आदि ब्रह्म समाज

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ब्रह्म समाज में १८६५ में विखण्न हो गया। परिणाम स्वरुप केशवचन्द सेन ने इसकी स्थापना की।

स्थान[संपादित करें]

कलकत्ता

उद्देश्य[संपादित करें]

  • स्त्रियो की मुक्ती |
  • विद्या का प्रसार |
  • दान देने पर बल |