अपस्फीति

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
अर्थशास्त्र
GDP PPP Per Capita IMF 2008.svg
सामान्य श्रेणियां

व्यष्टि अर्थशास्त्र · समष्टि अर्थशास्त्र
आर्थिक विचारों का इतिहास
कार्यप्रणाली · मुख्यधारा और विधर्मिक

गणितीय और सांख्यिकीय प्रणाली

गणितीय अर्थशास्त्र  · खेल सिद्धांत
इष्टतमीकरण · अभिकलनात्मक
अर्थमिति  · प्रयोगात्मक
आंकड़े · राष्ट्रीय लेखा

क्षेत्र और उप-क्षेत्र

व्यवहारवादी · सांस्कृतिक · विकासवादी
वृद्धि · वैकासिक · इतिहास
अंतर्राष्ट्रीय · आर्थिक व्यवस्था
मौद्रिक और वित्तीय अर्थशास्त्र
सार्वजनिक और कल्याण अर्थशास्त्र
स्वास्थ्य · शिक्षा · कल्याण
जनसांख्यिकी · श्रम · प्रबन्धकीय
व्यावसायिक · सूचना
औद्योगिक संगठन · कानून
कृषि · प्राकृतिक संसाधन
पर्यावरण · पारिस्थितिक
शहरी · ग्रामीण · क्षेत्रीय · भूगोल

सूचियाँ

पत्रिकाऐं · प्रकाशन
श्रेणियाँ · रूपरेखा · अर्थशास्त्री

व्यापार और अर्थशास्त्र प्रवेशद्वार

अर्थशास्त्र में, अपस्फीति वस्तुओं और सेवाओं के सामान्य मूल्य के स्तर में गिरावट है।[1] अपस्फीति तभी होती है जब वार्षिक मुद्रास्फीति की दर शून्य प्रतिशत की दर से भी नीची गिर जाती है (नकारात्मक मुद्रास्फीति दर), जिसके फलस्वरूप मुद्रा के असली मूल्य में वृद्धि हो जाती है - इससे एक क्रेता उसी राशि से अधिक माल खरीदने की सुविधा पा जाता है। इसे अवस्फीति, मुद्रास्फीति के दर में कमी (अर्थात मुद्रास्फीति की दर घट तो जाती है, लेकिन फिर भी सकारात्मक ही बनी रहती है), समझने की भूल नहीं की जानी चाहिए। [2] समय के साथ-साथ जैसे-जैसे मुद्रास्फीति मुद्रा के असली मूल्य में गिरावट लाती है, इसके ठीक विपरीत, अपस्फीति मुद्रा के वास्तविक मूल्य में- कार्यात्मक मुद्रा (एवं लेखा की मौद्रिक इकाई में) राष्ट्रीय अथवा क्षेत्रीय अर्थव्यवस्था में वृद्धि लाती है।

वर्तमान समय में, मुख्यधारा के अर्थशास्त्रियों का आमतौर पर मानना है कि अपस्फीतिकारी जटिलताओं के खतरे ((नीचे वर्णित))[3] के कारण आधुनिक अर्थव्यवस्था में अपस्फीति एक समस्या है। अपस्फीति को आर्थिक मंदी और विश्वव्यापी मंदी से भी जोड़ा जाता है, जैसे कि बैंक जमाकर्ताओं की अदायगी में चूक जाते हैं। इसके अतिरिक्त, अर्थव्यवस्था के स्थिरीकरण में अपस्फीति मौद्रिक नीति निर्धारण में एक ऐसी प्रक्रिया के तहत रूकावट पैदा करती है जिसे लिक्विडिटी ट्रैप कहते हैं। हालांकि, ऐतिहासिक रूप से अपस्फीति की सभी घटनाएं, कमजोर आर्थिक विकास के दौरे से जुड़ी नहीं हैं।[4]

अनुक्रम

पारंपरिक शब्दावली[संपादित करें]

पारंपरिक अर्थशास्त्रियों के द्वारा अपस्फीति शब्द का प्रयोग मुद्रा की आपूर्ति एवं ऋण में गिरावट को सन्दर्भित करने के लिए वैकल्पिक अर्थ में किया जाता था; कुछ अर्थशास्त्रियों ने जिनमें ऑस्ट्रियाई विचारधारा के अर्थशास्त्री शामिल हैं, अभी भी इस शब्द का प्रयोग इसी अर्थ में करते हैं।[5] ये दोनॉ अर्थ एक दूसरे के साथ संबंधित हैं, क्योंकि मुद्रा की आपूर्ति (मुद्रा की गति के अपरिवर्तित बने रहने के पूर्वानुमान के साथ) सामान्य मूल्य स्तर में गिरावट का संभावित कारण बन जाती है।

अपस्फीति के प्रभाव[संपादित करें]

IS/LM मॉडल में (अर्थात आय और बचत का संतुलन/नकदी तरजीह तथा मुद्रा आपूर्ति संतुलन मॉडल), माल और ब्याज के लिए आपूर्ति और मांग वक्र रेखा में परिवर्तन, विशेषकर मांग के स्तर में कुल गिरावट के कारण अपस्फीति आती है। अर्थात पूरी अर्थव्यवस्था में कितना क्रय करने की इच्छा में कितनी गिरावट आई है और माल की कीमतों में कितनी वृद्धि होने जा रही है। माल की कीमतें गिर रही है इस कारण, उपभोगताओं को खरीदारी में तब तक के लिए विलम्ब का प्रोत्साहन प्राप्त होता है जब तक कि कीमतों में और गिरावट न आए, बदले में यह समग्र आर्थिक गतिविधि को अपस्फीतिकर घुमाव देते हुए कम कर देता है।

चूंकि इस निष्क्रिय क्षमता से निवेश में भी गिरावट आती है, फलस्वरूप आगे चलकर भी कुल मांग में कटौती का कारण बन जाती है। यह अपस्फीतिकारक घुमाव है। कुल मांग की गिरावट का प्रत्युत्तर उत्साहवर्धक है या तो मुद्रा की आपूर्ति में वृद्धि के मार्फ़त केंद्रीय बैंक से हों, या फिर राजकोषीय प्राधिकारी के द्वारा मांग में वृद्धि कर निजी कंपनियों के लिए उपलब्ध ब्याज दर पर ऋण लेकर हो।

मुद्रास्फीति का विपरीत प्रभाव पड़ता है और इस प्रकार पहले ही व्यापारिक मंदी आ जाती है।[कृपया उद्धरण जोड़ें] उदाहरण के लिए, इन आवश्यक वस्तुओं की कीमतें 2008 साल की व्यापारिक मंदी से पहले ही आसमान छूने लगीं।

