आकाश विजयवर्गीय

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
आकाश विजयवर्गीय
Indore Akash Vijayvargiya.jpg

पदस्थ
कार्यालय ग्रहण 
दिसम्बर 2018
पूर्वा धिकारी उषा ठाकुर
चुनाव-क्षेत्र इंदौर-3
बहुमत 67,075 (50.96%)

जन्म 12 सितम्बर 1984 (1984-09-12) (आयु 35)
इंदौर, मध्यप्रदेश
राष्ट्रीयता भारतीय
राजनीतिक दल भारतीय जनता पार्टी
निवास 880/9, नन्दानगर, इंदौर, मध्यप्रदेश
व्यवसाय राजनीतिज्ञ
जालस्थल http://akashvijayvargiya.com

आकाश विजयवर्गीय (जन्म 12 सितम्बर 1984) एक भारतीय राजनीतिज्ञ एवं मध्यप्रदेश, इंदौर से भाजपा के सदस्य हैं।[1] 2018 में मध्य प्रदेश विधान सभा चुनाव मे आकाश ने अपना पहला चुनाव जीतने के लिए भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के नेता एवं 3 बार के विधायक अश्विन जोशी को 5700 से अधिक मतों के अंतर से हराया।[2] आकाश देव से महादेव पुस्तक के लेखक हैं। यह पुस्तक बाबा रामदेव की उपस्थिति में प्रशंसनीय की गयी थी। यह पुस्तक युवाओं को आध्यात्मिक रूप से जीवन में सफलता पाने के लिए मार्गदर्शन करती है। आकाश बीजेपी नेता कैलाश विजयवर्गीय के बेटे है।इनके विधायक बनने पर बीजेपी की ही पुर्व विधायक उषा ठाकुर ने अमित शाह को इसे वंशवाद बताया था।[3]

विवाद[संपादित करें]

26 जून 2019 को इंदौर नगर निगम का दल जेल रोड़ क्षेत्र में एक जर्जर मकान को गिराने पहुंचा, इसकी सूचना मिलते ही आकाश मौके पर पहुंचे,और बल्ला (क्रिकेट बेट) लेकर निगम अधिकारि पर हमला करने पहुच गए। उनके साथ कुछ असामाजिक तत्व भी थे। जहां उनकी नगर निगम के अधिकारी से बहस हो गई। तभी आकाश क्रिकेट का बल्ला लेकर नगर निगम के अधिकारियों से भिड़ गए। आकाश ने बल्ले से अफसरों पर हमला भी किया।हमले की कई वीडियो वायरल हुई। मामले में आकाश के खिलाफ एफ.आई.आर दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। आकाश ने बयान में कहा की हमारा यही मोटो है - आवेदन फिर निवेदन फिर दे दनादन । इसकी काफी निंदा हुई। इस घटना के बाद उनके पिता bjp नेता कैलाश विजयवर्गीय ने भी मीडिया वालों को कुछ बेतुके जवाब दिए । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी इस मामले की निंदा की थी और आकाश तो विधायक पद से हटाने तक कि बात करि थी। बीजेपी के बड़े नेताओं जैसे मुख्यमंत्रीशिवराज सिंह चौहान जैसे दिग्गज नेताओं ने भी इंटरव्यू में चुप रहना बेहतर समझा।वही खड़े शख्स ने बताया कि निगम अमला लेकर जर्जर मकान तोड़ने आया था तभी विधायक वहां पहुचे और विवाद करने लगे। [4] बाद में कोर्ट के आदेश अनुसार रिहा कर दिया गया।[5][6][7]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. एजेंसी (2018-12-11). "वरिष्ठ कांग्रेस नेता को बीजेपी के महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के बेटे ने दी चुनावी शिकस्त". abpnews.abplive.in. अभिगमन तिथि 2019-08-18.
  2. "Indore 3 Assembly constituency (Madhya Pradesh): Full details, live and past results". News18. अभिगमन तिथि 2019-08-18.
  3. Webdunia. "आकाश विजयवर्गीय कड़े मुकाबले में फंसे, कैलाश बोले- जीतेगा तो मेरा बेटा ही". hindi.webdunia.com. अभिगमन तिथि 2019-08-18.
  4. "बैट से अधिकारी को पीटने वाले BJP विधायक आकाश विजयवर्गीय को नहीं मिली जमानत, न्यायिक हिरासत में भेजा". hindi.timesnownews.com. अभिगमन तिथि 2019-08-18.
  5. "इंदौर में नगर निगम कर्मचारी को पीटने के बाद बोले भाजपा विधायक- आवेदन, निवेदन और फिर दनादन". thewirehindi.com (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 2019-08-18.
  6. "अधिकारी को बल्ले से पीटने वाले BJP विधायक आकाश विजयवर्गीय जमानत के बाद हुए रिहा, कहा- जेल में अच्छा समय बीता". NDTVIndia. अभिगमन तिथि 2019-08-18.
  7. "'बल्लेबाज' बेटे को BJP का नोटिस, कैलाश विजयवर्गीय बोले- मुझे जानकारी नहीं". m.aajtak.in. अभिगमन तिथि 2019-08-18.