरिका जाने और मेडिकल डिग्री प्राप्त करने के फैसले को समझाया। उन्होंने भारत में महिला डॉक्टरों की जरूरत पर बल दिया और भारत में महिलाओं के लिए एक मेडिकल कॉलेज खोलने के अपने लक्ष्य के बारे में बात की (आनंदीबाई मेडिकल कॉलेज)। उनके भाषण ने प्रचार प्राप्त किया, और पूरे भारत में वित्तीय योगदान शुरू हो गए।

अमेरिकी जीवन[संपादित करें]

आनंदीबाई ने कोलकाता (कलकत्ता) से पानी के जहाज के माध्यम से न्यूयॉर्क की यात्रा की। न्यूयॉर्क में थिओडिसिया कार्पेन्टर ने उन्हें जून 1883 में अगवानी की। आनंदीबाई ने पेंसिल्वेनिया की वूमन मेडिकल कॉलेज में अपने चिकित्सा कार्यक्रम में भर्ती होने के लिए नामंकन किया, जो कि दुनिया में दूसरा महिला चिकित्सा कार्यक्रम था। कॉलेज के डीन राहेल बोडले ने उन्हें नामांकित किया।

आनंदिबाई ने 19 वर्ष की उम्र में अपना चिकित्सा प्रशिक्षण शुरू किया। अमेरिका में ठंडे मौसम और अपरिचित आहार के कारण उनका स्वास्थ्य खराब हो गया था। उन्हें तपेदिक हो गया था फिर भी उन्होंने 11 मार्च 1885 को एमडी से स्नातक किया। उनकी थीसिस का विषय था "आर्यन हिंदुओं के बीच प्रसूति"। इनके स्नातक स्तर की पढ़ाई पर रानी विक्टोरिया ने उन्हें एक बधाई संदेश भेजा था।

भारत वापसी[संपादित करें]

डॉ॰ आनंदीबाई जोशी, एमडी, १८८६ की कक्षा का चित्र

1886 के अंत में, आनंदीबाई भारत लौट आई, जहाँ उनका भव्य स्वागत हुआ।[3] कोल्हापुर की रियासत ने उन्हें स्थानीय अल्बर्ट एडवर्ड अस्पताल की महिला वार्ड के चिकित्सक प्रभारी के रूप में नियुक्त किया।

अगले वर्ष, 26 फरवरी 1887 को आनंदीबाई की 22 साल की उम्र में तपेदिक से मृत्यु हो गई।[3] उनकी मृत्यु पर पूरे भारत में शोक व्यक्त किया गया। उसकी राख को थियोडिसिया कारपेंटर के पास भेजा गया, जिसने उन्हें अपने परिवार के कब्रिस्तान, न्यूयॉर्क के पुफेकीसी ग्रामीण कब्रिस्तान में अपने परिवार के कब्रिस्तान में रखा। शिलालेख में कहा गया है कि आनंदी जोशी एक हिंदू ब्राह्मण लड़की थी, जो विदेश में शिक्षा प्राप्त करने और मेडिकल डिग्री प्राप्त करने वाली पहली भारतीय महिला थी।[3]

विरासत[संपादित करें]

1888 में, अमेरिकी नारीवादी लेखक कैरोलिन वेल्स हीली डैल ने आनंदीबाई की जीवनी लिखी थी।[4] डॉल आनंदीबाई से परिचित थी और उसकी बहुत प्रशंसा करती थी। हालाँकि, जीवनी में कुछ बिंदु, विशेष रूप से गोपालराव जोशी के कठोर व्यवहार ने, जोशी के दोस्तों के बीच विवाद को जन्म दिया।[5]

दूरदर्शन, एक भारतीय सार्वजनिक सेवा प्रसारक ने उनके जीवन पर आधारित "आनंदी गोपाल" नाम की एक हिंदी श्रृंखला प्रसारित की, जिसका निर्देशन कमलाकर सारंग ने किया था। श्रीकृष्ण जनार्दन जोशी ने अपने मराठी उपन्यास आनंदी गोपाल में उनके जीवन का एक काल्पनिक लेख लिखा है, जिसे राम जी जोगलेकर ने इसी नाम के एक नाटक में रूपांतरित किया था।[6]