हाल फ़िलहाल की आर्थिक विचारधारा में, अपस्फीति जोखिम से जुडी हुई है: जहां परिसंपत्तियों पर जोखिम-समायोजित प्रतिलाभ नीचे उतर कर नकारात्मक हो जाते हैं, निवेशक और क्रेता निवेश करने यहां तक कि सबसे ठोस प्रतिभूतियों में भी निवेश करने की बजाय मुद्रा बटोरेंगे और जमा करेंगे। इससे एक ऐसी सैद्धान्तिक परिस्थिति पैदा हो सकती है, जिसपर चल निधि के जालकी व्यावहारिक संभावना पर काफी बहस हो चुकी है। एक केंद्रीय बैंक, सामान्यतया मुद्रा के लिए ऋणात्मक ब्याज धार्य नहीं कर सकता है और यहां तक कि शून्य ब्याज के प्रभाव से अक्सर थोड़े ऊंचे ब्याज दरों की तुलना में कम उत्साहवर्धक प्रभाव पैदा हो जातें हैं। आतंरिक अर्थव्यवथा प्रणाली में ऐसा इसलिए होता है कि शून्य ब्याज धार्य करने का अर्थ सरकारी प्रतिभूतियों पर शून्य रिटर्न पाना होगा, अथवा अल्पावधि की परिपक्वता पर ऋणात्मक रिटर्न. खुली अर्थव्यवस्था में, यह चल व्यापार को जन्म देती है और आयात के लिए ऊंची कीमतें निर्धारित कर निर्यात को उसी दर्जे तक बढ़ावा दिये बिना मुद्रा का अवमूल्यन करती हैं।

मुद्रावादी सिद्धांत में, अपस्फीति का संबंध निरंतर घटते हुए मुद्रा वेग अथवा लेनदेन की संख्या से है। इसके लिए मुद्रा की आपूर्ति के नाटकीय संकुचन को जिम्मेदार ठहराया गया है, शायद घटती हुई विनिमय दर के प्रत्युत्तर में, अथवा स्वर्णमानक या अन्य बाह्य मौद्रिक आधारभूत आवश्यकताओं के प्रत्युत्तर में.

अपस्फीति को आमतौर पर ऋणात्मक समझा जाता है, क्योंकि इसके कारण उधारकर्ताओं और अर्थसुलभ आस्तियों के धारकों से संपत्ति का हस्तांतरण हो जाता है, जिससे संचयकर्ताओं एवं मुद्रा तथा अर्थसुलभ परिसंपत्तियों के धारकों को लाभ पहुंचता है। इस अर्थ में यह मुद्रास्फीति के ठीक विपरीत है (अथवा चरम, उच्च स्फीति की दशा में), जो मुद्रा धारकों एवं उधारदाताओं (संचयकर्ताओं) के लिए उधारकर्ताओं तथा अल्पावधि खपत के पक्ष में कर लगाने के समान है। आधुनिक अर्थव्यवस्था में, मांग में गिरावट (जो अक्सर ऊंची ब्याज दर के कारण आती है) के कारण अपस्फीति आती है और यह मंदी से जुडी होती है और (शायद ही कभीं) दीर्घकालिक आर्थिक मंदी से जुडी हो।

आधुनिक अर्थव्यवस्था में, ऋण की शर्तें दीर्घायित हो गईं हैं और ऋण के लिए वित्तपोषण सभी प्रकार के निवेशों के लिए आम है, अब तो अपस्फीति से जुड़े अर्थदंड भी काफी बढ़ गए हैं। चूंकि अपस्फीति निवेश को निरूत्साहित करती हैं, क्योंकि भविष्य में होने वाले लाभ पर जोखिम उठाने का कोई संगत कारण नहीं है जबकि लाभ की प्रत्याशा ही नकारात्मक है और भविष्य की कीमतों की अपेक्षा करना उम्मीद से कम है, इस कारण ही अक्सर कुल मांग में अचानक गिरावट आ जाती है। मुद्रास्फीति के 'छिपे जोखिम बिना' मुद्रा को बस पकड़े रहना, इसे न तो खर्च करना और न निवेश करना, विवेकपूर्ण हो सकता है।

बहरहाल, अपस्फीति दुर्लभ मुद्रा की अर्थव्यवस्था में स्वाभाविक दशा है जब मुद्रा की आपूर्ति की दर में वृद्धि सकारात्मक जनसंख्या की वृद्धि की दर के अनुरूप व्यवस्थित रखी जाती है। जब ऐसा घटता है, तब प्रति व्यक्ति पर दुर्लभ मुद्रा की उपलब्ध राशि घट जाती है, नतीजतन मुद्रा और भी दुष्प्राप्य हो जाती है; और इस कारण मुद्रा की प्रत्येक इकाई की क्रय करने की क्षमता बढ़ जाती है। 19वीं सदी का अंतिम भाग इन परिस्थितियों में आर्थिक विकास के साथ-साथ अनवरत आती हुई अपस्फीति का उदाहरण पेश करता है।

जब उत्पादन की क्षमता में सुधार के सामानॉ की कुल कीमत में कमी पैदा कर देता है तब भी अपस्फीति घटित होती है। आमतौर पर उत्पादन की क्षमता में सुधार का कारण यह होता है कि वस्तुओं और सेवाओं के आर्थिक निर्माता उत्पादन में सुधार के फलस्वरूप मुनाफे की मार्जिन की बढ़ोत्तरी के वायदे से अभिप्रेरित होते है। बाजार में प्रतियोगिता अक्सर उन उत्पादकों को उनकें मालों की मुंहमांगी कीमत को कम करने के लिए प्रेरित करती है जो इनमें से लागत बचत के भाग का कम से कम कुछ अंश उसमे लगाएं. जब ऐसा होता है, उपभोक्ता उन वस्तुओं के लिए कम भुगतान करते है और इसके फलस्वरूप अपस्फीति हो जाती है, क्योंकि क्रय करने की क्षमता बढ़ चुकी होती है।

