अभय कुमार

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
अभय कुमार
Poet Abhay K.jpg
अभय कुमार गंगटोक में
जन्म अभय कुमार
1980 (आयु 38–39)
नालंदा, बिहार, भारत
आवास काठमांडू
राष्ट्रीयता भारतीय
शिक्षा प्राप्त की जवाहरलाल नेहरु विश्वविद्यालय
व्यवसाय राजनयिक, कवि, कलाकार
प्रसिद्धि कारण पृथ्वी गान
दक्षेस गान
वेबसाइट
www.abhayk.com

अभय कुमार (जन्म: १९८०) एक भारतीय राजनयिक और कवि हैं। उन्होने कई पुस्तकें लिखी हैं, जिनमे से 'रिवर वैली टू सिलोकोन वैली' भी एक हैं। वे पृथ्वी गान के रचयिता हैं।[1] दक्षिण भारतीय कविता क्षेत्र में योगदान के लिए उन्हें सार्क लिटरेरी अवार्ड प्राप्त हैं। वर्तमान में वे काठमांडू स्थित भारतीय दूतावास के प्रथम सचिव (प्रेस, सूचना और संस्कृति) हैं।[2][3]

परिचय[संपादित करें]

अभय कुमार नालंदा जिला बिहार के मूल निवासी हैं। उन्होने दिल्ली के किरोरि मल कॉलेज तथा जवाहरलाल नेहरु विश्वविद्यालय से शिक्षा प्राप्त की। उन्होने २००३ में भारतीय विदेश सेवा ज्वाइन किया।[4]


पृथ्वी गान और दक्षेस गान[संपादित करें]

"मैं समझता हूं कि दक्षिण एशियाई देशों द्वारा समान रूप से गाया जा सकने वाला दक्षेस गान एक गहरी दक्षिण एशियाई भावना और भाईचारे के विकास के लिए उत्प्रेरक का काम करेगा।”

अभय कुमार[5]

ब्रह्मांड की नीली मोती, धरती
ब्रह्मांड की अदभुत ज्योति, धरती
सब महाद्वीप, महासागर संग -संग
सब वनस्पति, सब जीव संग -संग
संग -संग पृथ्वी की सब प्रजातियाँ
काले, सफेद, भूरे, पीले, अलग-अलग रंग
इंसान हैं हम , धरती हमारा घर

ब्रह्मांड की नीली मोती, धरती
ब्रह्मांड की अदभुत ज्योति, धरती
सब महाद्वीप, महासागर संग -संग
सब वनस्पति, सब जीव संग -संग
संग -संग पृथ्वी की सब प्रजातियाँ
काले, सफेद, भूरे, पीले, अलग-अलग रंग
इंसान हैं हम , धरती हमारा घर


ब्रह्मांड की नीली मोती, धरती
ब्रह्मांड की अदभुत ज्योति, धरती
एक के संग सब सौर एक सबके संग
सब लोग, सब राष्ट्र, संग -संग
आओ सब मिलकर नीला झंडा फहराएँ
आओ सब मिलकर पृथ्वी गान गाएं
काले, सफेद, भूरे, पीले, अलग अलग रंग
इंसान हैं हम , धरती हमारा घर

“”
अभय कुमार द्वारा रचित "पृथ्वी गान" का हिन्दी में भावानुवाद
 
आओ सब मिलकर नीला झंडा फहराएँ
आओ सब मिलकर पृथ्वी गान गाएं
काले, सफेद, भूरे, पीले, अलग अलग रंग
इंसान हैं हम , धरती हमारा घर

अभय कुमार द्वारा रचित "पृथ्वी गान" का हिन्दी में भावानुवाद[6]

