अनुरोध (1977 फ़िल्म)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
अनुरोध
अनुरोध (1977 फ़िल्म).jpg
अनुरोध का पोस्टर
निर्देशक शक्ति सामंत
निर्माता गिरिजा सामंत
पटकथा दीन दयाल शर्मा
कहानी गौरी प्रसन्ना मज़ूमदार
अभिनेता राजेश खन्ना,
विनोद मेहरा,
सिम्पल कपाड़िया,
उत्पल दत्त,
रीटा भादुड़ी,
अशोक कुमार,
असरानी
संगीतकार लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल
प्रदर्शन तिथि(याँ) 1977
देश भारत
भाषा हिन्दी

अनुरोध 1977 में बनी हिन्दी भाषा की संगीतमय नाट्य फिल्म है। गिरिजा सामंत द्वारा निर्मित और शक्ति सामंत द्वारा निर्देशित यह फिल्म 1963 की एक बंगाली फिल्म पर आधारित है। फिल्म में राजेश खन्ना, विनोद मेहरा, सिम्पल कपाड़िया, रीटा भादुड़ी, अशोक कुमार, असरानी, असित सेन, उत्पल दत्त और निरूपा रॉय हैं। फिल्म का संगीत लक्ष्मीकांत प्यारेलाल ने दिया है। यह फिल्म राजेश खन्ना की साली सिम्पल कपाड़िया की पहली फिल्म है।

संक्षेप[संपादित करें]

अरुण (राजेश खन्ना) अमीर व्यापारी श्री चौधरी का इकलौता पुत्र था। वह प्रसिद्ध गायक बनना चाहता था और स्थानीय रेडियो में गाता था। ज्यादातर वह अपने दोस्त श्रीकांत (विनोद मेहरा) द्वारा लिखे गए गीत गाता था। उसके पिता चाहते हैं कि वे अपने परिवार के व्यवसाय की देखभाल करें और सोचते हैं कि गायन उनके रुतबे के लोगों के लायक काम नहीं है। इससे हमेशा पिता और पुत्र के बीच तनाव होता है। दूसरे छोर पर, श्रीकांत अपनी विधवा माँ के साथ बहुत गरीबी में रहता है। वह गीत और लेख लिखकर जीविकोपार्जन करता है। अरुण अक्सर उसे पैसे से मदद करता है क्योंकि श्रीकांत बहुत बीमार हो जाता है और बाहर काम नहीं कर सकता।

जबकि चीजें इस तरह हैं, एक दिन अरुण अपने पिता से लड़ता है और अपना घर छोड़ने का फैसला करता है। वह कलकत्ता पहुँच जाता है। वह स्थानीय रेडियो में गायक के रूप में शामिल होता है और श्री माथुर (अशोक कुमार) के घर में ड्राइवर के रूप में काम करने लगता है। वह अपनी पहचान छिपाने के लिए संजय कुमार नाम का इस्तेमाल करता है। माथुर अपनी पोती सुमिता (सिम्पल कपाड़िया) के साथ रहते हैं। उन्होंने युद्ध में अपने बेटे को खो दिया है और अपनी बहू और पोते के ठिकाने का पता नहीं लगा सके हैं, जिनके लिए वह लगातार खोजने का प्रयास करते हैं। अरुण, सुमिता के करीब आ जाता है। सुमिता संजय कुमार की प्रशंसा करती है बिना यह जाने कि वह और अरुण एक ही हैं। माथुर को पता चलता है कि अरुण उनके दोस्त चौधरी का भागा हुआ बेटा है और उन्हें अरुण के ठिकाने के बारे में बता देते हैं।

इस बीच, श्रीकांत गंभीर रूप से बीमार हो जाता है और डॉक्टर इसे अंतिम चरण का तपेदिक घोषित करते हैं। उसकी माँ उसके साथ कलकत्ता आती हैं। श्रीकांत को इस तरह देख कर अरुण चौंक जाता है और कैसे भी उसे बचाने की कसम खाता है। वह एक स्टेज शो आयोजित करने का फैसला करता है, हालांकि वह अंतिम मिनट तक ऐसा नहीं करने की ही सोचता रहता है। वह मंच पर गाता है और ऑपरेशन के लिए पर्याप्त पैसा कमाता है। सर्जन श्रीकांत की मां को माथुर की खोई हुई बहू के रूप में पहचान लेता है और उन्हें बताता है। श्रीकांत का ऑपरेशन सफल हो जाता है और वह अपने दादा के साथ फिर से मिल जाता है। अरुण के माता-पिता यह देखने के लिए कलकत्ता आते हैं कि उनका बेटा कैसे प्रसिद्ध हुआ। उसके पिता की गायन के बारे में राय बदल जाती है। आखिर में सभी की सुलह हो जाती है और सुमिता और अरुण की शादी हो जाती है।

मुख्य कलाकार[संपादित करें]

संगीत[संपादित करें]

सभी गीत आनंद बख्शी द्वारा लिखित; सारा संगीत लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल द्वारा रचित।

क्र॰शीर्षकगायकअवधि
1."आते जाते खूबसूरत आवारा"किशोर कुमार5:53
2."मेरे दिल ने तड़प के"किशोर कुमार6:19
3."आपके अनुरोध पे"किशोर कुमार5:02
4."जब दर्द नहीं था"किशोर कुमार4:55
5."तुम बेसहारा हो" (I)मन्ना डे3:57
6."तुम बेसहारा हो" (II)मन्ना डे3:25

नामांकन और पुरस्कार[संपादित करें]

प्राप्तकर्ता और नामांकित व्यक्ति पुरस्कार वितरण समारोह श्रेणी परिणाम
विनोद मेहरा फिल्मफेयर पुरस्कार फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता पुरस्कार नामित
किशोर कुमार ("आपके अनुरोध पे") फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ पार्श्व गायक पुरस्कार नामित

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]