अबूझमाड़

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
अबूझमाड़
Abujmarh
Abujmarh (restricted area in chattisgarh).jpg
अबूझमाड़ का एक दृश्य
भूगोल
Map showing the location of अबूझमाड़
Map showing the location of अबूझमाड़
Map showing the location of अबूझमाड़
Map showing the location of अबूझमाड़
स्थानछत्तीसगढ़,    भारत
निर्देशांक19°32′24″N 80°48′22″E / 19.540°N 80.806°E / 19.540; 80.806निर्देशांक: 19°32′24″N 80°48′22″E / 19.540°N 80.806°E / 19.540; 80.806
क्षेत्र3,900 वर्ग किलोमीटर (4.2×1010 वर्ग फुट)

अबूझमाड़ (Abujmarh) भारत के छत्तीसगढ़ राज्य के बस्तर अंचल के नारायणपुर जिले में स्थित है। इसका कुछ हिस्सा महाराष्ट्र तथा कुछ आंध्र प्रदेश मे पड़ता है। भारत मे विलुप्त होते बाघों के लिये यह क्षेत्र अत्यंत महत्त्वपूर्ण है। यह भारत के ६ प्रमुख बाघ आश्रय स्थलों क्रमश: इन्द्रावती, नल्लामल्ला, कान्हा, नागझीरा, ताडोबा और उदन्ती सीतानदी राष्ट्रीय उद्यान से जंगलो के द्वारा संपर्क मे है। जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है अबूझ मतलब जिसको बूझना संभव ना हो और माड़ यानि गहरी घाटियां और पहाड़। यह एक अत्यंत दुर्गम इलाका है।[1][2]

स्थिति[संपादित करें]

गुगल मैप के अनुसार लगभग ५००० वर्ग किलोमीटर के इस इलाके में कोई सड़क नही है। यहां करीब २०० ऐसे गांव है जिनकी जगह बदलती रहती है क्योंकि यहां रहने वाले माड़िया आदिवासी जगह बदल बदल कर बेरवा पद्धती से खेती करते हैं।

परिस्थितियाँ[संपादित करें]

अबूझमाड़ और इसके निवासी आज तक अपने आदिकालीन स्वरूप में है। चूंकि यहां रहने वाले माड़िया आदिवासी बाहरी लोगों से संपर्क रखना पसंद नही करते, इस कारण अभी तक यहां पायी जाने वाली पेड़ पौधों और वन्य प्राणियो की संख्या और प्रकार के बारे में सही जानकारी नही है और यहां के बाघों की गणना भी नही हुई है। इसकी सीमा पर रहने वाले व्यापारी आज भी आदिवासियों से तेल और नमक का वनोंपज के साथ विनिमय करते है। आदिवासियों से प्राप्त जानकारी के अनुसार यहा बाघ, वनभैंसा, गौर, सांभर चौसिंगा इत्यादि जीव प्रचुर मात्रा में हैं, लेकिन पहाड़ी इलाका होने के कारण यहां चीतलों की संख्या कम है।

सबसे बडी बात यह है कि यहां कभी वनों की कटाई नही हुई है और मध्य भारत में यह एकमात्र ऐसी जगह है जहां हम हमारे मूल जंगलो मे पाई जाने वाली वनस्पतियों और वन्य प्राणियों जो जंगलों की कटाई कर उनका कोयला बना कर वहां सागौन नीलगिरी साल इत्यादि का रोपण करने के कारण विलुप्त हो चुके है का अध्ययन करने का सुनहरा अवसर मिल सकता है। और यह इसलिये भी महत्त्वपूर्ण है क्योंकि यह दक्षिण भारत की अनेक नदियों का जलग्रहण क्षेत्र है।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]