अर्जुन प्रसाद (स्वतंत्रता संग्राम सेनानी)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

श्री अर्जुन प्रसाद वृंदावन (मथुरा) में प्रेम महाविद्यालय में रहते थे। इन्हें नमक सत्याग्रह और विदेशी वस्तु बहिष्कार आन्दोलन में भाग लेने के कारण सन् १९३० ई० में ६ महीने का कारावास हुआ।