अहमदिया धर्म

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
विश्व में अहमदिया आबादी का वितरण

अहमदिया (उर्दू : احمدیہ) एक धार्मिक आंदोलन है, जो के 19वीं सदी के अंत में भारत में आरम्भ हुआ। इसका प्रारंभ मिर्जा गुलाम अहमद (1835-1908) की जीवन और शिक्षाओं से हुआ। अहमदिया धर्म के अनुयायी गुलाम अहमद (1835-1908) को मुहम्मद के बाद एक और पैगम्बर मानते हैं, जो रूढीवादी मुसलमानों को स्वीकार नहीं है। अहमदिया इस्लाम का एक संप्रदाय है। मुसलमान इसे काफ़िर अर्थात् नास्तिक मानते हैं।

इनको 'कादियानी' भी कहा जाता है। गुरुदासपुर के कादियान नामक कस्बे में 23 मार्च 1889 को इस्लाम के बीच एक आंदोलन शुरू हुआ जो आगे चलकर अहमदिया आंदोलन के नाम से जाना गया। यह आंदोलन बहुत ही अनोखा था। इस्लाम धर्म के बीच पहली बार एक व्यक्ति ने घोषणा की कि "मसीहा" फिर आयेंगे. मसीहा माने ईसा मसीह. इस्लाम धर्म के बीच इस अनोखे संप्रदाय को शुरू करनेवाले मिर्जा गुलाम अहमद ने अहमदिया आंदोलन शुरू करने के दो साल बाद 1891 में अपने आप को "मसीहा" घोषित कर दिया. बात सिर्फ यहीं तक नहीं रुकी. मिर्जा गुलाम अहमद ने खुद को विष्णु का आखिरी अवतार भी घोषित कर दिया।

विचारधारा[संपादित करें]

अहमदिया संप्रदाय मानता है कि मुहम्मद विष्णु के अंतिम अवतार कल्कि थे। भारतीय पुराणोँ मेँ इनके आने की घोषणा पहले ही कर दी गई थी। भविष्यपुराण मेँ तो इनका नाम महामद है एसा स्पष्ट उल्लेख है।[1]

भारतीय पुराणोँ के अनुसार मुहम्मद जी का उल्लेख (कल्कि के रूप मेँ)[संपादित करें]

  • वह पश्चिम से आएगा।
  • वह रेगिस्तान पार करके आएगा।
  • वह ऊँट पर बैठ कर आएगा।
  • वह उन दुष्टोँ का संहार करेगा जो जातिगत भेदभाव मेँ रत हैँ।
  • वह लिंग और योनि की पूजा करने वाले घृणित ढोंगियोँ का संहार करेगा।
  • वह पूर्ण सनातन को स्थापित करेगा।[2][3][4]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Juergensmeyer, Mark (2006). Oxford Handbook of Global Religions. Oxford: Oxford University Press. प॰ 520. ISBN 978-0-19-513798-9, ISBN (Ten digit): 0195137981. http://books.google.com/books?id=lQMurMhRtfIC&pg=PA520&lpg=PA520&dq=mirza+ghulam+ahmad+and+kalki&source=web&ots=U9KkJuucTS&sig=G7Yri05Mxusy3JGIlP-mGej9oJM&hl=en#PPA520,M1. 
  2. Abdul Haq Vidyarthi, “Muhammad in World Scriptures,” Adam Publishers, 1990. (includes chapters on Zoroastrian and Hindu Scriptures)
  3. A.H.Vidyarthi and U. Ali, “Muhammad in Parsi, Hindu & Buddhist Scriptures,” IB.
  4. "Muhammad in Hindu scriptures". Milli Gazette. http://www.milligazette.com/Archives/2005/01-15Feb05-Print-Edition/011502200574.htm. अभिगमन तिथि: 2014-11-06. 

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]