अल अन्दलुस

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

अल-अंडलस (अरबी: الأندلس) मुस्लिम, या मूर द्वारा शासित इबेरियन प्रायद्वीप के उस हिस्से को दिया गया अरबी नाम जो 711 और 1492 के बीच की अवधि में इस्लामी राजनीतिक केन्द्र रहा था। यह उमय्यद ख़िलाफ़त का प्रांत था। बाद में कॉर्डोबा ख़िलाफ़त (929-1031), और आखिर में कॉर्डोबा ताइफा (उत्तराधिकारी) साम्राज्यों की खिलाफत का हिस्सा था। इतिहास के बड़े हिस्सों के लिए, विशेष रूप से कॉर्डोबा खिलाफत के तहत, अंडलुस प्रसिद्ध था और कॉर्डोबा शहर भूमध्य बेसिन और इस्लामी दुनिया दोनों में अग्रणी सांस्कृतिक और आर्थिक केंद्रों में से एक बन गया था।

इस्लामी काल[संपादित करें]

यह सभ्यता वास्तुकला और शहरी नियोजन में काफी उन्नत थी। मूर या मुस्लिम बहुत अमीर थे क्योंकि उन्होंने पश्चिमी अफ्रीका में घाना साम्राज्य से सोने के व्यापार को नियंत्रित किया था। उन्होंने नियंत्रित सभी भूमि में कई खूबसूरत इमारतों का निर्माण किया था। उनकी बड़ी इमारतों में अभी भी कई चीजें हैं एंडलुसिया में, जैसे सेविले, ग्रेनाडा और कॉर्डोबा में।.[1] [2]

मुस्लिम स्पेन बहुसांस्कृतिक और सहिष्णु था; यहूदी, ईसाई और मुस्लिम एक साथ रहते थे। भूमध्यसागरीय तट के पास एक बड़ी स्लाव आबादी (सक्लिबा) भी थी। हालांकि इन लोगों को पहली बार दास बनने के लिए लाया गया था, उनमें से कुछ जनरल बन गए थे ( जैसा कि कुछ मलमुक दासो ने खिलाफत में मत्वपूर्ण पदों पर कार्य किया था) और कुछ जनरलो को कम समय के लिए अपने शहरों (ताइफा) के शासक बनये गए थे।

1236 ईस्वी में, कास्टाइल के ईसाई शासक फर्डिनेंड तृतीय की सेनाओं ने आखिरी शेष इस्लामी गढ़, ग्रेनाडा तक हमले किए जो जल्दी सफल नही हुए। लेकिन 2 जनवरी, 1492 ईस्वी को ईसाइयों ने ग्रेनाडा पर हमला कर मुसलमानों से जीत कर पूर्ण नियंत्रण कर लिया था। जिससे अल-अंडलस में इस्लामी शासन का पतन हो गया था।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Rediscovering Arabic Science | Muslim Heritage". www.muslimheritage.com. अभिगमन तिथि 18 December 2016.
  2. Zaimeche, Salah (August 2002). "Agriculture in Muslim civilisation : A Green Revolution in Pre-Modern Times". Muslim Heritage. मूल से 7 October 2017 को पुरालेखित.