जब किसी की मुद्रा की क्रय करने की क्षमता में वृद्धि लाभप्रद लगती है, यह वास्तव में कठिनाई पैदा कर सकता है जब किसी के निवल मूल्य का बड़ा हिस्सा अर्थसुलभ अस्तियो में जैसे कि मकान, ज़मीन तथा दूसरे रूपों में निजी संपत्तियों में लगा होता है। यह क़र्ज़ के बोझ को भी बढ़ावा देता है चूंकि - अपस्फीति की कुछ महत्त्वपूर्ण अवधि के पश्चात - कोई कर्ज की सेवा के लिए भुगतान करता है तो यह क्रय करने की एक बड़ी राशि को दर्शाता है न कि क़र्ज़ जब पहली बार उद्भूत हुआ था। नतीजतन, अपस्फीति को किसी ऋण ब्याज दर की छाया के प्रवर्धन के रूप में भी माना जा सकता है। अगर संयुक्त राज्य अमेरिका की भयावह मंदी (ग्रेट डिप्रेशन) के दौरान, अपस्फीति का औसत 10% प्रतिवर्ष हो जाता है, तो 0% पर ऋण भी अनाकर्षक हो जाता है क्योंकि इसे 10% के अधिक लागत मूल्य पर प्रतिवर्ष चुकाया जाना आवशयक हो जाता है। क्योंकि

सामान्य परिस्थिति के अंतर्गत, फेड एवं अन्य अधिकांश केंद्रीय बैंक अल्पावधि ब्याज दर के लिए एक लक्ष्य स्थापित करने के लिए संयुक्त राज्य अमेरिका में संघीय कोषों की दर रातोंरात निर्धारित करने - एवं खुले पूंजी बाजार में प्रतिभूतियों की खरीद और बिक्री कर इन लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए नीतियों को लागू करते हैं। जब अल्पकालिक ब्याज दर शून्य पर पहुंच जाती है, केंद्रीय बैंक अब अपनी सामान्य ब्याज दर को घटाकर अपनी नीति में लचीलापन नहीं ला सकते हैं।

मुद्रा की आपूर्ति के विनियमन की सामान्य पध्दतियां अप्रभावी हो सकती हैं, यहां तक कि अल्पावधिक ब्याज दर को शून्य कर देने पर भी परिणामस्वरूप "वास्तविक " ब्याज दर अधिक ही रहेगी; अतः मुद्रा की आपूर्ति में वृद्धि के लिए अन्य युक्तियों, जैसे कि परिसंपत्तियों की खरीद अथवा मात्रात्मक सहजता (मुद्रा का मुद्रण), को कारगार बनाना होगा। संयुक्त राज्य अमेरिका के फेडरल रिजर्व के वर्तमान अध्यक्ष, बेन बर्नान्के ने, सन 2002 में कहा, "मुद्रा का पर्याप्त अंतः क्षेपण अंतत: हमेशा ही विपरीत अपस्फीति उत्पन्न करेगा."[6]

नकद धन के समर्थकों का तर्क है कि कि अगर किसी अर्थव्यवस्था में "सख्तियां" न हो तो, अपस्फीति के स्वागत योग्य प्रभाव पड़ने चाहिए, क्योंकि कीमतों में कमी करने से अर्थव्यवस्था के प्रयास को अन्य गतिविधि वाले क्षेत्रों में स्थानांतरित किया जा सकता है, इस प्रकार अर्थव्यवस्था के कुल उत्पाद में वृद्धि हो सकती है। इस सिद्धांत की कुछ अर्थशास्त्रीयों ने आलोचना की है, जो यह मानते है कि अगर सख्तियां नहीं होंगी तो न ही मुद्रास्फीति का और न ही अपस्फीति का उल्लेखनीय प्रभाव पड़ेगा.

चूंकि अपस्फीति की अवधियां उनका समर्थन करती हैं, जो उनके लिए मुद्रा धारण करते हैं जिनके पास मुद्रा है ही नहीं, तुलना अक्सर बढ़ती हुई लोकलुभाव भावना की समयावधियों से की जाती है, क्योंकि 19वीं सदी के अंत तक संयुक्त राज्य अमेरिका के जनवादियों ने दुर्लभ मुद्रा के मानकों पर आधारित अधिक स्फीतिकारक (क्योकि उपलब्धता की प्रचुरता थी) चांदी के धातु की मुद्राओं में करना चाहा।

अपस्फीतिकर चक्र[संपादित करें]

अपस्फीतिकर चक्र एक ऎसी अवस्था हैं जब कीमतों में गिरावट उत्पाद को घटा देती है, जो बदले में वेतन और मांग को भी कम कर देती है जिससे आगे चलकर भी मूल्य में गिरावट आती है।[7] चूंकि सामान्य मूल्य-स्तर में कटौतियां अपस्फीति कहलातीं हैं, अतः अपस्फीतिकर चक्र तभी पैदा होता है जब कीमतों में कटौती खतरनाक चक्र को जन्म देती है जहां समस्या स्वयं ही अपने आपको बढ़ाने का कारण बन जाती है। कुछ लोग अपस्फीतिकर चक्र को ही महान मंदी की वजह मानते हैं। अपस्फीतिकर चक्र सचमुच ही विवादास्पद रूप से घटित होते हैं।

अपस्फीतिकर चक्र 19वीं सदी के विवादों आम विवादों की भरभार से व्युत्पन्न समष्टि अर्थशास्त्र का आधुनिक संस्करण है। इससे संबंधित दूसरी विचारधारा इरविंग फिशर का सिद्धांत है कि अत्याधिक ऋण अनवरत अपस्फीति का कारण बन सकती है।

अति-मुद्रास्फीति के प्रति प्रतिक्रिया[संपादित करें]

अगर अति मुद्रा-स्फीति मुद्रा को नष्ट करती है, तो लोग अन्य मुद्राओं में अपनी बचत को बचाने की ओर अविलंब अग्रसर हो जाएंगे जिस कारण उन अन्य मुद्राओं में भी अपस्फीति आ जाएगी. वैकल्पिक रूप से, अति मुद्रा-स्फीति लाने वाली नीतियों को अगर अचानक उलट दिया जाय, तो संक्षिप्त समय के लिए अपस्फीति आ सकती है क्योंकि तब तक लोगों में उस मुद्रा के प्रति आस्था उत्पन्न हो जाएगी.

