अपमार्जक

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
कुछ अपमार्जक

अपमार्जक (detergent) ऐसे पृष्‍ठ संक्रियक (surfactant) पदार्थ हैं जिनके तनु विलयन में सफाई करने की क्षमता होती है। ये प्रायः एल्किलबेंजीनसल्फोनेट होते हैं जो साबुन के समान ही होते हैं किन्तु कठोर जल में साबुन से अधिक विलेय होते हैं। अपमार्जक जो कठोर जल में धुलाई का कार्य करता है


डिटर्जेंट एक सर्फेक्टेंट या जलमिश्रित घोल में सफाई गुणों के साथ सर्फेक्टेंट का मिश्रण होता है।[1] ये पदार्थ आमतौर पर एल्किलबेंजीन सल्फोनेट, यौगिकों का एक परिवार जो साबुन के समान होता है लेकिन भारी पानी में अधिक घुलनशील होता है, क्योंकि पोलर सल्फोनेट (डिटर्जेंट का) पोलर कार्बोक्जिलेट (साबुन के) की तुलना में भारी पानी में पाए जाते कैल्शियम और अन्य आयनों से बंधने की संभावना कम होती है।

इतिहास[संपादित करें]

प्रथम विश्व युद्ध में साबुन बनाने के लिए आवश्यक तेल और वसा की कमी थी। साबुन के विकल्प के रूप में रसायनज्ञों द्वारा सबसे पहले जर्मनी में सिंथेटिक डिटर्जेंट बनाए गए थे।[2][3] १९५० के दशक तक, डिटर्जेंट व्यापक हो गया था, और बड़े पैमाने पर कपड़े धोने के लिए साबुन की जगह ले ली, खासकर विकसित देशों में। अब डिटर्जेंट डिशवॉशर टैबलेट, वॉशिंग मशीन डिटर्जेंट, वॉशिंग मशीन के लिए तरल डिटर्जेंट के रूप में उपलब्ध हैं और वे अधिकांश ईकॉमर्स पोर्टल्स पर उपलब्ध हैं।,[4]

डिटर्जेंट का रासायनिक वर्गीकरण[संपादित करें]

सर्फेक्टेंट के विद्युत चेर्ज के आधार पर डिटर्जेंट को तीन व्यापक समूहों में वर्गीकृत किया जाता है।

ऋणायनी डिटर्जेंट[संपादित करें]

विशिष्ट ऋणायनी डिटर्जेंट एल्किलबेंजीन सल्फोनेट हैं। इन ॠणायन का एल्किलबेंजीन भाग लिपोफिलिक है और सल्फोनेट हाइड्रोफिलिक है। दो अलग-अलग किस्मों को लोकप्रिय बनाया गया है, जिनमें शाखित एल्काइल समूह और रैखिक एल्काइल समूह हैं।

धनायनिक डिटर्जेंट[संपादित करें]

धनायनिक डिटर्जेंट एक हाइड्रोफिलिक घटक के साथ, ऋणायनी के समान होते हैं, लेकिन, ऋणायनी सल्फोनेट ग्रुप के बजाय, धनायनिक सर्फेक्टेंट में पोलर एन्ड के रूप में चतुर्धातुक अमोनियम होता है। अमोनियम सल्फेट केंद्र पॉजिटिव चार्ज्ड होता है।[5]

गैर-आयनिक और ज़्विटर आयनिक डिटर्जेंट[संपादित करें]

गैर-आयनिक डिटर्जेंट उनके अचार्ज्ड, हाइड्रोफिलिक हेडग्रुप द्वारा वर्णित किए जाते हैं। विशिष्ट गैर-आयनिक डिटर्जेंट पॉलीऑक्सीथिलीन या ग्लाइकोसाइड पर आधारित होते हैं।

डिटर्जेंट के प्रमुख प्रयोग[संपादित करें]

घरेलू सफाई[संपादित करें]

डिटर्जेंट के सबसे बड़े अनुप्रयोगों में से एक डिश धोने और कपड़े धोने सहित घरेलू और दुकान की सफाई के लिए है। फॉर्मूलेशन जटिल हैं, जो उपयोग की विविध मांगों और अत्यधिक प्रतिस्पर्धी उपभोक्ता बाजार को दर्शाते हैं। तेजी से औद्योगीकरण और बढ़ती डिस्पोजेबल आय के कारण एशिया-प्रशांत क्षेत्र बाजार पर हावी है। चीन को मैन्युफैक्चरिंग हब माना जाता है और "मेक इन इंडिया" पहल के कारण भारत का मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर बढ़ रहा है। यह उम्मीद की जाती है कि मैन्युफैक्चरिंग सुविधाओं की संख्या में वृद्धि होगी, जिससे फर्श स्क्रबर की मांग में वृद्धि होगी। [6]

उदाहरण[संपादित करें]

अनेक पादप तथा जन्तु ऊतकों में पाये जाने वाले फॉस्फेटीडिल्कोलीन (Phosphatidylcholine) प्राकृतिक पृष्ट संक्रियक है। कृत्रिम रूप से निर्मित कुछ पृष्ट संक्रियकों के उदाहरण ये हैं-

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

  1. IUPAC, Compendium of Chemical Terminology, 2nd ed. (the "Gold Book") (1997). Online corrected version:  (2006–) "डिटर्जेंट".
  2. "साबुन और डिटर्जेंट: इतिहास (1900 से अब तक)". अमेरिकी सफाई संस्थान. Retrieved on ६ जनुअरी २०१५
  3. David O. Whitten; बेस्सी एमरिक व्हिटेन (1 January 1997). [[[:साँचा:Google Books]] हैंडबुक ऑफ अमेरिकन बिजनेस हिस्ट्री: एक्सट्रैक्टिव्स, मैन्युफैक्चरिंग एंड सर्विसेज] जाँचें |url= मान (मदद). ग्रीनवुड पब्लिशिंग ग्रुप. पपृ॰ 221–222. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-313-25199-3 – वाया Google Books.
  4. "घरेलु उत्पाद". लवलोकल.इन.
  5. Eduard Smulders, Wolfgang Rybinski, Eric Sung, Wilfried Rähse, Josef Steber, Frederike Wiebel, Anette Nordskog, "Laundry Detergents" in Ullmann's Encyclopedia of Industrial Chemistry 2002, Wiley-VCH, Weinheim. doi:10.1002/14356007.a08_315.pub2
  6. "2026 तक फ्लोर क्लीनिंग इक्विपमेंट ग्लोबल मार्केट पर आउटलुक - प्रमुख ड्राइवर और चुनौतियां". prnewswire.com.