आइरी-शून्य

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
आइरी-शून्य की तीन छवियां — A मेरिनर ९ द्वारा, B वाइकिंग १ द्वारा और C मार्स ग्लोबल सर्वेयर द्वारा ली गई थी I

आइरी-शून्य (Airy-0), मंगल ग्रह पर एक खड्ड या क्रेटर है जिसका स्थान उस ग्रह की प्रधान मध्याह्न रेखा की स्थिति को परिभाषित करता है। यह आरपार लगभग ०.५ कि. मी. (०.३१ मील) है और सिनस मेरिडियन क्षेत्र में विशाल क्रेटर आइरी के भीतर स्थित है।

इसे ब्रिटिश शाही खगोलविद श्रीमान् जॉर्ज बिडेल आइरी (१८०१ -१८९२) के सम्मान में नामित किया गया था, जिन्होंने १८५० में ग्रीनविच पर याम्योत्तर वृत्त दूरदर्शी को निर्मित किया था। उस दूरबीन के स्थान को बाद में पृथ्वी की प्रधान मध्याह्न रेखा को निर्धारित करने के लिए चुना गया था।

मंगल के प्रधान मध्याह्न रेखा के रूप में इस खड्ड का चयन १९६९ में मेरिनर ६ और ७ की तस्वीरों के आधार पर मेर्टोन डविएस द्वारा किया गया था। [1]

References[संपादित करें]

  1. Morton, Oliver (2002). Mapping Mars: Science, Imagination, and the Birth of a World. New York: Picador USA. पपृ॰ 22–23. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-312-24551-3.