अपस्फीति के कारण[संपादित करें]

अर्थशास्त्र की मुख्यधारा में माल की मांग और आपूर्ति तथा मुद्रा की मांग और आपूर्ति के संयोजन से अपस्फीति उत्पन्न हो सकती है, विशेषरूप से तब जब मुद्रा की आपूर्ति घटती जाती है और माल की आपूर्ति बढ़ती जाती है। अपस्फीति के ऐतिहासिक प्रकरण मुद्रा की आपूर्ति में वृद्धि के बिना ही अक्सर माल की बढ़ती हुई आपूर्ति से संबंधित हैं (उत्पादकता में वृद्धि के कारण), अथवा (महान मंदी के साथ ही और संभवतया 1990 के दशक के आरंभिक वर्षों में) माल की मांग में गिरावट के साथ मुद्रा की आपूर्ति में कमी के संयोजन से संबंधित है। महान मंदी पर बेन बर्नान्के द्वारा किए गए अध्ययन से यह संकेत मिला है कि, घटती हुई मांग की में प्रतिक्रिया में, उस वक्त फेडरल रिज़र्व ने मुद्रा की आपूर्ति कम कर दी, अतः इसने अपस्फीति लाने में सहयोग प्रदान किया।

अपस्फीति के आधारभूत प्रकार[संपादित करें]

अपस्फीति के चार प्रकार के भेद बतलाए गए हैं। दो मांग के पक्ष में हैं और दो आपूर्ति के पक्ष में:

  • विकास अपस्फीति. (माल की आपूर्ति में वृद्धि. CPI में कमी).
  • नकदी निर्माण (जमाखोरी) अपस्फीति (नकदी की अधिक बचत. मुद्रावेग में कमी. मुद्रा की मांग में वृद्धि)
  • बैंक ऋण अपस्फीति. (दिवालियापन अथवा केंद्रीय बैंक के द्वारा मुद्रा की आपूर्ति में संकुचन के कारण बैंक ऋण की आपूर्ति में कमी)
  • समपहारी अपस्फीति. (समपहण अथवा बैंक में जमा राशियों पर रोक लगाना) मुद्रा की आपूर्ति में कमी)

मुद्रा की आपूर्ति के पक्ष के प्रकार की अपस्फीति[संपादित करें]

मुद्रावादी (वित्तवादी) परिप्रेक्ष्य में अपस्फीति मुख्यतः मुद्रा वेग में कमी के कारण आती है और/अथवा मुद्रा की रकम प्रति व्यक्ति मुद्रा की आपूर्ती पर निर्धारित होती है।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

ऋण अपस्फीति[संपादित करें]

ऋण पर निर्भर आधुनिक अर्थव्यवस्था में, (केंद्रीय बैंक) द्वारा उच्च ब्याज दरों की शुरुआत कर अपस्फीतिकर उच्चक्र (अर्थात मुद्रास्फीति को नियंत्रित करने के लिए) उत्पन्न हो सकते हैं, जिससे संभवतः परिसंपत्ति के बुलबुले झटपट टूट जाएं अथवा नियंत्रित अर्थव्यवस्था चरमरा जाए जो वास्तव में जितना सहयोग दे सकती थी उस तुलना में उत्पादन के उच्च स्तर पर काम कर रही थी। ऋण पर निर्भरशील अर्थव्यवस्था में, मुद्रा की आपूर्ति में गिरावट उल्लेखनीय रूप से उधार देने को कम करती है, जिससे आगे चलकर मुद्रा की आपूर्ति में तेजी से मांग में भी तेजी से गिरावट आ जाती है। मांग में गिरावट आती है और मांग की गिरावट के साथ-साथ, कीमतें घट जाती हैं क्योंकि आपूर्ति की प्रचुरता विकसित होती है। जब कीमते वित्तपोषण उत्पादन की लागत से भी नीचे उतर जाती हैं तो ये अपस्फीतिकार उच्चक्र बन जाता है। व्यापार पर्याप्त लाभ नहीं उठा पाते क्योंकि इससे कुछ बनता-बिगड़ता नहीं हैं, अतः वे तब परिसमाप्त हो जाते हैं। जबसे बंधक ऋण प्रदान किया गया बैंकों को ऐसी परिसंपत्तियां प्राप्त होती हैं जिनकी कीमत बंधक ऋण दिए जाने के बाद से नाटकीय रूप से नीचे गिर चुकी हैं और अगर वे उन परिसंपत्तियों को बेच भी दें तो, वें पुनः आपूर्ति को और आगे बाधा देते हैं, जो परिस्थिति को केवल बिगाड़ ही देतें हैं। अपस्फीतिकर उच्चक्र के वेग को कम करने अथवा रोक देने के लिए, बैंक अक्सर अनिष्पादित ऋणों की अदायगी रोक देते हैं (जैसे कि जापान में हाल ही हुआ). यह अक्सर अंतर को पाटने का एक उपाय है क्योंकि उन्हें तब उधर देने पर अवश्य ही अंकुश लगाना चाहिए, क्योंकि ऋण देने के लिए उनके पास मुद्रा ही नहीं रह जाती, जिनसे आगे फिर मांग में कमी आती है और इसी प्रकार सिलसिला जारी रहता है।

'सरकारी' मुद्रा में कमी के प्रभाव[संपादित करें]

अस्थिर मुद्रा अर्थव्यवस्था में, वस्तु विनिमय एवं अन्य वैकल्पिक मुद्रा व्यवस्थाएं जैसे कि डॉलरीकरण आम हैं और इसीलिए जब सरकारी मुद्रा कम (या, असामान्य रूप से अविश्वासनीय) हो जाती है, तब भी वाणिज्य (व्यापारिक लेन-देन) जारी रह सकता है (जैसे कि हाल ही में रूस और अर्जेंटीना में हुआ).[कृपया उद्धरण जोड़ें] चूंकि ऐसी अर्थव्यवस्था में केंद्रीय सरकार अक्सर असमर्थ हो जाया करती है और अगर पर्याप्त तरीके से आंतरिक अर्थव्यवस्था पर नियंत्रण करना चाहती भी है तो भी आम आदमियों के लिए आयातित माल का भुगतान करने के अलावे सरकारी मुद्रा हासिल करने की भीषण आवश्यकता तो है नहीं। वास्तव में, वस्तु-विनिमय ऐसी अर्थव्यवस्था में सुरक्षा शुल्क के रूप में काम करता है जो स्थानीय उत्पादन की स्थानीय खपत को प्रोत्साहित करता है।[कृपया उद्धरण जोड़ें] यह खनन और खोज के उत्साहवर्धन के रूप में भी काम करता है; क्योंकि ऐसी अर्थव्यवस्था में पैसे कमाने का आसान तरीका जमीन खोदकर इसे बाहर निकालना है।

विशेष व्यवस्थाएं (?)[संपादित करें]

जब केंद्रीय बैंक ने नाममात्र ब्याज की दर क्रमशः शून्य तक नीचे उतार दी है, तो अब आगे की ब्याज की दरों को कम कर मांग को उत्साहित कर बढ़ावा नहीं दे सकते हैं। यह प्रसिद्ध चलनिधि जाल है। जब अपस्फीति पकड़ जमा लेती है, इससे "विशेष व्यवस्था" की आवश्यकता होती है ताकि शून्य के नाममात्र के ब्याज दर पर "उधार दे" सके (जो अब भी ऋणात्मक अपस्फीति दर के कारण बहुत ऊंची वास्तविक ब्याज दर है).