डॉ. अंजलि कीर्तन ने डॉ. आनंदीबाई जोशी के जीवन पर बड़े पैमाने पर शोध किया है और उनके समय और उपलब्धियों के बारे में एक मराठी पुस्तक "डॉ. आनंदीबाई जोशी काळ आणि कर्तृत्व" ("डॉ. आनंदीबाई जोशी, उनका समय और उपलब्धियाँ) लिखी है। इसमें डॉ. आनंदीबाई जोशी की दुर्लभ तस्वीरें भी हैं।[7]

लखनऊ में एक गैर-सरकारी संगठन, इंस्टीट्यूट फॉर रिसर्च एंड डॉक्यूमेंटेशन इन सोशल साइंसेज (IRDS), भारत में चिकित्सा विज्ञान को आगे बढ़ाने के लिए उनके शुरुआती योगदान के सम्मान में मेडिसिन के लिए आनंदीबाई जोशी पुरस्कार प्रदान कर रहा है।[8][6] इसके अलावा, महाराष्ट्र सरकार ने महिलाओं के स्वास्थ्य पर काम करने वाली युवा महिलाओं के लिए उनके नाम पर एक फैलोशिप की स्थापना की है।[9] उनके सम्मान में शुक्र पर एक गड्ढा का नाम उनके नाम पर "जोशी" रखा गया है, जो अक्षांश 5.5°N और देशांतर 288.8°E पर स्थित है।

31 मार्च 2018 को, गूगल ने उनकी 153वीं जयंती के उपलक्ष्य में उन्हें गूगल डूडल के साथ सम्मानित किया।[10]

2019 में, मराठी में उनके जीवन पर एक फिल्म आनंदी गोपाल नाम से बनाई गई है।[11]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. McNeill, Leila (२४ अगस्त २०१७). "This 19th Century "Lady Doctor" Helped Usher Indian Women Into Medicine". Smithsonian. अभिगमन तिथि ३१ मार्च २०१८.
  2. वेब दुनिया (हिन्दी), शीर्षक: आनंदी बाई जोशी : पहली भारतीय महिला डॉक्‍टर
  3. "Why is a Crater on Venus Named After India's Dr Anandibai Joshi?". The Quint (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 2018-04-01.
  4. The Life of Dr. Anandabai Joshee: A Kinswoman of the Pundita Ramabai, published by Roberts Brothers, Boston
  5. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; :4 नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  6. "Who is Anandi Gopal Joshi to whom Google dedicated a Doodle?". India Today (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 2018-03-31.
  7. http://www.majesticprakashan.com/node/294
  8. "IRDS Awards 2011". Irdsindia.com. मूल से 5 November 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 29 October 2013. Anandibai Joshi was one of the first Indian women to have obtained a degree in modern medicine when despite great hardships and poor health she got the MD from University of Pennsylvania in the USA in the end of 19th Century.
  9. "How Anandi Joshi obtained a degree in Western medicine from Pennsylvania college". The Indian Express (अंग्रेज़ी में). 2018-03-31. अभिगमन तिथि 2018-03-31.
  10. "जानिए कौन हैं आनंदी गोपाल जोशी और गूगल ने क्यों उनके जन्मदिन पर बनाया डूडल". लोकमत. March 31, 2018.
  11. Taran Adarsh [@taran_adarsh] (2 February 2019). "Story of a husband who fought against all odds to make his wife a doctor... Trailer of #Marathi film #AnandiGopal [with English subtitles]... Directed by Sameer Vidwans... 15 Feb 2019 release... #AnandiGopalTrailer: t.co/WXf34Nx1Qk" (Tweet) – वाया Twitter.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]