अलीपुर जेल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
अलीपुर जेल
स्थान अलीपुर, कोलकाता
स्थिति कार्यात्मक
सुरक्षा वर्ग अधिकतम
क्षमता 2000
खुला था 1910

अलीपुर जेल या अलीपुर केन्द्रीय जेल (बंगाली: আলিপুর কেন্দ্রীয় সংশোধনাগার) कोलकाता में स्थित एक ऐतिहासिक जेल है, जहाँ ब्रिटिश शासन के दौरान राजनैतिक बंदियों को रखा जाता था। [1][2] प्रसिद्ध क़ैदियों में सुभाष चन्द्र बोस भी थे जिन्हें यहाँ गया था। जेल परिसर में अलीपुर जेल प्रेस भी स्थित है।

जेल में बन्द रखे गए जाने मान और ऐतिहासिक व्यक्ति[संपादित करें]

  • अरविन्द घोष या श्री अरविन्द (बंगली: শ্রী অরবিন্দ, जन्म: १८७२, मृत्यु: १९५०) को लगभग एक वर्ष के लिए (मई १९०८ से मई १९०९) तक अलीपुर बम कांड के तुरंत बाद यहाँ रखा गया था। यहाँ रहने के समय में अरविन्द ने बंगाली पत्रिका सुप्रभात में कई लेख लिखे थे जिन्हें आगे चलकर टेल्स ऑफ़ प्रिज़न लाइफ़ (Tales of Prison life) के रूप में प्रकाशित किया गया था। इसके पश्चात उन्होंने अपने जेल अनुभव के बारे में कहा: "मैंने एक साल जेल में बिताने के बारे में बताया है। शायद इससे अच्छा होता यदि मैं एक वर्ष आशरम में रहने के बारे में लिखता। अंग्रेज़ सरकार के क्रोध का एक परिणाम यह रहा कि मुझे भगवान होने का अनुभव मिल गया।"[3]
  • सुभाष चन्द्र बोस
  • कामराज (१९३०)
  • बिधान चंद्र राय (१९३०)
  • चारू मुजुमदार
  • प्रमोद रंजन चौधरी (१९२७)
  • जैक प्रेगेर (Jack Preger) (१९८१)

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "This jailhouse has a rich past". डेक्कन क्रॉनिकल. मूल से 24 सितंबर 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 3 अप्रैल 2015.
  2. "Children die in copycat hangings". बीबीसी न्यूज़. 25 August 2004. मूल से 6 अप्रैल 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 3 अप्रैल 2015.
  3. "The Prison-Cell Of Alipore". Sri Aurobindo Society. मूल से 30 नवंबर 2010 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 3 अप्रैल 2015.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]