ऋण अपस्फीति के उदाहरण[संपादित करें]

महान मंदी के दौरान इस चक्र की पहचान बड़े पैमाने पर की गई है। भयावह रूप से वस्तुओं की मांग में की कमी करते हुए अंतर्राष्ट्रीय व्यापार तेजी से अनुबंधित होने लगे, अतः एक बड़ी क्षमता निष्क्रिय होने लगी और बैंक की विफलताओं का सिलसिला जारी हो गया। ऐसी ही स्थिति जापान में, शेयर और रियल एस्टेट बाजार के पतन के साथ 1990 की शुरुआत में आरम्भ हुई, जिसे जापानी सरकार के द्वारा अधिकतर बैंकों पर कब्ज़ा कर उन्हें पतन से रोकते हुए और उनमें से अनेक, जो बुरी हालत में थीं, उनके सीधे नियंत्रण को अपने अधिकार में लेते हुए काबू पाया गया। ये घटनाएं संगीन बहस के मुद्दे हैं।

सन 2000 के बाद की आर्थिक मंदी के दौरान गंभीर अपस्फीति का जोखिम[संपादित करें]

कुछ अर्थशास्त्रियों का तर्क है कि सन 2000 साल के बाद आर्थिक मंदी एक ऐसे दौर से गुज़र रही थी जब संयुक्त राज्य अमरीका गंभीर अपस्फीति के जोखिम से जूझ रहा था और इसीलिए फेडरल रिज़र्व केन्द्रीय बैंक द्वारा ब्याज की दरों पर सन 2001 के बाद से "उदारवादी" रुख के साथ नियंत्रण किया जाना सही था।

अपस्फीति का प्रतिकार करना[संपादित करें]

1930 के दशक तक, अर्थशास्त्रियों का आमतौर पर यह मानना था कि अपस्फीति अपना इलाज़ खुद करेगी। जैसे ही कीमतें कम होंगी, मांग में स्वाभाविक रूप से वृद्धि आ जायेगी और आर्थिक प्रणाली बिना बाहरी हस्तक्षेप के अपना सुधर स्वयं कर लेगी.

1930 के दशकों में महान मंदी के दौरान इस दृष्टिकोण को चुनौती का सामना करना पड़ा था। केनेसियाई अर्थशास्त्रियों का तर्क था कि आर्थिक प्रणाली अपस्फीति के सन्दर्भ में स्वयं-सुधारने वाली नहीं थी और इसीलिए सरकारों एवं केन्द्रीय बैंकों को मांग को बढवा देने के लिए करों में कटौती अथवा सरकारी खर्चों में वृद्धि के जरिए सक्रिय कदम उठाने पड़े थे। केंद्रीय बैंक से आरक्षित आवश्यकताएं काफी बड़ी थीं और तब "खुले" बाजार के परिचालन के जरिए (जैसे कि, राजकोष बौंड की नकदी खरीद) ऋण में गिरावट के कारण (ऋण मुद्रा का ही एक रूप है) निजी क्षेत्रों में मुद्रा की आपूर्ति को कम करने के लिए केंद्रीय बैंक केवल आरक्षित आवश्यकताओं में कमी लाकर मुद्रा की आपूर्ति में प्रभावी वृद्धि कर सकते थे।

मुद्रावादी विचारों के उत्थान के साथ, अपस्फीति से लड़ने के लिए ब्याज की दरों में कमी लाकर मांग को प्रसारित करने पर ध्यान केन्द्रित किया गया (अर्थात मुद्रा की "लागत" में कमी लाकर). जापान तथा संयुक्त राज्य अमेरिका दोनों में ही मांग को प्रोत्साहित करने के लिए उदारवादी नीतियों की विफलता के परिपेक्ष्य में इस सोच को झटका लगा जब 1990 में आरंभिक दशकों और 2000-2002 के मध्य शेयर बाजार को एक के बाद एक झटके लगे। अर्थशास्त्रियों को अब परिसंपत्तियों के मूल्यों के बारे में मौद्रिक नीतियों के (स्फीतिकारी) प्रभाव को लेकर चिंता होने लगी। निरंतर कम होती वास्तविक दर परिसंपतियों के ऊंचे मूल्य और अत्यधिक ऋण के संचयन का सीधा कारण हो सकती है। इसलिए घटती हुई दरें अस्थायी उपशामक प्रमाणित हो सकती हैं, जिससे संभावित भविष्य ऋण का अपस्फीति संकट गंभीरता से उभर सकता है।

अपस्फीति के उदाहरण[संपादित करें]

यूनाइटेड किंगडम[संपादित करें]

प्रथम विश्वयुद्ध के दौरान स्वर्ण मानक द्वारा ब्रिटिश पाउंड स्टर्लिंग को हटा दिया गया था। इस नीति परिवर्तन के पीछे प्रेरणा प्रथम विश्वयुद्ध को वित्त पोषित करने की थी; जिसके परिणामों में मुद्रास्फीति एवं पाउंड की अंतर्राष्ट्रीय विनिमय दरों में तदनुसार गिरावट के साथ-साथ सोने के मूल्य में वृद्धि कारणों में से एक था। जब युद्ध के बाद पाउंड को पुनः सोने के मानक में लौटा लिया गया तो इसे युद्ध से पहले की सोने की कीमत के आधार पर किया गया, चूंकि यह सोने मूल्य के बराबर था, पाउंड के मूल्य के ऊंचे लक्ष्य के साथ फिर से संगठित करने के लिए कीमतों को गिरने देना आवश्यक था।

युनाइटेड किंगडम को सन 1921 में 10% का, 1922 में 14% का और सन 1930 के शुरूआती दशक में उसे 5% की अपस्फीति की अभिज्ञता हुई। [8]

संयुक्त राज्य अमेरिका में अपस्फीति[संपादित करें]

प्रमुख अपस्फीतियां[संपादित करें]

संयुक्त राज्य अमेरिका में अपस्फीति के तीन प्रमुख दौर रहे हैं।

सन 1836 की आर्थिक मंदी इनमें से पहला था, जब संयुक्त राज्य अमेरिका में मुद्रा लगभग 30% तक संकुचित हो गई, जिसकी तुलना केवल महान मंदी से ही की जा सकती है। यह "अपस्फीति" मूल्यों में कमी और मुद्रा की उपलब्ध मात्रा में कमी दोनों ही परिभाषाओं को सार्थक बनाती है।

