आईएनएस सिंधुरक्षक

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
INS Sindhurakshak (S63).jpg
आईएनएस सिंधुरक्षक
कैरियर (भारत)
नाम: आईएनएस सिंधुरक्षक
निर्माता: एड्मिराल्टी शिपयार्ड
आधारशिला: 16 फ़रवरी 1995
जलावतरण: 26 जून 1997
सेवा शुरु: 24 दिसम्बर 1997
स्थिति: आग से नष्ट
सामान्य विशेषताएँ
वर्ग और प्रकार: सिंधुघोष-वर्ग पनडुब्बी
विस्थापन: 2325 टन तलयुक्त
3076 गोता लगाने पर
लम्बाई: 72.6 मी॰ (238 फीट)
चौड़ाई: 9.9 मी॰ (32 फीट)
कर्षण: 6.6 मी॰ (22 फीट)
प्रणोदन: 2 x 3650 अश्व शक्ति डीजल-विद्युत मोटर
1 x 5900 एचपी मोटर
2 x 204 एचपी सहायक मोटर
1 x 130 एचपी किफायती गति मोटर
गति: तलयुक्त: 10 नॉट (19 किमी/घंटा)
गोता लगाते समय: 9 नॉट (17 किमी/घंटा)
जलमग्न: 17 नॉट (31 किमी/घंटा)
पंहुच: 6000 एनएम स्‍नोर्टिंग 400 एनएम का गोता लगाना
सहन-शक्ति: 52 सदस्यों के दल के साथ 45 दिनों तक
परीक्षित गहराई: परिचालन गहराई: 240 मी॰ (790 फीट)
अधिकतम गहराई: 300 मी॰ (980 फीट)
कर्मि-मण्डल: 68 (07 अधिकारियों सहित)[1]
तत्कालीन राष्ट्रपति अब्दुल कलाम आई एन एस सिंधुरक्षक पर

आईएनएस सिंधुरक्षक (एस६३) भारतीय नौसेना की सिंधुघोष वर्ग की दस डीजल-विद्युत पनडुब्बियों में से एक थी।[2] 4 जून 2010 को भारतीय रक्षा मंत्रालय और ज़्वेजदोच्का शिपयार्ड के मध्य पनडुब्बी के उन्नयन और जीर्णोद्धार के लिए अमेरिकी $8 करोड़ ($80 मिलियन) का समझौता हुआ था। पनडुब्बी ने दो आग की घटनाओं का सामना किया था, प्रथम लघु घटना 2010 में और द्वितीय 14 अगस्त 2013 को मुम्बई के नौसेनिक डॉकयार्ड में हुई जिसमें यह डुब गयी।[3][4]

निर्माण[संपादित करें]

सिंधुरक्षक श्रेणी की इस डीज़ल-इलेक्ट्रिक पनडुब्बी को रूस में बनाया गया था और 24 दिसम्बर 1997 को भारतीय नौसेना में शामिल किया गया था।[5][6][7]

कार्य इतिहास[संपादित करें]

दुर्घटना २०१०[संपादित करें]

सिंधुरक्षक

आईएनएस सिंधुरक्षक के बैट्री कम्पार्टमेंट में फरवरी 2010 में आग लगी थी जिसमें एक नौसैनिक मारा गया था। तब यह पनडुब्बी विशाखापत्तनम में नौसेना गोदी में तैनात थी।[5] यह दुर्घटना बैटरी बॉक्स में विस्फोट के कारण हुई थी। 1980 के दशक की शुरुआत में हुए समझौते के तहत भारत 2300 टन की पनडुब्बी रूस से लाया था और इसे 1997 में परिचालन में शामिल किया था।[8]

विस्फोट और डूबना २०१३[संपादित करें]

14 अगस्त 2013 को पनडुब्बी में पहले छोटा धमाका हुआ और फिर एक बड़ा धमाका हुआ। धमाकों से हुई क्षति के कारण पनडुब्बी में पानी भर गया, इससे पनडुब्बी एक तरफ झुक गई। पनडुब्बी की बैटरी चार्ज की जा रही थी जिस दौरान धमाका हुआ था। परिणामस्वरूप बैटरी में आग लग गई। देखते ही देखते आग तेजी से बढ़ी और बाद में पनडुब्बी में जोरदार धमाका हुआ।[9] देश की सबसे बेहतरीन पनडुब्बी आईएनएस सिंधुरक्षक पूरी तरह से ऑपरेशनल थी। समंदर की निगेहबानी के लिए पैट्रॉल पर जाने वाली थी। ये हादसा उस वक्त हुआ जब ये नेवल डॉकयार्ड में खड़ी थी।[10] विस्फोट होने के बाद आग लगने के बाद पनडुब्बी डूब गई।[11]

