अमेठी हब

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
Amethi Hub - अमेठी हब
प्रकार Private
स्थापना 2018
मुख्यालय Amethi Uttar Pradesh, India
स्वामित्व Shivam Shukla
वेबसाइट www.amethihub.com

अमेठी हब एवं विचारधारा

अमेठी हब द्वारा भारतवर्ष के प्रमुख स्थानों एवं सम्पूर्ण अमेठी जिले की तमाम प्राकृतिक सम्पदाओं, प्रतिष्ठित व्यक्तियों तथा तमाम उन आमोखास चीजों पर प्रकाश डाला जा रहा है जिससे ये ज्ञात हो सके कि इस विश्व प्रशिद्ध शहर तथा शुरुआत से ही गाँधी परिवार का राजनीतिक गढ़ रह चुके अमेठी की आखिर वास्तविकता क्या है..? क्या सच में इस शहर को 1 राजनीतिक अखाडा मान लेना उचित है, क्या जिस प्रकार से यहाँ की चर्चा समूचे भारतवर्ष में होती है यहाँ का विकास उसी के अनुरूप हुआ है अथवा हो रहा है या फिर ये चर्चे सिर्फ राजनीतिक रोटियां सेंकने हेतु ही होते हैं ..?

उद्देश्य

जन मानस को साथ जोड़ते हुए अमेठी जिले को एक सूत्र में पिरोते हुए, भारत के मुख्य धारा में प्रवाहित होना ही एकमात्र उद्देश्य कहा जा सकता है जिसके लिए तमाम प्रकार की नीतियों का निर्धारण अभी प्रगति पर है.

स्थापना

इसकी शुरुआत 30 जून सन 2018 को देवीपाटन धाम मंदिर से हुयी थी जो अमेठी शहर में अमेठी गौरीगंज मार्ग पर स्थित है

प्रगति एवं स्थिति

50 से भी अधिक जगहों पर प्रकाश डालते हुए अमेठी हब ने काफी लोकप्रियता बटोरी है, आलम यह है की इसके कार्यों से प्रभावित होकर लगभग 5000 लोग इस मुहिम में शामिल हो चुके हैं, आज भी यह टीम रातों दिन इसी प्रयत्न में रहती है किस प्रकार से लोगों के बीच सही जानकारी एवं चलचित्र प्रस्तुत किये जा सकें   

