अ थाउजेण्ड स्पेलेण्डिड् संस

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

अ थाउजेन्ड स्पेलेन्डिड् सनस्

अ थाउजेन्ड स्पेलेन्डिड् सनस् (एक हजार चमकते सूरज) अफगान मूल के अमेरिकी लेखक खालिद हुसैनी का 2007 में रचित एक चर्चित उपन्यास है। 2003 में द काईट रनर नाम के सर्वाधिक बिक्री वाले उपन्यास से आगाज़ के बाद यह उनकी दूसरी कृति है । इस कहानी के कथानक में मरियम एक अवैध बच्ची, जो अपने जन्म से सम्बंधित कलंक एवं उसके दुष्प्रभाव से पीड़ित व्यवहार का सामना अपने वैवाहिक जीवन के दौरान करती है | मरियम के जन्म के एक पीढ़ी बाद पैदा हुई लैला को तुलनात्मक रूप से , युवावस्था तक कई विशेषाधिकार प्राप्त होते है लेकिन उनकी जीवन रेखा तब एक दूसरे को काटती है,जब लैला को मरियम के पति राशिद से शादी करने के लिए मजबूर किया जाता है।

हुसैनी के अनुसार यह कहानी उनके प्रथम उपन्यास “द काईट रनर“ जो "पिता-पुत्र कहानी" हैं, के विपरीत यह "मां-बेटी कहानी" है ।

इस उपन्यास का शीर्षक 17 वीं शताब्दी के ईरानी कवि साईब ताब्रीजी रचित कविता "काबुल" के अनुवाद से लिया गया है :

Oh, the beautiful city of Kabul wears a rugged mountain skirt, And the rose is jealous of its lash-like thorns. The dust of Kabul's blowing soil smarts lightly in my eyes, But I love her, for knowledge and love both come from her dust.

I sing bright praises to her colourful tulips, The beauty of her trees makes me blush. How sparkling the water flows from Pul-i-Mastaan! May Allah protect such beauty from the evil eye of man!

Khizr chose Kabul to Paradise, For her mountains brought him near to heaven's delights. The fort's dragon-sprawling walls guard the city well, Each brick is more precious than the treasure of Shayagan.

Every street in Kabul fascinates the eye. In the bazaars, Egypt's caravans pass by. No one can count the beauteous moons on her rooftops,


'And hundreds of lovely suns hide behind her walls.'

Her morning's laugh is as gay as flowers, Her dark nights shine like beautiful hair. Her tuneful nightingales sing with flame in their notes, Fiery songs like burning leaves, fall from their throats.

I sing to the gardens, Jahanara and Sharbara. Even the tuba of Paradise is jealous of their greenery.

"Every street of Kabul is enthralling to the eye Through the bazaars, caravans of Egypt pass One could not count the moons that shimmer on her roofs And the thousand splendid suns that hide behind her walls”

[1]

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी लिंक[संपादित करें]

साँचा:अच्छा लेख

  1. आज़म काज़े मियां एक हजार शानदार सूर्य: अफगान महिलाओं के उदारवादी विजन,एमए थीसिस, पर्यवेक्षक: डॉ रुखसाना अहमद - संचार विभाग, ओटावा विश्वविद्यालय, तिथि: मई 2012 https://ruor.uottawa.ca/bitstream/10393/22680/1/Kazemiyan_Azam_2012_Thesis.pdf