अवमंदक विकिरण

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
जब कोई उच्च ऊर्जा वाला इलेक्ट्रॉन किसी परमाणु के नाभिक के विद्युत क्षेत्र द्वारा विक्षेपित होता है तो अवमन्दक विकिरण (ब्रेम्स्ट्रालुंग) उत्पन्न होता है।

अवमंदक विकिरण या ब्रेम्स्ट्रालुंग (Bremsstrahlung) का संकीर्ण अर्थ उस विकिरण से है जो किसी आवेशित कण के अवमन्दित होने पर निकलता है। (ब्रेम्स्ट्रालुंग = ब्रेकिंग रेडिएशन) किन्तु व्यापक अर्थ में किसी आवेशित कण (जैसे इलेक्ट्रॉन) के त्वरित होने से पैदा होने वाले सभी प्रकार के विकरण ब्रेम्स्ट्रालुंग कहलाते हैं। किसी आवेशित कण के वेग में किसी प्रकार का परिवर्तन (वेग के परिमाण या वेग की दिशा या दोनों) होने पर विकिरण उत्पन्न होता है।

अवमन्दक विकिरण का स्पेक्ट्रम सतत स्पेक्ट्रम है। इसके अन्तर्गत सिन्क्रोट्रॉन विकिरण, साइक्लोट्रॉन विकिरण तथा बीटा क्षय के समय उत्पन्न इलेक्ट्रॉन एवं पॉजिट्रॉन आदि सभी विकिरण आते हैं।