असमिया जातीय जीवंत महापुरुषीय परंपरा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search


असमिया जातीय जीवंत महापुरुषीय परंपरा  
[[चित्र:|]]
असमिया जातीय जीवंत महापुरुषीय परंपरा
लेखक हीरेन गोहार्इं
देश भारत
भाषा असमिया भाषा

असमिया जातीय जीवंत महापुरुषीय परंपरा असमिया भाषा के विख्यात साहित्यकार हीरेन गोहार्इं द्वारा रचित एक समालोचना है जिसके लिये उन्हें सन् 1989 में असमिया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

सन्दर्भ[संपादित करें]