आदि ब्राह्म समाज

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

देवेन्द्रनाथ ठाकुर के नेतृत्व वाले ब्राह्म समाज का सन १८६६ में नया नाम आदि धर्म या आदि ब्राह्म समाज (बंगाली: আদি ব্রাহ্ম সমাজ) पड़ा जब केशवचन्द्र सेन ने अलग होकर 'भारतवर्षीय ब्राह्म्मसमाज' बना लिया। केशवचन्द्र सेन, सामाजिक रक्षणशीलता के प्रशन पर देवेन्द्रनाथ ठाकुर के विचारों से सहमत नहीं थे। सन १८७८ में 'साधारण ब्राह्मसमाज' का भी इसमें विलय हो गया। यह ब्रिटिश भारत में पहला संगठित जातिविहीन आन्दोलन था और बंगाल से लेकर असम, बॉम्बे स्टेट (आधुनिक सिन्ध, महाराष्ट्र और गुजरात), पंजाब और मद्रास, हैदराबाद और बंगलौर तक में इसका प्रचार-प्रसार था।

पंजाब में इसका कार्य हिन्दी के महान पक्षधर नवीन चन्द्र राय देख रहे थे।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]