बचाव कार्य एवं नुकसान[संपादित करें]

घटना के समय पनडुब्बी पर 18 नौसैनिक सवार थे इनमें से तीन अधिकारी व 15 सेलर थे। हादसे के तुरंत बाद 16 दमकलों को भेजा गया और लगभग तीन घण्टे बाद आग पर काबू पाया गया। लेकिन तब तक पनडुव्बी लगभग स्वाहा होकर डूब चुकी थी और उसका कुछ ही हिस्सा पानी की सतह पर दिख रहा था।[9]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "सिंधुघोष वर्ग". भारतीय नौसेना. Retrieved 14 अगस्त 2013. Check date values in: |accessdate= (help)
  2. "Sindhughosh Class - Active submarines of the Indian Navy"" [सिंधुघोष वर्ग - भारतीय नौसेना की सक्रिय पनडुब्बियां] (in अंग्रेज़ी). भारतीय नौसेना. Archived from the original on 19 अगस्त 2013. Retrieved 14 अगस्त 2013. Check date values in: |accessdate=, |archive-date= (help)
  3. "Submarine INS Sindhurakshak sinks after major blast in Mumbai; all 18 feared dead" [मुम्बई में एक बड़े विस्फोट के बाद पनडुब्बी आईएनएस सिंधुरक्षक डुबा; सभी के मरने की आशंका]. डेक्कन क्रॉनिकल (in अंग्रेज़ी). 14 अगस्त 2013. Archived from the original on 17 अगस्त 2013. Retrieved 14 अगस्त 2013. Check date values in: |accessdate=, |date=, |archive-date= (help)
  4. "Submarine Sindhurakshak sinks after blast, casualties feared" [विस्फोट के बाद पनडुब्बी आईएनएस सिंधुरक्षक डुबा; हताहत होने की आशंका]. द हिन्दू. 14 अगस्त 2013. Archived from the original on 17 अगस्त 2013. Retrieved 14 अगस्त 2013. Check date values in: |accessdate=, |date=, |archive-date= (help)
  5. "हाल ही में अपग्रेड हुई थी आईएनएस सिंधुरक्षक". बीबीसी हिन्दी. 14 अगस्त 2013. Archived from the original on 15 अगस्त 2013. Retrieved 14 अगस्त 2013. Check date values in: |accessdate=, |date=, |archive-date= (help)
  6. "INS Sindhurakshak was refitted in Russia's Zvezdochka shipyard" [आयएनएस सिंधुरक्षक को रूस के ज़्वेजदोच्का शिपयार्ड में दुस्र्स्त किया गया।]. इण्डिया टुडे. 14 अगस्त 2013. Archived from the original on 15 अगस्त 2013. Retrieved 14 अगस्त 2013. Check date values in: |accessdate=, |date=, |archive-date= (help)
  7. "Russia hands over to India refitted submarine" [रूस ने दुरस्त की हुई पनडुब्बी भारत को हाथों सौंपी]. ज़ी न्यूज़ (in अंग्रेज़ी). 27 जनवरी 2013. Archived from the original on 8 मार्च 2013. Retrieved 14 अगस्त 2013. Check date values in: |accessdate=, |date=, |archive-date= (help)
  8. "पनडुब्बी आईएनएस सिंधुरक्षक तबाह, 18 नौसैनिकों की मौत की आशंका". एनडीटीवी खबर. 15 अगस्त 2013. Archived from the original on 17 अगस्त 2013. Retrieved 15 अगस्त 2013. Check date values in: |accessdate=, |date=, |archive-date= (help)
  9. "समंदर में समा गई आईएनएस सिंधुरक्षक,18 नौसैनिकों की मौत". पत्रिका डॉट कॉम. 14 अगस्त 2013. Archived from the original on 17 अगस्त 2013. Retrieved 14 अगस्त 2013. Check date values in: |accessdate=, |date=, |archive-date= (help)
  10. "देश की शान 'INS सिंधुरक्षक' पर लगी किसी की नजर". आईबीएन खबर. 14 अगस्त 2013. Archived from the original on 20 अगस्त 2013. Retrieved 14 अगस्त 2013. Check date values in: |accessdate=, |date=, |archive-date= (help)
  11. "समुद्र में डूबा सिंधुरक्षक, 18 नौसैनिकों के मरने की आशंका". लाइव हिन्दुस्तान. 14 अगस्त 2013. Archived from the original on 17 अगस्त 2013. Retrieved 14 अगस्त 2013. Check date values in: |accessdate=, |date=, |archive-date= (help)

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]