अयम् आत्मा ब्रह्म

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

अयम् आत्मा ब्रह्म उपनिषद् के इस महावाक्य के अनुसार आत्मा और परब्रह्म का समीकरण है। अर्थात व्यक्ति विश्व का रहस्य, जो परब्रह्म को विदित है, जान सकता है।