दूसरा दौर गृहयुद्ध के बाद का था, जिसे कभी महान अपस्फीति का दौर कहा जाता था। संभवतया यह स्वर्ण मानक के लौटने के कारण प्रेरित था, जब गृहयुद्ध में दौरान कागज़ की मुद्रा को विराम दे दिया गया था।

सन 1873-96 की महान शिथिलता सूची के शीर्ष के निकट हो सकती है। इसके कार्यक्षेत्र का विस्तार वैश्विक था। लागत कम करने और उत्पादकता बढ़ाने की प्रौद्योगिकी में उन्नति इसके विशेष लक्षण थे। इसने अपनी दृढ़ता से विशेषज्ञों को अचंभे में डाल दिया और राजनीतिज्ञों के इसे समझने के प्रयासों को प्रतिरोधक कर दिया, ताकि इसे अकेले ही रिवर्स होने दिया जाय. इसने पीढ़ी की ऊपर उठती हुई बौंड की कीमतों को आर्थक मूल्य मुहैया कराया, साथ ही साथ हमेशा से होते रहने वाले घाटों से असावधान लेनदारों को चूकों एवं अग्रिम मांगों के मार्फ़त सतर्क किया। सन 1875 से 1896 के बीच मिल्टन फ्रायडमैन के अनुसार संयुक्त राज्य अमेरिका में 1.7% प्रतिवर्ष और ब्रिटेन में 0.8% प्रतिवर्ष की दर से मूल्यों में गिरावट आ गई। [2]

तीसरा दौर सन 1930-1933 के बीच का था जब अपस्फीति की दर लगभग 10 प्रतिशत प्रतिवर्ष थी, संयुक्त राज्य का एक हिस्सा महान मंदी की चपेट में था जब बैंक विफल हो गए थे और बेरोजगारी 25% की ऊंचाई ओर पहुंच चुकी थी।

जैसा कि 1836 में महान मंदी की अपस्फीति, किसी अचानक वृद्धि अथवा उत्पादन में अधिशेष के कारण आरंभ नहीं हुईं थी। यह इसलिए हुई थी क्योंकि ऋण के वृहत संकुचन के कारण दिवालियापनों ने एक ऐसा माहोल तैयार कर दिया था कि नकदी (रोकड़) की पागलों जैसी मांग हो रही थी और फेडरल रिज़र्व इस मांग की पर्याप्त पूर्ति नहीं कर पा रहा था, इसीलिए बैंक एक-एक कर धराशयी होने लगे (क्योंकि वे नकदी की इस अचानक मांग की पूर्ति करने में असमर्थ थे - फैक्शनल-रिज़र्व बैंकिंग द्रस्तव्य है). फिशर समीकरण के दृष्टिकोण से (ऊपर देखें), मुद्रा की आपूर्ति (ऋण) एवं मुद्रा वेग जो इतनी गहरी थी कि फेडरल रिज़र्व के द्वारा प्रोत्साहित मुद्रा की आपूर्ति में वृद्धि के बावजूद मूल्य में अपस्फीति आरंभ हो गई जबकि दोनों में ही सहवर्ती छूट थी।

लघु अपस्फीतियां[संपादित करें]

संयुक्त राज्य अमेरिका के पूरे इतिहास में मुद्रास्फीति की दर शून्य तक पहुंच चुकी है एवं कुछ समय के लिए तो इससे भी नीचे उतर गई है (नकारात्मक मुद्रास्फीति ही अपस्फीति है). दूसरे विश्वयुद्ध से पहले 19वीं और 20वीं सदी में यह बहुत आम थी।

कुछ अर्थशास्त्रियों का मानना है कि हो सकता है संयुक्त राज्य मौजूदा समय में 2007-2010 के बीच के वित्तीय संकट के एक हिस्से के रूप में अपस्फीति का एहसास कर रहा हो; ऋण-अपस्फीति के सिद्धांत की तुलना करें। साल दर साल, लगातार छः महीनों के लिए उपभोक्ता की कीमतों में अगस्त 2009 के अंत तक गिरावट आती रही, मोटे तौर पर उर्जा की कीमतों में भारी गिरावट के कारण.[कृपया उद्धरण जोड़ें] अक्टूबर 2008 में उपभोक्ता की कीमतों में 1 प्रतिशत की गिरावट आई। यह संयुक्त राज्य अमेरिका में सन 1947 से अब तक एक महीने में सबसे बड़ी गिरावट थी। यह रिकॉर्ड नवंबर 2008 में 1.7% की गिरावट के साथ फिर से टूट गया। प्रत्युत्तर में, फेडरल रिजर्व ने ब्याज की दरों में कटौती जारी रखने का फैसला किया, जो 16 दिसम्बर 2008 तक शून्य की सीमा में निकट तक नीचे उतार दिया। [9] सन 2008 के अंत से 2009 के आरंभ तक, कुछ अर्थशास्त्रियों को यह भय हो गया कि संयुक्त राज्य अपस्फीतिकर चक्र में प्रवेश कर सकता है।[कृपया उद्धरण जोड़ें] अर्थशास्त्री नौरिएल रुबिनी ने यह भविष्यवाणी की कि संयुक्त राज्य अमेरिका अपस्फीतिकर आर्थिक मंदी के दौर में प्रवेश कर जाएगा और इसके वर्णन के लिए यह शब्दावली "मुद्रास्फीतिजन्य" के साथ मेल खाएगा.[10] यह मुद्रास्फीतिजनित मंदी के विपरीत है जो सन 2008 के वसंत और ग्रीष्म के दौरान डर का मुख्य कारण थी। तब संयुक्त राज्य अमेरिका को परिमेय अपस्फीति का अनुभव होने लगा; मार्च में -0.38% से जुलाई में -2.10% की दर तक लगातार घटती रही। मजदूरी के मुकाम पर अक्टूबर 2009 में, कोलोराडो राज्य ने निम्नतम मजदूरी की घोषणा की जो मुद्रास्फीति का सूचकांक है, उसे कम कर दिया गया जो 1938 से अबतक का किसी राज्य के लिए पहली बार मजदूरी में कटौती थी।[11]

हांगकांग में अपस्फीति[संपादित करें]

