आखरी ख़ुत्बा नबी साहेब

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

{{अनेक समस्याएँ|एकाकी=सितंबर 2016|निबंध=सितंबर 2016|प्रशंसक दृष्टिकोण=सितंबर 2016|बन्द सिरा=सितंबर 2016|भाग=सितंबर 2016|स्रोतहीन=सितंबर 2016

हजरत मोहम्मद स0अ0स0 ने फ़तेह मक्का के अवसर पर हज के समय अपना आखरी भाषण (खुत्बा) दिया । ये ख़ुत्बा इस्लाममानने वाले9न के अलावा तमाम लोगों के लिए प्रेरणादायक है। इस अंतिम उपदेश में मानवजाति के ऊंचे सिद्धांत दृष्टिगोचर होते हैं।

ख़ुत्बे का एक-एक शब्द मानवता और समानता के उपदेश से परिपूर्ण है।

हज़रत मुहम्मद (सल्लल्लाहो अलैहि वसल्लम) ने फ़रमाया: प्यारे भाइयो! मैं जो कुछ कहूँ, ध्यान से सुनो। ऐ इंसानो! तुम्हारा रब एक है।

अल्लाह की किताब और उसके रसूल की सुन्नत को मजबूती से पकड़े रहना।

लोगों की जान-माल और इज़्ज़त का ख़याल रखना, ना तुम लोगो पर ज़ुल्म करो, ना क़यामत में तुम्हारे साथ ज़ुल्म किया जायगा।

कोई अमानत रखे तो उसमें ख़यानत न करना। ब्याज के क़रीब न भटकना।

किसी अरबी को किसी अजमी (ग़ैर अरबी) पर कोई बड़ाई नहीं, न किसी अजमी को किसी अरबी पर, न गोरे को काले पर, न काले को गोरे पर, प्रमुखता अगर किसी को है तो सिर्फ तक़वा(धर्मपरायणता) व परहेज़गारी से है अर्थात् रंग, जाति, नस्ल, देश, क्षेत्र किसी की श्रेष्ठता का आधार नहीं है। बड़ाई का आधार अगर कोई है तो ईमान और चरित्र है।

तुम्हारे ग़ुलाम, जो कुछ ख़ुद खाओ, वही उनको खिलाओ और जो ख़ुद पहनो, वही उनको पहनाओ।

अज्ञानता के तमाम विधान और नियम मेरे पाँव के नीचे हैं।

इस्लाम आने से पहले के तमाम ख़ून खत्म कर दिए गए। (अब किसी को किसी से पुराने ख़ून का बदला लेने का हक़ नहीं) और सबसे पहले मैं अपने ख़ानदान का ख़ून–रबीआ इब्न हारिस का ख़ून– ख़त्म करता हूँ (यानि उनके कातिलों को क्षमा करता हूँ)|

अज्ञानकाल के सभी ब्याज ख़त्म किए जाते हैं और सबसे पहले मैं अपने ख़ानदान में से अब्बास इब्न मुत्तलिब का ब्याज ख़त्म करता हूँ।

औरतों के मामले में अल्लाह से डरो। तुम्हारा औरतों पर और औरतों का तुम पर अधिकार है।

औरतों के मामले में मैं तुम्हें वसीयत करता हूँ कि उनके साथ भलाई का रवैया अपनाओ।

लोगो! याद रखो, मेरे बाद कोई नबी नहीं और तुम्हारे बाद कोई उम्मत (समुदाय) नहीं।

अत: अपने रब की इबादत करना, प्रतिदिन पाँचों वक़्त की नमाज़ पढ़ना। रमज़ान के रोज़े रखना, खुशी-खुशी अपने माल की ज़कात देना, अपने पालनहार के घर का हज करना और अपने हाकिमों का आज्ञापालन करना। ऐसा करोगे तो अपने रब की जन्नत में दाख़िल होगे।

ऐ लोगो! क्या मैंने अल्लाह का पैग़ाम तुम तक पहुँचा दिया! (लोगों की भारी भीड़ एक साथ बोल उठी–) हाँ, ऐ अल्लाह के रसूल! (तब हजरत मुहम्मद स. ने तीन बार कहा) ऐ अल्लाह, तू गवाह रहना

(उसके बाद क़ुरआन की यह आखिरी आयत उतरी)

"आज मैंने तुम्हारे लिए दीन (सत्य धर्म) को पूरा कर दिया और तुम पर अपनी नेमत (कृपा) पूरी कर दी". Quran 5:3

Reference: See Al-Bukhari, Hadith 1623, 1626, 6361 इस पोस्ट को 5 बार पढ़िए 10 बार पढ़िए या 50 बार पढ़िए और तब तक पढ़िए जब तक इसमें कही बात समझ में और अमल में ना आ जाए। ज्यादा से ज्यादा शेयर करें ताकि लोगों तक पैगाम पहुंचे।