अली अब्दुल्ला सालेह

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अली अब्दुल्ला सालेह[संपादित करें]

अली अब्दुल्ला सालेह
Ali Abdullah Saleh
President Ali Abdullah Saleh.jpg

प्रथम राष्ट्रपति यमन
पद बहाल
22 May 1990 – 25 February 2012**
प्रधानमंत्री हैदर अबू बकर अल-अत्तास
मुहम्मद सैद अल-अत्तार
अब्दुल अज़ीज़ अब्दुल गनी
फराज सैद बिन गहनीम
अब्द अल-करीम अल-इरयानी
अब्दुल कादिर बजामल
अली मुहम्मद मुजबार
मुहम्मद बसिनदा
उप राष्ट्रपति अली सालीम अल-बिदह (Deputy Chairman of the Presidential Council)
अब्द रबबुह मंसूर हादी
पूर्वा धिकारी Himself as President of North Yemen
Haidar Abu Bakr al-Attas as President of South Yemen
उत्तरा धिकारी अब्दुराबुह मंसूर हादी

पद बहाल
18 July 1978 – 22 May 1990
प्रधानमंत्री Abdul Aziz Abdul Ghani
Abd al-Karim al-Iryani
Abdul Aziz Abdul Ghani
उप राष्ट्रपति Abdul Karim Abdullah al-Arashi
पूर्वा धिकारी Abdul Karim Abdullah Al-Arashi
उत्तरा धिकारी Himself as President of Yemen

पद बहाल
24 June 1978 – 18 July 1978
राष्ट्रपति Abdul Karim Abdullah al-Arashi
पूर्वा धिकारी Abdul Karim Abdullah al-Arashi
उत्तरा धिकारी Abdul Karim Abdullah al-Arashi

जन्म 21 मार्च 1942
Bait el-Ahmar, Sanhan District, Kingdom of Yemen
मृत्यु 4 दिसम्बर 2017(2017-12-04) (उम्र 75)
outskirts of Sana'a, Yemen
राजनीतिक दल General People's Congress
जीवन संगी Asama Saleh
बच्चे Ahmed and others
Religion Zaydi[1]
Military service
सेवा काल 1958–1978
पद Field Marshal
लड़ाइयां/युद्ध North Yemen Civil War
Yemeni Civil War (1994)
Yemeni Revolution
Yemeni Civil War (2015–present)
*Chairman of the Presidential Council until 1 October 1994
**Abd Rabbuh Mansur Hadi served as Acting President from 4 June 2011 – 23 September 2011 and again from 23 November 2011 – 25 February 2012.

अली अब्दुल्लाह सालेह: Ali Abdullah Saleh, (अरबी: علي عبد الله صالح‎, अली अब्दुल्लाह सालेह का जन्म वर्ष 1942 में सना प्रांत के सिनहान इलाक़े के बैतुल अहमर गाँव में हुआ था। उन्होंने अपने गाँव में पढ़ाई शुरू की लेकिन 16 साल की उम्र में वह 1958 में सेना में शामिल हो गए जबकि इस बीच अपनी पढ़ाई भी जारी रखी। सालेह वर्ष 1962 में विद्रोह के योजनाकार युवा सैनिकों में शामिल थे। इस विद्रोह के बाद उन्हें सेना में बड़े पद मिले। सालेह को वर्ष 1978 में अन्तरिम राष्ट्रपति परिषद का सदस्य नियुक्त किया गया और साथ ही वह डिप्टी चीफ़ आफ़ आर्मी स्टाफ़ भी रहे, जिसके बाद वह राजनीतिक और सैनिक पदों पर तेज़ी से उन्नति करते चले गए। वर्ष 1982 में अली अब्दुल्लाह सालेह जनरल पीपल्ज़ कांग्रेस के महासचिव बन गए जो यमन की सत्ताधारी पार्टी थी।

राजनीति करियर[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. المؤتمرنت (October 2015). "لقاء خاص للزعيم علي عبدالله صالح على قناة الميادين (فيديو)" (Arabic में). المؤتمرنت. http://www.almotamar.net/pda/125820.htm.