सन 1997 के अंत में एशियाई वित्तीय संकट के बाद, हांगकांग को अपस्फीति की लंबी अवधि झेलनी पड़ी जो 2004 साल की चौथी तिमाही तक भी खत्म नहीं हुई। [3] संकट के बाद कई पूर्व एशियाई मुद्राओं का अवमूल्यन हो गया। हालांकि, हांगकांग डॉलर को अमरीकी डालर के सहारे आंका गया। इस रिक्तता की पूर्ति उपभोक्ता की कीमतों की अपस्फीति से की गयी। मुख्यभूमि चीन (मेंनलैंड चायना) से आयातित सस्ती पण्य वस्तुओं ने स्थिति को और भी खराब कर दिया और उपभोक्ता के विश्वास को कमजोर कर दिया। गिनीज वर्ल्ड रिकार्डस के अनुसार, सन 2003 में हांगकांग में सबसे कम मुद्रास्फीति के साथ अर्थव्यवस्था थी। [4]

जापान में अपस्फीति[संपादित करें]

अपस्फीति 1990 के दशक में शुरू हुई। बैंक ऑफ जापान और सरकार ने ब्याज की दरों में कटौती कर इसे खत्म करने की कोशिश की है (उनकी 'मात्रात्मक सहजता' नीति के तहत) लेकिन एक दशक से भी अधिक समय के लिए वे असफल रहे। जुलाई 2006 में, शून्य दर नीति समाप्त हो गई थी।

जापान में अपस्फीति के लिए जिन प्रणालीगत कारणों को शामिल किए जाने के बारे में कहा जा सकता है:

  • परिसंपत्ति की गिरी हुई कीमतें. 1980 के दशक में जापान में इक्विटी और अचल संपत्ति दोनों की कीमत बुलबुले तुलनात्मक रूप से बड़े थे (जो 1989 के अंत तक और ऊपर उठने लगे). जब परिसंपत्ति के मूल्य में कमी आ जाती है, मुद्रा की आपूर्ति में संकुचन आ जाता है, जो अपस्फीतिकर है।
  • दिवालिया कंपनियों: बैंकों ने कंपनियों और व्यक्तियों को अचल संपत्ति में निवेश के लिए उधार दिए। जब अचल संपत्ति की मूल्यों में गिरावट आ गयी, इन ऋणों का भुगतान नहीं किया जा सका। बैंक जमानत (भूमि) पर भुगतान लेने की कोशिश कर सकते है, लेकिन इससे ऋण का भुगतान नहीं होगा। बैंकों ने फैसला लेने में देरी कर दी है इस उम्मीद से कि संपत्ति की कीमतों में सुधार होगा। राष्ट्रीय बैंकिंग विनियमों द्वारा इन विलंबों के लिए अनुमति दी गई। कुछ बैंक इन कंपनियों को इतना अधिक ऋण देते हैं जिसका उपयोग पहले से ही लिए गए ऋण की सेवा के लिए किया जाता है। इस सतत प्रक्रिया को "अचेतन नुकसान" को बनाए रखने के रूप में जाना जाता है और जब तक पूरी तरह से संपत्तियों का पुनर्मूल्यांकन न हो जाये और/या बिक न जाए (और हानि की भरपाई न हो जाये), अर्थव्यवस्था में यह एक अपस्फीतिकर ताकत के रूप में बनी रहेगी. दिवालियापन कानून, भूमि हस्तांतरण कानून और कर व्यवस्था में सुधार के सुझाव (द इकोनोमिस्ट के द्वारा) पद्धति के रूप में इस प्रक्रिया को गतिशील बनाने के लिए और इस तरह अपस्फीति का अंत करने के लिए दिए गए हैं।
  • दिवालिया बैंक: बैंक अपने अनिष्पादित ऋण के साथ अर्थात जो अपने ऋण पर भुगतान प्राप्त नहीं कर रहे हैं, लेकिन अभी तक उन्हें बट्टे खाते नहीं डाला गया है, वे अब और नकदी उधार नहीं दे सकते हैं, उन्हें अपनी नकदी के भंडार में इजाफा करना चाहिए ताकि अशोध्य ऋण का भुगतान हो सके।
  • दिवालिया बैंकों का भय: जापानी लोगों को भय है कि बैंकों का पतन होगा इसीलिए वे बैंक के खाते में अपने पैसे को बचाने के बजाय सोने की खरीद (संयुक्त राज्य अमेरिका या जापानी) अथवा ट्रेजरी बांड की खरीद ज्यादा पसंद करते हैं। यह उसी प्रकार का मतलब है कि उधार देने के लिए मुद्रा उपलब्ध है नहीं है और इसलिए आर्थिक विकास भी रुका रहता है। इसका अर्थ यह है कि बचत की दर खपत को कम कर देती है, लेकिन एक सक्षम तरीके से नए निवेश के लिए प्रेरणा रूप में प्रकट नहीं होती. लोग भी, आगे विकास की गति को धीमा करते हुए, अचल संपत्ति का मालिकाना हासिल कर बचत करते हैं, क्योंकि इससे जमीन की कीमतों में इजाफा होता है।
  • आयातित अपस्फीति: जापान चीन और दूसरे देश सस्ती उपभोज्य वस्तुओं, कच्चे माल का आयात करते हैं (उन देशों में कम वेतन और तेजी से विकास की वजह से). इस प्रकार, आयातित उत्पादों की कीमतें कम हो रही हैं। घरेलू उत्पादकों को प्रतिस्पर्धा में बने रहने के लिए इन कीमतों के साथ बराबरी करनी होगी। अर्थव्यवस्था में कई चीजों के लिए ये कीमतें घट जाती है और इस तरह अपस्फीतिकर है।

वॉल स्ट्रीट जर्नल के अनुसार नवम्बर 2009 में जापान में अपस्फीति लौट आई है। ब्लूमबर्ग एल.पी. की रिपोर्ट है कि अक्टूबर 2009 में उपभोक्ता कीमतों में एक नए रिकार्ड 2.2% के साथ गिरावट आ गई।[12]

आयरलैंड में अपस्फीति[संपादित करें]

फरवरी 2009 में, केन्द्रीय सांख्यिकी कार्यालय आयरलैंड ने घोषणा की कि कीमतों में 2008 में एक ही समय में 0.1% की गिरावट के साथ जनवरी 2009 के दौरान, देश को अपस्फीति झेलनी पड़ी 1960 के बाद यह पहली बार ऐसा हुआ है कि आयरिश अर्थव्यवस्था को अपस्फीति की मार झेलनी पड़ी. समग्र उपभोक्ता मूल्यों में महीने में 1.7% की कमी हुई। [13]