भारतीय राजनयिक अभय कुमार द्वारा लिखा गया 'पृथ्वी गान' शीर्षक कविता का यूनेस्को द्वारा पूरी दुनिया में प्रसार किया गया है। हाल ही में दक्षिण एशिया क्षेत्रीय सहयोग संगठन (दक्षेस) सचिवालय में हुई एक बैठक में इस कविता में दक्षेस गान तलाशने के लिए चर्चा शुरू हो गई। दक्षेस के विभिन्न विभागों के प्रमुख और सदस्य देशों के विदेश मंत्री इस कविता को दक्षेस गान के रूप में अपनाने के गुण-दोषों पर विचार कर रहे हैं। दक्षेस ने फरवरी में माले में होने वाले दक्षेस मंत्री परिषद की बैठक में इस पर एक सलाह भेजने का भी विचार किया जा रहा है। यदि इसे मंजूर कर लिया जाता है तो यहां होने वाले 18वें दक्षेस शिखर सम्मेलन में प्रस्ताव पर विचार किया जा सकता है, जिसकी तिथि अभी तक तय नहीं हुई है। राजनयिक सूत्रों के मुताबिक इस कविता को अपनाने पर विचार करने के लिए दक्षेस सांस्कृतिक केंद्र में भी भेजा गया है। उनकी कविता में हिंदुस्तानी, अंग्रेजी, नेपाली, बांग्ला, पस्तो, उर्दू, सिन्हाली, जोंगखा और धीवेही भाषाओं की पंक्तियां शामिल की गई हैं। ये भाषाएं दक्षेस के आठ सदस्य देशों में बोली जाती हैं। कविता का कुछ अंश इस प्रकार है: "हिमालय से हिंद तक, नगा हिल्स से हिंदूकुश/महावली से गंगा तक, सिंधु से ब्रह्मपुत्र/लक्षद्वीप, अंडमान, एवरेस्ट, एडम्स पीक/ काबुल से थिंपू तक, माले से काठमांडू/दिल्ली से ढाका, कोलंबो, इस्लामाबाद/हर कदम साथ-साथ।" पृथ्वी गान का लोकार्पण साल जून २०१३ में पूर्व कानून मंत्री कपिल सिब्बल और पूर्व मानव संसाधन विकास राज्य मंत्री शशि थरूर ने नई दिल्ली के भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद (आईसीसीआर) में किया था। इसके बाद काठमांडू में नेपाल के पूर्व प्रधानमंत्री झालानाथ खनल ने यूनेस्को के नेपाल में प्रतिनिधि एक्सेल प्लेथ की मौजूदगी में इसे जारी किया था। अभय के मुताबिक इसके बाद से पृथ्वी गान का दुनिया की कई प्रमुख भाषाओं में अनुवाद किया गया है।[6][5][7][8][9][10][11][12][13][14][15][16][17]

प्रकाशित कृतियाँ[संपादित करें]

  • रिवर वैली टू सिलिकोन वैली (अँग्रेजी,2007)/ए सिविल सरवेंट टेल (2011)[18]
  • टेन कुश्चन ऑफ दि सोल (अँग्रेजी,2010)[19]
  • कलर्स ऑफ सोल (Cvet Dushi) (अँग्रेजी,2011)[20]
  • एनिग्माइटिक लव (अँग्रेजी,2009)[21]
  • फालेन लिव्स ऑफ औट्मन (अँग्रेजी,2010)[22]
  • कैंडलिंग दि लाइट(अँग्रेजी,2011)[23]
  • रिमेन्स (अँग्रेजी,2012)[24]
  • सेड़क्सन ऑफ डेलही (अँग्रेजी)[25]

पुरस्कार/सम्मान[संपादित करें]

