अन्त्याक्षरी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

अंत्याक्षरी (अंत्य+अक्षरी) प्राचीन काल से चला आता स्मरणशक्ति का परिचायक एक खेल जिसमें कहे हुए श्लोक या पद्य के अंतिम अक्षर को लेकर दूसरा व्यक्ति उसी अक्षर से आरंभ होने वाला श्लोक या पद्य कहता है, जिसके उत्तर में फिर पहला व्यक्ति दूसरे के कहे श्लोक या पद्य के अंतिम अक्षर से आरंभ होने वाला श्लोक या पद्य कहता है। इसी प्रकार यह खेल चलता है और जब अपेक्षित व्यक्ति की स्मरण शक्ति जवाब दे जाती है और उससे पद्यमय उत्तर नहीं बन पाता तब उसकी हार मान ली जाती है। यह खेल दो से अधिक व्यक्तियों के बीच भी वृत्ताकार रूप में खेला जाता है। विद्यार्थियों में यह आज भी प्रचलित है और अनेक संस्थाओं में तो इसकी प्रतियोगिता का आयोजन भी होता है।

उदाहरण[संपादित करें]

अंत्याक्षरी के उदाहरणार्थ रामचरितमानस से तीन चौपाइयाँ नीचे दी जाती हैं जिनमें अगली चौपाई पिछली के अंत्याक्षर से आरंभ होती हैं:

बोले रामहिं देइ निहोरा। बचौं विचारि बंधु लघु तोरा।।
रामचरितमानस एहि नामा। सुनत स्रवन पाइअ बिस्रामा।।
मातु समीप कहत सकुचाहीं। बोले समय समुझि मन माहीं।।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]