कवरेज

इस प्रमुख विकासशील संस्थान द्वारा की गयी कवरेज निम्न प्रकार से है

  1. हरिद्वार धाम - यहाँ पर माँ गंगा अपने पर्वतीय सफर को ख़त्म कर के मैदानी रूप में आती हैं, यहाँ माँ गंगा का जल अति निर्मल होता है, यहाँ पर भी कुम्भ लगता है
  2. माता मनसा देवी धाम हरिद्वार-हरिद्वार में स्थित माता मनसा देवी का पौराणिक मंदिर हर की पौड़ी से लगभग 3 किमी दूर शिवालिक की पहाड़ियों में स्थित विल्बा नामक पर्वत पर स्थित है
  3. देवी पाटन धाम - यह अमेठी का प्रमुख मंदिर है कभी यह मंदिर अमेठी के राजाओं के पुराने राजमहल के आँगन में हुआ करता था, अमेठी के राजाओं की कुलदेवी माँ भवानी यहाँ निवास करती हैं.
  4. कालिकन मंदिर अमेठी के संग्रामपुर ब्लॉक में स्थित है । यहां काली मैय्या का पौराणिक इतिहास पर आधारित सुप्रशिद्ध मंदिर है जिसकी वजह से इसे कालिकन कहा जाता है।दर्शनों हेतु, यहां प्रत्येक सोमवार औऱ नवरात्रि में इतनी भीड़ होती है कि दर्शनार्थियों की लाइन मंदिर के बाहर तक लग जाती हैं। यहां 1 शिव मंदिर है और बाएं दिशा में ही 1 गायत्री मंदिर भी है,थोड़ी ही दूर पर एक यज्ञशाला और एक शिव मंदिर भी है जहां लोग दर्शन करते हैं तथा अवसरों पर हवन इत्यादि किया करते हैं। यहां स्थानीय लोग बाजार लगाते हैं जिसका लाभ श्रद्धालुओं को मिलता है। महर्षि च्यवन का मंदिर सूर्य देव का मंदिर और एक सगरा भी है इस सगरा को लोग अमृत कुंड भी कहते हैं।
  5. माता मवई धाम- अमेठी के गौरीगंज से रायबरेली- सुल्तानपुर रोड पर जेठू मवई गाँव मे बने शुप्रशिद्ध चमत्कारी मंदिर माता मवईधाम का निर्माण वर्ष 1972 - 1973 है ,बताया जाता है एक महिला के सपने में मां भवानी आयीं थी और इन्हें मंदिर निर्माण का आदेश दिया था ,इन्होने अपना कच्चा घर ढहाकर वहां पर मंदिर निर्माण करवा दिया तब से लेकर आज तक प्रत्येक दिन मंदिर में पूजा आरती करने के दौरान इन पर माता जी का वास होता है और वो भूत प्रेत बाधा समेत तमाम लाइलाज बीमारियों का इलाज जल को मंत्रोच्चारित कर के कर देती है यही मंत्रोच्चारित जल औषधि बन जाता है। कुछ समय बाद इन्ही महिला ने यहां पर एक शिवालय और एक वृद्धाश्रम का भी निर्माण करवाया जिसकी कर्ता धर्ता ये स्वयं हैं।
  6. दुर्गन भवानी धाम -दुर्गन माता का मंदिर अमेठी जनपद में स्थित है , ये अमेठी के जिला मुख्यालय गौरीगंज से लगभग 8 कि.मी. दूर स्थित है।गौरीगंज से अठेहा मार्ग पर स्थित है मनीपुर, मुख्य सड़क पर ही एक द्वार बना है जहां से माँ दुर्गन भवानी के मंदिर हेतु एक सड़क निकल रही है लगभग 2.5 कि.मी. की दूरी तय करने के बाद हम पहुचे प्रशिद्ध माता मंदिर,माँ स्वयं अमेठी के राजा साहब के स्वप्न में आयीं थी जिसके तुरंत बाद वहां पर उन्होंने एक मदिर स्थापित करवा दिया|
  7. उल्टा गढ़ा धाम - यहाँ पर हनुमान जी की साढ़े बावन फ़ीट ऊँची मूर्ति विराजित है, इसके अलावा यहाँ पर माँ दुर्गा, शिव पार्वती, नंदी बाबा साईं बाबा, एवं विष्णु लक्ष्मी सहित शेष नाग एवं ब्रम्हा जी की अद्भुत मूर्ति विराज मान है
  8. अमेठी की तहसील
  9. अमेठी शहर का सम्पूर्ण दृश्य
  10. दिल्ली का चिड़ियाघर
  11. रामनगर बावली
  12. अमेठी रियासत का इतिहास
  13. मालिक मुहम्मद जायसी स्थली
  14. अमेठी रेलवे स्टेशन
  15. घुइसरनाथ धाम प्रतापगढ़
  16. चंदिकन धाम प्रतापगढ़
  17. गौरीगंज रेलवे स्टेशन
  18. ताला खजुरी रेलवे स्टेशन अमेठी
  19. मालिक मुहम्मद जायसी अस्पताल असैदापुर, गौरीगंज अमेठी
  20. क्षय रोग अस्पताल गौरीगंज

इनके अलावा भी कई अन्य जगहों एवं विन्दुओं पर अमेठी हब की कवरेज हैं|

कानूनी वैधता

कानूनी दृष्टिकोण से भी यह लघु सगठन सरकार के पास पंजीकृत है