  • 2013: सार्क लिटरेरी अवार्ड[26]
  • 2013: पुष्कर्ट पुरस्कार के लिए नामित[27]
  • 2012: स्टेगलीज अकादमी ऑफ आर्ट की ओर से प्रथम श्रेणी में डिप्लोमा, सेंट पीटर्सबर्ग प्रदर्शनी वी आर डिफरेंट, वी आर टूगेदार[28]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "यूनेस्को ने की भारतीय राजनयिक के पृथ्वी गान की प्रशंसा". पंजाब केसरी. अभिगमन तिथि 28 फरवरी 2014.
  2. "युनेस्को finds Indian poet-diplomat's idea of an Earth Anthem inspiring" [यूनेस्को पृथ्वी गान हेतु एक भारतीय कवि व राजनयिक के विचार को प्रेरणादायक पाता है] (अंग्रेज़ी में). बिजनेस स्टेंडर्ड. अभिगमन तिथि 2 अगस्त 2014.
  3. "Unesco lauds Indian poet's idea of earth anthem" [पृथ्वी गान के लिए भारतीय कवि के विचार की यूनेस्को द्वारा प्रशंसा] (अंग्रेज़ी में). टाइम्स ऑफ इंडिया. अभिगमन तिथि 2 अगस्त 2014.
  4. "Diplomat-writer, who pens verse" [राजनयिक लेखक, जिनकी ताजा रचनाएँ] (अंग्रेज़ी में). दि ट्रिब्यून. अभिगमन तिथि 2 अगस्त 2014.
  5. "Better with verse" (अनुवाद: वेटर विथ वर्ष) दि हिन्दू, 2 नवम्बर 2011.
  6. डाऊनलोड पृथ्वी गान पृथ्वी गान जालस्थल, 27 अप्रैल 2014
  7. "Indian Diplomat's Paintings on Show"(अनुवाद:भारतीय राजनयिक का पेंटिंग्स शो, indusage.com.au, 29 अप्रैल 2011
  8. "Indian Diplomat turned artist presents his work on planetary consciousness"(अनुवाद:भारतीय राजनयिक ने ग्रहों की चेतना पर अपना सृजन प्रस्तुत किया याहू, 27 अप्रैल 2011
  9. द हिन्दू Literary Review 2007 (अनुवाद: हिन्दू साहित्य की समीक्षा 2007 दि हिन्दू, 5 अगस्त 2007.
  10. Pen Drive (पेन ड्राइव), दि इंडियन एक्सप्रेस, 22 नवम्बर 2012
  11. "The Poetic Side of Indian Diplomats"(अनुवाद: भारतीय राजनयिकों का काव्य पक्ष, दि टाइम्स ऑफ इंडिया, 25 अगस्त 2012
  12. ANI (अनुवाद: ए एन आई), 4 जून 2012
  13. "Indian Diplomat pens anthem for Earth" (अनुवाद: भारतीय राजनयिक ने लिखा धरती गान दि नेयु इंडियन एक्सप्रेस, 5 जून 2013
  14. "Inspiring Earth Anthem" (अनुवाद: प्रेरणादायक धरती गान) दि हिमालयन टाइम्स, 9 जून 2013
  15. "युनेस्को to consider making Earth Anthem by Indian diplomat a global initiative" (अनुवाद: यूनेस्को का भारतीय राजनयिक की वैश्विक पहल पृथ्वी गान को लागू करने पर विचार), बिजनेस स्टेंडर्ड , 26 जून 2013
  16. UN to consider "Indian diplomat's song as a global initiative"(अनुवाद: एक वैश्विक पहल के रूप में भारतीय राजनयिक के गीत) दि इकोनोमिक टाइम्स, 26 जून 2013
  17. "Indian poet-diplomat pens S.Asian anthem after Earth anthem success"(अनुवाद: भारतीय राजनयिक-कवि का पृथवि गाँ के बाद दक्षेस गान ए एन आई, 27 नवम्बर 2013
  18. "ए सिविल सरवेंट टेल (अँग्रेजी में)". इससु डॉट कॉम. 16 सितंबर 2011. अभिगमन तिथि 2 अगस्त 2014.
  19. "10 Questions of the Soul (अनुवाद: टेन कुश्चन ऑफ दि सोल)". इससु डॉट कॉम. 4 सितंबर 2010. अभिगमन तिथि 2 अगस्त 2014.
  20. "Цвет души". Issuu.com. 17 फ़रवरी 2011. अभिगमन तिथि 2 अगस्त 2014.
  21. "Enigmatic Love (अनुवाद:एनिग्माइटिक लव)". इससु डॉट कॉम. 4 अगस्त 2010. अभिगमन तिथि 2 अगस्त 2014.
  22. "Fallen Leaves of Autumn (अनुवाद: फालेन लिव्स ऑफ औट्मन)". इससु डॉट कॉम. 4 अगस्त 2010. अभिगमन तिथि 2 अगस्त 2014.
  23. "Candling the Light (अनुवाद: कैंडलिंग दि लाइट)". आई बी एन लाइव. 7 नवम्बर 2011. अभिगमन तिथि 2 अगस्त 2014.
  24. "Diplomat Abhay K. releases his new book Remains (अनुवाद: राजनयिक अभय कुमार अपनी नई किताब रिमेन्स की विज्ञप्ति". इंडियन एक्स्प्रेस. 1 जुलाई 2012. अभिगमन तिथि 2 अगस्त 2014.
  25. "Dream WINDOW (अनुवाद: ड्रीम विंडो)". दि हिन्दू. 1 जुलाई 2012. अभिगमन तिथि 2 अगस्त 2014.
  26. Poet Abhay K wins SAARC Literature Award (अनुवाद: कवि अभय कुमार को सार्क साहित्य पुरस्कार, आई ए एन एस, 14 मार्च 2013
  27. "IFS officer nominted for coveted Pushcart Prize" [आईएफएस अधिकारी प्रतिष्ठित पुष्कर्ट पुरस्कार के लिए नामित] (अंग्रेज़ी में). बिजनेस स्टेंडर्ड. अभिगमन तिथि 2 अगस्त 2014.
  28. "First Class Diploma to Abhay Kumar from the Steiglitz Academy of Art, St. Petersburg (अनुवाद: सेंट पीटर्सबर्ग के स्टेगलीज अकादमी ऑफ आर्ट से अभय कुमार को प्रथम श्रेणी डिप्लोमा)". इससु डॉट कॉम. अभिगमन तिथि 2 अगस्त 2014.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]