आयरलैंड के वित्त मंत्री ब्रायन लेनिहन ने, RTÉ रेडियो के साथ एक साक्षात्कार में अपस्फीति का उल्लेख किया। RTÉ के विवरण के अनुसार, "वित्त मंत्री ब्रायन लेनिहन ने कहा है कि अपस्फीति पर अवश्य विचार किया जाना चाहिए जब बच्चे के लाभ के लिए बजट में कटौती, सार्वजनिक क्षेत्र के वेतन और पेशेवर शुल्क पर विचार किया जा रहा हो. मिस्टर लेनिहन ने कहा महीने दर महीने इस साल के जीवन यापन की लागत में 6.6% की गिरावट आई है।"

यह साक्षात्कार इसलिए उल्लेखनीय है कि इस साक्षात्कार में मंत्री द्वारा अपस्फीति को विवेकपूर्ण तरीके से नकारात्मक नहीं माना गया है। मंत्री महोदय अपस्फीति का उल्लेख आंकड़े के एक विषय के रूप में करते हैं जो कुछ लाभों में कटौती के लिए बहस में सहायक है। सरकार के इस सदस्य द्वारा कथित आर्थिक अपस्फीति के कारण हुए नुकसान के लिए प्रसंगवश हवाला देना या उल्लेख करना नहीं है। यह आधुनिक युग में अपस्फीति का एक उल्लेखनीय उदाहरण है जिसकी किसी भी उल्लेख के बिना एक वरिष्ठ वित्त मंत्री के द्वारा चर्चा की जा रही है कि उससे कैसे बचा जा सकता हैं या क्या यह होना चाहिए। [14]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. रॉबर्ट जे. बरो और विटोरियो ग्रीली (1994), यूरोपीयन मैक्रोइकॉनोमिक्स, अध्याय 8, पृष्ठ 142. ISBN 0-333-57764-7
  2. Sullivan, Arthur; Steven M. Sheffrin (2003). Economics: Principles in action. Upper Saddle River, New Jersey 07458: Pearson Prentice Hall. पृ॰ 343. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-13-063085-3.
  3. हुमेल, जेफरी रोजर्स. "मृत्यु और शुल्क, मुद्रास्फीति की दर को मिलाकर: सार्वजनिक बनाम अर्थशास्त्रियों" (जनवरी 2007). [1]
  4. एंड्रयू अट्केसन और पैट्रिक जे. कहोए ऑफ़ द फेडरल रिज़र्व बैंक ऑफ़ मिनेपौलिस अपस्फीति और अवसाद: क्या एक अनुभवजन्य लिंक है?
  5. ऑस्ट्रिया के व्यापार चक्र का सिद्धांत - लुडविग वॉन मिसिस पेज 40-45
  6. अपस्फीति: सुनिश्चित करके कि "यह" यहां नहीं हो राष्ट्रीय अर्थशास्त्रियों क्लब के पहले गवर्नर बेन एस. बर्नानके द्वारा दी गई टिप्पणियां, वॉशिंगटन, डि, सी. 21 नवम्बर 2002
  7. अपस्फीतिकर चक्र पर प्रोफ़ेसर क्रुगमैन
  8. इंग्लैंड के बैंक की तिमाही मुद्रास्फीति की रिपोर्ट फ़रवरी 2009 p33 चार्ट A
  9. http://www.federalreserve.gov/newsevents/press/monetary/20081216b.htm FRB: प्रेस रिलीज़
  10. http://www.forbes.com/2008/10/29/stagnation-recession-deflation-oped-cx_nr_1030roubini.html Get Ready for 'Stag-Deflation'
  11. एल्डो सवाल्दी द्वारा कोलोराडो का निर्धारित मजदूरी में न्यूनतम गिरावट, द डेनवर पोस्ट, 10/13/2009
  12. जापान वसूली संकुल कमजोर के रूप में स्टीम्युलस पैकेज (अपडेट3)
  13. RTÉ न्यूज़ - डिफ्लेशन हिट्स इकॉनोमिक; 49 साल में पहली बार
  14. RTÉ News - Deflation a factor in Budget cuts - Lenihan
  • बेन एस. बर्नानके. अपस्फीति: सुनिश्चित करके कि "यह" यहां नहीं हो. अमेरिका के फेडरल रिजर्व बोर्ड. 21-11-2002. 18-12-2008 को पुनःप्राप्त. (वेबसाईट पुरालेख के द्वारा http://www.webcitation.org/5bdTTiZhU)
  • माइकल बोर्डो और एंड्रयू फिलार्डो, अपस्फीति और ऐतिहासिक परिप्रेक्ष्य में मौद्रिक नीति: भूतपूर्व को स्मरण करना या उस जीवन का दण्डित दोबारा दोहराना?, आर्थिक नीति, 2005 अक्टूबर पीपी 799-844.
  • गोर्ज एर्बर, जर्मनी में अपस्फीति के जोखिम और मौद्रिक ECB की आर्थिक नीति. इन: कैसिफो फोरम 4 (2003), 3, पीपी 24-29
  • चार्ल्स गुडहार्ट और बोरिस हॉफमैन, अपस्फीति, ऋण और संपत्ति की कीमतों इन: अपस्फीति - वर्तमान और ऐतिहासिक परिप्रेक्ष्य, एड्स. रिचर्ड सी.के. बरडेकिन और पियरे एल. सिक्लोस, कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी प्रेस, कैम्ब्रिज, 2004.
  • अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष, अपस्फीति: निर्धारकों, जोखिम और नीति विकल्प - एक स्वतंत्र टास्क फोर्स को खोजना, वॉशिंगटन डी.सी., 30 अप्रैल 2003.
  • अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष, वर्ल्ड इकॉनोमिक आउटलुक 2006 - वैश्वीकरण और मुद्रास्फीति की दर, वाशिंगटन डी.सी., अप्रैल 2006.
  • ओटमार इस्सिंग, यूरो चार साल बाद: क्या वहां अप्स्फीती का खतरा है?, 16 यूरोपीय वित्त सम्मेलन, 2 दिस्म्बर 2002, लंदन, Europäische जेंट्रलबैंक, फ्रेंकफर्ट ऍम मेन
  • पॉल क्रुगमैन, इट्स बैक: जापान की मंदी और नकदी जाल का लौटना, इन: ब्रूकिंग्स आर्थिक गतिविधि 2 ब्रुकिंग पेपर्स, (1998), पीपी 137-205
  • स्टीवन बी. कामिन, मारियो मराज़ी और जॉन डब्ल्यू. स्चिन्द्लर, क्या चीन "निर्यात अपस्फीति?", अंतर्राष्ट्रीय वित्त चर्चा पत्रों नं 791, फेडरल रिजर्व सिस्टम के गवर्नर्स बोर्ड, वॉशिंगटन डीसी जनवरी 2004.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]