सामग्री पर जाएँ

अब्दुल्ला बिन उबय

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से

अब्दुल्ला बिन उबै बिन सलूल (मृत्यु 631), जिसे उनकी दादी के संदर्भ में इब्न सलुल भी कहा जाता है, अरब जनजाति बनू खजरज के प्रमुख थे और मदीना के प्रमुख लोगों में से एक था। इस्लामिक पैगंबर मुहम्मद (सल्ल) के आने पर इब्न उबैय मुस्लिम बन गया लेकिन इस्लामी इतिहास के अनुसार वह अपनी मृत्यु तक इस्लाम के प्रति विश्वासघाती रहा। मुहम्मद (सल्ल) के साथ बार-बार विश्वासघात के कारण  उसे मुनाफ़िक़ (पाखंडी) और "मुनाफ़िक़ून का नेता" करार दिया गया है। [1]

मदीना में स्थिति[संपादित करें]

इस्लाम लाना[संपादित करें]

सैन्य अभियान[संपादित करें]

उहुद की लड़ाई[संपादित करें]

बनू नज़ीर[संपादित करें]

मुस्तलिक अभियान के दौरान विवाद[संपादित करें]

आखिरी साल[संपादित करें]

परिवार[संपादित करें]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. William Montgomery Watt, "`Abd Allah b. Ubayy", Encyclopaedia of Islam