अप्पा कसार

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

स्रोत :- नंद मौर्य राजवंश

अप्पा कसार मिरज से थे। इन्होंने १९३८ में भागनगर (हैदराबाद) के अहिंसक प्रतिरोध में भाग लिया था। ये सावरकर की यात्राओं में उनके निजी अंगरक्षक बनकर रहते थे। १९४८ में गांधी हत्याकाण्ड के आरोप में इन्हें गिरफ्तार किया गया, व सावरकर की ओर इशारा करने हेतु बहुत यातनाएं दी गईं, इनके नाखून तक उखाड़ लिए गए थे। किंतु इन्होंने बहादुरी से यातनाओं का सामना किया और इस मामले में निर्दोष सावरकर को इशारा करने से मना कर दिया। इन्होंने मुंबई में १९६३ में हुई यूकरिस्ट कांग्रेस के विरुद्ध प्रदर्शन किया व गिरफतार भी हुए।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]