असफ अली

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
असफ अली
Asaf Ali
Asaf Ali c- 1909 2013-08-09 16-24.jpg
असफ अली

पद बहाल
18 जुलाई 1951 – 6 जून 1952
पूर्वा धिकारी वी पी मेनन
उत्तरा धिकारी फ़ज़ल अली
पद बहाल
21 जून 1948 – 5 मई 1951
पूर्वा धिकारी कैलाश नाथ काटजू
उत्तरा धिकारी वी पी मेनन

जन्म 11 मई 1888
सीहारा उत्तर प्रदेश, भारत
मृत्यु 1 अप्रैल 1953(1953-04-01) (उम्र 64)
बर्न, स्विट्जरलैंड
राष्ट्रीयता भारतीय
जीवन संगी अरुणा आसफ़ अली (अरुणा गांगुली) (1928-1953)
शैक्षिक सम्बद्धता सेंट स्टीफ़न कॉलेज, दिल्ली
व्यवसाय अधिवक्ता, भारतीय स्वतंत्रता कार्यकर्ता, स्वतंत्रता सेनानी, पहले राजदूत भारत से अमरीका, रेलवे और परिवहन प्रभारी

असफ अली; Asaf Ali: (11 मई 1888-1 अप्रैल 1953) एक भारतीय स्वतंत्रता सेनानी और प्रसिद्ध भारतीय वकील थे। वह भारत से संयुक्त राज्य अमेरिका के पहले राजदूत थे। इन्होंने ओडिशा के राज्यपाल के रूप में भी कार्य किया था असफ अली का जन्म 11 मई 1888 ईस्वी को ब्रिटिश भारत के सिहारा उत्तर प्रदेश में हुआ था।

भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन[संपादित करें]

1914 में, भारतीय मुस्लिम समुदाय पर ब्रिटिश साम्राज्य पर एक बड़ा प्रभाव पड़ा। असफ़ अली ने तुर्की खिलाफत पक्ष का समर्थन किया और प्रवी काउंसिल से इस्तीफा दे दिया। उन्होंने इसे असहयोग के एक अधिनियम के रूप में देखा और दिसंबर 1914 में भारत लौट आये। भारत लौटने के बाद, आसफ़ अली राष्ट्रवादी आंदोलन में एक आंदोलनकारी रूप से शामिल हो गए। 1919 के खिलाफत आंदोलन में शामिल होकर ब्रिटिश सरकार का विरोध किया। 1920-21 के दौरान गांधी जी द्वारा चलाए गए असहयोग आंदोलन में सक्रिय भूमिका निभाई। 8 अप्रैल 1928 को भगतसिंह व बटुकेश्वर दत्त द्वारा दिल्ली केंद्रीय असेम्बली में बम फेंकने के आरोप में गिरफ्तार किया गया तो उनके बचाव पक्ष के वकील आसिफ अली बने तथा उनके मुकदमे की पैरवी की। 1935 में मुस्लिम राष्ट्रवादी पार्टी के सदस्य के रूप में इन्हें केंद्रीय विधान सभा के लिए चुना गया था। वह मुस्लिम लीग के उम्मीदवार के खिलाफ कांग्रेस के उम्मीदवार के रूप में फिर से निर्वाचित हुए थे और इन्हें उपाध्यक्ष के रूप में चुना गया था। 1942 में गांधी जी के आहवान पर भारत छोड़ो आंदोलन में शामिल हुए। [1]

विवाह[संपादित करें]

1 9 28 में, इन्होंने 21 वर्ष की अरुणा आसफ़ अली से शादी की, (असफ अली मुस्लिम थे, जबकि अरुणा एक हिंदू थी)। भारत छोड़ो आंदोलन, 1 9 42 के दौरान मुंबई में गोवालिया टैंक मैदान पर भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ध्वज को उगाहने के लिए उन्हें व्यापक रूप से याद किया जाता है।

राजनीतिक जीवन[संपादित करें]

असफ अली 2 सितंबर 1946 से जवाहरलाल नेहरू की अध्यक्षता में भारत सरकार के अंतरिम सरकार में रेलवे और परिवहन के प्रभारी थे। इन्होंने फरवरी 1 9 47 से फरवरी 1949 तक अमरीका के भारत के पहले राजदूत के रूप में कार्य किया।

म्रत्यु[संपादित करें]

1 अप्रैल 1953 ईस्वी 64 वर्ष की आयु में में स्विट्जरलैंड में भारत के राजदूत के रूप में सेवा करने के दौरान, बर्न दूतावास कार्यालय में निधन हो गया था। 1989 में, भारत डाक ने उनके सम्मान में एक एक डाक टिकट जारी किया था। उनकी पत्नी अरुणा असफ अली को भारत के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार- भारत रत्न से सम्मानित किया गया था।[2]

सन्दर्भ[संपादित करें]