अल-वासीक

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
अल-वासीक
الواثق باللہ
ख़लीफ़ा
अमीर अल-मोमिनीन
Dinar of al-Wathiq, AH 227-232.jpg
अल-वासीक का सोने का दीनार,843
ख़िलाफ़त ए अब्बासिया का 9 वां ख़लीफ़ा
शासनावधि5 जनवरी 842 – 10 अगस्त 847
पूर्ववर्तीअल मुत्तसिम
उत्तरवर्तीअल मुतवक्कील
जन्म18 अप्रैल 812
मक्का
निधन10 अगस्त 847
(उम्र 35)
सामर्रा (आधुनिक इराक में)
समाधि
संतान
पूरा नाम
अबू जफर हारुन इब्न मुहम्मद अल मुत्तसिम अल-वासीक बिल्लाह
राजवंशअब्बासी
पिताअल मुत्तसिम
माताक़रातीस
धर्ममुतज़ीली इस्लाम

अबू जफर हारुन इब्न मुहम्मद (अरबी:أبو جعفر هارون بن محمد المعتصم‎ 17 अप्रैल 812 - 10 अगस्त 847)को अल-वासीक बिल्लाह (الواثق بالله) के नाम से भी जाना जाता है। एक अब्बासी ख़लीफ़ा था जिसने 842 से 847 ईस्वी तक शासन किया। अल-वासीक एक शासक और एक व्यक्ति के रूप में अपेक्षाकृत अस्पष्ट है, और उनके शासनकाल को बड़े पैमाने पर उनके पिता द्वारा विस्तार किया हुआ माना जाता है। उनके शासनकाल की प्रमुख घटनाओं में 845 में हेजाज़ में बदूईन विद्रोह का दमन था और 846 में बग़दाद में एक निष्फल विद्रोह था। बाइज़ेंटाइन साम्राज्य के साथ संघर्ष जारी रहा, और अब्बासियो ने मौरोपोटामोस में भी महत्वपूर्ण जीत हासिल की, लेकिन एक विराम के बाद 845 में, युद्ध कई वर्षों के लिए बंद हो गया।

प्रारंभिक जीवन[संपादित करें]

अल-वासीक एक बीजान्टिन ग्रीक गुलाम अल-मुत्तसिम(उम्म वलद),क़रातीस का बेटा था। उनका जन्म 17 अप्रैल 812 को हुआ था (विभिन्न स्रोत 811-813 से पहले या बाद की तारीखों को बताते हैं)। [1][2] अपने दादा, ख़लीफ़ा हारुन अल रशीद (786–809),[3] के नाम पर उन्हें हारुन नाम दिया गया और उपनाम अबू जाफर था। [4]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Turner 2013, पृ॰ 219.
  2. Kraemer 1989, पृ॰प॰ 52–53.
  3. Zetterstéen, Bosworth & van Donzel 2002, पृ॰ 178.
  4. Kraemer 1989, पृ॰ 53.